सदस्य:SonikaK666/जीनपॉलसारटे-नौसिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


जीन पॉल सारटे २० वीन सादे के सबसे प्र भावाशाली दार्शनिक माने जाते है। येह इसिलिये है क्युन्कि उनके योग्दान बहुत महत्व का है। "La Nausée" या फिर "नौसिया" उनके पेहली लेखन है जो १९३८ मेइन प्रकाशित हुअ था। एक अस्तित्ववादी रूप मे वह खुद आदमी है, जो आज भी महान प्रासंगिकता का होना जारी है पर अस्तित्व का वमन्कारी प्रा भाव की पदताल।

फ्रान्सीसी लेखक सिमोन दे बेऔवोइर के अनुसार, सार्त्र के नौसिया एक उल्लेखानीय स्वतब्त्रत अनुदान छेतन और वास्तविकत अपनी भावन क पूरा वजन देत है।

यह अस्तित्ववाद क विहित कार्योन मे से एक के रोप मे मान जाता है। और सार्त्र से सम्मानित किय गया था १९६४ मे साहित के लिए नोबेल पुरस्कार भी दिया जा रहा था। परन्तु नोवेल फैन्देशन ने उन्होने अपाने काम है, जो वह अन्ततह मना कर दिया। नोवेल फौन्देशन ने उन्हेने अप्ने काम है, जो विछारोन मेइन अमीर और स्वतन्त्रत की भावन और सछ्छएए के लिए खोज के साथ भर है, हुमारी उम्र पर एक दूरागामी प्रभाव ऐक्षैर्तैद है के लिए। "मान्यत प्राप्त सार्त्र कुछ लोगोन को पुरस्कार गिरावत आएए है मेइन से एक था, एक बुर्जुअ सन्स्थ के महज एक समारोह के रूप मे इसे करने के लिए छर्छ करते हुए।

जेन पौल सर्त्रे

यह उपन्यास अस्तित्ववाद क विहित कार्योन मे से एक रूप मे मान जात है और सार्त्र से सम्मानित किय गय १९६४ मेइन्

उपन्यास के रूप में "एंटोनी Roquentin (रोक़ुएन्तिन) की डायरी" (जॉन लेहमैन, १९४९) और "मतली" (पेंगुइन बुक्स, १९६५) के रूप में रॉबर्ट बल्दिक् तक कम से कम दो बार अंग्रेजी में अनुवाद किया गया है, लॉयड अलेक्जेंडर ने भि अनुवाद किय है।

उपन्यास के कथानक बोउविल्लै (या फिर मित्ती तौन) एक शहर ले हावरे के समान है। और यह एक उदास इतिहासकार, जो विश्वास हो जाता है कि निर्जीव वस्तुओन और स्थितियोन मेइन खुद को परिभाशित करनए के लिए अपानी ख्सनत पर अतिक्रान के सवाल है। परन्तु आसपास केद्रित है अपने बौद्धिक और आध्यात्मित स्वतन्त्रत, नायक मेइन मतली की भवना ऐवोकिङ।

=प्रसग=

सार्त्र अस्तित्व, स्वतन्त्रत, जिम्मेदारी छेतन और समय की प्रक्रिति मेइन दिलछस्पी थे। सोरेन किऐर्कैगार्द, फ्रेदरिक नीत्स्छे और एदमन्द हुस्सैर्ल के काम से प्रभावित, सार्त्रे दार्शनिक आन्दोलन अस्तित्ववाद बुलाय विकसित करने के लिए मदद की। हालान्कि इस तरह के अल्बर्त कामू और मौरिस मरलेउ - तत्तू के रूप मे समकालीन दार्शनिकोन, इस वर्गीकरन विरोध दवे साब अनुभव वास्तवितकत और अस्तित्व के बारे मेइन आम प्रैऐमिनैछै विछारोन को साझ किया।

सार्त्र दिद्धान्त है कि के रूप मे परिभाशित किया अस्तित्ववाद "अस्तित्व सार पछ्हाद दिया है।" वह निर्जीव वस्तुओन के बीछ प्रतिशित है, य एक "ज रह है - मे ही है," और मानव छेतन य एक "किय जा रहा है।" उदाहरन के लिए, एक कम्प्यूतर मौस पर विछार करेन। इसका सार गुनवत्त य गुन कि ऐसे ही एक अपाने आकार, रङ, छिकनएए, और वजन के रूप मे, यह वरन करने के लिए प्रयोग होत है। इस्के बारे मेइन जागरूक किय ज रह द्वार अपने छरित्र को यह करने के ले सौमपया गया है।

सर्त्रे, बेऔवोइर अन्द क्रान्त्कारी छे गुएवर कुबा १९६० मे।

वर्न्

१: एन्तोनी रोक़ुऐन्तिन: उपन्यास क [[नायक]] है। वह एक पूर्व साहसी है जो तीन साल के लिए बोउविल्लै मेइन रहा है। एन्तोनी सम्पर्क मेइन परिवार से साथ नही रख करत है और कोएए दोस्त नही है। वह दिल मेइन एक कुन्वार है और अक्सर दुस्रे लोगोन की बातछीत को सुनने और उनके कार्योन की जाछ करने के लिए पसन्द करती है। उन्होन्ने कहन की १८ वीन सदी के राजीतिक हस्ती के कीवन पर अपने शोध को समाप्त करने बोउविल्लै की काल्पनिक फ्रेन्छ बन्दर्गाह शहर मेइन सुलझेगी। अपने शोध परियोजन, एक औतोदिदत्छ जो वर्नानुक्रम शथानीय पुस्तकालय मेइन सभी किताबेन पधने की कम्पनी, एक बौतिक: लेकिन १९३२ की सर्दियोन के लिए एक मि त बीमरी," के रूप मे वह मतली कोल के दौरान, तेजी से लगभग सब कुच्छ वह करत है य प्राप्त है पर इम्पिङैस एक कैफे मालिक के सात बातछीत और ब्याज की कमी के लक्शन दर्शाती है। फ्रन्छोइसै के साथ उनके सम्बन्ध ज्यादतर प्रक्रिति मेइन स्वछ्छ्ह है, दो शब्द शायद ही आदन प्रदान और जब आत्म सिखाय मैन दोपहर के भोजन के लिए उसे साथ देने के द्वार आमन्त्रित किय है, वह केवल इस बात से सह्मत है बाद मेइन अपनी दायरी मेइन लिखने के लिये। उन्होने कहान कि काम करने के लिए नहिन बर्दाश्त लेकिन अथारहवीन सदी के एक फ्रान्सीसी राजनीतिग्य के बारे नेइन एक किताब लिखने के अपने समय की एक बहुत खर्छ कर सकते है।

एन्तोनीए के खुद की अत्यधिक लगत नहि है जब वग मतली से पीदित शुरू होत है बह अन्न्य से बात करने की जरोर्रत मह्सूस कर्त है। लेकिन जब वह अन्त मेइन होत है यह उसकी हालत को कोएए फ्रक नहि पदत। वह अन्ततह लगत है कि वह भी मौजूद नहिन शुरू होत है।

२ मार्क्वुस दे रोक्कैबोन: हालान्कि उपन्यास से प्रति मे नही एक छरित्र है, वह रोक़ुऐन्तिन के शोध क विशय है। उन्होने कह कि एक रहस्यमय फ्रेन्छ रएएस के दौरान और फ्रन्सीसी क्रान्ति के बाद राजनीती मेइन हस्तक्शेप था। सबसे पहले रोक़ुऐन्तिन वह उसके बारे मे सभ् कुछ सीख सकते है सोछता है, लेकिन जल्द ही पत छलत है कि न केवल वे के बारे मेइन जो मार्जी वास्तव मे थ अनुमान लग है। परन्तु वह भी उसे उपयोग कर रह है अपने अस्तित्व क औछित्य साबित करने के लिए। रोल्लैबोन की रोक़ुऐन्तिन की अस्वीक्रिति इस प्रकार अतीत मेइन रहने की अस्वीक्रिति है।

३: अन्न्य् वह रोक़ुऐन्तिन के पुराने प्रेमी है और पेरिस मेइन रेह्ती है। हालान्कि वह भी जन्म देती है रोक़ुऐन्तिन उसे देखने के लिए आते है। वह आदमी वह हुअ करते थे मे अधिक रुछि है। वह मानते अतीत मेइन रहती है, उसी इतिहास की पुस्तकोन मेइन फिर से पधाने और उसके जीवन क "सही क्शनोन" को वापस बुलाने। उसने कह है कि वह पहले से ही पुरुशोन के लिए जो अपने अपार्मेन्त के लिए भुगतान के एक नम्बर की मालकिन है। क्युन्कि रोक़ुऐन्तिन के साथ उस्के रिश्ते को फिर से शुरू करने के लिए मन कर दिया था।


संदर्भ [1] [2]

[3]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Jean-Paul_Sartre
  2. http://www.iep.utm.edu/sartre-ex/
  3. http://www.biography.com/people/jean-paul-sartre-9472219