सर एड्विन लुट्यन्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सर एड्विन लान्स्यिर लुट्यन्स (29 मार्च 1869–1 जनवरी 1944) एक ब्रिटिश शिल्पकार थे जिन्हे पारम्परिक वास्तुशिल्पीय शैलियों को अपने समय की ज़रूरतों के अनुसार ढ़ालने के लिए जाना जाता है। वे कई अंग्रेज़ी कन्ट्री घरों के निर्माता थे।

लुट्यन्स को “सबसे महान ब्रिटिश शिल्पकार”[1] बुलाया गया है। वे दिल्ली महानगर के हिस्से, नई दिल्ली, की रूपरेखा बनाने के लिए मशहूर हैं।[2] इसके निर्माण में उनके योगदान के कारण नई दिल्ली को लुट्यन्ज़ दिल्ली (या लुट्यन्स की दिल्ली) भी बुलाया जाता है। सर हर्बर्ट बेकर के साथ, वे नई दिल्ली के कई स्मारकों के मुख्य शिल्पकार थे। इनमें सबसे महत्वपूर्ण हैं इण्डिया गेट और वाइसरॉय हाउस, जिसे अब राष्ट्रपति भवन के नाम से जाना जाता है।[3][4]

सन्दर्भ[संपादित करें]