सरवारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रूमानिया का एक साम्यवादी क्रांतिकारी पोस्टर जिसमें ध्वज पर लिखा है 'विश्वभर के प्रोलितारियनों एक हो जाओ'

सर्वहारा (प्रोलितारियत / प्रोलिटेरियट​ / Proletariat) समाजशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र में समाज की नीचे वाली श्रेणियों को कहा जाता है, जो अक्सर शारीरिक श्रम से जीवनी चलाते हैं। औद्योगिक समाजों में अक्सर कारख़ानों में काम करने वाले मज़दूरों को 'प्रोलिटेरियट​' कहा जाता था लेकिन कभी-कभी कृषकों और अन्य ग़रीब मेहनत करने वाले लोगों को भी इसमें शामिल किया जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]