सदस्य:Shriya.gajurel/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गीता मंदिर[संपादित करें]

परिचय[संपादित करें]

गीता मंदिर उत्तर प्रदेश , भारत के राज्य में मथुरा जिले से पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गीता मंडिर मथुरा के मुख्य आकर्षण में से एक के रूप में प्रसिद्ध है और साल भर में भक्तों के साथ भीड़ बनी हुई है। यह मंडिर एक अपेक्षाकृत नई संरचना , उद्योग बिरला समूह है, जो भारत के औद्योगिक छेत्र में प्रमुख नामो में से एक है। इस मंदिर की दीवारों पर हिन्दू इंजील 'श्रीमद भगवद गीता' का पाठ खुद है। इस मंदिर के मुख्य कक्ष में भगवान कृष्ण की एक सुन्दर मूर्ति है। भक्तो को भी इस मंदिर में , जो सप्ताह के सभी दिन खुला रहता है वहां - देवी लष्मी, भगवान नारायण , भगवान राम और देवी सीता का मूर्तियों को देख सकते है। मथुरा भगवान कृष्ण का निवास है और यह हिंदुओ के बीच एक महान धार्मिक पवित्रता है। यह भी पुराने इतिहासिक रिकॉर्ड से एक है। यहाँ तक मथुरा महाकाव्य रामायण में उल्लेख किया गया है। यह रिकॉर्ड पर है कि मथुरा कुषण राजा कनिष्का का राजधानी था।

सभी बिरला मंदिर की तरह, यह जो मथुरा मे है- "गीता मंदिर" भी कम या ज्यादा दूसरा बिरला मंदिर का रूप देता है और अपनेपन की याद दिलाता है। वहाँ दो उल्लेखनीय सनरचनाओं है- पहला है "गीता स्तम्भ"- एक लंबा स्तम्भ कुछ उचाई तक बढ़- बुराई पर सत्य का जीत का वाचक के रूप में महाभारत का युद्ध , जहा भगवान श्री कृष्ण गुण पान्डवो की ओर ले जाते है। कोर्स के दौरान अर्जुन का सारथी बनने जिसमे से दिव्य भगवान एक संकोची लेकिन अन्यथा शक्तिशाली, मजबूत और शक्तिशाली योद्ध है कि अर्जुन था करने के लिए ज्ञान प्रदान करता है। अन्य उल्लेखनीय संरचना एक मंदिर भगवान श्री हनुमान, शक्तिशाली भगवान शिव का अवतार को समर्पित है। यहाँ का मूर्ति बहुत सुन्दर है और सजावट भी ढेर सारा किया गया है-जो की श्री हनुमान जो सुन्दरा के नाम से भी जाना जाते है, भगवान शिव यम मृत्यु के देवता ,जो दक्षिण की दिशा का रक्षक है कि विजेता जा रहा है, हनुमान जी मंदिर के दक्षिण तरफीय बैठे हुए है। इनके अलावा , मुख्य मंदिर श्री लष्मी नारायण और अन्य देवी -देवताओ का मूर्ति भी है। मथुरा का बिरला मंदिर दिल्ली के विशाल भव्य 'लष्मीनारायन मंदिर' का ही छोटा रूप है। मंडिर एक प्रशस्त लंबे-चौड़े विशाल भूभाग में बना हुआ है जो ऊँची पक्की चहारदीवारी से घिरा है। इसमें पांचजन्य शंख और सुदर्शन चक्र लिये हुए भगवान् श्री कृष्णा की भव्य श्रेत प्रतिमा प्रतिष्ठित है। साथ ही सिता-राम एवं भगवान लष्मी नारायण के भी विग्रह पेतिष्ठित है। इस प्रसिद्घ मंदिर की निम्रलिखित विशेषताएँ है। एक सफ़ेद स्तम्भ पर संपूर्ण 'गीता' अंकित की गई है। मंदिर के सामने यात्रियों के विश्राम के लिए धर्मशाला बनी हुई है। बृंदावन के प्रमुख मंदिर और दर्शनीय स्थलों की अग्नत सूचि इस प्रकार है- कात्यायनी पीठ, बृंदावन, मंदिर श्री बांकेबिहारी, रंगजी, मदमोहंजी, गोविंददेवजी, गोपीनाथजी का मंदिर, केशी घाट बृंदावन, आदि। इस मंदिर की दीवारों पर हिन्दू इंजील 'श्रीमद भगवद गीता' का पाठ खुद है। इस मंदिर के मुख्य कक्ष में भगवान कृष्ण की एक सुन्दर मूर्ति है। भक्तो को भी इस मंदिर में , जो सप्ताह के सभी दिन खुला रहता है वहां - देवी लष्मी, भगवान नारायण , भगवान राम और देवी सीता का मूर्तियों को देख सकते है।

निष्कर्ष[संपादित करें]

पूरा दुनिया से लोग इस मंदिर की सुंदरता को देखने आते है। यह मंदिर जन्मास्टमी और होली के समय ज्यादा सजाया जाता है। मंदिर के दीवारों पर भगवद गीता लिखा गया है। भगवन कृष्ण के मूर्ति के अलावा, गीता स्तम्भ भी एक आकर्षण है। यह बुराई पर सच्चाई की जीत का प्रतीक है और उसी के रूप मेह महाकाव्य महाभारत मे देखा गया है। मंदिर का वास्तुकला देखने लायक है। पुरे गीता मंदिर की दीवारो जो बारी में यह करने के लिए आकर्षण कहते है पर खुदा हुआ है। यह तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के समान अवकाश द्वारा अक्सर मथुरा के सबसे लोकप्रिय स्थलों में से एक है। सबसे अच्छा समय मंदिर और यात्रा करने के लिए होली और जमंस्टमी और त्यौहार के दौरान होता है। यह सप्ताह के सभी सात दिन खुला रहता है और यह मथुरा की एक दिन का पर्यटन स्थलों का भ्रमण में शामिल किया जा सकता है |

संदर्भों[संपादित करें]

[1]

[2]

  1. http://journeymart.com/de/india/uttar-pradesh/mathura/gita-mandir.aspx
  2. http://www.mathuraonline.in/city-guide/gita-mandir-in-mathura