साँचा:आज का आलेख २१ अप्रैल २००९

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पेड़ पर रहने वाल मेंढक
मेढक उभयचर वर्ग का जंतु है जो पानी तथा जमीन पर दोनों जगह रह सकता है। यह शीतरक्त का प्राणी है अर्थात् इसके शरीर का तापमान वातावरण के ताप के अनुसार घटता या बढ़ता रहता है। शीतकाल में यह ठंडक से बचने के लिए पोखर आदि की निचली सतह की मिट्टी लगभग दो फुट की गहराई तक खोदकर उसी में पड़ा रहता है। यहां तक कि कुछ खाता भी नहीं है। इस क्रिया को शीतनिद्रा या शीतनिष्क्रियता कहते हैं। इसी तरह की क्रिया गर्मी के दिनों में होती है। ग्रीष्मकाल की इस निष्क्रय अवस्था को ग्रीश्मनिष्क्रियता कहते हैं। मेढक के चार पैर होते हैं। पिछले दो पैर अगले पैरों से बड़े होतें हैं। जिसके कारण यह लम्बी उछाल लेता है। अगले पैरों में चार-चार तथा पिछले पैरों में पाँच-पाँच झिल्लीदार उँगलिया होती हैं, जो इसे तैरने में सहायता करती हैं। मेढकों का आकार ९.८ मिलीमीटर (०.४ इंच) से लेकर ३० सेंटीमीटर (१२ इंच) तक होता है। विस्तार से पढ़ें