साहित्यकार संसद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

साहित्यकार संसद की स्थापना 1942 में इलाहाबाद में हुई थी। इस संस्था के लिए 1945 में महादेवी वर्मा ने गंगा के किनारे रसूलाबाद में एक भवन खरीदा। 1950 में तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने साहित्यकार संसद के वाणी मंदिर का शिलान्यास किया था।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. वर्मा, महादेवी (1977). अतीत के चलचित्र. नई दिल्ली: राधाकृष्ण प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड. पृ॰ 111. 81-7119-099-5. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)