सरला ठकराल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सरला ठकराल (१९१९-१५ मार्च २००८), एक विमान उड़ने वाली पहली भारतीय महिला थी।[1] १९१४ में जन्मी, सरला ठकराल ने १९३६, २१ वर्ष की आयु में एक विमानन लाइसेंस अर्जित करके एक जिप्सी मोठ को अकेले उड़ाया। उनकी एक ४ साल की बेटी भी थी। प्रारंभिक लाइसेंस प्राप्त करने के बाद, उन्होंने लाहौर फ्लाइंग क्लब के स्वामित्व वाले विमान में एक हज़ार घंटे की उड़ान भर कर रखी और पूरा किया। १६ वर्ष की आयु में उनका विवाह पी.डी शर्मा से हुआ जिनके परिवार में ९ पायलट थे जिस कारण उन्हें पायलट बन्ने के लिए बहुत प्रोत्साहन मिला। उनके पति शर्मा, पायलट का लाइसेंस पाने वाले पाने भारतीय थे कराची से लाहौर के बीच में तथा सरला १००० घंटे से अधिक की उड़ान भर के 'लाइसेंस अ' हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बनी।[2] ठकराल आर्य समाज की समर्पित अनुयायी थी, जों की वेदों की शिक्षा के लिए समर्पित एक आध्यात्मिक समुदाय है।

सरला, जिसे मति भी कहा जाता है, एक सफल व्यवसायी, चित्रकार, कपड़े और पोशाक गहने डिजाइन करना शुरू कर दिया।[3] २००८ में उनकी मृत्यु हो गई। [4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Katie O, London, ENGLAND. "1936 – India – Sarla Thakral | Celebrate 100 Years of Licensed Women Pilots". Centennialofwomenpilots.com. Retrieved 9 October 2013.
  2. "The Tribune, Chandigarh, India – Education Tribune". The Tribune. Retrieved 24 January 2017.
  3. "The Tribune, Chandigarh, India – Education Tribune". The Tribune. Retrieved 9 October 2013.
  4. Rahul Ittal[1]