सदस्य वार्ता:Bankelal

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रिय Bankelal, हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है!

निर्वाचित सूची उम्मीदवार का सिम्बल

विकिपीडिया एक मुक्त ज्ञानकोष है जो विश्वभर के योगदानकर्ताओं द्वारा लिखा जा रहा है।
कुछ भी लिखने से पहले कृपया सहायता के निम्नांकित पृष्ठों को ध्यान से पढ़ें:

किसी भी वार्ता/संवाद पृष्ठ, चौपाल या अन्य कहीं भी जहां सदस्यों के मध्य वार्ता होती है, पर अपना सन्देश छोड़ने के बाद अपना हस्ताक्षर अवश्य छोड़े। इसके लिए अपने सन्देश की समाप्ति पर --~~~~ लिख दें।

हम आशा करते है कि आपको विकिपीडिया से जुड़ने में आनन्द आएगा।

हिन्दी ०५:०९, २८ मार्च २०१० (UTC)

नमस्कार
आपके द्वारा कुरुक्षेत्र युद्ध नामक लेख पर कात-छांट से उसके निर्माता सदस्य परेशान हुए हैं। विकिपीडिया मुक्त विश्वकोशः है, अतः यहां कोई भी कभी भी योगदान कर सकता है, किन्तु ये सभी काम कुछ नियमों और अनुशासन के अधीन किये जाते हैं। तभी सब कुछ अच्छा भी लगता है। आपके योगदानों से लगता है, कि आपके इस नां से संपादन अभि बहुत कम हैं। आपका हिन्दी योगदानों में क्या स्तर है, इस बारे में मेरा ज्ञान कम है। हां यहां के योगदानों को देखते हुए हिन्दी विकी का इस सदस्यनाम से अनुभव कम ही प्रतीत होता है। यदि आपको इस लेख पर इतने बड़े बदलाव करने की मंशा थी, तो प्रथम तो इस बारे में लेख की वार्ता पर चर्चा करनी चाहिये। इसके बाद यदि आप दोनों एकमत न हों, तो चौपाळ पर चर्चा करनी चाहिये थी। इसके पूर्व इतना बड़ा निर्णय लेकर बदलाव करना उचित नहीं है। इस लेख पर उन्होंने काफ़ी मेहनत की है। अतः बुरा लगना तो स्वाभाविक ही है। मयूर जी ने कई लेखों पर अच्छी मेहनत की है, अतः हम उन्हें खोना नहीं चाहेंगे, न ही आपको या किसी अन्य सदस्य को भी। अतः यहां सभी सौहार्द से रहें तो बेहतर होगा। कोई बड़ा बदलाव आपस में चर्चा कर लेने के बाद ही करना बेहतर रहता है। अतः कृपया भविष्य में इस बात का ध्यान रखें।
हां वाराणसी के लिये समर्थन देने का धन्यवाद दूंगा।--प्र:आशीष भटनागर  वार्ता  १५:१२, १८ मई २०१० (UTC)
आपके लिए नया सन्देश है
नमस्कार, Bankelal जी। आपके लिए Mayurkumar के वार्ता पृष्ठ पर एक सन्देश है।
आप इस सूचना को किसी भी समय मिटा सकते है, इसके लिए वार्ता संपादन में जाकर {{सन्देश}} मिटाएँ।

humayun tomb[संपादित करें]

बांकेलाल जी कृप्या हिन्दी विकि के साथ सहयोग दे, यहाँ कुशल एवं सक्रिय सदस्यों की कमी है, अतः सदस्यों का उत्साह बढावे न कि उन्हें हतोत्साहित करे, जैसा आपने हुमायुँ के मकबरे के साथ किया, खैर यह आपका अपना मत हो सकता है, परन्तु मेरी आपसे प्रार्थन है कि यहाँ कुछ सहयोग भी दे केवल समर्थन देना या न देना ही सब कुछ नहीं, कुछ लेख बनाये या कुछ लेखों का सुधार करे, किसी प्रकार की कोई सहायता चाहिये तो मुझसे या आशीष जी से सहायता ले सकते है, मै तो अभी कुछ दिनो के लिये व्यस्त हुँ परन्तु जब लौटुँगा तो फिर से सहयोग दूँगा, आपने ईमेल करके क्षमा माँग ली इसके लिये आपको साधुवाद--मयुर कुमारवार्ता १६:५६, २२ मई २०१० (UTC)

अवरो्ध[संपादित करें]

आपके द्वारा की गई निर्वाचन पृष्ठ, कुरुक्षेत्र युद्ध पर एवं अन्य ध्वंसकारी गतिविधियों को दृष्टि में रखते हुए आपको चेतावनी दी जाती है कि अपनी इन गतिविधियों से बाज आयें व निर्माणकारी कार्यों में लगें। आपके द्वारा अभी तक एक भी लेख में एक अच्छा वाक्य नहीं जोड़ा गया है, स्वतंत्र लेख लिखना तो दूर, अन्यथा आपको अब बिना चेतावनी अवरोधित किया जा सकता है। आपकी भाषा व वर्तनी भी बहुत खराब है, जिसे आपको विकी की नीतियों के अनुसार पहले प्रयोगशाला पर अभ्यास कर सुधारना चाहिये था। आपके बारे में अन्य सक्रिय सदस्यों से भी चर्चा की गई हैं और तब आपको ये चतावनी दी जा रही है, इसे अंतिम चेतावनी समझें।--प्र:आशीष भटनागर  वार्ता  ०२:४६, २ जून २०१० (UTC)

सुझाव[संपादित करें]

नमस्कार मैँ राम प्रसाद आपको राय देरहा हुँ और आप से निवेदन करता हुँ की आप मुझे विकिपीडिया के नयाँ सदस्य देखाई देते हैँ आप भारतीय नागरीक होते हुए भी आपको सही हिन्दी सम्पादन तक नही आती आप से अछ्छी हिन्दी तो मुझे आती है बल्की मैँ भारतीय नही हुँ। आप बेमतलब प्रबंधक आशिष भटनागर जी से उलझ रहे हें जिन्होँने हिन्दी विकिपीडियाको आज अग्र स्थान पर पहुँचाने की कोशीस कि है। मेरा आपसे निवेदन है की अगर आपको विकिपीडिया पर प्रबंधक से मुकाबला लेना है तो अपने आप को प्रबंधक की दर्जा पर पहुँचाने की कोशिस किजिय इस के लिए आप को एक कुशल विकिपीडिन बनना होगा अगर आपको कम से 5000 से अधिक अछ्छे लेख हिन्दी विकिपीडिया पर सम्पादन कर के देखाना होगा तब आप प्रबंधक लोगोँ से मुकाबला कर सकते हें। मै देख रहा हुँ अभी तक आप ने हिन्दी विकि पर नयाँ लेख तो क्या पुराने लेखोँ को भि सिर्फ बिगाडने के अलावा और कोही काम नही किया है फीर भी आप इतना फुदक रहे हैँ जैसे महाभारत में कर्ण फुदक रहा था। कृपये मैने आपको सुझाव दिया है आप को मूझे कुछ कहना है तो मुझे यहाँ पर लिखें धन्यवाद

--रमेश ०४:४४, ४ जून २०१० (UTC)