सुंदरी ए. उत्तमचंदाणी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुंदरी ए. उत्तमचंदाणी
SundriUttamchandani-SindhiWriter.jpg
सुंदरी उत्तमचंदानी
जन्म 28 सितम्बर 1924 (1924-09-28) (आयु 95)
हैदराबाद सिंध
मृत्यु 8 जुलाई 2013(2013-07-08) (उम्र 88)
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय साहित्यकार

श्रीमती सुन्दरी ए. उत्तमचंदाणी (28 सितंबर 1924 - 8 जुलाई 2013) सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह विछोरो के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[1] उन्होंने प्रगतिशील लेखक ए जे उत्तम से विवाह किया था।

1986 में साहित्य अकादमी द्वारा उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया, उनकी सिंधी किताब विछोरो, के लिए जो नौ लघु कहानियों का संकलन है। [2]

जीवनी[संपादित करें]

सुन्दरी उत्तमचंदानी का जन्म 28 सितंबर 1924 को हैदराबाद सिंध (अब पाकिस्तान) में हुआ था। अंग्रेजों द्वारा सिंध की विजय से पहले हैदराबाद सिंध की राजधानी थी। हालांकि यह एक राजधानी के रूप में अपनी स्थिति खो चूका है, लेकिन यह शिक्षा साहित्य और संस्कृति का एक संपन्न केंद्र बना रहा। सभी सुधार आंदोलनों को इसकी मिट्टी में निहित किया गया था। बहुत कम उम्र में, सुंदरी को लोक और पौराणिक कथाओं के एक विशाल भंडार से अवगत कराया गया था, जो उसके माता-पिता द्वारा उसे और विस्तारित संयुक्त परिवार के अन्य बच्चों को सुनाई गई थी। अपनी युवावस्था के दौरान देश भर में स्वतंत्रता आंदोलन चल रहा था और वह इसके लिए तैयार नहीं थे। कॉलेज में रहते हुए भी उन्होंने एक कहानी का अनुवाद किया "भादुर माओ जी बहादुर देह" (एक बहादुर माँ की एक बहादुर बेटी)। यह साहित्यिक क्षेत्र में उनकी शुरुआत थी।

उन्होंने एक स्वतंत्रता सेनानी, असंदास उत्तमचंदानी से विवह की, जो सिंधी साहित्य में गहरी दिलचस्पी के साथ मार्क्सवादी दर्शन की ओर झुकाव रखते थे, और जो बाद के वर्षों में सिंधी प्रगतिशील साहित्यिक आंदोलन के प्रमुख लेखकों में से एक थे। एजे उत्तम बॉम्बे में सिंधी साहित मंडल के संस्थापक में से एक थे। सुंदरी उनके साथ साप्ताहिक साहित्यिक बैठकों में भाग लेती थीं, जिसकी अध्यक्षता प्रो एम यू मलकानी किया करते थे उनकी गिनती सिंधी के सर्व मान्य व्यक्तियों में की जाती थी, जो नए और आने वाले लेखकों को प्रोत्साहन देने वाले एक प्रमुख थे। सिंधी लेखकों और उनके रचनात्मक कार्यों के लिए यह उनके लिए प्रेरणा का स्रोत बन गया और वर्ष 1953 में उन्होंने अपना पहला उपन्यास "किरंदार दीवरून" (ढहती दीवारें) प्रकाशित किया। उन्होंने अपने इस करतब से साहित्य में पुरुष वर्चस्व के एकाधिकार को ध्वस्त कर दिया, जो की एक मिल का पत्थर साबित हुआ। जबकि एक ओर, उन्होंने सभी वरिष्ठ लेखकों की, उनके 'घरेलू' भाषा के उपयोग के लिए प्रशंसा प्राप्त की, एक लोक- मुहावरेदार भाषा जिसका प्रयोग महिला लोग अपने घर में करती हैं और इस तरह सिंधी साहित्य में एक नया साहित्यिक स्वाद आया। उपन्यास की विषयवस्तु और संरचना परिपक्व थी और इसे कई बार पुनः प्रकाशित किए जाने का गौरव प्राप्त है। इस उपन्यास का कई भारतीय भाषाओं में अनुवाद किया गया और उन भाषाओं के साहित्यिक आलोचकों द्वारा उनकी प्रशंसा की गई, इस प्रकार उन्हें एक क्षेत्रीय भाषा के लेखक से लेकर अखिल भारतीय ख्याति के एक लेखक तक पहुंचाया। उनकी दूसरी उपन्यास "प्रीत पुराणी रीत निराली" वर्ष 1956 में आई, जो 5 बार पुनः प्रकाशित में की गई , जो अपनी योग्यता और लोकप्रियता के बारे में बताती है।

अपने इन उपन्यासों के अलावा, उन्होंने लघु कहानियां लिखी जिसमें उन्होंने खुद को अधिक सहज पाया। उनके पास लघु कहानियों के संग्रह हैं, जिनमें से कुछ विभिन्न पुनर्मुद्रणों में गए हैं। उनकी कुछ लघु कथाएँ अक्सर उन्हें उत्कृष्ट उदाहरण के रूप में उद्धृत किया जाता है।

अपने विशाल और शानदार साहित्यिक कार्यकाल में कई पुरस्कार जीतने के अलावा, उन्हें वर्ष 1986 में उनकी पुस्तक "विचोरो" के लिए प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया गया।

प्रगतिशील लेखक के आंदोलन के एक भाग के रूप में उन्होंने तत्कालीन सोवियत संघ पर लिखा है, " नईं सभ्यता जो दर्शन " और भारत रूस बा बांहबेली (इंडिया रूस दो कामरेड बाहुबलियों) जिसमें उन्होंने प्रतिष्ठित सोवियत लैंड अवार्ड जीता । उन्होंने कई महिला लेखकों को सिंधी साहित्य में योगदान करने के लिए प्रेरित किया है और भविष्य की पीढ़ियों को भी प्रेरित करते रहेंगे।

साहित्यिक कार्यकाल[संपादित करें]

उन्होंने वर्ष 1946 में लिखना शुरू किया। उन्होंने लगभग 200 लघु कथाएँ, 2 उपन्यास, 12 एक अभिनय नाटक, 500 निबंध 200 कविताएँ लिखी है।। कई उपन्यासों, लघु कथाओं और प्रसिद्ध लेखकों की कविताओं का अनुवाद किया है। जिनमे अमृता प्रीतम, मैक्सिम गोर्की, कृष्णचंद्र, शोलोखोव आदि शामिल है।

  • पोजिशन हेल्ड: पायनियर मेंबर ऑफ सिंधी साहित्य मंडल और अखिल भारत सिंधी बोलि और साहित्य सभा
  • संस्थापक: सिंधु नारी सभा और सिंधु बाल मंदिर

पुरस्कार[संपादित करें]

  • सोवियत लैंड नेहरू शांति पुरस्कार, जिसमें नकद पुरस्कार और यूएसएसआर की 2 सप्ताह की यात्रा शामिल है।
  • पुस्तक 'भूरी' के लिए हिंदी निदेशालय, शिक्षा मंत्रालय से पुरस्कार
  • अखिल भारत सिंधी बोलि ऐन साहित सभा से - 10,000/रु का नकद पुरस्कार 1985
  • 1986 बुक 'विचोरो' पर साहित्य अकादमी पुरस्कार
  • महाराष्ट्र गवर्नमेंट से गौरव पुरस्कर 100,000/ रु का नकद पुरस्कार ।
  • 2005 में सिंधी भाषा को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय परिषद एनसीपीएसएल से लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड की ओर 50,000 /रु का नकद पुरस्कार- ।
  • 2012 में सिंधी अकादमी, दिल्ली से 1,50,000 रुपये का नकद पुरस्कार और नागरिकता

निर्मित टेलीफ़िल्में[संपादित करें]

  • बंधन 1986 - हिंदी में
  • विलायती घोट जी गोला - निर्देशक - कमल नथानी
  • किटी पार्टी - निर्देशक कैलाश आडवाणी
  • भूरि - 2008 - निर्देशक राजेश बच्चनानी
  • इंसाफ- 2012 - निर्देशक कमल नथानी

सुंदरी उत्तमचंदानी पर बनी डॉक्यूमेंट्री दो प्रमुख सिंधी महिला लेखकों के साथ प्रो पोपटी हीरानंदानी और कला प्रकाश (सिंधी साहित जून ते बरख लेखकौं)

सिंधी संगत के माध्यम से पूरे भारत में उपलब्ध है

पुस्तकों की सूची[संपादित करें]

  • किरन्दर देवरुण - 1953 (5 संस्करण और 3 भाषाओं में अनुवादित)
  • अमन साडे पेयो - 1966
  • प्रीत पुराणी रीट निराले - 1956 (5 संस्करण)
  • भरत रस बा बहु बोलि
  • हुगाओ 1993
  • जिन जी टाट के लिए - 1970
  • मर्क ते मनाह 1992
  • नई सबित जो दर्शन - 1975
  • भूरी - 1979 (3 संस्करण)
  • हिक ससुई साओ सोर (ट्रांस) - 1963
  • आचार वर गारा गुल - 1965
  • आतम विश्वास - १ ९९९
  • विचूरो - 1989 (2 संस्करण)
  • सिंधु (नाटक) - 2000
  • युगांतर - 1989
  • नखरेलीउन - 2001
  • खेरियल धरती - 1992
  • दात बानी आ लात - २००४
  • बंधन - 1985 (3 संस्करण)
  • चंचला- हिंदी में उनकी कहानियों का अनुवाद - 2011

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. मूल से 15 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.
  2. Lal, Mohan; Amaresh Datta (1992). Encyclopaedia of Indian Literature: Sasay-Zorgot (Volume 5). Sahitya Akademi. पृ॰ 4558.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]