सुंईया मेला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सुंईया मेला, राजस्थान के बाड़मेर जिले के चौहटन कस्बे में पौष कृष्ण पक्ष अमावस्या की सोमवती अमावस्या को मुहूर्त पर लगता है। इसे "मारवाड़ का अर्द्ध कुंभ" कहा जाता है| सुंईया महादेव एक "मरु कुंभ" भी है।

महत्व[संपादित करें]

सुंईया मेले का धर्मशास्त्रों के अनुसार महात्म्य है क्योंकि यह विशेष योग पर ही भरा जाता है| पौष माह, सोमवार, अमावस्या, मूल नक्षत्र व व्यातिपात योग इन पांचों योग का एक ही समय मिलने पर सुंईया मेले का आयोजन होता है|

ऐसे में इस तरह के योग सन् 1944, 1946, 1949, 1956, 1970, 1974, 1977, 1990, 1997, 2005 को बना, और सुंईया मेला भरा गया| इस बार यह योग 18 दिसंबर 2017 को है|

सन्दर्भ[संपादित करें]