सदस्य वार्ता:Javed Shah khajrana indore

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Javed Shah Khajrana[संपादित करें]

Javed Shah is a famous writer, poet, storyteller, photographer, historian and descendant of Khadim Khas Mujawars and heirs of Sufi Abdullah Shah Biyabani. Javed Shah Khajrana currently resides in Indore city of Madhya Pradesh. He was born on 5 September 1978 in Juni Indore. He has also received the National Award on Poetry twice. In Khajrana, Indore, Sufisant is the grandson of Naharshah Wali Raht and the Mujawars. In the era of Ibrahim Lodhi, his ancestor Naseeruddin Shah Chishti Rah arrived in Mandav from Delhi to spread Islam with his fellow famous Sufi Abdullah Shah Biyabani. Sultan of Mandava, Ghiyasuddin Khilji, gave you a grand welcome well and on request of him gave the manor of Chhatri village near Mandav to you. Hazrat Abdullah Shah Biyabani spread the religion of Islam by staying in Chitri village. In your time Islam spread rapidly in Nimar. After your death you were buried in Chitri village and there is your Dargah as a memorial today. After Abdullah Shah Biyabani, his dargah and fiefdom came under the supervision of his companion Hazrat Naseeruddin Shah Chishti Rah. You are a special companion of Abdullah Shah Biyabani and first Khadim. The Dargah of Hazrat Naseeruddin Chishti remains in good faith of the steps of Hazrat Abdullah Shah Biyabani.

It is about 1500 AD. Javed Shah Khajrana is from the 25th generation of the same Nasiruddin Shah Chishti. His father's maternal grandfather lived in Dhar and Kalibawadi. His father Akbar Ali Shah, father of Fatma, the mother of Mahmud Ali, was the manager of this dargah in 1955.




जावेद शाह खजराना[संपादित करें]

एक प्रसिद्ध लेखक ,कवि , कहानीकार ,फोटोग्राफर ,इतिहासकार और सूफी अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के खादिम खास मुजावर और वारिसों के वंशज है। जावेद शाह खजराना वर्तमान में मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में निवास करते है। इनका जन्म जूनी इंदौर में 5 सितम्बर सन 1978 में हुआ। इन्हें दो बार कविता पर राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला है। इंदौर स्थित खजराना में सूफीसंत नाहरशाह वली रह0 के खादिम और मुजावरों के नातिन है। इब्राहिम लोधी के जमाने में इनके पूर्वज नसीरुद्दीन शाह चिश्ती रह0 अपने साथी मशहूर सूफी अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के साथ इस्लाम फैलाने के दिल्ली से मांडव पहुंचे। मांडव के सुल्तान गयासुद्दीन खिलजी ने आपका शानदार स्वागत कुँए और इनके आग्रह करने पर मांडव के नजदीक छितरी गांव की जागीर आपको दे दी।

हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी ने छितरी गांव में रहकर इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार किया । आपके समय निमाड़ में इस्लाम तेजी से फैला। आपकी मृत्यु के बाद आपको छितरी गांव में दफनाया गया वहां पर आज एक स्मारक के रूप में आपकी दरगाह है। अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के बाद उनकी दरगाह और जागीर की देखरेख उनके साथी हजरत नसीरुद्दीन शाह चिश्ती रह0 के अधिकार में आ गई। आप अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के साथी और पहले खादिमें खास है। हजरत नसीरुद्दीन चिश्ती की दरगाह की हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के कदमों की जानिब सहन में बनी हुई है।

ये सन 1500 ईसवी की बात है।
जावेद शाह खजराना इन्हीं नसिरुद्दीन शाह चिश्ती की 25 वी पीढ़ी में से है। इनके पिताजी का ननिहाल धार और कालीबावड़ी में रहा है। इनके पिताजी महमूद अली की माताजी फ़ातेमा के पिताजी अकबर अली शाह 1955 में इस दरगाह के मैनेजर थे।

-- नया सदस्य सन्देश (वार्ता) 18:33, 17 अक्टूबर 2019 (UTC)

मलिक मुगीस की मस्जिद मांडू मध्यप्रदेश[संपादित करें]

मध्य प्रदेश के मांडू में मलिक मुगिस की मस्जिद की तस्वीर, अज्ञात फोटोग्राफर द्वारा c.1902 में ली गई। मस्जिद सागर तालाओ झील के चारों ओर समूहीकृत इमारतों में से एक है और c.1432 से मिलती है। इसका निर्माण स्थानीय हिंदू मंदिरों से निकाली गई चिनाई का उपयोग करके किया गया था और मूल रूप से टाइल मोज़ेक और इस्लामी सुलेख के साथ सजाया गया था। यह मांडू की तीन मस्जिदों में से एक है, जो 15 वीं शताब्दी की है; दिलवार खान की मस्जिद, मांडू की सबसे पुरानी इस्लामी इमारत और राजसी जामी मस्जिद। यह प्रवेश द्वार के पोर्च का दृश्य है, जो सामने से परियोजनाएं हैं और एक गुंबद के साथ छत की गई होगी जो गिर गई है। पास के धार के साथ, मांडू एक सुंदर और शक्तिशाली सादगी द्वारा विशेषता इस्लामी वास्तुकला का एक महत्वपूर्ण प्रांतीय शैली का केंद्र था जो माना जाता है कि बाद में आगरा और दिल्ली में मुगल वास्तुकला को प्रभावित किया था। मांडू एक ऐतिहासिक खंडहर पहाड़ी है और विंध्य पहाड़ियों के एक ऊंचे पठार पर एक प्राकृतिक रूप से बचाव की स्थिति में है, जो एक गहरी खड्ड से घिरा हुआ है। एक प्राचीन गढ़, यह पहली बार 10 वीं शताब्दी के अंत में परमारा राजवंश के तहत प्रमुखता में आया, और 14 वीं शताब्दी की शुरुआत तक हिंदू शासन के अधीन रहा जब इसे दिल्ली के सुल्तानों ने जीत लिया था। इसकी स्वर्णिम आयु 1405 और 1531 के बीच मालवा के सुल्तानों की राजधानी के रूप में आई। उन्होंने किले का नाम 'शादाबाद' (सिटी ऑफ जॉय) रखा और इसकी दीवारों के भीतर बगीचों, झीलों और वुडलैंड के बीच महलों, मस्जिदों और मकबरों का निर्माण किया। इस अवधि के शेष भवनों में से अधिकांश मूल रूप से चमकते हुए टाइलों और जड़ित रंगीन पत्थर से सजाए गए थे। जावेद शाह खजराना ने स्वयं इस मस्जिद को देखा है।मांडू के आम रास्ते से बिल्कुल जुदा ये मस्जिद कारवाँ सराय के सामने स्थित है। Javed Shah khajrana indore (वार्ता) 09:25, 6 नवम्बर 2019 (UTC)

Hajrat Maqdoom SamaUddin Soharwardi RA. And Abdullah Shah Biyabani KaliBawdi Dhamnod =History__By Javed Shah khajrana[संपादित करें]

Hazrat Maqdoom Sama Uddin Sohrewardi was the last towering Sufi Saint of the Sohrewardi Order. His father Hazrat Farid Uddin was the disciple of Hazrat Sadr Uddin known as Raju Qattal. Hazrat Sama Uddin was a disciple of Hazrat Kabir Uddin Ismail, who was also the disciple of Hazrat Raju Qattal.

Hajrat SamaUddin Soharwardi Family[संपादित करें]

He had two sons Hazrat Abdullah Biyabani and Hazrat Naseeruddin. who was his successor. Hazrat Sama Uddin got his education from Hazrat Saiyad Sharif Jirjani, philosopher and scholar at the court of Taimur Shah (d.1405). Hazrat Sama Uddin settled in Bayana during the reign of emperor Behlol Lodi (1451-1489). After Behlol Lodi, Sikandar Lodi (1489 - 1517) became the new emperor, who respected Hazrat Sama Uddin highly. In one of Hazrat Sama Uddins teachings the emperor was told by him that " there are three types of people who could never hope to receive blessings; one is old men who sinned, second young men who did likewise but hope to repent at a later date and the third, the king who lied" . Hazrat Sama Uddin wrote a commentary on Lumat of Hazrat Shaikh Uddin Iraqi .He has written a book "Mufta ul Asrar" (Key to the Devine Secret). In "Akhbar Ul Akiyar" Hazrat Abdul Haq Mohaddis Delhvi (1551 A.D.-1642 A.D.) said:

"Shaikh Sama Uddin was complete in fear of God, in guarding himself from sin, in outer and inner knowledge. He possessed perfectly the power of attraction in the assembly. Moreover the heart of any sick person he used to look at graciously became cleaned from any spiritual disease and the purposes of any seeker he looked at fulfilled".

Hajrat Shaikh SamaUddin Soharwardi's Son Nasiruddin Shah tomb[संपादित करें]

In the holy domb of shaikh Hazrat Makhdoom Samauddin Soharwardi , there are six holy graves including Hazrat Shaikh Samauddin . According To the Right handside of Hazrat Shaikh Samauddin there are two graves the first right grave is of SHaikh Hazrat Nasiruddin , the Beloved son and also the Spritual successor of Hazrat Shaikh Samauddin . Second Son hazrat Abdullah Shah Biyabani's Dargah at Biyabani Near indore Chhitri Village (KaliBawdi_Dhamnod). THe extreme right grave is of Hazrat Shaikh Abdul Ghaffar, Known as Shaikh Ladan. Below his grave there is on grave of Hazrat Shaikh Zafar Khan. According To the left hand side of Hazarat Sammauddin there is one grave of hazrat fatehullah and below his grave there is one grave of Hazrat Shaikh Ibrahim.

Hazrat Sama Uddin died on 17th.Jamadi ul awwal 901 H/ 2 February 1496 and was buried at Mehrolli ,Delhi.The detail history of the saint is now available our publication in Urdu "Dilli Key Bais Khawaja" (22 Saints of Delhi) by Hazrat Dr.Zahurul Hasan Sharib,Gudri Shah Baba IV.

HOLY MONUMENTS OF DARGAH SHAH SAMA UDDIN The Dargah of Hazrat Maqdoom Sama Uddin Sohrewardi is near Shamsi Talab, Jahaz Mahal, Aulia Masjid, Andehria Morh, New Delhi Most of the buildings do not exist now, yet some of them are: Holy domes,mosque,Mehfil khana (Son Burj) Mehman Khana (near Aulia Masjid and lake view of Shamsi Talab),Langer Khana, Graveyards (from north to siuth -dome of Hazrat Ishhaq (brother Shah Sama uddin) to Sohanburj and Andheria Morh to Mehman Khana (near Aulia Masjid and lake view of Shamsi Talab)

HOLY DOMES: There are two holy Domes in the Dargah premises; one is of Hazrat Shaikh Sama uddin and the other is of Sheikh Ishaq the elder brother of Sheikh Sama uddin and other graves are of his family members. For the roof of the dome and the mosque of Sheikh Sama uddin there are fifteen steps.

In the baradari of the holy dome of Hazrat Shaikh Sama uddin, there are six holy graves including Shaikh Sama uddin the details are as follows.

Right hand :Shaikh Hazrat Nasir uddin the beloved son and also the Spiritual successor of Sheikh sama uddin & next grave is of Hazrat Sheikh Abdul Ghaffar; Known as Sheikh Ladan son of Hazrat Nasir Uddin left hand: Hazrat Fateh ullah Below Left:Hazrat Shaikh Ibrahim Below Write:Hazrat Shaikh Zafar Khan

Recently our Gudri Shahi Order of Ajmer reconstructed the inner Chamber of Sheikh Sama uddin with marble. The tomb stone was written by me, Inam Hasan,Gudri Shah,Ajmeri

MOSQUE: This adjoining Mosque of the shrine of Sheikh Sama uddin was built in Lodi Dynasty’s time. It is also called the Qanati Masjid. In 1975 it was repaired by my father.Hazrat Dr.Zahurul Hassan Sharib, Gudri Shah Baba Ajmeri. In the mosque there are three rooms (Hujra).

SON BURJ: It is a Mehfil Khana of Sheikh Sama uddin Sohrewardi where he used to give teachings and Zikr. The size of Son Burj is 140x173 feet with basement. Now there is a three-sided graveyard and one side road along this building.

According to Husain Ahmed Zuberi the author of Khandan Zuberi the Son Burj is also called the Hasht Mahal , because if we calculate the numerical figure of the urdu alphabets of Hasht Mahal , it is 901 which is the same number of the date of the death of sheikh Sama uddin (d.901 H).

GRAVEYARDS : All around the shrine of Sheikh Sama Uddin there was a very big graveyard with big and small domes or chatri (small domes) on the graves of his family which is now demolished and occupied by the unauthorized people. Still some graves and domes can be seen ther. History By _javed shah khajrana Javed Shah khajrana indore (वार्ता) 18:12, 6 नवम्बर 2019 (UTC)

हज़रत मकदूम समाउद्दीन सोहवर्दी रह0 और हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी की जीवनी जावेद शाह खजराना की जुबानी[संपादित करें]

हज़रत मकदूम समाउद्दीन सोहवर्दी रह0[संपादित करें]

सोहरवर्दी सिलसिले के आख़री सूफी संत थे। उनके पिता हज़रत फ़रीदउद्दीन हज़रत सदरउद्दीन के शिष्य थे जिन्हें राजू कतल के नाम से जाना जाता था। हजरत समाउद्दीन सोहरवर्दी हजरत कबीरउद्दीन इस्माइल के शिष्य थे, जो हजरत राजू कत्तल के शिष्य भी थे।

उनके दो बेटे हज़रत अब्दुल्ला शाह बियाबानी और हज़रत नसीरउद्दीन थे जो उनके उत्तराधिकारी थे। 

हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी दिल्ली सुल्तान बहलोल लोदी के काल में नाराजगी के चलते अपने साथियों के साथ दिल्ली सल्तनत से दूर मालवा में पहुंचे। हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के साथ हजरत नसीरुद्दीन शाह चिश्ती देहलवी रह0 भी थे। आप दोनों का स्वागत मालवा के सुल्तान ग्यासुद्दीन ख़िलज़ी ने दिल खोलकर किया। अब्दुल्लाह शाह बियाबानी और हजरत नासिरुद्दीन शाह चिश्ती रह0 ने मांडव में क़याम भी किया। मांडव में आपका चिल्ला भी है। मांडव के सुल्तान ग्यासुद्दीन खिलजी ने सन 1490 के आसपास आपको मांडव में किसी भी महल में रहने की इल्तिज़ा की। मांडू में जहाज महल , लाल महल , हिंडोला महल और जल महल आबाद थे लेकिन आपने महल की जगह मांडव की वादियों के नीचे छितरी गाँव में क़याम करने की इजाजत मांगी। बादशाह ने अल्लाह के वलियों को मांडव की वादियों के नीचे निमाड़ में छितरी गाँव की जागीर दान में दी। हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी अपने साथियों के साथ छितरी गांव में इबादत और इस्लाम का प्रचार करते रहे। हजरत अब्दुलाह शाह बियाबानी के वालिद हजरत मखदूम सोहरवर्दी का इंतकाल 2 फरवरी 1496 को दिल्ली में हुआ । उस समय आप मांडव में थे । मशहूर दरबारी कवि जमाली ने एक खत लिखा है जिसमें इस घटना का जिक्र है। हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के इंतकाल के बाद उनके साथी हजरत नसीरुद्दीन शाह चिश्ती रह0 उनके गद्दीनशीन और उत्तराधिकारी बने। हजरत नासिरदीन शाह चिश्ती के इंतकाल के बाद उन्हें भी हजरत अब्दुल्लाह शाह बियाबानी के कदमों की जानिब पास ही में दफनाया गया । आप दोनों की दरगाह 500 साल।से निमाड़ की शान है। लेखक जावेद शाह खजराना इन्ही नसीरुद्दीन शाह चिश्ती देहलवी रह0 की 25वीं पीढ़ी में है। वर्तमान में 2019 में यहाँ के मुजावर अमीर अली है। हज़रत समाउद्दीन ने अपनी शिक्षा हज़रत सय्यद शरीफ जिरजनी, दार्शनिक और विद्वान तैमूर शाह के दरबार (d.1405) से प्राप्त की। सम्राट बेहलोल लोदी (1451-1489) के शासनकाल के दौरान हज़रत समाउद्दीन बयाना में बस गए। बहलोल लोदी के बाद, सिकंदर लोदी (1489 - 1517) नए सम्राट बने, जिन्होंने हज़रत सम उद्दीन का बहुत सम्मान किया। हजरत समाउद्दीन ने ही सिकंदर लोधी को सिकंदर उपाधि से नवाज़ा। इन्ही सिकंदर लोधी ने आगरा बसाया। मशहूर कवि जमाली भी हजरत समाउद्दीन सोहरवर्दी के मुरीद थे। लोधी सल्तनत से लेकर बाबर और हुमायूं के राजदरबारी कवि जमाली के चहेते बने रहे। हजरत समाउद्दीन की शिक्षाओं में से एक में सम्राट ने उनके द्वारा कहा गया था कि "तीन प्रकार के लोग हैं जो कभी आशीर्वाद प्राप्त करने की आशा नहीं कर सकते हैं; एक बूढ़े आदमी हैं जो पाप करते हैं, दूसरे युवा पुरुष जो वैसे ही करते थे लेकिन बाद की तारीख में पश्चाताप करने की उम्मीद करते थे। और तीसरा, राजा जिसने झूठ बोला था ”।

हज़रत सामा उद्दीन ने हज़रत शेख उद्दीन इराकी के लुमात पर एक टिप्पणी लिखी। उन्होंने एक किताब "मुफ्ता उल असरार" (कीन टू द डिवाइन सीक्रेट) लिखी है। "अख़बार उल अखियार" में हज़रत अब्दुल हक़ मोहद्दिस डेल्हवी (1551 A.D.-1642 A.D.) ने कहा:

"शेख समाउद्दीन अल्लाह के डर से, पाप से खुद को बचाने के लिए, बाहरी और आंतरिक ज्ञान में पूरी तरह से थे। उनके पास विधानसभा में पूरी तरह से आकर्षण की शक्ति थी। इसके अलावा, किसी भी बीमार व्यक्ति का दिल जो वह दया से देखता था, वह साफ हो गया। किसी भी आध्यात्मिक बीमारी और किसी भी साधक के उद्देश्यों को उन्होंने पूरा किया।

हजरत समाउद्दीन के वारिसों की कब्रें[संपादित करें]

शेख हजरत मखदूम सममुद्दीन सोहरावर्दी के पवित्र मकबरे में हजरत शेख सममुद्दीन सहित छह पवित्र कब्रें हैं।

हज़रत शेख सममुद्दीन के दाहिने हाथ के अनुसार दो कब्रें हैं । पहली दाहिनी कब्र  हज़रत शेख नसीरुद्दीन की है, जो कि प्रिय पुत्र हैं और हज़रत शेख सामाउद्दीन के स्प्रिचुअल उत्तराधिकारी भी हैं। 

यह अत्यंत दाहिनी कब्र हजरत शेख अब्दुल गफ्फार की है, जिसे शेख लाडन के नाम से जाना जाता है। उसकी कब्र के नीचे हजरत शेख जफर खान की कब्र है। हज़रत सममुद्दीन के बाएँ हाथ के अनुसार, हज़रत शेख इब्राहिम की एक कब्र के नीचे हज़रत फलाहुल्लाह की एक कब्र है।

हजरत समाउद्दीन का इंतकाल 17 जमादि उल अव्वल 901 हिजरी / मुताबिक 2 फरवरी सन 1496 को हुआ।

दिल्ली के महरौली में दफनाया गया था। संत का विस्तार इतिहास अब हमारे प्रकाशन "दिल्ली के बाईस ख्वाजा" में उपलब्ध है। हज़रत डॉ0 ज़हूरुल हसन शारिब, गुदड़ी शाह बाबा चतुर्थ।

दरगाह शाह समअउद्दीन के पवित्र स्मारक हज़रत मक़दूम समद उद्दीन सोहरावर्दी की दरगाह शम्सी तालाब, जहाँज़ महल, औलिया मस्जिद, अन्धेरिया मोर, नई दिल्ली के पास है। अधिकांश इमारतें अब मौजूद नहीं हैं, फिर भी उनमें से कुछ हैं: पवित्र गुंबद, मस्जिद, महफिल खाँ (सोन बुर्ज) मेहमान ख़ाँ (औलिया मस्जिद के पास और शम्सी तालाब का झील का नजारा), लैंगर ख़ाना, कब्रिस्तान (उत्तर से हज़रत इश्क़ (भाई शाह समउद्दीन) के सोउथबर्ज और औंधिया मोरह तक) और मेहमान ख़ाना (औलिया मस्जिद के निकट झील का नज़ारा) शम्सी तालाब)

पवित्र डोमेन: दरगाह परिसर में दो पवित्र डोम हैं; एक हजरत शेख सामउद्दीन का है और दूसरा शेख समाक के बड़े भाई शेख इद्दीन का है और अन्य कब्रें उनके परिवार के सदस्यों की हैं। गुंबद की छत और शेख समउद्दीन की मस्जिद के लिए पंद्रह सीढ़ियाँ हैं।

हज़रत शेख सामउद्दीन के पवित्र गुंबद की बारादरी में, छह पवित्र क़ब्रें हैं जिनमें शेख़ साम उद्दीन का विवरण इस प्रकार है।

दाहिना हाथ: शेख हजरत नासिर के प्यारे बेटे का शगुन और शेख सामउद्दीन का आध्यात्मिक उत्तराधिकारी & अगली कब्र हजरत शेख अब्दुल गफ्फार की है; जिन्हें हजरत नासिर उद्दीन के पुत्र शेख लाडन के नाम से जाना जाता है । दुआगो:- जावेद शाह खजराना Javed Shah khajrana indore (वार्ता) 18:54, 6 नवम्बर 2019 (UTC)

जहाज महल की कहानी पृष्ठ का हटाने हेतु चर्चा के लिये नामांकन[संपादित करें]

नमस्कार, जहाज महल की कहानी को विकिपीडिया पर पृष्ठ हटाने की नीति के अंतर्गत हटाने हेतु चर्चा के लिये नामांकित किया गया है। इस बारे में चर्चा विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/जहाज महल की कहानी पर हो रही है। इस चर्चा में भाग लेने के लिये आपका स्वागत है।

नामांकनकर्ता ने नामांकन करते समय निम्न कारण प्रदान किया है:

विकिपीडिया के नियमों पर खरी नही उतरती: उल्लेखनीयता, दृष्टिकोण, कहानी। हालाँकि, इसकी कुछ जानकारी अन्य लेखों पर काम आ सकती है।

कृपया इस नामांकन का उत्तर चर्चा पृष्ठ पर ही दें।

चर्चा के दौरान आप पृष्ठ में सुधार कर सकते हैं ताकि वह विकिपीडिया की नीतियों पर खरा उतरे। परंतु जब तक चर्चा जारी है, कृपया पृष्ठ से नामांकन साँचा ना हटाएँ।Navinsingh133 (वार्ता) 20:24, 7 नवम्बर 2019 (UTC)