सुअर इन्फ्लूएंजा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख Swine influenza के इस संस्करण से अनूदित किया गया है।

इन्फ्लूएंजा
Flu und legende color c.jpg
स्थानिक्वारी सूअरों में सुअर इन्फ्लूएंजा
इस reassorted इन्फ्लूएंजा H1N1 वायरस के संक्रमण सीडीसी प्रयोगशाला में फोटो खिंचवाने के इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप छवि. इस वायरस व्यास में 80-120 नानोमेत्रेस है। [4]

सुअर इन्फ्लूएंजा (जिसे स्वाएन फ्लू, स्अर फ्लू या शूकर फ्लू भी कहते हैं), एक संक्रामक है जो "सूअर इन्फ़्लुएन्ज़ा वाइरस" नाम के सूक्ष्म जीव की अनेको विशिष्ट प्रकार की प्रजातियों में से किसी एक प्रकार के धारक से होती है। 2009 में संचार माध्यम ने इसको स्वाइन फ्लूकहा जो एक नई नस्ल A/H1N1 पैन्डेमिक वायरस से होता है, वैसे ही जैसे इससे पहले 'बर्ड फ्लू' हुआ था जिस फ्लू ने हाल ही में एशियाई-वंशावली HPAI (उच्च रोगजनक एवियन इन्फ़्लुएन्ज़ा) H5N1 नाम के वायरस से होता है जो कई देशों में स्थानीय जंगली पक्षियों के कई प्रजातियों में पाया जाता है, से होता था।

एक सूअर इन्फ्लूएंजा वायरस (SIV) जो सामान्यतः होस्ट वायरस है जो (किसी भी स्थानीय) सुआरों में पाया जाता है।[1] वर्ष 2009 के अनुसार SIV भेद में इन्फ्लूएंजा C वायरस और उपभेद इन्फ्लूएंजा A वायरस जो H1N1, H1N2, H3N1, H3N2, H2N3, के रूप में माना जाता है, से होता है। सुअर फ्लू दुनिया भर में सुअर आबादी में आम है।

सूअर इन्फ्लुएंजा आम तौर पर सुअरों से मनुष्यों में नहीं फैलता है और अक्सर मानव इन्फ्लुएंजा का कारण नहीं होता है, तथा अक्सर इसके फलस्वरूप रक्त में केवल एंटीबॉडी ही पैदा होते हैं। पशु के मांस को यदि अच्छी तरह पकाया गया हो तो उससे संक्रमण का कोई ख़तरा नहीं होता है। यदि संक्रमण के कारण मानव इन्फ्लुएंजा होता है तो उसे जूनोटिक सूअर फ्लू कहते हैं। जो लोग सूअर के साथ काम करते हैं और उनके साथ अधिक रहते हैं उनको सुवर फ्लू होने का खतरा ज्यादा होता है। 20वीं शताब्दी के मध्य में, इन्फ्लूएंजा उपभेदों की पहचान संभव हो सका, जो मनुष्य के लिए संचरण के सही निदान की जानकारी देता है। तब से, पचास संचरण की पुष्टि दर्ज की गई है। इस तरह की नसल एक मनुष्य से दुसरे मनुष्य में बहुत कम ही प्रवेश करता है। मनुष्य में सूअर फ्लू के लक्षण मूलतः इन्फ़्लुएन्ज़ा के लक्षण होते हैं या इन्फ़्लुएन्ज़ा जैसे लक्षण होते हैं, जैसे - जैसे ठंड लगना, बुखार का आना, गले में ख़राश, मांसपेशियों में दर्द, गंभीर सिर दर्द, खांसी, कमजोरी और सामान्य असुविधा. सुअर भी मानव इन्फ्लूएंजा से संक्रमित हो सकते हैं और यह वर्ष 1918 के फ्लू महामारी के दौरान प्रतीत हुआ था।[2]

मानव में यह 2009 का सूअर फ्लू एक नई नसल की इन्फ्लूएंजा A के कारण हुई है जो सूअर इन्फ्लूएंजा के जीनों से मिलतीजुलती है।[3] इस नई नस्ल का मूल अज्ञात है। हालांकि, विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन (OIE) के रिपोर्ट के अनुसार इस तरह का फ्लू सूअरों में अलग नहीं है।[4] यह मानव से मानव को संक्रमित हो सकता हैं[5]और इसमें इन्फ्लूएंजा के सामान्य लक्षण दिखाई दे सकते हैं।[6]

वर्गीकरण[संपादित करें]

इन्फ्लूएंजा वायरस की तीन जातियाँ जो मनुष्य फ्लू का कारण हो सकती हैं, उन में से दो सूअरों में इन्फ्लूएंजा का कारण है, इन्फ़्लुएन्ज़ वाइरस A इन में आम है और इन्फ़्लुएन्ज़ा वाइरस C दुर्लभ है।[7] इन्फ़्लुएन्ज़ वाइरस B सूअरों में अभी सूचित नहीं किया गया है। इन्फ़्लुएन्ज़ वाइरस A और इन्फ्लुएन्ज़ा वाइरस C में मनुष्य और सूअरों में पाए जाने वाले भेद अलग-अलग हैं। वर्गीकरण के कारण जींस, सूअर, बर्ड और मानव प्रजाति के बीच सीमा लाँघ कर जाती रहती हैं।

इन्फ्ल्यूएंजा सी[संपादित करें]

इन्फ्ल्यूएंजा C वायरस, मनुष्य और सूअर को संक्रामित करता है पर पक्षियों को संक्रामित नहीं करता है।[8] पूर्व में सूअरों और इंसानों के बीच संक्रमण होता था।[9] उदाहरण के लिए, इन्फ्लूएंजा C जापान[10] और कैलिफोर्निया में बच्चों के बीच पाया गया.[10] अपनी सीमित वाहक सीमा के कारण और इन्फ्लूएंजा C में आनुवंशिक विविधता की कमी के कारण, यह इन्फ्लूएंजा मानव में महामारियों के रूप में दिखाई नहीं देता.[11]

इन्फ्ल्यूएंजा A[संपादित करें]

सुअर इन्फ्लूएंजा, इन्फ्लूएंजा A और उपभेद H1N1,[12] H1N2,[12] H3N1,[13] H3N2,[12] और H2N3 के कारण होता है।[14] सूअरों में, तीन इन्फ्लूएंजा A वायरस उपभेद (H1N1, H3N2,H1N2) के रूप में विश्वभर में दिखाई देता है।[15] वर्ष 1998 से पहले संयुक्त राज्य अमेरिका में, H1N1 उपभेद विशेष रूप से सूअरों के बीच में प्रचलित था और 1998 के उत्तरार्ध में अगस्त में यह H3N2 उपभेद सूअरों में अलग पाया गया. वर्ष 2004 के अनुसार, H3N2 वायरस अमेरिका और तुर्की में अलग-अलग दिखाई देते थे जो तीन तरह के वर्गीकरण से होते थे और मानव (HA, NA और PB1), सूअर (NS, NP और M) और एवियन वंशावली में (PB2 और PA) में पाए जाते थे।[16]

नियंत्रण[संपादित करें]

सिंगापुर चंगी हवाई अड्डे पर पहुंचने पर यात्रियों की स्कैनिंग थर्मल.

यद्यपि संयुक्त राज्य अमेरिका में सूअरों में कौन से वाइरस संचारित हो रहे हैं इसको निर्धारित करने वाली कोई प्रणाली नहीं है पर अनौपचारिक रूप से एक राष्ट्रीय नियंत्रण प्रणाली है,[17] जो विश्व नियंत्रण नेटवर्क का एक हिस्सा है।

पशु चिकित्सक, ट्रेसी मेक्नामरा, ने चिड़ियाघर में एक राष्ट्रीय रोग नियंत्रण प्रणाली की स्थापना की है क्योंकि वे चिडियाघर में रोग की सक्रिय नियंत्रण रखते हैं और वहां कई विदेशी जानवर व्यापक रूप में रहते हैं। कई प्रजातियाँ (कुत्तों, बिल्लियों, पालतू प्रैरी कुत्तों, चिड़ियाघर के जानवरों सहित शहरी वन्यजीव) किसी भी संघीय एजेंसियों के रडार से नीचे होती हैं, हालांकि वे मानव बीमारी फैलने के कारणों का जल्दी पता लगाने में महत्वपूर्ण हो सकती है।[18] [19]

इतिहास[संपादित करें]

सुअर इन्फ्लूएंजा सबसे पहले एक मानव सम्बंधित इन्फ्लूएंजा कहा गया था जो वर्ष 1918 के फ्लू महामारी के दौरान पता चला जब मनुष्य की तरह सूअर भी मनुष्य की तरह बीमार पड़ने लगे.[2] सबसे पहले यह इन्फ्लूएंजा वायरस सुअरों की बीमारी के रूप में वर्ष 1930 के बाद से दिखाई देने लगा.[20] अगले 60 वर्षों में सूअर इन्फ्लूएंजा H1N1 ही मात्र होते थे। फिर, तीन अलग अलग उपभेद वर्ष 1997 और 2002 के बीच पाए गए जो तीन नयी जातियों और पाँच अलग जींस में उत्तर अमेरिका के सूअरों के बीच में इन्फ्लूएंजा के रूप में उभरे. 1997-1998 में, H3N2 जातियाँ उभरी. ये वंशाणु, जो मानव, सूअर और एवियन वायरस के वर्गीकरण के कारण बने और उत्तर अमेरिका में सूअर इन्फ्लूएंजा का एक बड़ा कारण हो गए हैं। H1N1 और H3N2 के वर्गीकरण से H1N2 उत्पन्न हुआ। वर्ष 1999 में कनाडा में H4N6 जातियां पक्षियों की सीमा से पार होकर सुअरों की सीमा में चली गयी जो एक ही प्रकार में निहित थीं।[20]

सूअर का H1N1 प्रकार का फ्लू वर्ष 1918 के फ्लू महामारी के वंश क्रम का ही है।[21][22] सूअरों में भी दिखाई देने वाला यह वायरस वर्ष 1918 में भी 20 वीं सदी के मानव के माध्यम से दिखाई देने लगा जो सामान्य मौसमी इन्फ़्लुएन्ज़ा में दिखाई देता है।[22] हालाँकि सूअरों से मनुष्यों में इसका सीधा प्रसारण नहीं होता पर वर्ष 2005 के बाद से अमेरिका में केवल 12 मामले दिखाई दिए.[23] बहरहाल, सूअरों में दिखाई देने वाला इस इन्फ्लूएंजा के उपभेद बाद में मानव आबादी से गायब हो गए जहाँ ये इन्फ्लूएंजा वायरस हो सकते थे, बाद में जब मानव की रोग क्षमता कम हो गयी तो ये फिर उन्हें संक्रमित करने आ गए।[24]

सुअर फ्लू, एक व्यापक वितरण के साथ-साथ सीमित वितरण के रूप में मानव में जूनोसिस के रूप में कई बार सूचित किया गया है। सूअर में यह प्रकोप आम है और उद्योग में यह महत्वपूर्ण आर्थिक नुकसान का कारण होता है जो मुख्य रूप से एक करतब और बाजार के विस्तार के रूप में माना जाता है। उदाहरण के लिए, यह रोग ब्रिटिश मांस उद्योग के लिए 65 करोड़ पौंड सालाना खर्च करवाती है।[25]

वर्ष 1918 की मानव महामारी[संपादित करें]

वर्ष 1918 की फ्लू महामारी H1N1 और सूअर इन्फ्लूएंजा के रूप में दिखाई दी थी।[22] यह जूनोसिस सुअरों से मनुष्यों को या मनुष्य से सूअरों को होती दिखाई देती है। हालांकि इस बात का कोई प्रमाण नहीं था कि यह वायरस किस दिशा में स्थान्तरित होता है पर प्राप्त प्रमाणों के अनुसार यह रोग मनुष्य से सूअरों में आया है।[2] उदाहरण के रूप में, स्वाइन इन्फ़्लुएन्ज़ा वर्ष 1918 में नए रोग के रूप में जाना गया जब यह इन्फ़्लुएन्ज़ा मनुष्य में पाया गया.[2] हालांकि वंशानुविश्लेशन से यह पता चलता है कि हाल की इन्फ़्लुएन्ज़ा जातियाँ मानव, पक्षियों और सूअरों में देखने को मिली जो वर्ष 1918 में यह वर्गीकरण किसी स्तनधारी जीव के द्वारा होता हुआ पाया गया.[26] वर्ष 1918 तक इसका सही पता नहीं चला.[27]

1976 में अमेरिका में प्रकोप[संपादित करें]

फ़रवरी 5, 1976 में अमेरिका की सेना में भर्ती एक व्यक्ति फोर्ट डिक्स ने कहा कि वह थका हुआ और कमजोर महसूस कर रहा है। वह बाद में मर गया और बाद में उसके चार साथी सैनिक अस्पताल में भर्ती हुए. उसकी मौत के दो हफ्ते बाद स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह बताया कि उसकी मौत का कारण सूअर की एक नई नस्ल फ्लू है। इस जाति को H1N1 का एक प्रकार माना गया जो A/ न्यू जर्सी /1976 (H1N1) कहा गया. यह 19 जनवरी और फ़रवरी 9 तक पता चला और फिर फोर्ट डिक्स के बाद फैला नहीं.[28]

राष्ट्रपति फोर्ड सूअर फ्लू टीकाकरण प्राप्त

यह नयी जाति वर्ष 1918 की फ्लू महामारी से संबंधित जाति की तरह दिखाई देती है। इसके अलावा, इस निगरानी ने अमेरिका में एक और जाति विशेष का पता लगाया. A/विक्टोरिया/75 (H3N2)फैल गयी और बीमारी का कारण बनी और मार्च तक बरकरार रही.[28] सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों को सचेत किया और तब उन्होंने यह निश्चय किया कि एक और प्रमुख महामारी को आने से बचाया जाए और इसके लिए राष्ट्रपति जेराल्ड फोर्ड से आग्रह किया कि संयुक्त राष्ट्र में सभी लोगों को टीका दिया जाए.[29]

यह टीकाकरण कार्यक्रम जनसंपर्क समस्याओं और देरियों के कारण समय पर नहीं हो पाए.[30] 1 अक्टूबर 1976 को, टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हुआ और 11 अक्टूबर तक, लगभग 40 करोड़ लोग, या आबादी का लगभग 24% ने सूअर फ्लू से बचाव प्राप्त किया। उसी दिन, तीन वरिष्ठ नागरिक सूअर फ्लू का टीका प्राप्त करने के बाद मर गये और वहाँ संचार माध्यम ने उन मौतों को टीकाकरण से जोड़ने का प्रयास किया, यद्यपि उनको इसके लिए कोई सकारात्मक सबूत नहीं मिले. विज्ञान लेखक पैट्रिक दी जस्टो के अनुसार, जब तक इस सच का पता चलता कि मौतों के टीके से कोई संबंध नहीं है - बहुत देर हो चुकी थी। "सरकार ने लंबे समय तक शूकर फ्लू के बारे में डर था - तो अब वे सूअर फ्लू के टीकाकरण के बारे में डरने लगे." इस कार्यक्रम के लिए यह एक बहुत बड़ा झटका था।[31]

रिपोर्टों के अनुसार जिन लोगों ने सूअर फ्लू के टीके प्राप्त किये उनमें गुइल्लें-बर्रे सिंड्रोम पाया गया जो एक प्रकार का नयूरोमुस्कुलर (नाडी-मांसपेशियों) से सम्बंधित विकार था। यह सिंड्रोम आधुनिक इन्फ्लूएंजा टीके का एक दुर्लभ नकारात्मक असर था जो प्रति दस लाख लोगों में से एक मामला इस घटना का होता था।[32]इसके परिणामस्वरूप, डी जस्टो ने लिखा कि "जनता ने सरकार द्वारा संचालित स्वास्थय कार्यक्रमों पर विश्वास करना छोड़ दिया जिसने बूढे लोगों को मार डाला और युवा लोगों को अपंग कर दिया. " वर्ष 1976 के अंत तक जनसंख्या का कम से कम 33% टीके प्राप्त कर चुका था। राष्ट्रीय इन्फ्लुएंजा टीकाकरण कार्यक्रम 16 दिसम्बर तक समाप्त कर दिया गया.

कुल मिलाकर, वहां गुइल्लें-बर्रे सिंड्रोम (जीबीएस) के 500 केस दर्ज हुए जिसमे से 25 लोग फेफडे संबन्धी जटिलता से मर गए। डॉ॰ पी. हबर के अनुसार, वर्ष 1976 का यह टीका एक तरह के रोग-निदान टीकाकरण के कारण उत्पन्न हुआ। अन्य इन्फ़्लुएन्ज़ा टीकों का सम्बन्ध जीबीएस से नहीं जोड़ा गया. जिन लोगों में जीबीएस का इतिहास था उनको पहले ही सतर्क कर दिया गया था।[33][34] प्रतिरक्षण कार्यक्रम में भाग लेने वाले एक भागीदार के द्वारा यह माना गया कि इस रोग से ज्यादा अमेरिकी वासियों को इस टीके ने मार डाला.[35]

1988 जूनोसिस[संपादित करें]

सितम्बर 1988 में, सूअर फ्लू विषाणु ने एक औरत को मार डाला और दूसरों को संक्रमित कर दिया. 32 वर्षीय बारबरा एन विएनेर्स आठ महीने के गर्भ से थी जब वह और उसके पति, एड, विस्कांसिन नाम के एक काउंटी मेले में वाल्वोर्थ काउंटी में गए और बीमार पड़ गए। बारबरा आठ दिन बाद, न्यूमोनिया से मारी गयी।[36] उसके अन्दर एकमात्र रोगज़नक़ पहचान सूअर का H1N1 जाति का इन्फ्लूएंजा वायरस था।[37] डॉक्टरों के परिश्रम से उसे प्रेरित किया गया और मरने से पहले उसने एक स्वस्थ बेटी को जनम दिया. उसका पति बाद में ठीक हुआ।

सूअर मेले में जितने भी सूअर प्रदर्शित थे उनमें ILI व्यापक रूप से पाया गया. 25 सूअर प्रदर्शकों में से 76% सूअर प्रदर्शक जो 9 से 19 आयु वर्ग के थे उनमें SIV प्रतिपिण्ड सकारात्मक रूप में पाया गया. पर इस समूह में से किसी को भी कोई गंभीर बीमारी नहीं पाई गयी। अतिरिक्त अध्ययन से यह पता चला कि जो रोगी स्वास्थ्य कर्मियों के संपर्क में थे उनमें हल्का इन्फ्लूएंजा विकसित हुआ, वैसे ही जैसे सूअर के प्रतिपिण्ड के साथ बीमारियों का संक्रमण होता है। हालांकि, इसमें कोई समुदाय प्रकोप नहीं हुआ।[38][39]

वर्ष 1998 में अमेरिका में सूअर प्रकोप[संपादित करें]

वर्ष 1998 में, सूअर फ्लू चार अमेरिकी राज्यों में पाए गए। एक वर्ष के भीतर-भीतर यह संयुक्त राज्य भर में सुअर आबादियों के बीच फैल गया. वैज्ञानिकों का मानना है कि यह वायरस सूअरों से उत्पन्न हुआ है जो पक्षियों और मनुष्यों से फ्लू उपभेदों के रूप में दिखाई देता है। इससे यह पता चला कि सूअर एक क्रूसिबल के रूप में उभर कर आते हैं जहां नए इन्फ्लूएंजा वायरस अलग उपभेदों से जीनों के वर्गीकरण के परिणाम के रूप में विभिन्न जातियों में दिखाई देते हैं।[40][41][42]

वर्ष 2007 में फिलीपीन में स्वाइन प्रकोप[संपादित करें]

20 अगस्त 2007 कृषि विभाग के अधिकारियों ने इस प्रकोप (एपिजूटिक) की जांच फिलिप्प्पिन के नुएवा एसिजा और सेंट्रल लुजोन, में की. स्वाईन फ्लू के कारण हुई म्रत्यु दर 10% से भी कम है, जब तक कि वहाँ हॉग हैजा जैसी जटिलता नहीं हैं। 27 जुलाई 2007 को, फिलीपीन राष्ट्रीय मांस निरीक्षण सेवा (NMIS) ने सूअर हैजा के प्रति "रेड एलर्ट" की घोषणा की, जहाँ मेट्रो मनीला के साथ-साथ बुलाकां और पम्पंगा के पिछवाडे सूअर फार्म से यह रोग लुजोन के पांच प्रान्तों में फैल गया, जबकि यह स्वाइन फ्लू के लिए नकारत्मक सिद्ध हुआ था।[43][44]

वर्ष 2009 में मानव प्रकोप[संपादित करें]

यह 2009 फ्लू के फैलने का कारण उपभेद H1N1 की एक नई नस्ल मानी गयी जो पहले सूअरों में रिपोर्ट नहीं हुई थी।[4]अप्रैल के उत्तरार्ध में मार्गरेट चान, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक, ने "अंतरराष्ट्रीय चिंता की एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थिति", की घोषणा डब्ल्यूएचओ की नई अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य विनियमों के अनुसार दी जब H1N1 वायरस के प्रथम मामले के बारे में संयुक्त राज्य अमेरिका को सूचना मिली.[45] [46] इसके तहत, 2 मई 2009 को, जब मैक्सिको में इसके फैलने की सूचना मिली तो यह पाया गया कि इसकी कड़ी अल्बेर्ता, कनाडा, के एक फार्म में दिखाई दी. इन सूअरों, ने इस नयी नसल को एक मजदूर से प्राप्त किया लगता है जो हाल ही में मैक्सिको से लौटा था और जिसमे इन्फ्लूएंजा के लक्षण दिखाई देने लगे थे।[47] ये संभावित मामले हैं, जिनकी पुष्टि प्रयोगशाला में लंबित है।

यह नयी नसल की इन्फ़्लुएन्ज़ा A तरह के वाइरस वर्गीकरण द्वारा चार तरह की जातियों से H1N1 के उपभेद से युक्त होकर वर्णित किये गए हैं, इनमें से एक मनुष्य से, एक पक्षियों से और दो सूअर से आये हैं।[48]}आगामी विश्लेषण से यह पता चला कि यह दो प्रकार की जातियों से युक्त है जो सूअरों में पाई जाती है।[3] हालांकि शुरुआती रिपोर्टों में इस नयी जाति को सूअर इन्फ्लूएंजा (एक जूनोसिस जो सूअर में प्रारंभ होता है) कहा गया पर उसका मूल अभी भी अज्ञात है। कई देशों में इस बीमारी को एक वैश्विक महामारी की संभावना मान कर इस के लिए कई एहतियाती उपाय लिए हैं।[49] मृत्यु दर को दृष्टि में रखते हुए स्वाइन फ्लू की तुलना कई अन्य सुअर फ्लू इन्फ्लूएंजा वायरस से की गयी है। "अमेरिका में ऐसे लगता है कि हर 1000 लोगों में से जो संक्रमित होते है उनमें से 40 लोगों को अस्पताल में प्रवेश लेना पड़ता है और एक व्यक्ति की मौत हो जाती है।[50] इस बात का भी डर है कि सूअर फ्लू सर्दियों के महीनों में एक प्रमुख वैश्विक महामारी बन जायेगी और इसलिए कई देश टीकाकरण अभियान की योजना बना रहे हैं।[51]

संचरण[संपादित करें]

सूअरों के बीच ट्रांसमिशन/ स्थानान्तरण[संपादित करें]

इन्फ्ल्यूएंजां सूअरों में आम है क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में सूअर पालन के आधे से भी ज्यादा प्रजननशील सूअरों का संपर्क वाइरस से हो चुका है।[52] इस विषाणु के एंटीबॉडी अन्य देशों में भी आम हैं।[52]

संचरण का मुख्य कारण संक्रमित और असंक्रमित जानवरों के बीच सीधे संपर्क के माध्यम से होता है।[15] ये संपर्क विशेषकर पशु परिवहन के दौरान आम हैं। गहन खेती भी संचरण के खतरे को बढ़ा सकता है क्योंकि यहाँ सूअर एक दूसरे के बहुत करीब होते हैं।[53][54] वायरस का सीधा हस्तांतरण शायद या तो सूअरों के नाक से या सूखे श्लेष्म के माध्यम द्वारा होता है। हवा द्वारा संक्रमण भी तब होता है जब ये सूअर या तो खांसते है या छींकते हैं।[15] यह वायरस आमतौर पर एक झुंड के माध्यम से कुछ ही दिनों में बहुत जल्दी फैलता है।[1] संक्रमण दूसरे जंगली जानवरों से भी हो सकता है। कुछ ही दिनों के भीतर सभी सूअरों से संक्रमण फैलता है। यह संक्रमण जंगली सूअर, या जंगली जानवरों से भी हो सकते हैं जो इस रोग को फार्म से फैलाते हैं।[55]

मनुष्यों में स्थानान्तरण[संपादित करें]

जो लोग कुक्कुट और सूअरों के साथ काम करते हैं, वे इन के गहन जोखिम में आते हैं। ऐसे लोगों को जूनोटिक संक्रमण का खतरा रहता हैं जो वाइरस पशुओं में पाया जाता है। इसके कारण एक आबादी इसे बन सकती है जिसमे मनुष्य इसके वाहक हो सकते हैं और इनमें जूनोसिस और वर्गीकरण संभव हो सकता है।[56] इन कर्मचारियों को इन्फ़्लुएन्ज़ा के प्रति टीकाकरण और नए इन्फ़्लुएन्ज़ा जाति के खिलाफ निगरानी सार्वजनिक स्वास्थ्य के प्रति एक अच्छा उपाय हो सकता है।[57] वर्ष 2004 में लोवा विश्वविद्यालय में, जो लोग स्वाइन के साथ काम करते हैं, ने शूकर से इन्फ्लूएंजा का मनुष्य में स्थानान्तरण, पर एक छोटी सी निगरानी अध्ययन में प्रलेखित किया।[58] यह अध्ययन अन्य लोगों के बीच आधार बना है कि जिनकी नौकरियां सूअर पर आधारित हैं, उनके लिए स्वाइन एक सार्वजनिक स्वास्थ्य निगरानी का केंद्र है।[56] अन्य व्यवसाय जिनमें यह संक्रमण अधिक होता है, वे हैं, पशु चिकित्सक और मांस प्रसंस्करण कार्यकर्ता, हालांकि इन दोनों समूहों के लिए संक्रमण का खतरा फार्म के मजदूरों से कम होता है।[59]

सूअरों में एवियन H5N1 के साथ सहभागिता[संपादित करें]

सूअर असामान्य होते हैं क्योंकि वे इन्फ्लूएंजा उपभेदों के तीन अलग-अलग प्रजातियों से संक्रमित हो सकते हैं : सूअरों, पक्षियों और मनुष्यों.[60]इससे सूअर इन्फ्लूएंजा वायरस के वाहक बन जाते हैं जहाँ जीन विनिमय के साथ-साथ नए और खतरनाक जातियों का उत्पादन करते हैं।[60] एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H3N2 चीन के सुअरों में स्थानिकमारी वाले है और इन की पहचान वियतनाम के सूअरों में भी की गई है, जिसके कारण नए उपभेदों के उद्भव की आशंका बढ़ जाती है।[61] H3N2 H2N2 से प्रतिजनीके द्वारा विकसित हुए है।[62] अगस्त 2004 में, शोधकर्ताओं ने चीनमें सूअरों में H5N1 को पाया।[63]

सूअर फलू के मुख्य लक्षण [146]

ये H5N1 संक्रमण काफी आम हो सकता है: पश्चिम जावा के पौल्ट्री फार्म में जब बर्ड फ्लू चल पडा तो 10 स्वस्थ सूअरों के सर्वेक्षण से पता चला कि पाँच सुअरों के नमूने में H5N1 वायरस निहित है। इन्डोनेशियाई सरकार को इस क्षेत्र में इसी तरह के परिणाम मिले. इस क्षेत्र के बाहर 150 सूअरों पर किये गए अतिरिक्त परीक्षण नकारात्मक रहे.[64][65]

संकेत और लक्षण[संपादित करें]

सूअर में[संपादित करें]

सूअरों में इन्फ्लूएंजा संक्रमण से, बुखार आता है, सुस्ती होती है, छींके आती हैं, खाँसी होती है, श्वास लेने में कठिनाई और भूख की कमी महसूस होती है।[15]कुछ मामलों में संक्रमण से गर्भपात भी हो जाता है। हालांकि मृत्यु दर आम तौर पर कम है (लगभग 1-4%),[1] वायरस वजन घटाने के साथ-साथ और विकास को भी कम करते हैं जिससे किसानों को आर्थिक नुकसान पहुँचता हैं।[15] संक्रमित सूअरों के शरीर का वजन 3 से 4 हफ्तों की अवधि में 12 पाउंड से अधिक कम हो जाता है।[15]

इंसानों में[संपादित करें]

सूअर फ्लू के मुख्य लक्षण- इंसानों में फ्लू

सूअरों से मनुष्य में सूअर फ्लू वायरस का सीधा संक्रमण कभी-कभी ही संभव हो सकता है (इसे जूनोटिक सूअर फ्लू कहा जाता है). चिकित्सा साहित्य के रिपोर्ट अनुसार वर्ष 1958 में दर्ज पहले केस से आज तक 50 केस प्राप्त हो चुके हैं जिन में से छह मौत हो गयी हैं।[66] छह लोगों में से एक गर्भवती थी, एक को खून का कैंसर था, एक होद्ग्किन का रोगी था और दो स्वस्थ बताये जाते हैं।[66] यद्यपि ये संक्रमण की कम संख्या है, संक्रमण के सही दर का पता नहीं है, क्योंकि ज्यादातर मामलों में केवल बहुत ही हल्का रोग हो सकता है, जो न तो रिपोर्ट किये जायेगें या इनका कभी निदान ही हो पायेगा.[66]

In this video, Dr. Joe Bresee, with CDC's Influenza Division, describes the symptoms of swine flu and warning signs to look for that indicate the need for urgent medical attention.
See also: See this video with subtitles on YouTube[67]

केंद्र रोग नियंत्रण और रोकथाम (सीडीसी), के अनुसार मानव में सूअर फ्लू 2009 के "H1N1 वायरस" इन्फ्लूएंजा और इन्फ्लूएंजा के समान बीमारी की तरह ही लगता है। इन लक्षणों में बुखार, खाँसी, गले में दर्द, शरीर में दर्द, सिरदर्द, ठंड और थकान शामिल हैं। वर्ष 2009 के प्रकोप में ज्यादातर रोगियों को दस्त और उल्टी होते दिखाई दिए हैं।[68] वर्ष 2009 का H1N1 वायरस जूनोटिक सूअर फ्लू नहीं है, क्योंकि यह सूअर से मनुष्य में प्रेषित नहीं होता है, व्यक्ति से व्यक्ति को होता है।

क्योंकि ये लक्षण सूअर फ्लू के लिए विशिष्ट नहीं हैं। संभावित सूअर फ्लू का एक विभेदक निदान हैं कि सूअर फ्लू में व्यक्ति में वे लक्षण दिखने चाहिए जो उस व्यक्ति के हाल के इतिहास की वजह से है। उदाहरण के लिए, 2009 में संयुक्त राज्य में सूअर फ्लू फैलने के दौरान सीडीसी ने चिकित्सकों से कहा कि वे "सूअर फ्लू से पीड़ित लोगों को जिनमें ज्वर के साथ-साथ गंभीर सांस की बीमारी की पुष्टि हुई है, वे जो स्वाइन फ्लू के व्यक्तियों से संपर्क प्राप्त कर चुके हैं, जो संयुक्त राष्ट्र के उन पांच राज्यों में थे जहाँ से स्वाइन फ्लू से लोग ग्रस्त हुए हैं, जो बीमार होने से 7 दिन पहले मेक्सिको में निवास कर रहे थे, पर विचार करने को कहा है".[69] स्वाइन फ्लू की पुष्टि के लिए प्रयोगशाला परीक्षण की आवश्यकता है (नाक और गले की साधारण परीक्षा)[69]

रोकथाम[संपादित करें]

सूअर इन्फ्लूएंजा के निवारण के तीन घटक हैं : सूअर में रोकथाम, मनुष्य में संचरण का रोकथाम और मनुष्यों के बीच इसके फैलने से रोकना.

सूअर में निवारण[संपादित करें]

सूअरों के बीच में इन्फ्लूएंजा के प्रसार को रोकने के तरीके हैं - प्रबंधन की सुविधा, झुंड का प्रबंधन और टीकाकरण. क्योंकि अधिकतर बीमारी और मौत सूअर फ्लू से जुड़े अन्य रोगज़नक़ों द्वारा होती है, टीकाकरण पर निर्भर नियंत्रण अपर्याप्त हो सकती हैं।

हाल के दशक में टीकाकरण द्वारा सूअर इन्फ़्लुएन्ज़ा पर नियंत्रण करना मुश्किल हो गया है, वायरस के उद्भव से परम्परागत टीकाकरण असंगत हो गया है। मानक वाणिज्यिक सूअर फ्लू टीकों के संक्रमण को नियंत्रित करने में प्रभावी होते हैं, जब वायरस उपभेद महत्वपूर्ण संरक्षण के लिए पर्याप्त है और विशिष्ट वायरस के द्वारा बनायी गयी दवाइयां जटिल मामलों में प्रयोग की जाती हैं।[70][71] SIV नियंत्रण और रोकथाम के लिए बनाये गए टीके स्वाइन फर्मों में SIV टीकाकरण के लिए प्रयोग किये जाते है जो वाणिज्यिक रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका में उपलब्ध हैं। हाल ही में जो 97 H3N2 पृथक रखे गये वायरसों का जांच किया गया तो यह पाया गया कि उनमें से 41 वाइरस शक्तिसाली हैं और इनमें तीन विरोधी प्रतिक्रियाएं हैं। इन्फ्लूएंजा टीकों की रक्षात्मक क्षमता मुख्यतः टीके के वायरस और महामारी वायरस के बीच निकट सम्बन्ध पर निर्भर करता है, SIV में स्थित अप्राभावी H3N2 प्रकार यह बताते हैं कि वर्तमान व्यावसायिक टीके प्रभावित रूप से H3N2 संक्रमण वायरस से सूअरों की रक्षा नहीं कर सकते है।[72][73] संयुक्त राज्य कृषि विभाग के शोधकर्ताओं का कहना है कि जब तक सुअर टीकाकरण से सूअर बीमार होते रहेंगे तब तक यह संक्रमण रुकता नहीं है।[74]

सुविधा प्रबंधन में व्यापक वातावरण के साथ-साथ वातावरण में विद्यमान वायरस को नियंत्रित करना और कीटानुराहित वातावरण बनाना भी शामिल है। यह वायरस दो सप्ताह से ज्यादा जीवित कोशिकाओं के बाहर जी नहीं सकता है, लेकिन ठंड में (बर्फ जमने की स्थिति), कीटानुराहित वातावरण में यह सुस्त पड़ जाता है।[1] झुंड प्रबंध का मतलब इन्फ्लूएंजा को लेकर चलने वाले सूअरों को झुंड में शामिल करना नहीं हैं जो इस वायरस के संपर्क में आ चुके हैं। यह वायरस स्वस्थ सूअरों में 3 महीने तक रहता है और इन में से प्रकोप के समय बरामद किया जा सकता है। वाहक सूअर आमतौर पर SIV को असंक्रमित झुंड में या देश में शुरू करने के लिए जिम्मेदार होते हैं ताकि नए पशु उनसे अलग रखें जाएँ.[52] इसके फैलने के बाद, संक्रमित सूअरों में रोग निर्मूलन शक्ति कम हो जाती है, तो इसका प्रकोप बढ़ जाता है।[1]

इंसानों में निवारण[संपादित करें]

मानव में प्रसारित होने के लिए सूअरों का निवारण
AntigenicShift HiRes vector.svg

सुअर इन्फ्लूएंजा, मानव इन्फ्लूएंजा और एवियन इन्फ़्लुएन्ज़ा दोनों उपभेदों से हो सकता है, ये इन प्रतिजनी के वाहक हो जाते हैं जो एक नए इन्फ्लूएंजा की जाति को पैदा कर सकते हैं।

सूअर से मानव में स्थानान्तरण मुख्यतः फार्मों में होता है जहां किसान सूअरों के साथ निकट संपर्क में रहते हैं। यद्यपि सूअर इन्फ्लूएंजा की जातियाँ आमतौर पर मनुष्यों को संक्रमित करने में सक्षम नहीं है पर यह कभी-कभी संभव हो जाता है, इसलिए किसानों और पशु चिकित्सकों को चेहरे पर मुखौटा डाल कर संक्रमित पशुओं से निपटना चाहिए. सूअर पर टीकों का उपयोग, संक्रमण को रोकने के लिए, मानव में प्रसारण होने से बचने की एक प्रमुख विधि है। जोखिम कारक जो सूअर से मनुष्य में रोग को संक्रमण करने में योगदान देते हैं वे हैं धूम्रपान और पशुओं के साथ काम करते समय दस्तानों का न पहनना है।[75]

मानव-मानव के बीच संचरण से निवारण

मनुष्यों के बीच संक्रमण, खाँसने या छींकने और लोगों द्वारा विषाणु युक्त वस्तुओं को छूने से और फिर अपनी नाक या मुँह को छूने से फैलता है।[76] सुअर फ्लू पोर्क उत्पादों से नहीं फैल सकता है, क्योंकि विषाणु भोजन के माध्यम से प्रेषित नहीं होते हैं।[76] मनुष्य में स्वाइन फ्लू पहले पांच दिन के दौरान ज्यादा संक्रमित होते हैं, हालांकि कुछ लोग, अधिकतर बच्चों में, यह संक्रमण दस दिन के लिए भी रह सकता है। निदान के लिए, नमूने को विश्लेषण के लिए पहले पांच दिनों में एकत्र कर भेज सकते हैं।[77]

मनुष्यों के बीच में इस विषाणु के प्रसार को रोकने के लिए इन्फ्लूएंजा के खिलाफ मानक संक्रमण के नियंत्रण का प्रयोग भी कर सकते हैं। सार्वजनिक स्थानों में जाने पर साबुन और पानी, हाथ धोने के लिए मद्य मिश्रित दवा का प्रयोग करना चाहिए.[78]संचरण को रोकने के लिए घर में सभी वस्तुओं को कीटानुराहित करना होगा, जो एक पतले क्लोरीन ब्लीच के द्वारा संभव हो सकता है।[79] हालांकि यह त्रिसंयोजक इन्फ्लूएंजा टीका नए 2009 H1N1 जाति के खिलाफ संरक्षण प्रदान करने के लिए, सक्षम नहीं है।[80] नयी नस्ल के खिलाफ टीके विकसित किये जा रहे हैं और जून 2009 तक ये तैयार हो जायेगें.[81]

विशेषज्ञों की राय है कि हाथ की धुलाई से वायरल संक्रमण का रोकथाम होता है, जिसमे साधारण इन्फ्लूएंजा और सूअर फ्लू वायरस भी सम्मिलित हैं। इन्फ्ल्यूएंजा खांसने या छीकने से फैलती है, लेकिन प्राप्त साक्ष्य के अनुसार छोटी बूंदों के रूप में वाइरेस मेज पर, टेलीफोन और अन्य सतहों पर रहते हैं और उँगलियों के माध्यम से मुंह, नाक या आँखों में स्थान्तरित हो जाते हैं। मद्य युक्त फोम या जेल से हाथ धोने से वायरस और जीवाणु नष्ट हो जाते हैं। किसी भी व्यक्ति में यदि फ्लू के जैसे कोई लक्षण हैं जैसे - अचानक बुखार, खाँसी या मांसपेशियों का दर्द, तो उन्हें काम से दूर रहना चाहिए या सार्वजनिक परिवहन से दूर रहना चाहिए और डाक्टर से संपर्क करना चाहिए.

सामाजिक तौर से दूर रहना भी एक और तरीका है। इसका मतलब है कि उन लोगों से दूर रहना जो संक्रमित हो सकते हैं, बड़े सम्मेलनों में जाने से परहेज करना, थोडा काम करना, घर पर रहकर बिस्तर पर पड़े रहना यदि संक्रमण किसी समुदाय में फैल रहा है। सार्वजनिक स्वास्थ्य और अन्य जिम्मेदार अधिकारी उनको दूर रहने का अनुरोध कर सकते हैं या समाज से दूर रहने को भी कह सकते हैं यदि बीमारी का फैलना गंभीर दिखाई दे रहा है।

उपचार[संपादित करें]

सूअर में[संपादित करें]

जैसा कि कहा जाता है सूअर इन्फ्लूएंजा सूअरों के लिए घातक नहीं है, इसके लिए थोड़े से उपचार और देखभाल की जरूरत है।[52] इसके बजाय पशु चिकित्सा के प्रयास फार्मों और अन्य फार्मों पर केंद्रित रहते हैं।[15] टीकाकरण और पशु प्रबंधन तकनीक इन प्रयासों के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। इसके उपचार के लिए एंटीबायोटिक्स का भी प्रयोग किया जाता है, जिनका असर इन्फ्लूएंजा वायरस पर नहीं होता, इन्फ़्लुएन्ज़ा युक्त कमजोर झुंड पर बैक्टीरियल निमोनिया और अन्य माध्यमिक संक्रमण को रोकने में मदद करते हैं।[52]

इंसानों में[संपादित करें]

यदि कोई व्यक्ति सूअर फ्लू से बीमार हो जाता है, तो वाइरस विरोधी दवाओं से बीमारी कम हो जाती है और मरीज तेजी से बेहतर महसूस करता है। वे फ्लू की गंभीर जटिलताओं का रोकथाम भी कर सकते हैं। इलाज के लिए, वाइरस विरोधी दवाएं बेहतरीन काम करती हैं यदि रोग शुरू होने के तुंरत शुरू कर दिया जाए (2 दिनों के भीतर). घर या अस्पताल में वाइरस विरोधी दवाओं के अलावा, प्रशामक देखभाल, ज्वर को नियंत्रित करते हुए और तरल पदार्थों का संतुलन करते हुए उपचार कर सकते हैं। अमेरिका केंद्र रोग नियंत्रण और रोकथाम ने तामीफ्लू (oseltamivir) या रेलेंज़ा (zanamivir) के उपयोग की सिफारिश की है, जो स्वाइन फ्लू वाइरस के संक्रमण या रोकथाम के लिए उपयोगी सिद्ध होता है। लेकिन ज्यादातर लोग जो इस विषाणु से संक्रमित हैं बिना चिकित्सा या वाइरस विरोधी दवाओं के प्रयोग के ठीक हो जाते हैं।[82] जो वायरस 2009 में फैला वह अमंतादैने और रिमंतादिने के प्रति प्रतिरोधी है।[83]

अमेरिका में, 27 अप्रैल 2009 को खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने आपातकालीन इस्तेमाल के लिए प्राधिकरण जारी किया कि रेलेंज़ा और तामीफ्लू वाइरस विरोधी दवा उपलब्ध करवाए जो स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए जरूरी है और जो अभी अननुमोदित नहीं हैं। इस एजेंसी ने रोगियों के उपचार के लिए EUAs को जारी किया जो वर्तमान अनुमोदन की अपेक्षा छोटे हैं ताकि वे व्यापक स्तर पर दवाओं का वितरण कर सकें, इनमें स्वयंसेवी लाइसेंसधारी भी सम्मिलित हैं।[84]

यह भी देखिये[संपादित करें]


नोट्स[संपादित करें]

  1. "Swine influenza". The Merck Veterinary Manual. 2008. http://www.merckvetmanual.com/mvm/index.jsp?cfile=htm/bc/121407.htm. अभिगमन तिथि: April 30, 2009. 
  2. Knobler S, Mack A, Mahmoud A, Lemon S, सं. "1: The Story of Influenza". The Threat of Pandemic Influenza: Are We Ready? Workshop Summary (2005). Washington, D.C.: The National Academies Press. प॰ 75. http://books.nap.edu/openbook.php?isbn=0309095042&page=75. 
  3. V Trifonov, H Khiabanian, B Greenbaum, R Rabadan (30 अप्रैल 2009). "The origin of the recent swine influenza A(H1N1) virus infecting humans". Eurosurveillance 4 (17). http://www.eurosurveillance.org/images/dynamic/EE/V14N17/art19193.pdf. 
  4. Maria Zampaglione (April 29, 2009). "Press Release: A/H1N1 influenza like human illness in Mexico and the USA: OIE statement". World Organisation for Animal Health. Archived from the original on April 30, 2009. http://web.archive.org/20090430105521/www.oie.int/eng/press/en_090427.htm. अभिगमन तिथि: April 29, 2009. 
  5. [11] ^ स्वाइन इन्फ्लूएंजा वर्ल्ड हेल्थ ओर्गानिज़शन 27 अप्रैल 2009
  6. "Influenza A(H1N1) frequently asked questions". Who.int. http://www.who.int/csr/disease/swineflu/faq/en/index.html. अभिगमन तिथि: 2009-05-07. 
  7. Heinen PP (15 सितंबर 2003). "Swine influenza: a zoonosis". Veterinary Sciences Tomorrow. ISSN 1569-0830. http://www.vetscite.org/publish/articles/000041/print.html. "Influenza B and C viruses are almost exclusively isolated from man, although influenza C virus has also been isolated from pigs and influenza B has recently been isolated from seals.". 
  8. Bouvier NM, Palese P (September 2008). "The biology of influenza viruses". Vaccine 26 Suppl 4: D49–53. PMID 19230160. 
  9. Kimura H, Abiko C, Peng G, et al (April 1997). "Interspecies transmission of influenza C virus between humans and pigs". Virus Res. 48 (1): 71–9. PMID 9140195. http://linkinghub.elsevier.com/retrieve/pii/S0168-1702(96)01427-X. 
  10. Matsuzaki Y, Sugawara K, Mizuta K, et al (February 2002). "Antigenic and genetic characterization of influenza C viruses which caused two outbreaks in Yamagata City, Japan, in 1996 and 1998". J. Clin. Microbiol. 40 (2): 422–9. PMC 153379. PMID 11825952. http://jcm.asm.org/cgi/pmidlookup?view=long&pmid=11825952. 
  11. Lynch JP, Walsh EE (April 2007). "Influenza: evolving strategies in treatment and prevention". Semin Respir Crit Care Med 28 (2): 144–58. doi:10.1055/s-2007-976487. PMID 17458769. 
  12. "Swine Influenza". Swine Diseases (Chest). Iowa State University College of Veterinary Medicine. http://www.vetmed.iastate.edu/departments/vdpam/swine/diseases/chest/swineinfluenza/. 
  13. Shin JY, Song MS, Lee EH, Lee YM, Kim SY, Kim HK, Choi JK, Kim CJ, Webby RJ, Choi YK (2006). "Isolation and characterization of novel H3N1 swine influenza viruses from pigs with respiratory diseases in Korea". Journal of Clinical Microbiology 44 (11): 3923–7. doi:10.1128/JCM.00904-06. PMID 16928961. 
  14. Ma W, Vincent AL, Gramer MR, Brockwell CB, Lager KM, Janke BH, Gauger PC, Patnayak DP, Webby RJ, Richt JA (26 दिसम्बर 2007). "Identification of H2N3 influenza A viruses from swine in the United States". Proc Nat Acad Sci USA 104 (52): 20949–54. doi:10.1073/pnas.0710286104. PMC 2409247. PMID 18093945. http://www.pnas.org/content/104/52/20949.full. 
  15. Kothalawala H, Toussaint MJ, Gruys E (June 2006). "An overview of swine influenza". Vet Q 28 (2): 46–53. PMID 16841566. 
  16. Yassine HM, Al-Natour MQ, Lee CW, Saif YM (November 2007). "Interspecies and intraspecies transmission of triple reassortant H3N2 influenza A viruses". Virol J 28 (4): 129. doi:10.1186/1743-422X-4-129. PMC 2228287. PMID 18045494. 
  17. "Swine influenza A (H1N1) infection in two children --- Southern California, March--April 2009". Morbidity and Mortality Weekly Report. Centers for Disease Control. 22 अप्रैल 2009. http://www.cdc.gov/mmwr/preview/mmwrhtml/mm5815a5.htm. 
  18. "Interview With Tracey McNamara". Journal of Homeland Security, August 2002. http://www.homelandsecurity.org/journal/Default.aspx?oid=15&ocat=4. अभिगमन तिथि: 2009-05-26. 
  19. Laura H. Kahn (2007-03-13). "Animals: The world's best (and cheapest) biosensors". http://thebulletin.org/web-edition/columnists/laura-h-kahn/animals-the-worlds-best-and-cheapest-biosensors. अभिगमन तिथि: 2005-05-26. 
  20. Olsen CW (May 2002). "The emergence of novel swine influenza viruses in North America". Virus Research 85 (2): 199–210. PMID 12034486. http://linkinghub.elsevier.com/retrieve/pii/S0168170202000278. 
  21. "Soft evidence and hard sell". New York Times. 5 सितंबर 1976. http://select.nytimes.com/gst/abstract.html?res=F10914FA3E5E14768FDDAC0894D1405B868BF1D3&scp=9&sq=Swine+Flu+epidemic&st=p. 
  22. Taubenberger JK, Morens DM (2006). "1918 Influenza: the mother of all pandemics". Emerg Infect Dis 12 (1): 15–22. PMID 16494711. http://www.cdc.gov/ncidod/eid/vol12no01/05-0979.htm. 
  23. "U.S. pork groups urge hog farmers to reduce flu risk". Reuters. 26 अप्रैल 2009. http://www.reuters.com/article/latestCrisis/idUSN26488473. 
  24. Heinen, P. (2003), "Swine influenza: a zoonosis", Veterinary Sciences Tomorrow: 1–11, retrieved 2009-05-04 
  25. Kay RM, Done SH, Paton DJ (August 1994). "Effect of sequential porcine reproductive and respiratory syndrome and swine influenza on the growth and performance of finishing pigs". Vet. Rec. 135 (9): 199–204. PMID 7998380. 
  26. Vana G, Westover KM (June 2008). "Origin of the 1918 Spanish influenza virus: a comparative genomic analysis". Molecular Phylogenetics and Evolution 47 (3): 1100–10. doi:10.1016/j.ympev.2008.02.003. PMID 18353690. 
  27. Antonovics J, Hood ME, Baker CH (April 2006). "Molecular virology: was the 1918 flu avian in origin?". Nature 440 (7088): E9; discussion E9–10. doi:10.1038/nature04824. PMID 16641950. 
  28. Gaydos JC, Top FH, Hodder RA, Russell PK (January 2006). "Swine influenza a outbreak, Fort Dix, New Jersey, 1976". Emerging Infectious Diseases 12 (1): 23–8. PMID 16494712. http://www.cdc.gov/ncidod/EID/vol12no01/05-0965.htm. 
  29. Schmeck, Harold M. (March 25, 1976). "Ford Urges Flu Campaign To Inoculate Entire U.S.". दि न्यू यॉर्क टाइम्स. http://select.nytimes.com/gst/abstract.html?res=F50A17FD3C5A167493C7AB1788D85F428785F9. 
  30. [72] ^ रिचर्ड ई. नयूस्ताद्त एंड हार्वे वी. फिनेबेर्ग. 1978).दी स्वाइन फ्लू अफ्फैर: डिसीजन-मकिंग आन अ सलीपपेरी दिसीसेस. नेशनल अकादमीस प्रेस.
  31. [73] ^ "दी लास्ट ग्रेट स्वाइन फ्लू एपिदेमिक", Salon.com 28 अप्रैल 2009.
  32. Vellozzi C, Burwen DR, Dobardzic A, Ball R, Walton K, Haber P (March 2009). "Safety of trivalent inactivated influenza vaccines in adults: Background for pandemic influenza vaccine safety monitoring". Vaccine 27 (15): 2114–2120. doi:10.1016/j.vaccine.2009.01.125. PMID 19356614. 
  33. Haber P, Sejvar J, Mikaeloff Y, Destefano F (2009). "Vaccines and Guillain-Barré syndrome". Drug Saf 32 (4): 309–23. doi:10.2165/00002018-200932040-00005 (inactive 2009-04-26). PMID 19388722. 
  34. "Influenza / Flu Vaccine". University of Illinois at Springfield. http://www.uis.edu/healthservices/immunizations/influenzavaccine.html. अभिगमन तिथि: 26 अप्रैल 2009. 
  35. [80] ^ बीबीसी: द वर्ल्ड, 28 अप्रैल 2009.
  36. McKinney WP, Volkert P, Kaufman J (January 1990). "Fatal swine influenza pneumonia during late pregnancy". Archives of Internal Medicine 150 (1): 213–5. PMID 2153372. http://archinte.ama-assn.org/cgi/pmidlookup?view=long&pmid=2153372. 
  37. Kimura K, Adlakha A, Simon PM (March 1998). "Fatal case of swine influenza virus in an immunocompetent host". Mayo Clinic Proceedings. Mayo Clinic 73 (3): 243–5. PMID 9511782. 
  38. "Key Facts About Swine Flu (CDC)". Cdc.gov. http://www.cdc.gov/swineflu/key_facts.htm. अभिगमन तिथि: 2009-05-07. 
  39. Wells DL, Hopfensperger DJ, Arden NH, Harmon MW, Davis JP, Tipple MA, Schonberger LB (1991). "Swine influenza virus infections. Transmission from ill pigs to humans at a Wisconsin agricultural fair and subsequent probable person-to-person transmission". JAMA : the Journal of the American Medical Association 265 (4): 478–81. PMID 1845913. 
  40. Stephanie Desmon (April 28, 2009). "Expert: Swine flu virus more complex than typically seen". Baltimore Sun. http://www.baltimoresun.com/news/health/bal-swine-flu-strain0428,0,3165467.story. 
  41. "Pork industry is blurring the science of swine flu - Short Sharp Science". New Scientist. http://www.newscientist.com/blogs/shortsharpscience/2009/04/why-the-pork-industry-hates-th.html. अभिगमन तिथि: 2009-05-07. 
  42. "Swine flu: The predictable pandemic? - 29 अप्रैल 2009". New Scientist. http://www.newscientist.com/article/mg20227063.800-swine-flu-the-predictable-pandemic.html?full=true. अभिगमन तिथि: 2009-05-07. 
  43. "DA probes reported swine flu 'outbreak' in N. Ecija". Gmanews.tv. http://www.gmanews.tv/story/56805/DA-probes-reported-swine-flu-outbreak-in-N-Ecija. अभिगमन तिथि: 2009-04-25. 
  44. "Gov't declares hog cholera alert in Luzon". Gmanews.tv. http://www.gmanews.tv/story/53014/Govt-declares-hog-cholera-alert-in-Luzon. अभिगमन तिथि: 2009-04-25. 
  45. "Outbreak of Swine-Origin Influenza A (H1N1) Virus Infection --- Mexico, March--April 2009". Centers for Disease Control. 30 अप्रैल 2009. http://www.cdc.gov/mmwr/preview/mmwrhtml/mm58d0430a2.htm. 
  46. Laura H. Kahn (11 मई 2009). "Stirring up "swine flu" hysteria". Bulletin of the Atomic Scientists. http://thebulletin.org/web-edition/columnists/laura-h-kahn/stirring-swine-flu-hysteria. 
  47. "An Alberta Swine Herd Investigated for H1N1 Flu Virus". The Canadian Food Inspection Agency. May 2, 2009. http://www.inspection.gc.ca/english/corpaffr/newcom/2009/20090502e.shtml. अभिगमन तिथि: 2009-05-03. 
  48. "Deadly new flu virus in US and Mexico may go pandemic". New Scientist. 2009-04-24. http://www.newscientist.com/article/dn17025-deadly-new-flu-virus-in-us-and-mexico-may-go-pandemic.html. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  49. "World takes drastic steps to contain swine flu". 30 अप्रैल 2009. Archived from the original on 4 मई 2009. http://web.archive.org/web/20090504014022/news.yahoo.com/s/ap/20090430/ap_on_he_me/eu_swine_flu_drastic_measures. 
  50. [115] ^ रेफरी नाम = "क्रिकी -, टेक अ दीप ब्रेअथ, स्वाइन फ्लुस नोट ठाट बाद"> "Take a deep breath, Swine Flu’s not that bad". Crikey. 2009-05-25. http://www.crikey.com.au/2009/05/25/take-a-deep-breath-swine-flus-not-that-bad/. अभिगमन तिथि: 2009-05-225. [114]
  51. [116] ^ "http://www.reuters.com/article/europeCrisis/idUSN09437556" रॉयटर्स रिपोर्ट
  52. "Influenza Factsheet". Center for Food Security and Public Health, Iowa State University. http://www.cfsph.iastate.edu/Factsheets/pdfs/influenza.pdf. 
  53. Gilchrist MJ, Greko C, Wallinga DB, Beran GW, Riley DG, Thorne PS (February 2007). "The potential role of concentrated animal feeding operations in infectious disease epidemics and antibiotic resistance". Environ. Health Perspect. 115 (2): 313–6. doi:10.1289/ehp.8837. PMC 1817683. PMID 17384785. 
  54. Saenz RA, Hethcote HW, Gray GC (2006). "Confined animal feeding operations as amplifiers of influenza". Vector Borne Zoonotic Dis. 6 (4): 338–46. doi:10.1089/vbz.2006.6.338. PMC 2042988. PMID 17187567. 
  55. Vicente, J.; Leon-vizcaino, L.; Gortazar, C.; Jose Cubero, M.; Gonzalez, M.; Martin-atance, P. (2002), "Antibodies to selected viral and bacterial pathogens in European wild boars from southcentral Spain" (PDF), Journal of wildlife diseases, 38 (3): 649, retrieved 2009-05-02 
  56. Gray GC, Kayali G (April 2009). "Facing pandemic influenza threats: the importance of including poultry and swine workers in preparedness plans". Poultry Science 88 (4): 880–4. doi:10.3382/ps.2008-00335. PMID 19276439. 
  57. Gray GC, Trampel DW, Roth JA (May 2007). "Pandemic influenza planning: shouldn't swine and poultry workers be included?". Vaccine 25 (22): 4376–81. doi:10.1016/j.vaccine.2007.03.036. PMC 1939697. PMID 17459539. 
  58. Gray GC, McCarthy T, Capuano AW, Setterquist SF, Olsen CW, Alavanja MC (December 2007). "Swine workers and swine influenza virus infections". Emerging Infectious Diseases 13 (12): 1871–8. PMID 18258038. http://www.cdc.gov/eid/content/13/12/1871.htm. 
  59. Myers KP, Olsen CW, Setterquist SF, et al (January 2006). "Are swine workers in the United States at increased risk of infection with zoonotic influenza virus?". Clin. Infect. Dis. 42 (1): 14–20. doi:10.1086/498977. PMC 1673212. PMID 16323086. 
  60. Thacker E, Janke B (February 2008). "Swine influenza virus: zoonotic potential and vaccination strategies for the control of avian and swine influenzas". J. Infect. Dis. 197 Suppl 1: S19–24. doi:10.1086/524988. PMID 18269323. 
  61. Yu, H. (March 2008). "Genetic evolution of swine influenza A (H3N2) viruses in China from 1970 to 2006". Journal of Clinical Microbiology 46 (3): 1067. doi:10.1128/JCM.01257-07. PMID 18199784. http://jcm.asm.org/cgi/content/full/46/3/1067?maxtoshow=&HITS=10&hits=10&RESULTFORMAT=&fulltext=phylogenetic&searchid=1&FIRSTINDEX=230&resourcetype=HWFIG. 
  62. Lindstrom Stephen E, Cox Nancy J, Klimov Alexander (15 अक्टूबर 2004). "Genetic analysis of human H2N2 and early H3N2 influenza viruses, 1957–1972: evidence for genetic divergence and multiple reassortment events". Virology 328 (1): 101–19. doi:10.1016/j.virol.2004.06.009. PMID 15380362. 
  63. World Health Organization (28 अक्टूबर 2005). "H5N1 avian influenza: timeline" (PDF). Archived from the original on 4 नवम्बर 2005. http://web.archive.org/20051104124603/www.who.int/csr/disease/avian_influenza/Timeline_28_10a.pdf. 
  64. "Indonesian pigs have avian flu virus; bird cases double in China". University of Minnesota: Center for Infectious Disease Research & Policy. 27 मई 2005. http://www.cidrap.umn.edu/cidrap/content/influenza/avianflu/news/may2705avflu.html. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  65. [150]^रिपोर्ट ऑन पिग्स अस कैरियरस "H5N1 virus may be adapting to pigs in Indonesia". University of Minnesota: Center for Infectious Disease Research & Policy. 31 मार्च 2009. http://www.cidrap.umn.edu/cidrap/content/influenza/avianflu/news/mar3109swine-jw.html. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. [149]
  66. Myers KP, Olsen CW, Gray GC (April 2007). "Cases of swine influenza in humans: a review of the literature". Clin. Infect. Dis. 44 (8): 1084–8. doi:10.1086/512813. PMC 1973337. PMID 17366454. http://www.pubmedcentral.nih.gov/articlerender.fcgi?tool=pubmed&pubmedid=17366454. 
  67. "‪Symptoms of H1N1 (Swine Flu)‬‏". YouTube. 2009-04-28. http://www.youtube.com/watch?v=0wK1127fHQ4&feature=channel_page. अभिगमन तिथि: 2011-05-22. 
  68. "Swine Flu and You". CDC. 2009-04-26. http://www.cdc.gov/swineflu/swineflu_you.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  69. Centers for Disease Control and Prevention (April 26, 2009). "CDC Health Update: Swine Influenza A (H1N1) Update: New Interim Recommendations and Guidance for Health Directors about Strategic National Stockpile Materiel". Health Alert Network. http://www.cdc.gov/swineflu/HAN/042609.htm. अभिगमन तिथि: April 27, 2009. 
  70. "Swine flu virus turns endemic". National Hog Farmer. 15 सितंबर 2007. http://nationalhogfarmer.com/mag/swine_flu_virus_endemic/. 
  71. "Swine". Custom Vaccines. Novartis. http://www.livestock.novartis.com/cv_swine.html. 
  72. Gramer Marie René, Lee Jee Hoon, Choi Young Ki, Goyal Sagar M, Joo Han Soo (July 2007). "Serologic and genetic characterization of North American H3N2 swine influenza A viruses". Canadian Journal of Veterinary Research 71 (3): 201–206. PMID 1899866. http://www.pubmedcentral.nih.gov/articlerender.fcgi?artid=1899866. 
  73. Myers KP, Olsen CW, Gray GC (April 2007). "Cases of swine influenza in humans: a review of the literature". Clin Infect Dis 44 (8): 1084–8. doi:10.1086/512813. PMC 1973337. PMID 17366454. 
  74. "Swine flu: The predictable pandemic?". 2009-04-29. http://www.newscientist.com/article/mg20227063.800-swine-flu-the-predictable-pandemic.html?full=true/. 
  75. Ramirez A, Capuano AW, Wellman DA, Lesher KA, Setterquist SF, Gray GC (June 2006). "Preventing zoonotic influenza virus infection". Emerging Infect. Dis. 12 (6): 996–1000. PMC 1673213. PMID 16707061. http://www.cdc.gov/ncidod/eid/vol12no06/05-1576.htm. 
  76. "Q & A: Key facts about swine influenza (swine flu) – Spread of Swine Flu". Centers for Disease Control and Prevention. 24 अप्रैल 2009. http://www.cdc.gov/swineflu/key_facts.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  77. "Q & A: Key facts about swine influenza (swine flu) – Diagnosis". Centers for Disease Control and Prevention. 24 अप्रैल 2009. http://www.cdc.gov/swineflu/key_facts.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  78. "CDC - Influenza (Flu) | Swine Influenza (Flu) Investigation". Cdc.gov. http://cdc.gov/swineflu/investigation.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-27. 
  79. "Chlorine Bleach: Helping to Manage the Flu Risk". Water Quality & Health Council. April 2009. http://www.waterandhealth.org/newsletter/new/winter_2005/chlorine_bleach.html. अभिगमन तिथि: 2009-05-12. 
  80. "Q & A: Key facts about swine influenza (swine flu) – Virus Strains". Centers for Disease Control and Prevention. 24 अप्रैल 2009. http://www.cdc.gov/swineflu/key_facts.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-26. 
  81. Lauren Petty (April 28, 2009). "Swine Flu Vaccine Could Be Ready in 6 Weeks". NBC Connecticut. http://www.nbcconnecticut.com/news/local/CT-Company-Making-Swine-Flu-Vaccine.html. अभिगमन तिथि: April 28, 2009. 
  82. "www.who.int/csr/disease/swineflu/faq/en/index.html". http://www.who.int/csr/disease/swineflu/faq/en/index.html. 
  83. "Antiviral Drugs and Swine Influenza". Centers for Disease Control. http://www.cdc.gov/swineflu/antiviral_swine.htm. अभिगमन तिथि: 2009-04-27. 
  84. "FDA Authorizes Emergency Use of Influenza Medicines, Diagnostic Test in Response to Swine Flu Outbreak in Humans. FDA News, April 27, 2009". Fda.gov. 2009-04-27. http://www.fda.gov/bbs/topics/NEWS/2009/NEW02002.html. अभिगमन तिथि: 2009-05-07. 


आगे पढ़ना[संपादित करें]


बाहरी संबंध[संपादित करें]