साँचा:सन्दूक शिव कुंडलिनी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

साँचा चक्र मिला: साँचा:शिव कुंडलिनी कुण्डलिनी महाशक्ति का परिचय, स्थान और स्वरूप का वर्णन करते हुए कहा गया है कि वह मूलाधार चक्र के में निवास करती है। अग्नि स्वरूप है। सुप्त-सर्पिणी की तरह सोई पड़ी है। स्वयंभू महालिंग से—शिव लिंग से लिपटी पड़ी है। इसी स्थिति की झांकी शिव प्रतिमाओं में कराई जाती है। योनि क्षेत्र में एक सर्पिणी शिवलिंग से लिपटी हुई प्रदर्शित की जाती है।

शिव कुंडलिनी चक्रs, and नदीs

कुण्डलिनी महाशक्ति का परिचय, स्थान और स्वरूप का वर्णन करते हुए कहा गया है कि वह मूलाधार चक्र के में निवास करती है। अग्नि स्वरूप है। सुप्त-सर्पिणी की तरह सोई पड़ी है। स्वयंभू महालिंग से—शिव लिंग से लिपटी पड़ी है। इसी स्थिति की झांकी शिव प्रतिमाओं में कराई जाती है। योनि क्षेत्र में एक सर्पिणी शिवलिंग से लिपटी हुई प्रदर्शित की जाती है।

शिव कुंडलिनी चक्रs, and नदीs