सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट सर दोराबजी टाटा, जो टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा के बड़े बेटे थे, के द्वारा स्थापित किया गया था। 1932 में स्थापित, यह भारत के सबसे पुराने गैर सांप्रदायिक परोपकारी संगठनों में से एक है। अपने पिता की तरह, सर दोराबजी का मानना था कि अपनी संपत्ति का रचनात्मक प्रयोजनों के लिए उपयोग करना चाहिए। अतः अपनी पत्नी मेहरबाई की मौत के एक साल से भी कम समय में, उन्होने ट्रस्ट को अपनी सारी दौलत दान कर दी।

उन्होने आग्रह किया कि इसका सीखने की उन्नति और अनुसंधान, संकट और अन्य धर्मार्थ प्रयोजनों के राहत के लिए "जगह, राष्ट्रीयता या पंथ के किसी भी भेदभाव के बिना" इस्तेमाल किया जाना चाहिए। उनकी तीन महीने बाद मृत्यु हो गई।

उन्होने अपने टाटा संस, इंडियन होटल्स और कंपनियों में हिस्सा, उनकी सारी संपत्ति और गहने के 21 टुकड़े उनकी पत्नी द्वारा छोड़ा गया प्रसिद्ध जयंती हीरा जिसकी अनुमानित मूल्य एक करोड़ रुपये है ट्रस्ट को दान कर दिये। आज इन की कीमत पचास करोड़ रुपए से अधिक है।

ट्रस्ट राष्ट्रीय महत्व के अग्रणी संस्थानों की स्थापना के लिए जाना जाता है। टाटा समाज विज्ञान संस्थान », (1936)» टाटा मेमोरियल अस्पताल (1941) टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान (1945) कला प्रदर्शन नेशनल सेंटर, (1966) विस्तृत अध्ययन के नेशनल इंस्टीट्यूट (1988) »जेआरडी टाटा पर्यावरण प्रौद्योगिकी सेंटर (1998) सर दोराबजी टाटा उष्णकटिबंधीय रोग अनुसंधान सेंटर (2000)

राजकोषीय वर्ष 2003-०४ में ट्रस्ट द्वारा किया गया कुल संवितरण ४४.२३३ करोड रुपये था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]