सदस्य वार्ता:Sandeepkambojhisar

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एक नजर में लोहारी राघो का इतिहास[संपादित करें]

संदीप कम्बोज

हर गाँव , हर नगर व हर क्षेत्र का अपना इतिहास होता है.यहाँ तक की हर इन्सान का भी अपना इतिहास होता है .इतिहास ही हमें आगे बढने की प्रेरणा व गलतियों को न दोहराने का सबक भी देता है. इतिहास मनुष्य के रहन-सहन, पहनावे, मान्यताओं, धर्म, काल, विकास व ह़ास आदि का भी द्योतक है.

जिला हिसार के गाँव लोहारी राघो की भी एतिहासिक गाथा निराली है. . बताया जाता है कि छ: हजार वर्ष पूर्व यहाँ एक भरा-पूरा महानगर बस्ता था . जो कि उस समय कोल्हाप्ल्टन के नाम से जाना जाता था.लोग खुशहाल थे.जीवन समृद्ध था. किवदंती के अनुसार महर्षि जम्द्ग्री के श्राप से यहाँ का खुशहाल नगर नष्ट होकर ठेह में बदल गया .स्थानीय बोली में इन टीलों को ठेह कहते हैं. महर्षि ने श्राप इसलिए दिया था कि उनकी मौन तपस्या के दौरान नगर के रजा सहस्त्रबाहु ने उनकी पत्नी रेणुका के साथ दुर्वयवहार किया था .महर्षि जम्द्ग्री के पुत्र परशुराम ने अपनी माता रेणुके के अपमान का बदला लेने के लिए इस विशालकाय नगर का विनाश कर दिया था.जिसका प्रमाण आज भी यहाँ से लगभग 2 कि॰मी॰ उत्तर पश्चिम स्थित हड़प्पा कालीन गाँव राखी गढ़ी में देखने को मिलता है.धीरे-धीरे यहाँ क़ी एतिहासिक पहचान भी वक्त क़ी रेत में दबकर फनाह हो गई.बुजुर्ग बताते हैं क़ी प्रारम्भ में यहाँ मुस्लिमों का आधिपत्य रहा है. सबसे पहले गाँव में मुस्लिम बब्बू साहब का राज रहा . उस समय यहाँ रघु , तजे व साफे तीन हिन्दू जातियां ही निवास करती थी . इन तीनों जातियों ने मिलकर इसे एक नये गाँव का रूप दे दिया जिसे उस समय राघो नाम से जाना जाता था. यहाँ बता दें की रघु जाती के बाहुल्य के कारण ही इसे राघो नाम दिया गया. तत्पश्चात गाँव में लुहार जाती के लोगों ने डेरा डाला जो क़ी संख्या में सबसे अधिक थे. लेकिन रघु जाती के लोगों ने लुहार जाती को यहाँ स्थान देने से मना कर दिया.बब्बू साहब लुहार व रघु जाती के लोगों में रोज- रोज के झगड़ों को देखकर परेशान थे . उनहोंने निर्णय लिया क़ी लुहार जाती भी यहाँ निवास करेगी. इस तरह लुहार जाती के लोग भी गाँव में बस गये.और गाँव का नाम लोहारी राघो हो गया. समय के साथ- साथ ये सभी जातियां भी गाँव से पलायन कर गयी.

बता दें क़ी लोहारी राघो अंग्रेजों के नादिरशाही कारनामों का भी साक्षी रहा है.1857 के स्वाधीनता संग्राम में यहाँ के सैंकड़ों होनहारों ने अपनी जान क़ी बाजी लगायी थी. जून 1857 में गोरों का जुल्म यहाँ के लोगों पर भी बरपा था. समूची धरती लहुलुहान थी. यहाँ के रणबांकुरों ने गोरों का आखिरी सांस तक डटकर मुकाबला किया .लेकिन अंग्रेजों ने रात के समय सो रहे लोगों पर धावा बोलकर इस गाँव पर कब्जा जमा लिया.

कभी मुसलमानों का गढ़ रहा गाँव लोहारी राघो एतिहासिक हवेलियों व् अटारियों से शोभायमान था . गाँव में अब कुछ ही पुरानी पहचान बचीं हैं. गाँव के मध्य स्थित मस्जिद को इस गाँव का आकर्षण ही नहीं गौरव भी खा जा सकता है.एक शताब्दी पूर्व बनी यह मस्जिद बेहद सुंदर एवं आकर्षक है.इस मस्जिद को यदि बनावट की दृष्टि से देखा जाये तो एक पल में ही वास्तुकला की उत्कृष्टता का आभास हो जाता है.भले ही आज इस गाँव का एतिहासिक महत्व न रहा हो, लेकिन अपनी विशिष्टता के लिए यह पर्देश ही नहीं देशभर में प्रसिद्ध है.

हिसार से 26 क़ी.मी दुर हांसी- उचाना मार्ग पर स्थित गाँव लोहारी राघो जिले का एक महतवपूर्ण गाँव है.नारनौंद विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत आने वाले इस गाँव के पश्चिम में डाटा ,उत्तर में हैबतपुर व दक्षिण में गढ़ी अजीमा व मोठ गाँव हैं गाँव क़ी आबादी लगभग 12 हजार के करीब है और यहाँ 4600 लोग मतदान का अधिकार रखते हैं. गाँव में पंजाबी लोगों का बाहुल्य है. सभी जातियों के लोग आपस में सोहार्द रखते हैं व आपस में वैर विरोध नहीं है.


शिक्षा के क्षेत्र में भी यह गाँव पीछे नही है. गाँव में 1982 से ही हाई स्कूल चल रहा है. जिसे 1998 में तत्कालीन बिजली मंत्री जसवंत सिंह ने वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयका दर्जा दिला दिया. इसके अलावा न्यू आदर्श हाई स्कूल ,दशमेश हाई स्कूल भी हैं.काफी संख्या में छात्र -छात्राएं हांसी, हिसार, जींद व प्रदेश के अन्य शहरों में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं.गाँव के काफी लोग सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में उच्च पदों पर कार्यरत हैं. यही नहीं गाँव के वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व राज्यपाल राजस्थान मदन लाल खुराना भाजपा में ऊँचे ओहदे पर हैं. गाँव के ही विनोद भयाना इन दिनों हांसी विधानसभा में विधायक हैं. कुछ भी हो नारनौंद क़ी राजनीती इस गाँव के बिना अधूरी है. हर बार विधानसभा चुनावों में जीत- हार के आकड़ों में इस गाँव क़ी अहम् भूमिका रहती है.


गाँव के लोगों का मुख्य धंधा खेती-बाड़ी है. इस क्षेत्र में जमीन काफी उपजाऊ होने के कारण खेती में यह गाँव जिलेभर में अग्रणी है. गाँव के चहुँ और रजवाहों द्वारा खेतों में नहरी पानी पहुँच रहा है.गाँव के अधिकतर लोगों के पास खेती के तमाम संसाधन उपलब्ध हैं . विकास के नाम पर गाँव में एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र,अनाज मंडी,बाई पास, पशु अस्पताल ,मिनी बैंक , हिसार ग्रामीण बैंक, 6 आंगनवाडी ,धर्मशालाएं ,कुएँ , तालाब , पक्की सडकें ,मंदिर व् गुरूद्वारे आदि हैं. हर तरह की राजनितिक सभा व् सम्मेलन का आयोजन गाँव के मध्य स्थित डेरी वाले चौक में होता है.गाँव में रोडवेज बसों का आभाव है. लोगों का रहन-सहन अब बदलने लगा है.कभी हरयाणवी वेश-भूषा के लिए विख्यात रहे इस गाँव की युवा पीढ़ी अब महानगरों के पहनावे को महत्व देने लगी है.


कितने ही विधायक आये और चले गये,लेकिन किसी ने भी इस गाँव के विकास की और समुचित ध्यान नहीं दिया. यही हाल गाँव के सरपंचों का रहा.1980 से2011 तक जितने भी लोगों के हाथ गाँव की सत्ता रही ,सभी ने अपने स्वार्थों को पूरा करने के अलावा गाँव के विकास पर ध्यान नही दिया. 1980से 1985 तक गाँव में महेश भयाना स्द्र्पंच रहे, 1990 में इनके बेटे विनोद भयाना ने चुनाव जीतकर सरपंच का ताज पहन

माँ है ईश्वर, माँ ही प्रार्थना

'उसको नहीं देखा हमने कभी... पर उसकी जरूरत क्या होगी, ...हे माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी... माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, त्याग, उदारता और सहनशीलता के कितने प्रतिमान गढ़ती है? कौन देखता है? कौन गिनता है भला? और कैसे गिने? ऋण, आभार, कृतज्ञता जैसे शब्दों से परायों को नवाजा जाता है। माँ तो अपनी होती है, बहुत अपनी सी।

हम स्वयं जिसका अंश हैं, उसका ऋण कैसे चुकाएँ। ऋण चुकाने की कल्पना भी धृष्टता कही जाएगी। कितने और कैसे-कैसे अहसान हैं उसके हम पर। यदि अदायगी का मन बना लिया तो उलझ जाएँगे। भला कैसे अदा करेंगे उस ऋण को? जब आपको पृथ्वी पर लाने के लिए वह असीम अव्यक्त वेदना से छटपटा रही थी, उसका? या ऋण चुकाएँगे उन अमृत बूँदों का जिनसे आपकी कोमलता पोषित हुई? अनवरत भीगती नन्ही लंगोटियों का या बुरी नजरों से बचाती काजल टीकलियों का?

हाथों में स्वर्ण मोतियों के साथ गुँथे काले मोतियों वाले 'मनघटियों' का या आरक्त नन्हे चरणों में रुनझुन बजती पैजनियों का?

 माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है      


स्मृतियों के बहुत छोटे-छोटे किंतु बहुत सारे मखमली लम्हे उसकी मन-मंजूषा में सँजोकर रखे गए हैं। किसी अमूल्य धरोहर की भाँति, कैसे झाँकेंगे आप?

कितनी बार नन्ही लातें उस पर चलाईं? कितनी बार आपने क्या-क्या तोड़ा, बिखेरा और उसने समेटा। कितनी मिन्नतों के बाद किसी चूजे की भाँति आप चार चावल दाने चुगते थे और आपकी भूख से वह अकुला उठती थी। क्या याद है आपको वह सुहानी संध्या जब दीया-बाती के समय मंत्र, श्लोक और स्तुतियों के माध्यम से आपकी सुकोमल हृदय धरा पर वह संस्कार और सभ्यता के बीज रोपा करती थी। नहीं भूले होंगे आप वे फरमाइशें और नखरे जिन्हें वह पलकों पर उठाया करती थी।

दाल-चावल से लेकर मटर पुलाव तक, अजवाइन डली नमकीन पूरी से लेकर मैथी-पराठे तक, मलाईदार श्रीखंड से लेकर पूरनपोली तक और कुरकुरी भिंडी से लेकर भुट्‍टे के किस तक कितने प्यार में पके रसीले व्यंजन हैं जो माँ के सिवा किसी और की स्मृति दिला ही नहीं सकते। याद कीजिए अपने किसी साधारण से बुखार को। सिरहाने रखे भिलामें, राई, दूध की ठंडी भीगी पट्टियाँ, तुलसी का काढ़ा, अमृतांजन, नारियल तेल में महकता कपूर और माँ की चिंतातुर उँगलियाँ। चुका सकेंगे इन महकते भावुक लम्हों का मोल?

उम्र बीत जाने पर भी माँ के धीरज बँधाते बोल आप भुला नहीं सकते ' सो जा बेटा बीमारी हाथी की चाल से आती है और चींटी की चाल से जाती है।' तपते तन-मन पर जैसे ठंडे मुलायम फाहे रख दिए हों।

आज भी उसकी डाँट आपको भीतर तक भिगो देती है। 'मैं समझाती हूँ तो कहाँ समझ में आता है, देखा, हो गए ना बीमार?' एक ऐसी डाँट जिसमें चिंता की कोंपलें सहज फूटती दिखाई पड़ जाती है, उसके छुपाते-छुपाते भी। प्रार्थना के फूल बुदबुदाते स्वरों में ही झर जाते हैं उसके संभालते-संभालते भी। प्यार की हरी पत्तियाँ झाँक ही लेती हैं दबाते-दबाते भी।

माँ को ईश्वर ने सृजनशक्ति देकर एक विलक्षण व्यवस्था का भागीदार बनाया है। एक अघोषित अव्यक्त व्यवस्‍था, किंतु उसका पालन हर माँ कर रही है। चाहे वह कपिला धेनु हो, नन्ही सी चिड़िया हो या वनराज सिंह की अर्धांगिनी। इस व्यवस्‍था को समझिए जरा। आपने कभी नहीं देखा होगा गाय का बछड़ा माँ को चाट रहा है। चिड़िया के बच्चे उसके लिए दाना ला रहे हैं और माँ की चोंच में डाल रहे हैं या शावक अपनी माँ के लिए शिकार ला रहे हैं।

प्रकृति ने ही माँ को पोषण देने का अधिकार दिया है। वही पोषण देती है और सही समय आने पर पोषण जुटाने का प्रशिक्षण भी। पोषण देने में वह जितनी कोमल है प्रशिक्षण देने में उतनी ही कठोर। माँ दोनों ही रूपों में पूजनीय है।

इन दोनों ही रूपों में संतान का कल्याण निहित होता है।

ईश्वर हर जगह नहीं पहुँच सकता इसीलिए उसने माँ बना दी। जो हर किसी की होती है, हर किसी के पास होती है। शारीरिक उपस्थिति माँ के लिए मायने नहीं रखती। वह होती है तो उसकी ईश्वरीय छाया सुख देती है जब 'नहीं' होती है तब उसके आशीर्वादों का कवच हमें सुरक्षा प्रदान करता है। माँ हमेशा है और रहेगी उसके 'होने' का ही महानतम अर्थ है शेष सारे आलेख और उपन्यास, कहानी और कविता व्यर्थ है। क्योंकि माँ शब्दातीता है, वर्णनों से परे है। फिर भी उसे शब्दों में समेटने की, वर्णनों में बाँधने की चेष्टाएँ, नाकाम कोशिशें हुई हैं, होती रहेंगी।

कभी लगता है माँ एक अथाह नीला समंदर है, जो समा लेता है सबको अपने आप में, अपने अस्तित्व में, अपने व्यक्तित्व में फिर भी वह कभी नहीं उफनता। शांत, धीर, गंभीर उदात्त बना रहता है।

हमारी संस्कृति में वसुंधरा को माता कहा गया है। वसुधा जो निरंतर देने और सिर्फ देने में विश्वास रखती है। लेती वही है जो अनुपयोगी है, व्यर्थ है। और देती है, जो उपयोगी है, कल्याणकारी है, जीवनदायी है।

माँ अपने दिन का आरंभ चाहे 'ॐ अस्य श्री रामरक्षा स्रोत मंत्रस्य...' से करे, चाहे 'वाहे गुरु दी कृपा....' से, चाहे 'ला इल्लाह...' से या फिर 'ओ गॉड...' से। हृदय के पवित्र पूजा-पात्र में सुकल्याण का एक ही शीतल जल थिरकता है- 'मेरी संतान यशस्वी हो, चिरायु हो, संस्कारी हो, सफल हो और वैभवशाली हो। उसकी राहों में कोई अवरोध न हो। निष्कंटक, निर्मल उजली राहों में वह कभी रुके नहीं, थके नहीं, झुके नहीं और अवसरों को चूके नहीं।'

इस निश्छल प्रार्थना के साथ जुड़ी होती है माँ की परीक्षा। अपनी हृदय-बगिया के समुन को आँखों से दूर करना होगा। इस जीवन में माँ ही है जिसे इस ‍कठिन परीक्षा से गुजरना होता है और वह सफल भी होती है।

भारतीय संस्कृ‍‍ति की पारंपरिक माँ बहुत भोली, बहुत भावुक होती है। औपचारिकताओं के प्रतिकूल परिवेश में उसकी सहजता कसमसाती है। सादगी, स्वाभाविकता और स्वतंत्रता उसके दमकते गुण रत्न हैं। वह बनावटी हो ही नहीं सकती।

कल जिन्हें वह सिखाया-समझाया करती थी, वही आज उसे सिखाते-समझाते हैं, 'क्या कहें, क्या ना कहें। किंतु उसे कुछ याद नहीं रहता वह तो मौका मिलते ही प्रवाहित होने लगती है बातों के स्नेहिल झरने में।

कल जिसने हमें बोलना सिखाया, आज हम उसी को बोलने नहीं देते! क्यों? माँ पुरानी, उसकी बातें पुरानी, उसके मूल्य पुराने। हम बर्दाश्त नहीं कर पाते।

हम नहीं जानते माँ की एक आँख पीठ पर होती है जिससे वह नए मूल्यों, नए प्रवाह, नए रुझानों और नए चोंचलों को देखती, परखती और निरखती है।

उसमें से आपका हित-अनहित भी लगातार मथती है। माँ देहरी पर सजती कुंकुम रंगोली है, घर को आलोकित करता निष्कंप दीपक है, अंजुलि से 'आदित्य' को चढ़ता आस्था का अर्घ्य है और चमकते चंद्रमा सा एक शीतल धैर्य है। वह जीवन की पाठशाला की गुरुजी ही नहीं बल्कि चॉक, कलम, पट्‍टी और तड़ातड़ पड़ती छड़ी भी वही है।

उसकी अप्रतिम सुगंध हमारे रोम-रोम से प्रस्फुटित होती है लेकिन हमारी साँस-साँस की हर महक उसकी आत्मा से उठती है। पौराणिक काल की पार्वती से लेकर त्रेता युग की सीता तक, द्वापर युग की यशोदा, कुंती से लेकर राजा-महाराजा के युग की जीजाबाई, अहिल्या देवी तक और कस्तूरबा से लेकर मदर टेरेसा तक मातृत्व की अद्‍भुत परंपरा को जन्म देने वाली हर माँ को नमन। sandeepkambojhisar@gmail.com,9310456145

माँ है ईश्वर, माँ ही प्रार्थना[संपादित करें]

माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, त्याग, उदारता और सहनशीलता के कितने प्रतिमान गढ़ती है? कौन देखता है? कौन गिनता है भला? और कैसे गिने? ऋण, आभार, कृतज्ञता जैसे शब्दों से परायों को नवाजा जाता है। माँ तो अपनी होती है, बहुत अपनी सी।

हम स्वयं जिसका अंश हैं, उसका ऋण कैसे चुकाएँ। ऋण चुकाने की कल्पना भी धृष्टता कही जाएगी। कितने और कैसे-कैसे अहसान हैं उसके हम पर। यदि अदायगी का मन बना लिया तो उलझ जाएँगे। भला कैसे अदा करेंगे उस ऋण को? जब आपको पृथ्वी पर लाने के लिए वह असीम अव्यक्त वेदना से छटपटा रही थी, उसका? या ऋण चुकाएँगे उन अमृत बूँदों का जिनसे आपकी कोमलता पोषित हुई? अनवरत भीगती नन्ही लंगोटियों का या बुरी नजरों से बचाती काजल टीकलियों का?

हाथों में स्वर्ण मोतियों के साथ गुँथे काले मोतियों वाले 'मनघटियों' का या आरक्त नन्हे चरणों में रुनझुन बजती पैजनियों का?

 माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है      


स्मृतियों के बहुत छोटे-छोटे किंतु बहुत सारे मखमली लम्हे उसकी मन-मंजूषा में सँजोकर रखे गए हैं। किसी अमूल्य धरोहर की भाँति, कैसे झाँकेंगे आप?

कितनी बार नन्ही लातें उस पर चलाईं? कितनी बार आपने क्या-क्या तोड़ा, बिखेरा और उसने समेटा। कितनी मिन्नतों के बाद किसी चूजे की भाँति आप चार चावल दाने चुगते थे और आपकी भूख से वह अकुला उठती थी। क्या याद है आपको वह सुहानी संध्या जब दीया-बाती के समय मंत्र, श्लोक और स्तुतियों के माध्यम से आपकी सुकोमल हृदय धरा पर वह संस्कार और सभ्यता के बीज रोपा करती थी। नहीं भूले होंगे आप वे फरमाइशें और नखरे जिन्हें वह पलकों पर उठाया करती थी।

दाल-चावल से लेकर मटर पुलाव तक, अजवाइन डली नमकीन पूरी से लेकर मैथी-पराठे तक, मलाईदार श्रीखंड से लेकर पूरनपोली तक और कुरकुरी भिंडी से लेकर भुट्‍टे के किस तक कितने प्यार में पके रसीले व्यंजन हैं जो माँ के सिवा किसी और की स्मृति दिला ही नहीं सकते।


ND याद कीजिए अपने किसी साधारण से बुखार को। सिरहाने रखे भिलामें, राई, दूध की ठंडी भीगी पट्टियाँ, तुलसी का काढ़ा, अमृतांजन, नारियल तेल में महकता कपूर और माँ की चिंतातुर उँगलियाँ। चुका सकेंगे इन महकते भावुक लम्हों का मोल?

उम्र बीत जाने पर भी माँ के धीरज बँधाते बोल आप भुला नहीं सकते ' सो जा बेटा बीमारी हाथी की चाल से आती है और चींटी की चाल से जाती है।' तपते तन-मन पर जैसे ठंडे मुलायम फाहे रख दिए हों।

आज भी उसकी डाँट आपको भीतर तक भिगो देती है। 'मैं समझाती हूँ तो कहाँ समझ में आता है, देखा, हो गए ना बीमार?' एक ऐसी डाँट जिसमें चिंता की कोंपलें सहज फूटती दिखाई पड़ जाती है, उसके छुपाते-छुपाते भी। प्रार्थना के फूल बुदबुदाते स्वरों में ही झर जाते हैं उसके संभालते-संभालते भी। प्यार की हरी पत्तियाँ झाँक ही लेती हैं दबाते-दबाते भी।

माँ को ईश्वर ने सृजनशक्ति देकर एक विलक्षण व्यवस्था का भागीदार बनाया है। एक अघोषित अव्यक्त व्यवस्‍था, किंतु उसका पालन हर माँ कर रही है। चाहे वह कपिला धेनु हो, नन्ही सी चिड़िया हो या वनराज सिंह की अर्धांगिनी। इस व्यवस्‍था को समझिए जरा। आपने कभी नहीं देखा होगा गाय का बछड़ा माँ को चाट रहा है। चिड़िया के बच्चे उसके लिए दाना ला रहे हैं और माँ की चोंच में डाल रहे हैं या शावक अपनी माँ के लिए शिकार ला रहे हैं।

प्रकृति ने ही माँ को पोषण देने का अधिकार दिया है। वही पोषण देती है और सही समय आने पर पोषण जुटाने का प्रशिक्षण भी। पोषण देने में वह जितनी कोमल है प्रशिक्षण देने में उतनी ही कठोर। माँ दोनों ही रूपों में पूजनीय है।

इन दोनों ही रूपों में संतान का कल्याण निहित होता है।

'उसको नहीं देखा हमने कभी... पर उसकी जरूरत क्या होगी, ...हे माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी...

ईश्वर हर जगह नहीं पहुँच सकता इसीलिए उसने माँ बना दी। जो हर किसी की होती है, हर किसी के पास होती है। शारीरिक उपस्थिति माँ के लिए मायने नहीं रखती। वह होती है तो उसकी ईश्वरीय छाया सुख देती है जब 'नहीं' होती है तब उसके आशीर्वादों का कवच हमें सुरक्षा प्रदान करता है। माँ हमेशा है और रहेगी उसके 'होने' का ही महानतम अर्थ है शेष सारे आलेख और उपन्यास, कहानी और कविता व्यर्थ है। क्योंकि माँ शब्दातीता है, वर्णनों से परे है। फिर भी उसे शब्दों में समेटने की, वर्णनों में बाँधने की चेष्टाएँ, नाकाम कोशिशें हुई हैं, होती रहेंगी।

कभी लगता है माँ एक अथाह नीला समंदर है, जो समा लेता है सबको अपने आप में, अपने अस्तित्व में, अपने व्यक्तित्व में फिर भी वह कभी नहीं उफनता। शांत, धीर, गंभीर उदात्त बना रहता है।

हमारी संस्कृति में वसुंधरा को माता कहा गया है। वसुधा जो निरंतर देने और सिर्फ देने में विश्वास रखती है। लेती वही है जो अनुपयोगी है, व्यर्थ है। और देती है, जो उपयोगी है, कल्याणकारी है, जीवनदायी है।

माँ अपने दिन का आरंभ चाहे 'ॐ अस्य श्री रामरक्षा स्रोत मंत्रस्य...' से करे, चाहे 'वाहे गुरु दी कृपा....' से, चाहे 'ला इल्लाह...' से या फिर 'ओ गॉड...' से। हृदय के पवित्र पूजा-पात्र में सुकल्याण का एक ही शीतल जल थिरकता है- 'मेरी संतान यशस्वी हो, चिरायु हो, संस्कारी हो, सफल हो और वैभवशाली हो। उसकी राहों में कोई अवरोध न हो। निष्कंटक, निर्मल उजली राहों में वह कभी रुके नहीं, थके नहीं, झुके नहीं और अवसरों को चूके नहीं।'

इस निश्छल प्रार्थना के साथ जुड़ी होती है माँ की परीक्षा। अपनी हृदय-बगिया के समुन को आँखों से दूर करना होगा। इस जीवन में माँ ही है जिसे इस ‍कठिन परीक्षा से गुजरना होता है और वह सफल भी होती है।

भारतीय संस्कृ‍‍ति की पारंपरिक माँ बहुत भोली, बहुत भावुक होती है। औपचारिकताओं के प्रतिकूल परिवेश में उसकी सहजता कसमसाती है। सादगी, स्वाभाविकता और स्वतंत्रता उसके दमकते गुण रत्न हैं। वह बनावटी हो ही नहीं सकती।

कल जिन्हें वह सिखाया-समझाया करती थी, वही आज उसे सिखाते-समझाते हैं, 'क्या कहें, क्या ना कहें। किंतु उसे कुछ याद नहीं रहता वह तो मौका मिलते ही प्रवाहित होने लगती है बातों के स्नेहिल झरने में।

कल जिसने हमें बोलना सिखाया, आज हम उसी को बोलने नहीं देते! क्यों? माँ पुरानी, उसकी बातें पुरानी, उसके मूल्य पुराने। हम बर्दाश्त नहीं कर पाते।

हम नहीं जानते माँ की एक आँख पीठ पर होती है जिससे वह नए मूल्यों, नए प्रवाह, नए रुझानों और नए चोंचलों को देखती, परखती और निरखती है।

उसमें से आपका हित-अनहित भी लगातार मथती है। माँ देहरी पर सजती कुंकुम रंगोली है, घर को आलोकित करता निष्कंप दीपक है, अंजुलि से 'आदित्य' को चढ़ता आस्था का अर्घ्य है और चमकते चंद्रमा सा एक शीतल धैर्य है। वह जीवन की पाठशाला की गुरुजी ही नहीं बल्कि चॉक, कलम, पट्‍टी और तड़ातड़ पड़ती छड़ी भी वही है।

उसकी अप्रतिम सुगंध हमारे रोम-रोम से प्रस्फुटित होती है लेकिन हमारी साँस-साँस की हर महक उसकी आत्मा से उठती है। पौराणिक काल की पार्वती से लेकर त्रेता युग की सीता तक, द्वापर युग की यशोदा, कुंती से लेकर राजा-महाराजा के युग की जीजाबाई, अहिल्या देवी तक और कस्तूरबा से लेकर मदर टेरेसा तक मातृत्व की अद्‍भुत परंपरा को जन्म देने वाली हर माँ को नमन।

माँ है ईश्वर.................[संपादित करें]

माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, त्याग, उदारता और सहनशीलता के कितने प्रतिमान गढ़ती है? कौन देखता है? कौन गिनता है भला? और कैसे गिने? ऋण, आभार, कृतज्ञता जैसे शब्दों से परायों को नवाजा जाता है। माँ तो अपनी होती है, बहुत अपनी सी।

हम स्वयं जिसका अंश हैं, उसका ऋण कैसे चुकाएँ। ऋण चुकाने की कल्पना भी धृष्टता कही जाएगी। कितने और कैसे-कैसे अहसान हैं उसके हम पर। यदि अदायगी का मन बना लिया तो उलझ जाएँगे। भला कैसे अदा करेंगे उस ऋण को? जब आपको पृथ्वी पर लाने के लिए वह असीम अव्यक्त वेदना से छटपटा रही थी, उसका? या ऋण चुकाएँगे उन अमृत बूँदों का जिनसे आपकी कोमलता पोषित हुई? अनवरत भीगती नन्ही लंगोटियों का या बुरी नजरों से बचाती काजल टीकलियों का?

हाथों में स्वर्ण मोतियों के साथ गुँथे काले मोतियों वाले 'मनघटियों' का या आरक्त नन्हे चरणों में रुनझुन बजती पैजनियों का?

 माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है      


स्मृतियों के बहुत छोटे-छोटे किंतु बहुत सारे मखमली लम्हे उसकी मन-मंजूषा में सँजोकर रखे गए हैं। किसी अमूल्य धरोहर की भाँति, कैसे झाँकेंगे आप?

कितनी बार नन्ही लातें उस पर चलाईं? कितनी बार आपने क्या-क्या तोड़ा, बिखेरा और उसने समेटा। कितनी मिन्नतों के बाद किसी चूजे की भाँति आप चार चावल दाने चुगते थे और आपकी भूख से वह अकुला उठती थी। क्या याद है आपको वह सुहानी संध्या जब दीया-बाती के समय मंत्र, श्लोक और स्तुतियों के माध्यम से आपकी सुकोमल हृदय धरा पर वह संस्कार और सभ्यता के बीज रोपा करती थी। नहीं भूले होंगे आप वे फरमाइशें और नखरे जिन्हें वह पलकों पर उठाया करती थी।

दाल-चावल से लेकर मटर पुलाव तक, अजवाइन डली नमकीन पूरी से लेकर मैथी-पराठे तक, मलाईदार श्रीखंड से लेकर पूरनपोली तक और कुरकुरी भिंडी से लेकर भुट्‍टे के किस तक कितने प्यार में पके रसीले व्यंजन हैं जो माँ के सिवा किसी और की स्मृति दिला ही नहीं सकते।


ND याद कीजिए अपने किसी साधारण से बुखार को। सिरहाने रखे भिलामें, राई, दूध की ठंडी भीगी पट्टियाँ, तुलसी का काढ़ा, अमृतांजन, नारियल तेल में महकता कपूर और माँ की चिंतातुर उँगलियाँ। चुका सकेंगे इन महकते भावुक लम्हों का मोल?

उम्र बीत जाने पर भी माँ के धीरज बँधाते बोल आप भुला नहीं सकते ' सो जा बेटा बीमारी हाथी की चाल से आती है और चींटी की चाल से जाती है।' तपते तन-मन पर जैसे ठंडे मुलायम फाहे रख दिए हों।

आज भी उसकी डाँट आपको भीतर तक भिगो देती है। 'मैं समझाती हूँ तो कहाँ समझ में आता है, देखा, हो गए ना बीमार?' एक ऐसी डाँट जिसमें चिंता की कोंपलें सहज फूटती दिखाई पड़ जाती है, उसके छुपाते-छुपाते भी। प्रार्थना के फूल बुदबुदाते स्वरों में ही झर जाते हैं उसके संभालते-संभालते भी। प्यार की हरी पत्तियाँ झाँक ही लेती हैं दबाते-दबाते भी।

माँ को ईश्वर ने सृजनशक्ति देकर एक विलक्षण व्यवस्था का भागीदार बनाया है। एक अघोषित अव्यक्त व्यवस्‍था, किंतु उसका पालन हर माँ कर रही है। चाहे वह कपिला धेनु हो, नन्ही सी चिड़िया हो या वनराज सिंह की अर्धांगिनी। इस व्यवस्‍था को समझिए जरा। आपने कभी नहीं देखा होगा गाय का बछड़ा माँ को चाट रहा है। चिड़िया के बच्चे उसके लिए दाना ला रहे हैं और माँ की चोंच में डाल रहे हैं या शावक अपनी माँ के लिए शिकार ला रहे हैं।

प्रकृति ने ही माँ को पोषण देने का अधिकार दिया है। वही पोषण देती है और सही समय आने पर पोषण जुटाने का प्रशिक्षण भी। पोषण देने में वह जितनी कोमल है प्रशिक्षण देने में उतनी ही कठोर। माँ दोनों ही रूपों में पूजनीय है।

इन दोनों ही रूपों में संतान का कल्याण निहित होता है।

'उसको नहीं देखा हमने कभी... पर उसकी जरूरत क्या होगी, ...हे माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की सूरत क्या होगी...

ईश्वर हर जगह नहीं पहुँच सकता इसीलिए उसने माँ बना दी। जो हर किसी की होती है, हर किसी के पास होती है। शारीरिक उपस्थिति माँ के लिए मायने नहीं रखती। वह होती है तो उसकी ईश्वरीय छाया सुख देती है जब 'नहीं' होती है तब उसके आशीर्वादों का कवच हमें सुरक्षा प्रदान करता है। माँ हमेशा है और रहेगी उसके 'होने' का ही महानतम अर्थ है शेष सारे आलेख और उपन्यास, कहानी और कविता व्यर्थ है। क्योंकि माँ शब्दातीता है, वर्णनों से परे है। फिर भी उसे शब्दों में समेटने की, वर्णनों में बाँधने की चेष्टाएँ, नाकाम कोशिशें हुई हैं, होती रहेंगी।

कभी लगता है माँ एक अथाह नीला समंदर है, जो समा लेता है सबको अपने आप में, अपने अस्तित्व में, अपने व्यक्तित्व में फिर भी वह कभी नहीं उफनता। शांत, धीर, गंभीर उदात्त बना रहता है।

हमारी संस्कृति में वसुंधरा को माता कहा गया है। वसुधा जो निरंतर देने और सिर्फ देने में विश्वास रखती है। लेती वही है जो अनुपयोगी है, व्यर्थ है। और देती है, जो उपयोगी है, कल्याणकारी है, जीवनदायी है।

माँ अपने दिन का आरंभ चाहे 'ॐ अस्य श्री रामरक्षा स्रोत मंत्रस्य...' से करे, चाहे 'वाहे गुरु दी कृपा....' से, चाहे 'ला इल्लाह...' से या फिर 'ओ गॉड...' से। हृदय के पवित्र पूजा-पात्र में सुकल्याण का एक ही शीतल जल थिरकता है- 'मेरी संतान यशस्वी हो, चिरायु हो, संस्कारी हो, सफल हो और वैभवशाली हो। उसकी राहों में कोई अवरोध न हो। निष्कंटक, निर्मल उजली राहों में वह कभी रुके नहीं, थके नहीं, झुके नहीं और अवसरों को चूके नहीं।'

इस निश्छल प्रार्थना के साथ जुड़ी होती है माँ की परीक्षा। अपनी हृदय-बगिया के समुन को आँखों से दूर करना होगा। इस जीवन में माँ ही है जिसे इस ‍कठिन परीक्षा से गुजरना होता है और वह सफल भी होती है।

भारतीय संस्कृ‍‍ति की पारंपरिक माँ बहुत भोली, बहुत भावुक होती है। औपचारिकताओं के प्रतिकूल परिवेश में उसकी सहजता कसमसाती है। सादगी, स्वाभाविकता और स्वतंत्रता उसके दमकते गुण रत्न हैं। वह बनावटी हो ही नहीं सकती।

कल जिन्हें वह सिखाया-समझाया करती थी, वही आज उसे सिखाते-समझाते हैं, 'क्या कहें, क्या ना कहें। किंतु उसे कुछ याद नहीं रहता वह तो मौका मिलते ही प्रवाहित होने लगती है बातों के स्नेहिल झरने में।

कल जिसने हमें बोलना सिखाया, आज हम उसी को बोलने नहीं देते! क्यों? माँ पुरानी, उसकी बातें पुरानी, उसके मूल्य पुराने। हम बर्दाश्त नहीं कर पाते।

हम नहीं जानते माँ की एक आँख पीठ पर होती है जिससे वह नए मूल्यों, नए प्रवाह, नए रुझानों और नए चोंचलों को देखती, परखती और निरखती है।

उसमें से आपका हित-अनहित भी लगातार मथती है। माँ देहरी पर सजती कुंकुम रंगोली है, घर को आलोकित करता निष्कंप दीपक है, अंजुलि से 'आदित्य' को चढ़ता आस्था का अर्घ्य है और चमकते चंद्रमा सा एक शीतल धैर्य है। वह जीवन की पाठशाला की गुरुजी ही नहीं बल्कि चॉक, कलम, पट्‍टी और तड़ातड़ पड़ती छड़ी भी वही है।

उसकी अप्रतिम सुगंध हमारे रोम-रोम से प्रस्फुटित होती है लेकिन हमारी साँस-साँस की हर महक उसकी आत्मा से उठती है। पौराणिक काल की पार्वती से लेकर त्रेता युग की सीता तक, द्वापर युग की यशोदा, कुंती से लेकर राजा-महाराजा के युग की जीजाबाई, अहिल्या देवी तक और कस्तूरबा से लेकर मदर टेरेसा तक मातृत्व की अद्‍भुत परंपरा को जन्म देने वाली हर माँ को नमन।