सदस्य वार्ता:आशीष भटनागर/पुरालेख02

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रिय आशीष भटनागर/पुरालेख02, हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है!

निर्वाचित सूची उम्मीदवार का सिम्बल

विकिपीडिया एक मुक्त ज्ञानकोष है जो विश्वभर के योगदानकर्ताओं द्वारा लिखा जा रहा है।
कुछ भी लिखने से पहले कृपया सहायता के निम्नांकित पृष्ठों को ध्यान से पढ़ें:

किसी भी वार्ता/संवाद पृष्ठ, चौपाल या अन्य कहीं भी जहां सदस्यों के मध्य वार्ता होती है, पर अपना सन्देश छोड़ने के बाद अपना हस्ताक्षर अवश्य छोड़े। इसके लिए अपने सन्देश की समाप्ति पर --~~~~ लिख दें।

हम आशा करते है कि आपको विकिपीडिया से जुड़ने में आनन्द आएगा।

--राजीवमास १६:०५, ७ दिसम्बर २००७ (UTC)


मेरी वार्ता का कुछ अवाँछित भाग काट कर यहाँ दिया है । यदि कोई चाहे तो वह वहाँ मिल जाएगा ।

प्रबन्धक सूचना पट[संपादित करें]

विकिपीडिया:प्रबंधक सूचनापट

दिल्ली[संपादित करें]

नमस्ते आशीष, दिल्ली पर किया जाने वाला आपका काम प्रशंसनीय है। अगर आप इस लेख को अंग्रेज़ी लेख से बेहतर बना सकें तो इसको निर्वाचित लेख घोषित किया जा सकता है। --पूर्णिमा वर्मन ०६:५६, २० दिसम्बर २००७ (UTC)

धन्यवाद पूर्णिमा जी ! आप लोगों की शुभकामनाओं से शायद यह निर्वाचन भी मिल जाए|

आशीष भटनागर ०८:३७, २७ दिसम्बर २००७ (UTC)आशीष भटनागर


आशीष,

जैसा कि पूर्णिमा जी ने कहा आपका दिल्ली पर किया गया काम बहुत प्रशंसनीय है । मैं ने आपके संपादन में कुछ बाते देखीं तो लगा कि मुझे आपको कुछ बताना चाहिए - शायद आपके लिए मददगार साबित हों । पहली बात ये कि आप ड़ की जगह प्रयोग करते हैं । इसका कारण शायद ड़ के अस्तित्व की अनभिज्ञता हो सकती है । मै बता दूँ कि ड़ और नुक्ता(़) से बनता है । यूनिस्क्रिप्ट कीबोर्ड में [ के स्थान पर आता है और नुक्ता ] के स्य़ान पर । इन दोनो को क्रमशः दबाने से ड़ बन जाता है । इसके आप पूर्ण विराम की ज़गह पाईप का प्रयोग करते हैं - | । पूर्ण विराम डॉट(.) की ज़गह आता है ।

आशा है इससे आपको और अंततः हिन्दी विकि को लाभ होगा । और नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाए भी !

--अमित प्रभाकर ०१:०९, १ जनवरी २००८ (UTC)


अमित प्रभाकर जी,पहले तो आपकी शुभकामनाओं का बहुत बहुत धन्यवाद साथ ही आपको भी नव वर्ष की शुभकामनाएँ आपकी प्रशंसा मेरे कार्य में और निखार लाए, ऐसा आशीष और साथ ही सुझाव व सलाहें, जैसी कि आपने मुझे ऊपर दी है, मेरा पारितोषिक होंगी। हां , एक बात पूछना चाहता हूँ, कि जो कुछ आपने ड व ङ के विषय में बताया है, वह क्या आप फोनेटिक की-बोर्ड के सन्दर्भ में बता सकेंगे। वैसे शायद `ड' व `ङ' का फर्क तो मुझे पता चल ही गया है।, परन्तु बिन्दु (अँग्रेजी के फुलस्टॉप जैसी कहाँ पर मिलेगी? यह नहीँ पता। और । व |(पाइप) ।(z) में क्या अन्तर, यह पूछना चाहुँगा।

आशीष भटनागर ०४:३५, १ जनवरी २००८ (UTC)आशीष भटनागर

गह मन्त्रालय[संपादित करें]

आशीषजी, आपके लेख गह मन्त्रालय में थोडी गलती है । यदि यह गह की बजाए गृह हो तो अधिक सही होगा, इसके अलावा एक सुझाव है यह् हिन्दी विश्कोश है यहां भविष्य में और भी देशों के सम्बन्धित मंत्रालयों का उल्लेख हो सकता है, आप मंत्रालय के नाम के बाद यदि देश का नाम भी जोडे तो अधिक सही होगा । जैसे गृह मंत्रालय, भारत या भारत सरकार धन्यवाद--राजीवमास ०७:०८, १ जनवरी २००८ (UTC)

राजीव जी , आपके सुझाव का धन्यवाद। शायद भूल से रह गया होगा `ऋ' टंकित होना । अब ठीक कर दिया गया है । देखें: गृह मन्त्रालय , भारत सरकार । भविष्य में भी ऐसे व अन्य सुधार , सुझाव, आदि सहर्ष आमन्त्रित हैं। --आशीष भटनागर ०७:२२, १ जनवरी २००८ (UTC)आशीष भटनागर
सुधार के लिए आशीष । एक थोडा सा सुधार और बाकी है मन्त्रालय को मंत्रालय लिखे यह अधिकारिक शब्द है । मैने अपने पहले संवाद में उसे लिखा था । गृह मंत्रालय, भारत सरकार की साइट देखें--राजीवमास ०७:५०, १ जनवरी २००८ (UTC)
मैंने अब मन्त्रालय को भी मंत्रालय कर दिया है ।--आशीष भटनागर १५:०९, २ जनवरी २००८ (UTC)

कौङिया पुल[संपादित करें]

बहुत-बहुत आशीष । हम ये पद्धति इसी प्रकार के लेखो मे अपनाएगें । लेकिन एक सुझाव हैं एसे लेख जो अपना अलग और एकल महत्व रखते हैं उनमे इस पद्धति की आवशकता नही हैं । उदाहरण के लिए कौड़िया पुल को इतना ही लिखे उसे लम्बा कौङिया पुल , चाँदनी चौक , दिल्ली‎ लिखने की आवश्यता नही । कौड़िया पुल संसार मे एक ही है । आप क्या समझते हैं, धन्यवाद --राजीवमास ०५:५४, ३ जनवरी २००८ (UTC)

राजीवमास जी, असल में, कौङिया पुल को कौङिया पुल , चाँदनी चौक , दिल्ली‎लिखने के कई कारण हैं।
  • कौङिया पुल के शीर्षक से उसकी स्थिति का अंदाजा
  • इस नाम का कोई दूसरा पुल कम से कम भारत के महाद्वीप में हो सकता है,सम्भव है कौङिया पुल के बरे में ना सही पर और किसी शीर्षक के मामले में लम्बे नाम का प्रयोग करने से हम इस disambiguation की स्थिति से बच सकते है।
  • हाँ यदि हम छोटा नाम प्रयोग होने देने का एक विकल्प भी चाहते हैं, तो एक और पन्न इस शीर्षक से बना कर #REDIRECT कर सकते हैं।
  • यह एवं इसके साथ बनाए अन्य चाँदनी चौक के पन्ने कुछ प्रसिद्ध भी हैं, पर इतने भी नहीं,तो पूरा नाम उनकी स्थिति का ज्ञान करा देगा, जिसके बरे में यदि पूरा ब्यौरा चाहिये तो वहाँ जा सकते हैं।
आशा है, मैने जो कहा वह आपको सही लगा होगा, अन्यथा, मैं छोटा नाम भी प्रयोग कर लूँगा, यदि वही सही है। आप लोग अनुभवी हैं, सही ज्ञान ही देंगे। --आशीष भटनागर ०९:२४, ४ जनवरी २००८ (UTC)

चित्रगुप्त[संपादित करें]

अशीष जी, चित्रगुप्त के नाम से एक पृष्ठ पहले ही है। कुछ लिखना चाहें तो उस पर लिख सकते हैं। शायद आप कायस्थ पृष्ठ पर भी कुछ लिखना पसंद करें। चार्ट को हिंदी में बना सकते हैं और हरिवंशराय बच्चन की किताब "क्या भूलूँ क्या याद करूँ" में कायस्थों की उत्पत्ति के विषय में विवरण है, साथ ही डॉ पुष्पा जौहरी और डॉ भगवती स्वरूप जौहरी की किताब "कायस्थ समाज: एक अन्वेषण" में कायस्थों के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है। अगर ये किताबें आपके पास हैं तो इस विषय में महत्वपूर्ण जानकारी यहाँ दे सकते हैं। --पूर्णिमा वर्मन १२:२८, ३ जनवरी २००८ (UTC)
सुझाव हेतु धन्यवाद ! मैंने चित्रगुप्त जी पर लिखा लेख पहले नहीं देख था, जिससे यह भूल हुई। पर अब मैं उसे हटा देता हूँ। आपके कायस्थओं पर पाठ्य सामग्री के ज्ञान से लगता हैकि आप स्वयँ भी वही हैं, शायद आपका नाम भी सुझाता है। पर मैँ हटा देता हूँ।--आशीष भटनागर ०९:३२, ४ जनवरी २००८ (UTC)

साँचे[संपादित करें]

आप जो साँचे बना रहे हैं कृपया उनका नाम हिन्दी मे रखिये--सुमित सिन्हावार्ता ०९:२६, १२ जनवरी २००८ (UTC)
सुझाव हेतु धन्यवाद । मैं असल में कोई दूसरा बङा लेख बना रहा हूँ, एवं उस लेख हेतु कई सांचे बना पङे, जो कि अंग्रेजी विकि से लिए गए हैं। तो उनमें फिर अनेकों सांचे बनाने पङे हैं। इस कारण मैं सांचों के अनुवाद में समय नहीम दे पाया, जिससे विश्व के देश लेख उत्कृष्ट बन पाए। इस लेख में संवाद में मैंने लिख भी है कि यह निर्माणाधीन है, एवं कोई भी चाहे तो उसका अनुवाद कर सकता है, स्वादगत है, अनुवादकों का। उस ही प्रकार इन सब सांचों में भी अनुवादकों का स्वागत है। वैसे यह लेख पूर्ण होने पर फिर मैं इन सांचों पर भी अनुवाद हेतु प्रयास करूँगा, ऐसी योजना है।--आशीष भटनागर ०९:३५, १२ जनवरी २००८ (UTC)

==शुभ होली==[संपादित करें]

शुभ होली[संपादित करें]

A Holi Festival - Krishna Radha and Gopis.jpg
नूतन वर्षाभिनन्दन!
Have a very happy Holi! --# आशीष भटनागरवार्ता

देवनागरी[संपादित करें]

देवनागरी सहायता हेतु यहाँ क्लिक करें ।

आधार के [संपादित करें]

आधार के पर जाने हेतु [1] क्लिक करें ।

सॉचों का सही प्रयोग[संपादित करें]

मित्रवर,

It's probably not required to create these pages like साँचा:देश आँकड़े Belize because they are unnecessary and we should directly use the correct template साँचा:देश आँकड़े बेलीज

धन्यवाद सदस्य:मनीष वशिष्ठ

नमस्कार मनीष जी,
आपने एकदम सही कहा है, मैं यह स्वयं भी मानता हूँ । परंतु इस कार्य के दो कारण हैं:
    • कई लेख जो कि अँग्रेजी़ से नकल करके हिंदी विकि में डाले गए, एवं फिर उनका अनुवाद किया गया, तो यदि हम उन्हें पहली बार में देखें, तो यदि साँचा अँग्रेजी नाम में न बना हो तो पता नहीं चलता, अतएव साँचा पहले लाल अज्ञात कडी़ को क्लिक करके बना ली गई। बाद में उसका अनुवाद करके हिंदी रूपांतर किया गया । इससे अँग्रेजी एवं हिंदी दोनों ही रूप सुरक्षित रह गए ।
    • विश्व के देश, के कई सारे समर्थक/सहायक लेखों में यदि हम अँग्रेजी से सामग्री लें, तो वह अँग्रेजी़ के नाम ही माँगती है, उदाहरणतः द्वि एवं त्रि-अक्षरी देश कूट (कोड) । जिन्हें हिंदी में नहीं लिखा जा सकता है । अतएव अँग्रेजी़ का साँचा बना कर उसे हिंदी साँचे को पुनर्निर्देशित करने पर कार्य सिद्ध हो जाता है ।
इन कारणो से अँग्रेजी़ के साँचे भी बनाने पडे़ । हाँ यह अवश्य है, कि कुछ साँचे अँग्रेजी़ में ही बने हैं, जिन्हें कि रद्द करना है, परंतु मेरे पास उतने अधिकार नहीं हैं । यदि कोई साँचा प्रयोग हेतु बनाया गया हो, एवं दूसरे लेख पर जाँच करना हो तो उसे सुरक्षित (सेव) करना ही पडे़गा, पर बाद में उसे रद्द कैसे करें, कृप्या बताएं ।

--# आशीष भटनागर ०२:४७, २२ फरवरी २००८ (UTC)

भटनागरजी जो साँचे आपने पहले बनाए है आपसे निवेदन है कि आप पहले उनको क्रियान्वित करें । आपके बनाए साँचे अगर सही से काम करे तो हिन्दी विकिपीडिया पर क्रान्ति का माहोल बन जाएगा । हम भी मिल कर सही करेंगे, आप अपने इस कार्य मे अपने अन्य मित्रो की सहायता भी ले सकते है -- राजीवमास ११:०६, २९ फरवरी २००८ (UTC)
नमस्कार राजीव जी, आपकी टिप्पणी पढ़ कर अतीव प्रसन्नता हुई । परंतु पहले बनाए साँचों का क्रियान्वयन करने से आपका अभिप्राय समझ नहीं आया । मेरे ज्ञानानुसार वे सही कार्य कर रहे हैं, फिर भी मेरी अनभिज्ञता से कोई साँचा छूट भी सकता है, तो कृप्या बताएं, एक-दो तो बताएं, जिससे कि मैं उस दिशा में कार्य कर पाऊँ । सधन्यवाद :--# आशीष भटनागर ११:१३, २९ फरवरी २००८ (UTC)

terrorist activities by Vkvora2001[संपादित करें]

रजनिश जी नम्स्कार मै रवि च्हन्द जैन ईंदोर मे एक शिक्षक हु, मैने Vkvora2001 का दो स्थनो पर विरोध किया लेकिन मेरे लिखे को कोऐ मिटा रहा है । आप स्वंम देखे और निरण्य ले । वो लिखता है “ ईस मंदीर के नाश या सत्यानाश के लीये मुहम्मद गजनवी को अफघानीस्तान से आमंत्रीत करता हुं।“ एव समस्त मानवजात का कलंक स्मारक है और भी ना जाने उसके क्या क्या लिखा गुवा है आपसे निवेद्नन है कि इस पर इच्हिक कार्वाही करे । अन्यथा ऐसे लेखक यहा भी ओछी राजनिकि श्रुरू कर् देगें । आप से निवेदन है कि आप मुखे विकिपिडिया के संच्हालको का पता दे ताकि मै यह बात उन तक पहुंच्हाऊ --Dr. Jain ०३:१२, १ मार्च २००८ (UTC)

धन्यवाद आशीष जी मै उच्हित कार्वाही के किए आपको धन्वाद देता हू । जब राजीव्मास जी द्वारा धयान लाई गैइ इस पक्ति को देखा मै सही से सो नही पाया था । मे धर्म से बडा देश को समझ्ता हू । मुखे भारत्वासी होने का गर्व है । मै Vkvora2001 जैसे जयच्हन्द को इसकी गलती के किए क्षमा मंगवाना च्हाहता था । आपने मेरे पक्ष को सही से जाना और इसि की भाशा मे इन्की अक्ल मे बात लाई । आपकी सहायता से ये हुवा । मै आपका तथा अमित जी का और राजीव्मास जी का ध्न्यावाद देता हू --Dr. Jain ०९:०७, १ मार्च २००८ (UTC)

मेरा टोक पेज देखें, मैने पुरा पेराग्राफ नीकाल दीया है[संपादित करें]

मेरा टोक पेज देखें, मैने पुरा पेराग्राफ नीकाल दीया है ।Vkvora2001 ०७:४६, १ मार्च २००८ (UTC)
यदि आपको कुछ बुरा लगा हो तो मैं, क्षमाप्रार्थी हूँ, परंतु मुझे नहीं लगता है कि मैंने ऐसा कुछ कहा कि मुझे क्षमा माँगनी पडे़ । केवल यही उद्देश्य है कि सबके विचारों का उचित सम्मन हो, व सब मर्यादा में ही रहें, इससे ही यह सब सम्भव है। --# आशीष भटनागर १०:४२, ४ मार्च २००८ (UTC)
मैं आशीष भटनागर जी से सहमत हूँ । Vkvora2001 को ऐसी हि धिक्षा मिलनी चाहिए थी --Dr. Jain १५:२३, ४ मार्च २००८ (UTC)

चित्र:Laxmibai nagar gol chakkar.JPG[संपादित करें]

प्रिय आशीष जी कैसे है ? आपका डला चित्र देख पुरानी याद ताजा हो गई (मै भी यही रह्ता था ३८९/टाइप ४ नम्बर मकान में संजय लेक के सामने) । कुछ सुझाव हैं, इस चित्र के बारे में

  1. इस चित्र मे साफ् नही दिखता इसकी गुणवत्ता सही नही है , शायद आपके केमरा का मेगापिल्सल कम है दूसरा चित्र में डेट दिखाई देती है जो चित्र की महत्व्ता को कम करती है ।
  2. मेरी जानकारी में इस छेत्र का कोई भी एतिहासिक या सामरिक महत्व नही है ।
  3. पहले उन्न्त लेख का निर्माण करे तदुपरान्त आवश्यकता के अनुसार उसमें चित्र डालें ।
  4. चित्र का कोपी राइट का भी ध्यान रखे ।
  5. चित्रो के बारे में विकिपीडिया का बन्धु प्रकल्प कॉमंस पर विचार करे ।

आशा है आप उपरोक्त बातो पर ध्यान देंगे --राजीवमास ०९:३६, ८ मार्च २००८ (UTC)

श्री राजीव जी, आपने इतनी जल्दी ही मेरा अपलोड किया चित्र देखा एवं प्रक्रिया भी व्यक्त की, अतीव प्रसन्नता हुई । परंतु मेरे पास ५-६ चित्र हैं वहाँ के, जो कि अभी अपलोड हो रहे हैं। साथ ही मैंने अंग्रेजी़ में जो लक्ष्मी बाई नगर का लेख बनाया था, उसे हिंदी में अनुवाद कर के ये चित्र उस पर डालने का विचार है । जल्द ही जब अन्य बेहतर चित्र उपलब्ध होंगे, इन्हें गैलरी(दीर्घा) में रिप्लेस कर दूँगा । आशा है, लेख में कुछ निम्न स्तर का ही सही परंतु चित्र होने से प्रभाव बढ़ जाता है । और बेहतर विकल्प होने पर बदला भी जा सकता है । आशा है आप इस बात से सहमत होंगे ।--# आशीष भटनागर ०९:४३, ८ मार्च २००८ (UTC)

यु पी प्रवेशद्वार[संपादित करें]

आप ने बहुत अच्छा काम शुरु किया है। उत्तर प्रदेश के बारे में हिंदी विकिपीडिया में भी अच्छा लेख है। अतः, मैने प्रवेशद्वार के परिचय में हिंदी वाला लेख का प्रथम दो अनुच्छेद रख दिया है और अंग्रेजी़ के अनुच्छेद को हटा दिया है । धन्यवाद।--युकेश ०९:१९, १५ मार्च २००८ (UTC)

बहुत - बहुत धन्यवाद उत्साहवर्धन के लिए। मैं वैसे भी धीरे धीरे उसे हिंदी में अनुवाद करने वाला था । परंतु कोई और भी उसका अनुवाद करने वाला है, जानकर अतीव प्रसन्नता हुई । इस सहयोग हेतु भी बहुत धन्यवाद । आगे भी आपका सहयोग प्रार्थनीय है । --आशीष भटनागर ०८:००, १६ मार्च २००८ (UTC)
उत्तर


मेरी वार्ता में ऊपर मिले कुछ सन्देश सदस्य वार्ता :आशीष भटनागर#सदस्य वार्ता:124.124.36.4 मेरी ना तो समझ में ही आये, ना ही किसने भेजे हैं, पता चला, कि उससे पूछा जाए कि भई ! किससे और क्यों नाराज़ हो ? साथ ही एक और बात कहना चाहूँगा, कि दो काफी वरिष्ठ (जैसा कि मुझे लगा) सदस्यों पर जो आरोप बिना किसी सन्दर्भ के, या उस सन्दर्भ के साथ लगाए गए, जो सन्दर्भ मिला ही नहीं, यह मुझे सही नहीं लगता । बजाए इसके अच्छा होता कि उनसे सीधे ही पूछ लिया होता कि, क्या आपने ऐसा किया है? और हाँ तो क्यों ? तो बेहतर होता । मेरा सविनय निवेदन इन लोगों से यह है, कि ऐसे प्रकरण को दोहराना सही नहीं है, एवं कृप्या मेरी वार्ता को इस से बचाने में सहयोग दें । वैसे सभी सुधार, सुझाव आदि, यहाँ तक कि गलत कार्य के लिए शाँट भी सादर आमंत्रित है । --आशीष भटनागर ०९:३८, २० मार्च २००८ (UTC)

सपष्टीकरण[संपादित करें]

प्रिय आशीष, मेरे एक प्रतिबन्धित लेखक vkvora2001 की झुझलाहट यह, बस । अन्य वरिष्ठ लेखको ने इन्हे अपने लेख सुधारने के लिए कहा था जो शायद इन्हे बुरा लग गया था तदुपरान्त इनके लिखे तथाकथित आपत्तिजनक लेखो को मिटा दिया गया । और इनका प्रतिबन्धन प्रस्ताव सहमती के द्वारा मेरे ही हाथ से हुवा था । वास्तव मे ये ना जैन जी के पीछे है और नाही किसी अन्य किसी वरिष्ठ सद्स्य के , ये महान आत्मा केवल मेरे ही पीछे है कारण आपको पता ही है अब --राजीवमास १०:२५, २० मार्च २००८ (UTC)

नमस्कार राजीव जी ! मुझे तो समझ ही नहीं आया, कि कौन है, क्या कह रहा है, एवं क्यों ? परंतु अंदाजा़ यही लगाया था । चलिये कोई बात नहीं, ऐसे संदेशों अवज्ञा की जा सकती है ।--आशीष भटनागर १०:३०, २० मार्च २००८ (UTC)




धन्यवाद[संपादित करें]

धन्यवाद आशीष जी,

मेरे काफी सारे पेज एक database की मदद से बनाये गए हैं। पर फिर भी यह अधूरे हैं। मेरा भरसक प्रयास करूँगा कि सही जगह पर और सही तरह से अपना योगदान दे पाऊँ, पर हिन्दी विकिपीडिया को आप जैसे सदस्य भी चाहिये जो कि सक्रिय होकर योगदान देते रहें। आअप अपने मित्रों को भी सदस्य बनने के लिये आमंत्रित करें।

--सदस्य:मनीष वशिष्ठ


हिन्दी रुपानतर जरुरी है[संपादित करें]

Wikipedia improves not only through the hard work of more dedicated members but also through the often anonymous contributions of many curious newcomers. All of us were newcomers once, even those careful or lucky enough to have avoided common mistakes, and many of us consider ourselves newcomers even after months (or years) of contributing.

New contributors are prospective "members" and are therefore our most valuable resource. We must treat newcomers with kindness and patience — nothing scares potentially valuable contributors away faster than hostility. While many newcomers hit the ground running, some lack knowledge about the way we do things.

“ For every action, there is an equal and opposite criticism. ” — Steven Wright |- |}



भारतीय/मलयालम चलचित्र[संपादित करें]

प्रतिकृया तथा अनुरोध के लिए धन्यवाद। कृपया वार्ता:मलयालम फिल्मों की सूची : 1990s देखे। मे अपने तरफ से जो हो सकता है वह करुँगा। धन्यवाद।--युकेश १०:५५, २५ मार्च २००८ (UTC)