सदस्य वार्ता:रोहित/पुरालेख01

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रिय रोहित/पुरालेख01, हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है!

निर्वाचित सूची उम्मीदवार का सिम्बल

विकिपीडिया एक मुक्त ज्ञानकोष है जो विश्वभर के योगदानकर्ताओं द्वारा लिखा जा रहा है।
कुछ भी लिखने से पहले कृपया सहायता के निम्नांकित पृष्ठों को ध्यान से पढ़ें:

किसी भी वार्ता/संवाद पृष्ठ, चौपाल या अन्य कहीं भी जहां सदस्यों के मध्य वार्ता होती है, पर अपना सन्देश छोड़ने के बाद अपना हस्ताक्षर अवश्य छोड़े। इसके लिए अपने सन्देश की समाप्ति पर --~~~~ लिख दें।

हम आशा करते है कि आपको विकिपीडिया से जुड़ने में आनन्द आएगा।

--Munita Prasadवार्ता ०८:४२, १२ फरवरी २००९ (UTC) नमस्ते रोहित कृपया यह पृष्ठ देहरादून की शिक्षा संस्थाएँ भी देखें और किसी शिक्षा संस्था के विषय में जानकारी हो तो लिखें।--पूर्णिमा वर्मन ०६:३४, ६ मार्च २००९ (UTC)

प्रायापिजम[संपादित करें]

प्रायापिजम किसी भी प्रकार का painful erection है। डेथ इरेक्सन और प्रायापिजम एक ही नही है। अतः, आप द्वारा निर्मित पृष्ठ में मैने बदलाव किया है। धन्यवाद।

मास मैलर्[संपादित करें]

?????????????????


प्रिय Izhaar.ali,

विकिपीडिया पृष्ठ सदस्य वार्ता:Izhaar.ali Rohitrrrrr द्वारा ११:२८, ३ जून २००९ को बनाया किया है, वर्त्तमान संस्करण के लिए http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B8%E0%A4%A6%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF_%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BE:Izhaar.ali देखें।

यह नया पन्ना है।

संपादक का सारांश: नया पृष्ठ:

प्रिय रोहित/पुरालेख01, हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है!

निर्वाचित सूची उम्मीदवार का सिम्बल

विकिपीडिया एक मुक्त ज्ञानकोष है जो विश्वभर के योगदानकर्ताओं द्वारा लिखा जा रहा है।
कुछ भी लिखने से पहले कृपया सहायता के निम्नांकित पृष्ठों को ध्यान से पढ़ें:

किसी भी वार्ता/संवाद पृष्ठ, चौपाल या अन्य कहीं भी जहां सदस्यों के मध्य वार्ता होती है, पर अपना सन्देश छोड़ने के बाद अपना हस्ताक्षर अवश्य छोड़े। इसके लिए अपने सन्देश की समाप्ति पर --~~~~ लिख दें।

हम आशा करते है कि आपको विकिपीडिया से जुड़ने में आनन्द आएगा।


संपादक से सम्पर्क करें: डाक: http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%B6%E0%A5%87%E0%A4%B7:EmailUser/Rohitrrrrr विकी: http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B8%E0%A4%A6%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF:Rohitrrrrr

आगे परिवर्तन की स्थिति में आपको अधिसूचित नहीं किया जायेगा, जब तक आप इस पृष्ठ को नहीं देखेंगे। आप अपनी ध्यानसूची में आपके द्वारा सभी देखे जाने वाले पृष्ठों के लिए अधिसूचना पताका को फिर से ठीक कर सकता है।

           आपका साथी विकिपीडिया

अधिसूचना तंत्र

-- अपनी ध्यानसूची में समायोजन में परिवर्तन के लिए, देखें http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%B6%E0%A5%87%E0%A4%B7:Watchlist/edit

ये क्या ????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????? ?

योगदान को दिशा दें[संपादित करें]

रोहित जी! आपका योगदान देखकर बहुत अच्छा लगा। इसके साथ ही यहां कुछ बातें उल्लेखनीय लगीं, जो एक प्रबंधक होने के नाते बता रहा हूं:

  • हिन्दी विकी को उत्साही कार्यकर्ता ओं की अतीव आवश्यकता है। जहां वर्तमान स्थिति में हम ४८वें स्थान पर पहुंचे हैं, सभी भाषाओं के विकि में, और अन्य भाषाओं के निष्ठ सदस्य पूरी लगन के साथ अपने विकि के उत्थान में लगे हैं, वहीं हमें ऐसे कर्ताओं की बहुत कमी लगती है। अतः आप अपना योगदान जारी ही नारखें, वरन और बढ़ाएं, पर हां गुणवत्ता की कीमत पर नहीं।
  • आप ने कई लेख बनाए हैं, पर आपकी रुचि का अंदाजा नहीं लग पा रहा है। या तो बहुत वाइड है, या आप स्वयं ही बताएं। जिससे कि आपके लेखों को एक दिशा दी जा सके। वे एकदिष्ट हो कर अधिक गति पाएंगे।
  • आपको किसी भी समय, कोई भी सहायता, प्रश्न या समस्या का समाधान चाहें, तो यथा उपलब्धि पूछ सकते हैं। और भी प्रबंधक हैं, किंतु मैं तो सदा ही सहर्ष उपलब्ध हूं।
  • आप चाहें तो विकि के संदेश/वार्ता के बाहर भी चैट पर आकर सीधे बात कर समस्याएं/उत्सुकताएं सुलझा सकते हैं। मेरा जी-मेल चैट ID: ashish0bhatnagar है। इस ही पर मेल भी भेज सकते हैं।
  • अपनी रुचि के विषय बताएं, तो हम आपको कुछ वैसा ही सुझा सकते हैं, जिससे कि आप रुचि सहित बेहतर योगदान कर पाएंगे।
  • देवनागरी टाइपिंग की समस्या तो आपके कार्य से प्रतीत होती नहीं, वर्ना, उसके भी समाधान हैं।

मैं बहुत कुछ कह चुका हूं, पर बहुतेरा बाकी भी है। विकि शुभचिंतक:--आशीष भटनागरसंदेश ०८:५६, १५ मार्च २००९ (UTC)

शहरों के लेख[संपादित करें]

यदि आप कोई शहर का लेख बनाते हैं, तब यथासंभव प्रयास करें, कि उसके समानांतर अंग्रेज़ी के लेख से, कम से कम एक साँचा (ज्ञानसन्दूक वाला) और यदि हो तो बाहरी कड़ियां, अन्य भाषाएं आदि भी डाल लें। नहीं तो कम से कम ज्ञानसन्दूक भी हो तो लेख बहुत बेहतर बनेगा। उसकी प्रविष्टियां जरूर हिन्दी में कर दें। कोई सहायता वांछित हो तो संपर्क करें। --आशीष भटनागरसंदेश १२:०७, १७ मार्च २००९ (UTC)

बुलन्द दरवाज़ा[संपादित करें]

बुलन्द दरवाज़ा लेख में मैंने कुछ सुधार किएँ हैं तथा इसको आज का आलेख के लिए प्रस्तावित करना चाहती हूँ। परन्तु यह लेख काफी छोटा है यदि आप इसमें कुछ और सामग्री जोड़कर लेख को थोड़ा बड़ा करें तो यह आज का आलेख के लिए उपयुक्त बन सकता है। एक बात और आप जो . (full stop) देतें हैं उसको Shift दबाए हुए अवस्था में दबाएं तो पूर्ण विराम आएगा। --Munita Prasadवार्ता ११:१२, २० मार्च २००९ (UTC)

रोहित जी, ये क्या? आप इतने सक्रिय कार्यकर्ता हैं और अभी तक पूर्णविराम देना नही सीख सके। आप फूलस्टाप को दवाइए पूर्ण विराम आएगा यदि फिर भी नही आता है तो Shift नामक की को दबाकर रखिए तब फूलस्टाप दबाइए पूर्ण विराम आ जाएगा।

--Munita Prasadवार्ता १३:३२, २० मार्च २००९ (UTC)

परशुराम अवतार[संपादित करें]

रोहित भैया, प्रणाम! आपके योगदानों का बहुत आभार (सच में), किंतु एक सुझाव या निर्देश जो चाहें मानें

कोई भी नया लेख बनाने से पूर्व पहले देख लें, कि उस नाम , या कुछ बदली वर्तनी (स्पेल्लिन्ग्) से कहीं कोई लेख पहले ही तो बना नहीं है, या उस ही विषय पर जो भी अन्य संभावित नाम हो सकते हों, कृपया उन्हें पहले खोज लें। इस कार्य में आप चाहें, तो अंग्रेज़ी विकि में जाकर वहां से भी हिन्दी की कड़ी पा सकते हैं। उदाहरणतः

आपके लेख परशुराम अवतार के बनने से पूर्व आपने देखा नहीं, परशुराम पहले ही बना है। बेहतर होता, कि

  • आप अपने लेख (विष्णु) में लिंक [[परशुराम]] ही प्रयोग करते।
  • लेख में [[परशुराम|परशुराम अवतार]] प्रयोग करते।
  • [[परशुराम अवतार]] लिंक को [[परशूराम]] पर पुनर्निर्देशित कर देते।
उपरोक्त सुझाव आपकी व विकि के, दोनों के ही हित में हैं। बाकी भूल और गलतियां, सभी से होतीं हैं, हमसे भी होतीं थी, और हैं। कृपया बुरा ना मानें। हमने भी अपने गुरुजी से खूब डांट खाईं हैं यहां। --आशीष भटनागरसंदेश ०७:०३, २४ मार्च २००९ (UTC)

नमस्कार !![संपादित करें]

रोहित जी नमस्कार !! विकी पर आप का काम एवं गति देख कर कोई भी आपकी सराहना किये बिना नहीं रह सकता. आप से निवेदन है की जब भी कोई नया लेख बनायें कृपया दूसरी भाषाओ ख़ासतोर से अंग्रेजी विकी लिंक अवश्य जोड़ दे. इस से भविष्य में लेखो को खोजने मे काफी मदद होगी दूसरा यह अंग्रेजी विकी पर हिंदी विकी के प्रचार भी होगा ओर जो भारतीय हिंदी विकी के बारे में एवं उसके विस्तार के बारे मे नहीं जानते वो भी इससे अवगत हो जायेंगे. यह नए लोगो को हिंदी विकी की प्रति आकर्षित करेगा. धन्यवाद --गुंजन वर्मासंदेश १२:१९, २६ मार्च २००९ (UTC)

लाचुंग[संपादित करें]

आपका उपरोक्त लेख काफ़ी अच्छा बना है। उसमें चित्र इत्यादि भी अच्छे हैं। लेकिन थोड़ा सा और ध्यान दें। किसी भी लेख को बनाते हुए आप सन्दर्भ/बाहरी कड़ियाँ/यथासंभव सांचे इत्यादि भी देख लें, कि यदि लग सकते हों। और सबसे महत्वपूर्ण, श्रेणियां। यदि किसी लेख में श्रेणी लगी हो, तो वो लेख सरलता सेट्रेस हो सकता है। और कोई अन्य भी उसे किसी अन्य लेख में लिंक दे सकता है। अन्यथा, किसी को कैसे पता चलेगा, कि इस नाम का कोई लेख भी है। उपरोक्त बातों के लिए एक सर्वोत्तम और सरलतम तरीका है, कि आप लेख पूरा होने पर, देखें, कि अंग्रेज़ी में उसके समानांतर लेख है क्या? यदि मिल जाए, तो :

  • उस लेख का नाम ऐसा अवश्य लिख दें।
  • वहां से सन्दर्भ देख कर, यथा संभव हिंदी में पाठ अनुवाद कर के लगा दें।
  • वहां से बाहरी कड़ियाँ भी यथा संभव अनुवाद कर अवश्य लगा दें।
  • वहीं देखें, कि यदि कोई सांचा लगा हो, तो क्या ऐसा कोई सांचा हिन्दी में बना है? यदि ना मिले, तो भी उस सांचे के किसी अन्य लेख का हिन्दी लिंक खोलकर उस लेख में देखें, कि क्या वहां सांचा लगा है? यदि मिले, तो वह सांचा अवश्य लगा दें।
  • ज्ञानसन्दूक भी देख लें, लग सकता हो तो।

उपरोक्त छोटे से कार्य से आपके ६०% सुंदर लेख में चार चांद लग जाएंगे, और वह ९०% तक पहुंच जाएगा। और संभव है कि कुछ दिनों में आलेख में दिखाई दे। ऐसा मेरा सुझाव है, शेष आपकी इच्छा। और कभी कभार, यदि जरूरत लगे, तो यहां उपस्थित किसी सदस्य या प्रबंधक से राय/सुझाव भी ले/दे सकते हैं।

आपने लाचुंग में अंग्रेज़ी का लिंक दिया है, सन्दर्भ भी लगाए हैं, किंतु यह सुझाव एक सामान्य सन्दर्भ में है। खास लाचुंग के लिए नहीं।--आशीष भटनागरसंदेश १५:२३, २ अप्रैल २००९ (UTC)

बार्न स्टार[संपादित करें]

Wikipedia Motivation Award विकिपीडिया प्रेरण पुरस्कार
आपके अन्वरत प्रयास और अथक परिश्रम के लिए, जिसने हिन्दी विकी को ऊंचा उठने में बहुत सहयोग दिया।
आशीष भटनागरसंदेश १६:३६, २ अप्रैल २००९ (UTC)


प्रशंसा[संपादित करें]

आपका योगदान बहुत ही उपयोगी और धन्यवाददायी है । कृपया जारी रखें । --अमित प्रभाकर १८:५१, ४ अप्रैल २००९ (UTC)

गोल्डन गेट सेतु[संपादित करें]

उपरोक्त लेख एवं सैन फ्रांसिस्को आदि को बनाने का धन्यवाद। शायद आपने निर्वाचित चित्र प्रत्याशी देखा हो, और वहां से प्रेरणा ली हो। खैर, ये तो और भी अच्छी बात है। किंतु यदि कोई अन्य छोटे मोटे काम करने वाला सदस्य वर्तमान गोल्डन गेट जैसा लेख बनाए तो सही, किंतु आपके लेखों में तो गुणवत्ता और पाठ, दोनों की ही कमी नहीं रहती है। तो यथा संभव, कम से कम एक चित्र और सांचा(ज्ञानसन्दूक) लगा देते तो और अच्छा होता। खास इन लेखों के लिए ही नहीं, आगे भी हो सके तो ध्यान रखें। हां, ये दोनो चीजें, आपको सामान्यतया अंग्रेज़ी में तो मिल ही जाएंगीं। शेष समय के ऊपर भि निर्भर करता है, कि कहीं< आपने बहुत ही कम समय में बनाया हो, तो कोई बात नहीं, बना तो।--आशीष भटनागरसंदेश ०२:३३, ५ अप्रैल २००९ (UTC)

नया सांचा[संपादित करें]

रोहित जी चौपाल पर आपका प्रश्न देखा. आप हिंदी विकी के किसी भी लेख जिस पर संचा पहेले से मौजूद हैं. उदहारण के लिए हाजी अली की दरगाह देखे. इस लेख के अंत में आपको दो सांचे दिखेंगे. किस भी सांचे में "बदले" पर क्लिक करेंगे तो उस सांचे का code मिल जायेगा, बस इसे copy कर आप नया सांचा बना सकते हैं उम्मीद करता हु की यह सुचना आपके लिए उपयोगी होगी. --गुंजन वर्मासंदेश ०५:३२, ७ अप्रैल २००९ (UTC)

महाभारत[संपादित करें]

प्रिय बंधु रोहित! आपका योगदान, खासकर महाभारत के इन चरित्रों के संबंध में कह रहा हूं, बहुत अच्छा है। और ये oneliner भी नहीं है, ये भी खास बात है। इसे जारी रखें। साथ ही, एक और बात कहनी है। आप महाभारत#कुरुवंश वृक्ष देखें। शायद कभी मेरा बनाया हुआ ही है, बहुत पहले का। तो उसके लिंक भी बना दें (सभि चरित्र ही हैं) शायद बहुत से वर्तनी बदल कर या पुनर्निर्देशित कर भी बन जाएंगे। और नए वालों को यथा स्थान जोड़ दें। इतनी आशा आफ से है, कि शायद आप उस कोड को समझ लेंगे। हां, कुरु सेना और पांडु सेना के चरित्र जो कि इस वृक्ष में नहीं जुड़ते हैं, उनके लिए एक अलग कॉलम बना सकते हैं, और दो शीर्ष बन जाएंगे, जिनके अंतर्गत ये सभि सेनानियों आदि के नाम आ सकते हैं। यह मात्र एक नम्र निवेद या सुझाव है, जो कि आपके कार से संबंधित है, तो आपको बताया। कुछ और पूछना, चर्चा करनी हो, तो मैं अभी ऑनलाइन हूं।--आशीष भटनागरसंदेश ०५:०७, ९ अप्रैल २००९ (UTC)

आप महाभारत के जो चरित्रों के लेख बना रहे हैं, बहुत अच्छे हैं, किंतु यदि प्रत्येक के नीचे, साथ साथ ही श्रेणी:महाभारत और सांचा:महाभारत लगाते चलें, और कोई अन्य उपयुक्त सांचा भी, जैसे महाभारत के योद्धा; तो बाद में मेहनत से बचेंगे, व लेख भी खूबसूरत बनेगा।--20pxसदस्यसंदेश १२:३२, ९ अप्रैल २००९ (UTC)
हां सांचे में बदलाव तो आता रहेगा, किंतु एक बात है, कि यदि सांचा लगा रहेगा, तो कोई भी बदलाव आए, लेटेस्ट सांचा दर्शित होगा ना। सांचा, जैसे सांचा:ईरान शहर नहीं, जैसे सांचा महाभारत। जो भी सांचा बनेगा, वो वहां दर्शित होगा। खैर, जब बाद मेंस आंचे लगाने को तैयार हो, तो कोई बात नहीं, तुम्हारी परियोजना/प्रोजेक्ट है, जैसे चाहे दिशा बनाओ, काम तो सही होगा ही, यह विश्वास है। लगे रहो, ईश्वर तुम्हें सफ़ल करे।--आशीष भटनागरसंदेश १३:२०, ९ अप्रैल २००९ (UTC)

पुष्प विहार[संपादित करें]

भैया क्या पुष्प विहार में ही रहते हो? क्या उद्धार कर दिया लेख का। वैसे मैंने ऐसे ही पूछा। कि महाभारत को ब्रेक दिया, और पुष्प विहार पहुंच गए।Just by the way.--आशीष भटनागरसंदेश १४:५८, १० अप्रैल २००९ (UTC)

एक और बात, एक स्टैन्डर्ड बना कर रखो, कि किसी भी लेख के नाम में, दिल्ली ही लगाओ बाद में, जैसे पुष्प विहार, दिल्ली। इससे एकरूपता रहती है। हां जब किसी नाम में खार तौर पर नई दिल्ली लगाना हो, तो और बात है, जैसे रेलवे स्टेशन, नई दिल्ली; हालांकि इसका नाम नई दिल्ली रेलवे स्टेशन है। अब भी इसका नाम बदला जा सकता है, और नई दिल्ली वाले को redirect कर दो। या इसी नाम को रहने दो, और दिल्ली वाले को पुनर्निर्दे... कर दो।कम से कम सही जगह पहुंच तो जाएगा। --आशीष भटनागरसंदेश १५:०३, १० अप्रैल २००९ (UTC)

दिल्ली[संपादित करें]

रोहित जी, दिल्ली को निर्वाचित लेख बनाने के लिए प्रस्तावित किया गया है। लेख को बेहतर बनाने के लिए आपका प्रयास अपेक्षित है। आप ने कुछ सुधार किए हैं, बढ़िया हैं। लेख का प्रारंभिक भाग तो ठीक-ठाक है। अनुभागों (उपशीर्षकों) में सुधार की आवश्यकता है।--Munita Prasadवार्ता ०५:११, १५ अप्रैल २००९ (UTC)

जयपुर के दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

उपरोक्त लेख को बहुत अच्छा बनाया है। अपनी मेहनत जारी रखो।--आशीष भटनागरसंदेश ११:०२, २० अप्रैल २००९ (UTC)

जयपुर के मुख्य लेख में दर्शनीय स्थलों के उपशीर्षकों से लिंक हटाकर, उनके नीचे {{main|जंतर मंतर}} की तरह लगाएं तो बेहतर लगेगा।--आशीष भटनागरसंदेश ०५:५८, २९ अप्रैल २००९ (UTC)

सदस्य वार्ता:88.195.115.188[संपादित करें]

रोहित जी आपका शुब्ध होना लाजमी है पर इसका बदला लेना क्या सही तरीका है. भारतीय संस्कृति क्या यही कहती है की गंदे के साथ गन्दा बन जाओं. --गुंजन वर्मासंदेश ०७:१३, ५ मई २००९ (UTC)

वैश्विक ऊष्मीकरण[संपादित करें]

वैश्विक ऊष्मीकरण लेख को मैने भूमंडलीय ऊष्मीकरण को निर्देषित कर दीया है। यह लेख पहले से ही अस्तित्व मे था। --गुंजन वर्मासंदेश ०३:५६, ८ मई २००९ (UTC)

चित्र[संपादित करें]

रोहित जी,

चित्र:ताइपे १०१.jpeg को आपने कहां से अपलोड किया है, कृपया उसके बारी में जानकारी दिजिए। --Munita Prasadवार्ता ०६:०९, ९ मई २००९ (UTC)

एशियाई खेल[संपादित करें]

इस लेख के बारे में मेरी वार्ता पर उत्तर देखें।--आशीष भटनागरसंदेश ०२:५२, ११ मई २००९ (UTC)

हिन्दी विकिपीडिया[संपादित करें]

मैं इस लेख को और अधिक जानकारीपरक बनाना चाहता हूँ। मेरे मन में ये विचार आया है की हिन्दी विकिपीडिया के महत्वपूर्ण पड़ावों पर कौन-२ से लेख लिखे गए थे उनके लिखे जाने का दिन, मास, और वर्ष भी इस लेख पर लिखा जाए, यानी कि जैसे १००वाँ लेख कौनसा था, १,०००वाँ फिर १०,०००वाँ इत्यादि-२। क्या ये कहीं से पता चल सकता है? इसके अतिरिक्त भी अन्य जानकारियाँ मिल जाएँ तो लेख और अच्छा लगेगा। धन्यवाद। रोहित रावत १५:३२, १२ मई २००९ (UTC)

रोहित जी जानकारी निम्नलिखित है, आप इनका उपयोग कर लिजिए।
  • 29 मई 2008, हिन्दी विकि का 20,000 लेख
  • 6 दिसम्बर 2007, हिन्दी विकि का 15,000 लेख
  • 14 मार्च 2007, हिन्दी विकि का 10,000 लेख
  • 16 जनवरी 2007, हिन्दी विकि का 5,000 लेख
  • 25 जनवरी, 2005, 1000 लेख

--Munita Prasadवार्ता १६:५८, १२ मई २००९ (UTC)

रोहित जी मैं भी ये चाहती थी कि हम जान पाएँ कि हमारा 1000 वां लेख कौन सा था या 5000 वां लेख कौन सा था पर ऐसा कहीं मुझे मिला नहीं। यदि भविष्य में कभी मुझे पता चलता है तो आपको जरूर बताउँगीं।

--Munita Prasadवार्ता ०५:०४, १३ मई २००९ (UTC)

रोहित जी इस लिंक को देखिये यहाँ हिंदी विकी के लेखो की सूची दी हुई है जो की आपने सृजन समय के अनुसार सूचीबद्ध है --गुंजन वर्मासंदेश ०४:५३, ८ जून २००९ (UTC)

साँचा:मेल एक्स्प्रेस[संपादित करें]

उपरोक्त सांचे के बारे में चौपाल पर प्रश्न है। उस पर राय व सुझाव दें।--आशीष भटनागरसंदेश ०७:५७, २३ मई २००९ (UTC)

विकिपीडिया के लेख[संपादित करें]

रोहित! आपके भिन्न भाषाओं के विकिपीडिया के लेख बहुत ही अच्छा प्रयास हैं। मेरी भी बहुत समय से इच्छा रही थी, इस बारे में, किंतु अन्य लंबी परियोजनाओं, जैसे पद्म भूषण, भारतीय रेल, भारत के शहर इत्यादि के कारण समय नहीं निकाल पाया। किंतु आपके कार्य को देखकर बहुत ही अच्छा लगा। आपका योगदान सराहनीय है। कृपया इसे जरी ही ना रखें, वरन मात्रा और गुणवत्ता स्तर बढ़ाएं। अभी भी बहुत अच्छा है, किंतु प्रगति सदा वांछित होती है। हां मेल-एक्स्प्रेस के सांचे के सुझाव के लिए भी धन्यवाद।--आशीष भटनागरसंदेश ०४:५९, २९ मई २००९ (UTC)

चिन्ह को सही करके लिखिए[संपादित करें]

चिन्ह की जगह पर "चिह्न" लिखें। "चिन्ह" शब्द गलत है। इसे सही करते ही कड़ियाँ लाल हो जाती हैं इसलिए पहले से ही इसे सही रूप में लिखिए तो ठीक रहेगा।
--आलोचक ०४:५८, ३१ मई २००९ (UTC)

अश्लील लेख[संपादित करें]

आपके द्वारा सूचित लेख हटाया गया। सूचना के लिए धन्यवाद, किंतु इतने सारे प्रबंधकों को बताने के बजाय १-३ सक्रीय प्रबंधकों को बताने भर से काम चल जाता। फिर भी धन्यवाद।--आशीष भटनागरसंदेश १५:३५, १ जून २००९ (UTC)

अरे भाई सक्रीय सदस्य देखने के लिए हाल के परिवर्तन हैं ना। और आप तो वहां भरपूर नज़र रखते हैं। जो भी सदस्य पिछले २४ घंटों में सक्रीय हों, ऐसे २-३ से काम चल जाएगा। और ऐसे नाम भी अधिक नहीं दिखाई देंगे।--आशीष भटनागरसंदेश १५:४१, १ जून २००९ (UTC)

विकिपीडिया:प्रमुख चित्र प्रत्याशी[संपादित करें]

यहां पर नए चित्र हैं। कृपया टिप्पणी एवं नए सुझाव दें। स्वागत है। --आशीष भटनागरसंदेश १५:४४, १ जून २००९ (UTC)

एक प्रश्न[संपादित करें]

रोहित जी नमस्कार !! आप जो नए सदस्यों के वार्ता पृष्ठ पर स्वागत का सांचा लगा रहे है उस कार्य के सन्दर्भ में मेरा एक प्रश्न/निवेदन है -- कृपया ऐसे सदस्यों जिन्होंने आपना खाता नहीं बनाया है और सिर्फ IP Address से ही पहचाने जाते है उनके वार्ता पृष्ठ पर स्वागात सन्देश दे कर क्या फायादा. अगर कोई और कारण है तो मुझे अवगत कराएँ --गुंजन वर्मासंदेश १४:४७, ३ जून २००९ (UTC)

Welcome[संपादित करें]

Thanks for the welcome Rohitrrr. I only know a tiny, tiny bit of Hindi, although I have been putting some Hindi words on nl.wiktionary occasionally. That is my main abode. Jcwf २०:०२, ५ जून २००९ (UTC)

आज का आलेख[संपादित करें]

रोहित जी! जैसा की आपने चौपाल पर सूचना पढ़ी होगी, आज का आलेख स्तंभ के लिए सक्रिय दोनो सदस्य (प्रबंधकगणों) ने येनकेनप्रकारेण हाथ खींच लिया है। ६ जून तक के लिए लेख बने हुए थे। उसके बाद ७,८ व ९ के लिए मैंने निश्चित कर दिए। प्रस्ताव देने का समय नहीं था। १० के लिए ऑर्कुट प्रस्तावित है। आप भी उच्च श्रेणी के छोटे लेख, जो मानदण्डों को पूरा करते हों, कृपया सुझाएं। यथासंभव किंतु आवश्यक रूप से। इस आशा से, हस्ताक्षर करता हूं, कि आपके सुझाव वहां मिलेंगे।--आशीष भटनागरसंदेश २०:३०, ५ जून २००९ (UTC)

हिन्दी वर्तनी मानकीकरण लेख से आलेख के लिए मुखपृष्ठ पर प्रदर्शित अंश के सुझाव दें। मेरी वार्ता पर उत्तर दे सकते हैं।--आशीष भटनागरसंदेश १२:३१, ७ जून २००९ (UTC)
आपने विकि पर संपादक बनने की इच्छा प्रकट की है। वो तो आप अभी हैं ही। संपादन तो कोई भी कर सकता है। पंजीकृत सदस्य कुछ अधिक संपादन अधिकारी होते हैं। आपकी सही इच्छा प्रबंधक बनने की है। उसके लिए विकिपीडिया:प्रबन्धक पद के लिये निवेदन पर जाएं। अच्छा विवरण और सर्वमान्य कारण दें। वैसे इस बारे में विकि से बाहर मुझसे चर्चा/चैट करें। --आशीष भटनागरसंदेश १३:३२, ७ जून २००९ (UTC)
मेरी वार्ता पर कृपया आज का आलेख के लिए चयनित अंश देखें। कुछ छोटा हो सके तो बताएं।--आशीष भटनागरसंदेश ०३:४२, ८ जून २००९ (UTC)
छोटा करने की आवश्यकता ये है, कि बराबर के अनुभाग से अत्यधिक लंबा ना हो जाए। मुखपृष्ठ पर आज का आलेख का स्थान देखें। तो घृतकुमारी के लगभग बराबर हो पाए तो उत्तम। यही आशय था।--आशीष भटनागरसंदेश ०४:२२, ८ जून २००९ (UTC)

अकबर[संपादित करें]

उपरोक्त लेख को आलेख के लिए संपादन करते हुए, लगा कि अच्छा विस्तृत लेख है। इसे आलेख के बाद निर्वाचित भी किया जा सकता है। सुधार कर दिए हैं। शेष कोई अंश बढ़ सके, या नया उपशीर्षक जुड़े तो बेहतर होगा। देख लेना।--आशीष भटनागरसंदेश १२:४८, ८ जून २००९ (UTC)

अकबर[संपादित करें]

उपरोक्त लेख को आलेख के लिए संपादन करते हुए, लगा कि अच्छा विस्तृत लेख है। इसे आलेख के बाद निर्वाचित भी किया जा सकता है। इसलिए प्रस्ताव दिया है। चाहो तो समर्थन कर सकते हो (टिप्पणी वैकल्पिक है)। सुधार कर दिए हैं। शेष कोई अंश बढ़ सके, या नया उपशीर्षक जुड़े तो बेहतर होगा। देख लेना।--आशीष भटनागरसंदेश १२:४९, ८ जून २००९ (UTC)

Ok[संपादित करें]

Ok! Rohitrrrrr --Xandi २०:२१, १० जून २००९ (UTC)

कर्ण[संपादित करें]

यह लेख अच्छी लंबाई क है। शायद जानकारी भी सभी क्षेत्रों की होगी। इसमें सन्दर्भों की कमी है। साथ ही बहरी सूत्र अंग्रेज़ी से व गूगल;ल पर सर्च कर कुछ हिन्दी के लगाए जा सकते हैं।--आशीष भटनागरसंदेश ०५:४३, १२ जून २००९ (UTC)

सदस्य वार्ता[संपादित करें]

नमस्ते रोहित, आप जो सदस्य वार्ता पन्ने बना रहे हैं, उस पर साँचे के बाद नीचे अपना हस्ताक्षर ज़रूर करें वर्ना सदस्य को पता नहीं चलेगा कि यह संदेश किसने लिखा है और वह ज़रूरत पड़ने पर किसको संपर्क करे। आपके हस्ताक्षर पाकर वह आपसे संपर्क कर सकेगा।--पूर्णिमा वर्मन ०६:१४, १३ जून २००९ (UTC)

साँचे के बाद एंटर दबाकर अगली पंक्ति में कर दें। पन्ने पर वह साँचे के बाद अगली पंक्ति में दिखाई देगा। हस्ताक्षर के टिल्ड डालने के लिए एक बटन है, वह आप जानते ही होंगे। --पूर्णिमा वर्मन १८:१६, १३ जून २००९ (UTC)

Translation request[संपादित करें]

Please, could you translate the following article?

Joseph Smith, Jr. (December 23, 1805 – June 27, 1844) was the founder of the Latter Day Saint movement, also known as Mormonism, and an important religious and political figure during the 1830s and 1840s. In 1827, Smith began to gather a religious following after announcing that an angel had shown him a set of golden plates describing a visit of Jesus to the indigenous peoples of the Americas. In 1830, Smith published what he said was a translation of these plates as the Book of Mormon, and the same year he organized the Church of Christ.

Thanks for your help.

Chabi

वार्ता पन्नों का महत्व और औचित्य[संपादित करें]

मैं मानता हूँ कि किसी लेख को उत्तम बनाने के लिये योगकर्ताओं का आपस में संवाद बहुत महत्वपूर्ण है। किन्तु यह वार्ता 'सार्थक' होनी चाहिये, न कि 'यांत्रिक'।

उपरोक्त के सन्दर्भ में मेरा सुझाव है कि सभी वार्ता पन्नों में पूर्व-निर्धारित 'यांत्रिक' सामग्री भरने की नीति पर पुनर्विचार करना चाहिये। विकि में अनुपयोगी सामग्री की अधिकता के कुछ नुकसान भी हैं। यदि उपयोगी सामग्री की तुलना में अनुपयोगी सामग्री बहुत अधिक होगी तो यह हानि अधिक होगी।

अनुनाद सिंह ०३:४३, १८ जून २००९ (UTC)

प्रबंधक पद[संपादित करें]

रोहित जी! आपने प्रबंधक पद के लिए आवेदन किया है, बहुत अच्छा, किंतु उस सन्दर्भ में चौपाल वाला संदेश कृपया पढें। साथ ही यह भी कि:

१. आपने यह तो बताया, कि आप क्या करेंगे, किंतु यह भी बताएं, कि आपने क्या किया है।
२. कुछ अच्छे (संपादन/साहित्य/ज्ञान/लंबाई) की दृष्टि से उलेखनीय लेख बनाए हों तो उल्लेख करें। या बना कर उस प्रस्ताव के संदेश का अद्यतन करें।
३. सब्र तो आपको करना ही होगा। और ये सब्र कुछ महीनों से खिंचकर साल भर का भी हो सकता है। इस दुविधा के दौर से मैं भी निकला हूं। किंतु अपने गुरु में श्रद्धा, विश्वास और पर्याप्त सब्र ही थे, जिन्होंने मुझे पार लगाया।

आशा है, कि आप इसे अन्यथा ना लेंगे, ना हमारे अच्छे संबंधों में अंतर आएगा। आपने बार्न स्टार भी पाया है, वो भी इन गुणों के चलते ही पाया था। --आशीष भटनागरसंदेश १०:५८, १८ जून २००९ (UTC)

आपको मैंने पहले भी लिखा था, कि आप इसे अन्यथा ना लें। किंतु शायद आपको बुरा लगा।
१.आपसे मैंने कहा था, कि आपने क्या किया इसका उल्लेख करें, जिसका कारण यह था, कि हरेक प्रबंधक को हर समय याद नहीं रहता है, कि अमुक सदस्य के क्या योगदान हैं। जो लेख सूची आपने मुझे उपलब्ध कराई है, उसे बेहतर होता, कि आप प्रबंधक निवेदन के नीचे संक्षिप्त रूप में लगाएं। उसमें वे ही लेख लिखें, जिन्हें आप समझते हों, कि खास उल्लेखनीय हैं। शेष सूची चाहें तो अपने सदस्य पृष्ठ पर लगाएं, जिसका लिंक वहां दे दें। बहुत बड़ी सूची प्रबंधक निवेदन में देने से कोई नहीं पढ़ेगा। ये काम आपको पहले ही करना चाहिए था।
२. इस संदेश का यह तातपर्य नहीं था, कि आपने कुछ काम नहीं किया, वरन यह कि आपने उसका उल्लेख नहीं किया। कार्य करने के साथ साथ उसको प्रस्तुत करना भी सही होना चाहिए।
३. और कोई सदस्य या प्रबंधक क्या करते हैं, इसका उल्लेख ना करते तो बेहतर होता, क्योंकि ये उल्लेख आपकी छवि को गिराएगा ही।
४. आपने किसी भी कारण से वार्ता पृष्ठ बढ़ाए हों, किंतु उस खास कारण का उल्लेख तो करना चाहिए था ना, कि मैंने ढेरों वार्ता शीर्षक लगाए हैं, जिसका परिणाम हिन्दी की बढ़ी हुई गहराई में दिखाई देता है।
५. आपको मेरी बात का बुरा लगा हो तो क्षमा, किंतु आपको याद होगा, कि मैंने ही आपके योगदानों की सराहना के लिए बहुत पहले ही आपको बार्न स्टार दिया था, जिसके लिए कुछ लोगों से मेरी बहस भी हुई, उन्हें बुरा भी लगा, कि इतनी उतावली क्यों दिखाई। किंतु मैं जस्टीफाइड था, इसलिए दिया। साथ ही समय समय पर आपसे सहयोग भी मांगा। इसलिए यह कदापि भी मन में ना लाएं, कि मैंने ये संदेश आपको किसी अन्य भावना से दिए हैं। बल्कि इसलिए, कि आपका निवेदन बेकार ना जाए।
६. आपको निवेदन करने से पूर्व किसी प्रबंधक को विश्वास में लेकर कुछ चर्चा करनी चाहिए थी, इस विषय में, कि क्या अब सही रहेगा निवेदन करना, क्या कमियां हैं, जो कि मेरे निवेदन समर्थन को रोक सकती हैं। क्या और काम मैं करूं, जो इस निवेदन का समर्थन देने में प्रबंधकों को बाध्य करे, या कम से कम उत्साहित करे।
७. आप इसे निजि प्रशंसा ना समझें, किंतु मैंने भी १६०० मेल एक्स्प्रेस के लेख बनाए हैं, जिनके साथ अन्य गाड़ियों व रेल संबंधी सभी को मिलाकर लगभग २००० लेख हो गए हैं, जिनमें कई बार संपादन भी किए हैं। इससे लेख संख्या भी बढ़ी, जो कि वार्ता से नहीं बढ़ती है, इससे गहरायी में योगदान हुआ, जो वार्ता से भी होता है, इससे ज्ञान-संबंधी मात्रा मॆं वर्धन हुआ, जो वार्ता में नहीं होता। इस प्रकार यह कहना गलत ना होगा, कि यदि इसकी अपेक्षा आप किसी देश जैसे चीन के सभी शहर/प्रांत, कस्बों इत्यादि के लेख बनाते, तो उनके लिए सांचे भी बनते, जो कि एक संकलित/कंपाइल्ड रूप में ज्ञानवर्धक मात्रा होती, जिसे आप लेख संख्या मॆं भी उल्लेख करते, साथ ही प्रबंधक निवेदन में भी कर सकते, जो एक मजबूत बिंदु होता। या कोई भी अन्य विषय होता जो लेख संख्या बढ़ाने के साथ साथ ही ज्ञान वस्तु में भी बढ़ोत्तरी करता। उन लेखों के वार्ता पृष्ठ बनाते रहते, तो आपकी संपादन संख्या दुगुनी होती, व किसी का ध्यान भी इस ओर ना जाता, कि हाल के परिवर्तन बस वार्ता पृष्ठों से भरे रहते हैं।
८. और जो आप प्रबंधकों के संबध में समझ रहे हैं, उसके लिए ये कहना चाहूंगा, कि मुंशी प्रेमचंद जी की पंच-परमेश्वर पढ़ें, या पढ़ी हो तो सन्दर्भ लें। जब आप यहां बैठेंगे तो कुछ और ही सोचना होता है। निष्पक्ष होकर। मैं भी उस दौर से निकला हूं, जिससे आप आज निकल रहे हैं। मैंने रंगों की सूची, विश्व के देश, अंतर्राष्ट्रीय इकाई प्रणाली, और बहुत से अन्य लेख बनाए थे। ताजमहल के लिए तो बहुत बाद तक मैं समझता रहा, कि इतनी मेहनत की है, तब क्यों ये निर्वाचित नहीं हो रहा है। आज जब स्वयं इस बात का निर्णय लेने की सामर्थ्य है, तब समझ में आता है, कि उसमें क्या कमियां हैं। पहले लगता था, कि आलेख के लिए मेरे लेख क्यों नहीं जा पाते, अब कूछ समाझ आया, तो उनकी गुणवता स्तर को उठाया। वर्ना आलेख का काम मिलते ही मैं वहां अपने ही लेख भर देता, तो क्या लगता। मैंने भी प्रबंधक पद के लिए बहुत बार सोचा, कुछ बार पूर्णिमा जी से कहा भी। तब उन्होंने यही कहा कि चाहो तो निवेदन कर दो, किंतु समर्थन नहीं मिल पाएगा। पहले पर्याप्त मैटर व कारण जुटा लो, तब करना उचित होगा। उन्होंने समय समय पर मुझे इतने निर्देश दिए, कि कोई क्या देगा। ऐसे ही थोड़ी गुरु व मार्गदर्शन का बार्न स्टार दिया है। हां मैंने भी कितनी ही डांट खाई हैं उनसे, शायद उन्हें याद हो। खैर, तब जाकर प्रबंधक बना हूं। ऐसे भी लोग हैं, जिन्हें शायद प्रबंधकगणों की कमी का लाभ मिला, व बने हों। किंतु ये सोचना मेरा काम नहीं है। हां आज पूर्णिमा जी को कुछ नाराजगी होगी मुझसे, किसी भी कारण, तो वो तो दूर हो ही जाएगी। किंतु ये छोटी मोटी बारिश हैं, जो कि उस प्रलय की वर्षा का मुकाबला नहीं कर सकती है, जिसके बाद नयी सृष्टि का निर्माण हुआ।
खैर ये सब छोड़ें, और बुरा लगा हो, तो मुझे क्षमा करें। शायद मैं भी अन्य लोगों की तरह शांत रहता, तो बेहतर होता। किंतु मुझे लगा कि किसी को अपेक्षाएं हैं तो उसे उत्तर अवश्य देना चाहिए। आपने राजीव जी का व.प्र.निवेदन देखा होगा, जिसे पर्याप्त समर्थन मिलने के बावजूद भी पद नहीं मिला है। यही अवस्था है, जिसकी ओर मैंने चौपाल के संदेश में बताया है। शेष आपकी किस्मत बची, जिसके बारे में यही कहूंगा, कि मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, ये वो है जो किस्मत को भी बदल देती है।

--आशीष भटनागरसंदेश ०३:१५, १९ जून २००९ (UTC)

Dear Rohit[संपादित करें]

Happy to have a talk in wiki..

I am already editing in mlwiki for last three years.. I usually come here for checking interwikis and so.. I found difficulty in writing in hindi in hiwiki. We have buil-in tool for tying in malayalam in our all wiki projects. The code for the same (javascript) is available in the common.js of our wiki. If you have any experienced javascript programmer in hindiwiki, you may import that script, so that users like myself can contribute more in hiwiki and its sister projects.

With regards Vssun@mlwiki.. contact me at ml:user_talk:vssun

वीर सावरकर[संपादित करें]

यदि समय मिले, तो कृपया ये दो चित्र अपलोड कर मुझे बताएं। असल में ये चित्र वीर सावरकर लेख के लिए चाहिए। मेरा कनेक्शन बहुत धीमा है आज। सधन्यवाद।--आशीष भटनागरसंदेश १७:१४, २० जून २००९ (UTC)

चित्र अपलोड का बहुत ही धन्यवाद, किंतु मैंणे जो चित्रों के नाम लिखे थे,व ेआ म्ग्रेज़ी विकिके सावरकर के लेख वाले थे। क्षमा करें, मैं बताना भूल गया था। ये चित्र शायद मुक्त नाहों, इसलिए निर्वाचन के लिए दिए लेख में लगाना उपयुक्त ना होगा। यदि हैं, तो मृपया बताएं, वर्ना, या मुक्त होने पर भी अंग्रेज़ी के लेख से सावरकर का डाकटिकट वाला, व दूसरा वो चित्र जो हिन्दी लेख में नहीं है, कृपया उसे लोड कर दें। अग्रिम धन्यवाद।--आशीष भटनागरसंदेश ०६:३८, २१ जून २००९ (UTC)
सन्दर्भ