आलोचना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(समालोचना से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

Hindi

  • Education Dunia
  • समाचार
  • बॉलीवुड
  • धर्म-संसार
  • ज्योतिष
  • फनी जोक्स
  • क्रिकेट
  • क्राइम
  • यूट्‍यूब वीडियो
  • रोचक-रोमांचक
  • सेहत
  • लाइफ स्‍टाइल
  • महाभारत
  • रामायण
  • सामयिक
  • फोटो गैलरी
  • अन्य
  • Fantasy Cricket

अनुक्रम

आलोचना-पाठ[संपादित करें]

मन की शुद्धि के लिए हर रोज पढ़ें आलोचना पाठ[संपादित करें]

Webdunia

बंदों पांचों परम-गुरु, चौबीसों जिनराज।

करूं शुद्ध आलोचना, शुद्धिकरन के काज ॥

सुनिए, जिन अरज हमारी, हम दोष किए अति भारी।

तिनकी अब निवृत्ति काज, तुम सरन लही जिनराज ॥

इक बे ते चउ इंद्री वा, मनरहित सहित जे जीवा।

तिनकी नहिं करुणा धारी, निरदई ह्वै घात विचारी ॥

समारंभ समारंभ आरंभ, मन वच तन कीने प्रारंभ।

कृत कारित मोदन करिकै, क्रोधादि चतुष्ट्‌य धरिकै॥

शत आठ जु इमि भेदन तै, अघ कीने परिछेदन तै।

तिनकी कहुं कोलौं कहानी, तुम जानत केवलज्ञानी॥

विपरीत एकांत विनय के, संशय अज्ञान कुनयके।

वश होय घोर अघ कीने, वचतै नहिं जात कहीने॥

कुगुरुनकी सेवा कीनी, केवल अदयाकरि भीनी।

याविधि मिथ्यात भ्रमायो, चहुंगति मधि दोष उपायो॥

हिंसा पुनि झूठ जु चोरी, पर-वनितासों दृग जोरी।

आरंभ परिग्रह भीनो, पन पाप जु या विधि कीनो॥

सपरस रसना घ्राननको, चखु कान विषय-सेवनको।

बहु करम किए मनमाने, कछु न्याय-अन्याय न जाने॥

फल पंच उदंबर खाये, मधु मांस मद्य चित्त चाये।

नहिं अष्ट मूलगुण धारे, विषयन सेये दुखकारे॥

दुइवीस अभख जिन गाये, सो भी निस दिन भुंजाये।

कछु भेदाभेद न पायो, ज्यों त्यों करि उदर भरायौ॥

अनंतानु जु बंधी जानो, प्रत्याख्यान अप्रत्याख्यानो।

संज्वलन चौकड़ी गुनिये, सब भेद जु षोडश मुनिये॥

परिहास अरति रति शोग, भय ग्लानि तिवेद संजोग।

पनवीस जु भेद भये इम, इनके वश पाप किये हम॥

निद्रावश शयन कराई, सुपने मधि दोष लगाई।

फिर जागि विषय-वन भायो, नानाविध विष-फल खायो॥

आहार विहार निहारा, इनमें नहिं जतन विचारा।

बिन देखी धरी उठाई, बिन सोधी बसत जु खाई॥

तब ही परमाद सतायो, बहुविधि विकल्प उपजायो।

कुछ सुधि बुधि नाहिं रही है, मिथ्या मति छाय गई है॥

मरजादा तुम ढिंग लीनी, ताहूंमें दोष जु कीनी।

भिन-भिन अब कैसे कहिये, तुम खानविषै सब पइये॥

हा हा! मैं दुठ अपराधी, त्रस-जीवन-राशि विराधी।

थावर की जतन ना कीनी, उरमें करुना नहिं लीनी॥

पृथ्वी बहु खोद कराई, महलादिक जागां चिनाई।

पुनि बिन गाल्यो जल ढोल्यो, पंखातै पवन बिलोल्यो॥

हा हा! मैं अदयाचारी, बहु हरितकाय जु विदारी।

तामधि जीवन के खंदा, हम खाये धरि आनंदा॥

हा हा! मैं परमाद बसाई, बिन देखे अगनि जलाई।

ता मधि जे जीव जु आये, ते हूं परलोक सिधाये॥

बींध्यो अन राति पिसायो, ईंधन बिन सोधि जलायो।

झाडू ले जागां बुहारी, चिवंटा आदिक जीव बिदारी॥

जल छानी जिवानी कीनी, सो हू पुनि डार जु दीनी।

नहिं जल-थानक पहुंचाई, किरिया विन पाप उपाई॥

जल मल मोरिन गिरवायौ, कृमि-कुल बहु घात करायौ।

नदियन बिच चीर धुवाये, कोसन के जीव मराये॥

अन्नादिक शोध कराई, तामे जु जीव निसराई।

तिनका नहिं जतन कराया, गलियारे धूप डराया॥

पुनि द्रव्य कमावन काजै, बहु आरंभ हिंसा साजै।

किये तिसनावश अघ भारी, करुना नहिं रंच विचारी॥

इत्यादिक पाप अनंता, हम कीने भगवंता।

संतति चिरकाल उपाई, बानी तैं कहिय न जाई॥

ताको जु उदय अब आयो, नानाविधि मोहि सतायो।

फल भुंजत जिय दुख पावै, वचतै कैसे करि गावै॥

तुम जानत केवलज्ञानी, दुख दूर करो शिवथानी।

हम तो तुम शरण लही है, जिन तारन विरद सही है॥

जो गांवपति इक होवै, सो भी दुखिया दुख खोवै।

तुम तीन भुवन के स्वामी, दुख मेटहु अंतरजामी॥

द्रोपदि को चीर बढ़ायो, सीताप्रति कमल रचायो।

अंजन से किये अकामी, दुख मेटहु अंतरजामी।

मेरे अवगुन न चितारो, प्रभु अपनो विरद निम्हारो।

सब दोषरहित करि स्वामी, दुख मेटहु अंतरजामी॥

इंद्रादिक पद नहिं चाहूं, विषयनि में नाहिं लुभाऊं।

रागादिक दोष हरीजै, परमातम निज-पद दीजै॥

दोषरहित जिन देवजी, निजपद दीज्यो मोय।

सब जीवन को सुख बढ़ै, आनंद मंगल होय॥

अनुभव मानिक पारखी, ‘जौहरि’ आप जिनंद।

यही वर मोहि दीजिए, चरण-सरण आनंद ॥

Paras jain

ज़रूर पढ़ें[संपादित करें]

Mangal dosh : कुंडली में मंगल दोष है तो 7 सरल उपाय आपके लिए हैं[संपादित करें]

Wedding Related Symbols in Dream : ये 6 सपने देते हैं शादी के संकेत[संपादित करें]

shani sade sati 2020 : इस साल किन राशियों पर रहेगी साढ़ेसाती व ढैय्या[संपादित करें]

10 सरलतम उपाय, हर तरह की अनहोनी और दुर्घटना से बचाए[संपादित करें]

वर्ष 2020 में साढ़ेसाती व ढैय्या : 12 लग्नों से जानिए क्या होगा असर, किसे मिलेगा लाभ, किसे होगा कष्ट[संपादित करें]

सभी देखें

धर्म संसार[संपादित करें]

Major Events in December: दिसंबर माह के प्रमुख व्रत-त्योहार जानिए[संपादित करें]

Astrology 2020 | राहु के वर्ष 2020 से बचने के लिए लाल किताब के ये 10 उपाय करें[संपादित करें]

astrology 2020 capricorn : मकर राशि के लिए कैसा होगा नया साल 2020[संपादित करें]

क्या इस मंदिर के दरवाजे खुद-ब-खुद खुलते और बंद होते हैं? जानिए 5 रहस्य[संपादित करें]

Gita Jayanti :श्रीमद्भागवत गीता में आखिर क्या है, जानिए[संपादित करें]

हमारे बारे में | विज्ञापन दें | अस्वीकरण | हमसे संपर्क करें Copyright 2016, Webdunia.com

आलोचना के प्रकार[संपादित करें]

आलोचना करते समय जिन मान्यताओं और पद्धतियों को स्वीकार किया जाता है, उनके अनुसार आलोचना के प्रकार विकसित हो जाते हैं। सामान्यत: समीक्षा के चार प्रकारों को स्वीकार किया गया है:-

  1. सैद्धान्तिक आलोचना
  2. निर्णयात्मक आलोचना
  3. प्रभावाभिव्यजंक आलोचना
  4. व्याख्यात्मक आलोचना

सैद्धान्तिक आलोचना[संपादित करें]

सैद्धान्तिक आलोचना में साहित्य के सिद्धान्तों पर विचार होता है। इसमें प्राचीन शास्त्रीय काव्यागों - रस, अलंकार आदि और साहित्य की आधुनिक मान्यताओं तथा नियमों की मुख्य रूप से विवचेना की जाती है। सैद्धान्तिक आलोचना में विचार का बिन्दु यह है कि साहित्य का मानदंड शास्त्रीय है या ऐतिहासिक। मानदंड का शास्त्रीय रूप, स्थिर और अपरिवर्तनशील होता है किन्तु मानदंडों को ऐतिहासिक श्रेणी माननेपर उनका स्वरूप परिवर्तनशील और विकासात्मक होता है। दोनों प्रकार की सैद्धान्तिक आलोचनाएँ उपलब्ध हैं। किन्तु अब उसी सैद्धान्तिक आलोचना का महत्त्व अधिक है जो साहित्य के तत्वों और नियमों की ऐतिहासिक प्रक्रिया में विकासमान मानती है।

निर्णयात्मक आलोचना[संपादित करें]

निश्चित सिद्धान्तों केआधार पर जब साहित्य के गणु-दोष, श्रेष्ठ-निकृष्ट का निर्णय कर दिया जाता है तब उसे निर्णयात्मक आलोचना कहते हैं। इसे एक प्रकार की नैतिक आलोचना भी माना जाता है। इसका मुख्य स्वभाव न्यायाधीश की तरह साहित्यिक कृतियों पर निर्णय देना है। ऐसी आलोचना प्राय: ही सिद्धान्त का यांत्रिक ढंग से उपयोग करती है। इसलिए निर्णयात्मक आलोचना का महत्त्व कम हो जाता है।

यद्यपि मूल्य या श्रेष्ठ साहित्य और निकृष्ट साहित्य का बोध पैदा करना आलोचना के प्रधान धर्मों में से एक है लेकिन वह सिद्धान्तों के यांत्रिक उपयोग से नहीं सभंव है। 'हिन्दी साहित्य कोश' में निर्णयात्मक आलोचना के विषय में बताया गया है:

वह कृतियों की श्रेष्ठता या अश्रेष्ठता के संबंध में निर्णय देती है। इस निर्णय में वह साहित्य तथा कला संबन्धी नियमों से सहायता लेती है किन्तु ये नियम साहित्य और कला के सहज रूप से संबंध रख बाह्य रूप से आरोपित हैं।

इस प्रकार आलोचना में निर्णय विवाद का बिन्दु उतना नहीं है जितना निर्णय के लिए अपनाया गया तरीका। जैसे, [रामचन्द्र शुक्ल] की आलोचना में मूल्य निर्णय है, लेकिन उसका तरीका सृजनात्मक है, यांत्रिक नहीं। निर्णयात्मक आलोचना में मूल्य और तरीका, दोनों में लचीलापन नहीं होता।

प्रभावाभिव्यजंक आलोचना[संपादित करें]

इस आलोचना में काव्य का जो प्रभाव आलोचक के मन पर पड़ता है उसे वह सजीले पद-विन्यास में व्यस्त कर देता है। इसमें वयैक्तिक रुचि ही मुख्य है। प्रभावाभिव्यजंक समालोचना कोई ठȤक-Ǒठकाने की वस्तु नहीं है। न ज्ञान के क्षेत्र में उसका मूल्य है न भाव के क्षेत्र में।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]