साँचा:आज का आलेख ११ अप्रैल २०१०

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आर्य समाज का प्रतीक
आर्य समाज एक हिन्दू सुधार आंदोलन था जिसकी स्थापना स्वामी दयानंद सरस्वती ने १८७५ में बंबई में मथुरा के स्वामी विरजानंद की प्रेरणा से की थी। यह आंदोलन पाश्चात्य प्रभावों की प्रतिक्रिया स्वरूप हिंदू धर्म में सुधार के लिए प्रारंभ हुआ था। आर्य समाज में शुद्ध वैदिक परम्परा में विश्वास करते थे तथा मूर्ति पूजा, अवतारवाद, बलि, झूठे कर्मकाण्ड व अंधविश्वासों को अस्वीकार करते थे। इसमें छुआछूत व जातिगत भेदभाव का विरोध किया तथा स्त्रियों व शूद्रों को भी यज्ञोपवीत धारण करने व वेद पढ़ने का अधिकार दिया था। स्वामी दयानन्द सरस्वती द्वारा रचित सत्यार्थ प्रकाश नामक ग्रन्थ आर्य समाज का मूल ग्रन्थ है। प्रसिद्ध आर्य समाजी गणों में स्वामी दयानन्द सरस्वती, स्वामी श्रद्धानन्द, महात्मा हंसराज, लाला लाजपत राय, भाई परमानन्द, पंडित गुरुदत्त, स्वामी आनन्दबोध सरस्वती, पंडित वन्देमातरम रामचन्द्र राव, स्वामी अग्निवेश, बाबा रामदेवआदि आते हैं। विस्तार में...