सदस्य:Vaibhavi Nagendra/प्रयोगपृष्ठ/2

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
 सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; बिना नाम के संदर्भों में जानकारी देना आवश्यक है।

परिचय[संपादित करें]

           रसायन विज्ञान में, गुण घुलाव के गुण होते हैं जो घुलाव में घुलाणु अणुओं की संख्या में विलायक अणु की संख्या के अनुपात पर निर्भर करते हैं, और मौजूद रासायनिक प्रजातियों की प्रकृति पर नहीं। [1] घुलाव की एकाग्रता के लिए संख्या अनुपात विभिन्न इकाइयों से संबंधित हो सकता है। यह धारणा है कि घुलाव गुण घुलानु कणों की प्रकृति से स्वतंत्र हैं, केवल आदर्श घुलावों के लिए सटीक हैं, और लग-भग तनु वास्तविक घुलावो के लिए अनुमानित है। दूसरे शब्दों में, कोलिगेटिव गुण घुलाव गुणों का एक समूह है जो यशोचित रूप से अनुमान लगाया जा सकता है कि घुलाव आदर्श है। यहां हम केवल गुणों पर विचार करते हैं, जो एक अस्थिर तरल विलायक में गैर-विलायटी घुलाणु के विघटन से उत्पन्न होते हैं। [2] वे अनिवार्य रूप से विलायक गुण होते हैं जो घुलणु की उपस्थिति से बदल जाते हैं। घुलाणु कण, द्रव चरण में कुछ विलायक अणुओं को विस्थापित करते हैं जो विलायक की एकाग्रता को कम करते हैं, ताकि कोलिगेटिव  गुण घुलाणु गुण की प्रकृति से स्वतंत्र हो। शब्द कोलिगेटिव, लैटिन शब्द कोलिगेटस से लिया गया है जिसका मतलब है एक साथ जुड़ा हुआ। 

[1]

कोलिगेटिव गुण

प्रकार[संपादित करें]

          कोलिगेटिव गुणों में शामिल हैं:                                                                                                                                           
          वाष्प दबाव का सापेक्ष कम
          उबलते बिंदु की ऊंचाई
          ठंड बिंदु का अवसाद
          परासरण दाब

निष्कर्ष[संपादित करें]

        अनुबंधित विशेषताएं का माप पतला उपाय में नान आयोनाइज्ड पदार्थ जैसे पानी में यूरिया और ग्लूकोज, कारण बन सकते हैं दाढ द्रव्यमान का  निर्धारण में| दोनों छोटे अणुओं और पालिमर के लिये जो अन्य तरीकों से अध्ययन नहीं किया जा सकता हैं| वैकल्पिक रूप से आयोनाइज्ड पदार्थ के लिये माप कारण बन सकते है ह्दबंदी की प्रतिशत निकालने मैं| शब्द कोलिगेटिव (लैटिन: सह, लीगर) सन् 18 9 0 में विल्हेम ऑस्टवाल्ड ने पेश किया था| ऑस्टवाल्ड ने तीन श्रेणियों में घुलणु गुण को वर्गीकृत किया: कोलिगेटिव गुण जो केवल घुलणु संकेंद्रण और तापमान पर निर्भर करते हैं, और घुलाणु कणों की प्रकृति से स्वतंत्र हैं| मिश्रित गुण जैसे कि द्रव्यमान, घुलाणु संयोजना पर भी निर्भर करते हैं, और संवैधानिक गुण घुलाणु के आणविक संरचना पर निर्भर करते हैं।[2]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. chemed.chem.purdue.edu/genchem/topicreview/bp/ch15/colligative.phpref
  2. chemed.chem.purdue.edu/genchem/topicreview/bp/ch15/colligative.php