सहकारी बैंक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सहकारी बैंक वे बैंक हैं जिनका गठन एवं कार्यकलाप सहकारिता के आधार पर होता है। विश्व के अधिकांश भागों में सहकारी बैंक हैं जो लोगों की पूँजी जमा करते हैं तथा लोगों को धन उधार देते हैं।

उद्देश्य:- इन बैंकों की स्थापना का मुख्य उद्देश्य कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र के लिए अधिक साख़-सुविधाएं उपलब्ध कराना है अतः ये संस्थाएं भी वित्तीय समावेशन में सहायक है।

मुख्य बिंदु:- इनकी स्थापना “राज्य सहकारी समिति अधिनियम" के अनुसार की गई। इनका पंजीकरण “रजिस्ट्रार ऑफ को-ऑपरेटिव सोसाइटी" के पास किया जाता है। इनका नियमन राज्य सरकार तथा भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा आंशिक रूप से किया जाता है। सामान्यतः इनकी शाखाएं एक राज्य तक सीमित होती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]