सदस्य वार्ता:Rakesh1610345/प्रयोगपृष्ठ/आभासी बैंकिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आभासी बैन्किग[संपादित करें]

आभासी बैंकिंग, वास्तव में बैंक शाखा / कार्यालय में व्यक्तिगत रूप से बिना ऑनलाइन बैंकिंग और संबंधित सेवाओं तक पहुंच का प्रावधान है।[1] बस, भौतिक वाय-इन परिसर के लिए किसी भी आवश्यकता के बिना सूचना प्रौद्योगिकी के व्यापक उपयोग के माध्यम से बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए आभासी बैंकिंग कहा जाता है। कोई भी वित्तीय संस्था जो ऑनलाइन पारंपरिक बैंकिंग सेवाएं प्रदान करती है उसे आभासी बैंक कहा जाता है।[2] वर्चुअल बैंकिंग या आभासी बैन्किग एक ग्राहक को सुविधा के अनुसार किसी भी समय बिलों का भुगतान।

इंटरनेट बैंकिंग

इतिहास[संपादित करें]

1970 के दशक में प्रथम एटीएम की स्थापना के साथ आभासी बैंकिंग की अवधारणा "भारतीय वित्तीय प्रणाली" की पुस्तक में डी.के. मूर्ति और के आर। वेणुगोपाल के अनुसार उस कदम में बैंकिंग, इंटरनेट और इंटरनेट बैंकिंग, स्मार्ट कार्ड और ईईएफ प्वाइंट ऑफ सेल सिस्टम सहित - अतिरिक्त कम्प्यूटरीकृत बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए बैंकिंग क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ।

सेवाओं:-

1. बुनियादी स्तर की सेवा: वे बैंक वेबसाइट द्वारा प्रदान की जाती हैं जो विभिन्न उत्पादों और सेवाओं के बारे में जानकारी देता है। 2. सरल ट्रांजैक्शनल सर्विस: इसके तहत, ग्राहक सरल कार्यों को पूरा करता है जैसे विभिन्न सेवाओं के लिए आवेदन देना, अकाउंट बैलेंस की जांच आदि। 3. पूरी तरह से लेनदेन संबंधी वेबसाइट्स: ये ग्राहकों को कोर बैंकिंग कार्यों जैसे निधियों के स्थानांतरण, बिलों का भुगतान इत्यादि करने की अनुमति देते हैं।

तीन प्रमुखों:-

1. कानूनी और विनियामक मुद्दों जैसे कानून के अधिकार क्षेत्र, वैधता, ई-कॉमर्स के कानूनी और विनियामक वातावरण में अंतर। 2. सुरक्षा और प्रौद्योगिकी के मुद्दों जैसे परिष्कृत प्रौद्योगिकी मानकों का रखरखाव, वायरस और स्पाइवेयर का डर, एन्क्रिप्शन / डिक्रिप्शन, डिजिटल हस्ताक्षर आदि का सत्यापन। 3. पर्यवेक्षी और संचालन संबंधी मुद्दों जैसे जोखिम नियंत्रण, अग्रिम चेतावनी प्रणाली आदि।

फायदे[संपादित करें]

1. सुविधा: ऑनलाइन बैंकिंग साइट बंद कभी नहीं वे 24/7 उपलब्ध हैं, इसलिए आपको बैंक पर अपना लंच ब्रेक बनाने की जमा राशि का उपयोग नहीं करना पड़ता है। 2. सर्वव्यापकता: यदि आप राज्य से बाहर हैं या यहां तक कि देश और धन की समस्याएं उत्पन्न होती हैं, तो आप तुरन्त लोगो का उपयोग कर सकते हैं और व्यापार का ख्याल रख सकते हैं।[3] 3. लेन-देन की गति: ऑनलाइन बैंकिंग साइटें आमतौर पर एटीएम से भी अधिक लेने देने की प्रक्रिया कर सकती हैं। 4. दक्षता: आप एक सुरक्षित साइट से अपने सभी खातों तक पहुंच और प्रबंधित कर सकते हैं। 5. प्रभावशीलता: कई ऑनलाइन बैंक अब उपकरण की पेशकश करते हैं ताकि आप अपने सभी परिसंपत्तियों को अधिक प्रभावी ढंग से प्रबंधित कर सकें। ज्यादातर मुनाफा प्रबंधन कार्यक्रमों जैसे क्विकन और माइक्रोसॉफ्ट मनी के साथ भी संगत हैं।

नुकसान[संपादित करें]

1. स्टार्ट-अप में समय लग सकता है: आपके बैंक के ऑनलाइन कार्यक्रम के लिए पंजीकरण करने के लिए, आपको शायद पहचान प्रदान करनी पड़ेगा और यदि आप शादीशुदा हैं, तो आपके बैंक को आपको एक टिकाऊ शक्ति की अटॉर्नी पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता पड़ सकती है इससे पहले कि वे सभी आपके होल्डिंग्स एक साथ। 2. सीखना वक्र: बैंकिंग साइटें पहली बार नेविगेट करना मुश्किल हो सकती हैं अपने नए बैंक के साथ सहज होने के लिए कुछ समय निवेश करने और / या ट्यूटोरियल पढ़ने की योजना बनाएं 3. बैंक साइट में बदलाव: सॉफ्टवेयर उन्नयन अपरिहार्य है, यहां तक कि बैंकिंग दुनिया में भी। यदि आपका बैंक कार्यक्रमों को बदलता है या बस अपग्रेड करता है तो आपको अपने ऑनलाइन खातों के लिए पुन: पंजीयन करना पड़ सकता है। 4. विश्वास बात: कई लोगों के लिए, सबसे बड़ा मुद्दा उन पर भरोसा करना सीख रहा है जो वे नहीं देख सकते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. https://www.gktoday.in/gk/what-is-virtual-banking/
  2. https://www.pcmag.com/encyclopedia/term/61229/virtual-bank
  3. https://www.thebalance.com/three-advantages-of-online-banking-2385804