सिल्वरिन स्वर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सिल्वरिन स्वर
जन्म १२ नवम्बर १९१०
शिलाँग, पूर्वी बंगाल और असम, भारत
मृत्यु १ फरवरी २०१४
शिलाँग, भारत

सिल्वरिन स्वर (१९१०-२०१४), जो लोकप्रिय रूप से कोंग सिल (कांग का अर्थ है खसी भाषा में बड़ी बहन) के रूप में जानी जाती है, एक भारतीय सामाजिक और पर्यावरण कार्यकर्ता, शिक्षाविद् और सिविल कर्मचारी थे।[1] वह पहली महिला थी जो मेघालय सरकार में वरिष्ठ पद पर थी।[2] भारत सरकार ने १९९० में पद्म श्री के चौथे उच्चतम नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया था।[3]

जीवनी[संपादित करें]

सिल्वरिन स्वर का जन्म १२ नवंबर १९१० को शिलाँग के एक खासी ईसाई परिवार में हुआ था, पूर्वोत्तर भारतीय राज्य मेघालय की राजधानी।[4] उन्होंने १९३२ में कलकत्ता विश्वविद्यालय के तहत, स्कॉटिश चर्च कॉलेज से स्नातक (बीए) किया। १९४४ में, स्वार को ब्रिटिश भारतीय सरकार के तहत सहायक नियंत्रक के रूप में चुना गया था।[5]

पुरस्कार और मान्यता[संपादित करें]

  • ब्रिटिश सरकार से कैसर-ए-हिंद पदक का पुरस्कार १९४०।
  • १९७६ में भारत स्काउट्स और गाइड्स के चांदी हाथी पदक।
  • भारत सरकार ने उन्हें १९९० में पद्मश्री के नागरिक सम्मान से सम्मानित किया। \

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "The Hindu - Meghalaya's first Padma Shri awardee dies at 103". The Hindu. 2 February 2014. अभिगमन तिथि 20 September 2015.
  2. "Arabia 365 News". Arabia 365. 2014. अभिगमन तिथि 22 September 2015.
  3. "Padma Awards" (PDF). Ministry of Home Affairs, Government of India. 2015. अभिगमन तिथि 21 July 2015.
  4. "Padmashri Silverine Swer passes away at 103". Shillong Times. 2 February 2014. अभिगमन तिथि 22 September 2015.
  5. "Meghalaya bids adieu to oldest woman". Zee News. 3 February 2014. अभिगमन तिथि 22 September 2015.