साँचा:आज का आलेख ९ दिसंबर २००९

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ड्यूटेरियम का ट्राइटियम से संलयन- जिसके परिणामस्वरूप हीलियम-४ बनता है व एक मुक्त न्यूट्रॉन निकलता है। इस अभिक्रिया में १७.५९ मेगा इलेक्ट्रॉन वोल्ट ऊर्जा निकलती है।
जब दो हल्के नाभिक परस्पर संयुक्त होकर एक भारी तत्व के नाभिक की रचना करते हैं तो इस प्रक्रिया को नाभिकीय संलयन कहते हैं। नाभिकीय संलयन के फलस्वरूप जिस नाभिक का निर्माण होता है उसका द्रव्यमान संलयन में भाग लेने वाले दोनो नाभिको के सम्मिलित द्रव्यमान से कम होता है। द्रव्यमान में यह कमी ऊर्जा में रूपान्तरित हो जाती है। जिसे ऐल्बर्ट आइनस्टाइन के समीकरण E = mc2 से ज्ञात करते हैं। तारों के अन्दर यह क्रिया निरन्तर जारी है। सबसे सरल संयोजन की प्रक्रिया है चार हाइड्रोजन परमाणुओं के संयोजन द्वारा एक हिलियम परमाणु का निर्माण।