सामाजिक भूगोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सामाजिक भूगोल (अंग्रेज़ी: Social Geography) मानव भूगोल की एक शाखा है। यह शाखा सामाजिक सिद्धांत और समाजशास्त्रीय संकल्पना से संबंधित है तथा समाज के विविध तत्वों एवं प्रक्रियाओं का स्थानिक अध्ययन करती है। ब्रिटैनिका एन्साइक्लोपीडिया के विवरण अनुसार, "सामाजिक भूगोल अपना ध्यान समाज में मौजूद विभाजनों, शुरुआती तौर पर वर्ग-विभाजन, नृजातीयता (एथनिसिटी) और कुछ हद तक धर्म (आधारित विभाजन) पर केंद्रित करता है; हालांंकि, हाल में इसमें और कई चीजें जुड़ी हैं, जैसे कि लिंग (जेंडर) और कामुक झुकाव, उम्र इत्यादि।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Human geography [मानव भूगोल]" (en में). ब्रिटैनिका एन्साइक्लोपीडिया. https://www.britannica.com/science/geography/Human-geography#ref405956. अभिगमन तिथि: 14 अप्रैल 2018. "Social geography concentrates on divisions within society, initially class, ethnicity, and, to a lesser extent, religion; however, more recently others have been added, such as gender, sexual orientation, and age."