सांख्यिकीय जनसंख्या

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांख्यिकी में, जनसंख्या समानरूपी चीज़ों या घटनाओं का समुच्चय होती हैं, जो किसी प्रश्न या प्रयोग हेतु रोचक हो।[1] एक सांख्यिकीय जनसंख्या, वास्तव में मौजूदा वस्तुओं का समूह हो सकती हैं (उदाहरणार्थ, आकाशगंगा गैलेक्सी के भीतर सर्व तारों का समुच्चय) अथवा अनुभव से सामान्यीकरण के रूप में कल्पित एक प्राक्कल्पनात्मक और सम्भावित अनन्त वस्तुओं का समूह हो सकती हैं (उदाहरणार्थ, पोकर के एक खेल में सभी सम्भव हाथों का समुच्चय)।[2] सांख्यिकीय विश्लेषण का एक आम उद्देश्य अमुक चुनी हुई जनसंख्या के बारे में जानकारी का उत्पादन होता है।[3]

सांख्यिकीय निष्कर्ष में, जनसंख्या का एक उपसमुच्चय (एक सांख्यिकीय नमूना) चुना जाता हैं, जो सांख्यिकीय विश्लेषण में, जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करता हैं।[4] यदि कोई नमूना उचित रूप से चुना गया हो, तो उस नमूने की तत्संबंधी विशेषताओं से, पूरी जनसंख्या की विशेषताएँ, जिससे वह नमूना निकाला गया हो, अनुमानित की जा सकती हैं।

उपजनसंख्या[संपादित करें]

एक जनसंख्या का उपसमुच्चय जो एक या एक से अधिक अतिरिक्त गुणों को साझा करता हैं, उसे उपजनसंख्या कहा जाता हैं। उदाहरण के लिए, यदि सारे मिस्र के लोगों की एक जनसंख्या हैं, तो सारे मिस्र के मर्दों की एक उपजनसंख्या होगी; यदि विश्व में सारे फार्मेसियों की एक जनसंख्या हैं, तो मिस्र में सारे फार्मेसियों की एक उपजनसंख्या होगी। इसके विपरीत, एक नमूना एक जनसंख्या का उपसमुच्चय हैं, जिसे अतिरिक्त गुण साझा करने के लिए नहीं चुना गया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]