सरोजिनी महिषी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डॉ सरोजिनी महिषी (मृत्यु-२५ जनवरी १९१५) भारतीय विदुषी थीं। उन्होने हिन्दी, कन्नड तथा संस्कृत भाषा में 40 पुस्तकें लिखी हैं। वह तमिल, तेलुगु, मराठी, कोंकणी आदि की भी ज्ञाता थीं। अगस्त २०११ को उन्हें हिन्दी भवन द्वारा राजर्षि पुरूषोत्तम दास टंडन की जयंती के अवसर पर हिन्दीरत्न सम्मान दिया गया।

श्रीमती डॉ॰ सरोजिनी महिषी जवाहर लाल नेहरूइंदिरा गांधी के कार्यकाल में कर्नाटक के धारबाड़ जिले से 1962, 1967, 1971 व 1977 तक लोकसभा से सांसद रहीं। 1983 व 1984 से 1990 तक राज्यसभा से संसद में प्रतिनिधित्व करती रही हैं।

उन्होंने समाज सेवा, समाज कल्याण का कार्य किया है। दक्षिण भारत में हिंदी के विरोध के प्रश्न पर उनका विचार है कि यह पहले होता था अब नहीं होता है। श्रीमती महिषी संसदीय हिंदी परिषद की अध्यक्ष भी रही हैं। हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, कन्नड, मराठी, कौकणी, तमिल, तैलगू आदि भाषाओं पर अपनी अच्छी पकड़ रखने वाली श्रीमती महिषी पं॰ जवाहर लाल नेहरू व इंदिरा गांधी के लिये अनुवादक का काम किया करती थी। उनके भाषणों का अनुवाद करती थी। अनेक पुस्तके लिखने के साथ आज भी सांसद के लिये काम करती हैं।