सदस्य:Shamzzee/मासिक धर्म वर्जना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
स्रीयाँ मासिक धर्म स्वच्छता दिवस का जश्न मनाती हुई।

मासिक धर्म वर्जना एक सामाजिक निषेध है जो रजोधर्म से सम्बंधित है। कुछ समाजों और कई पारंपरिक धर्मों में मासिक धर्म अशुद्ध और शर्मनाक रूप माना जाता है। विभिन्न संस्कृतियों मे मासिक धर्म को विभिन्न ढंग से जांचा जाता है। [1] १९८० के दशक के अध्ययन से पता चलता है कि कई अमेरिकी राज्यों में लगभग सभी लड़कियों का मानना ​​था कि लड़कियों को लड़कों के साथ मासिक धर्म के विषय में बात नहीं करनी चाहिए परंतु एक तिहाई से अधिक लड़कियाँ यह भी विश्वास करती थी कि उनके पूर्वजों के साथ मासिक धर्म के बारे में चर्चा करना उचित था। कई आचरण मानदंडों और पश्चिमी औद्योगिक समाजों में मासिक धर्म के बारे में संचार का आधार विश्वास है कि मासिक धर्म को छिपे रहना चाहिए।</ref> The basis of many conduct norms and communication about menstruation in western industrial societies is the belief that menstruation should remain hidden.[2]

अन्य समाजों में निश्चित मासिक धर्म वर्ज्य को अशुद्धता के अर्थ से बिना जोड़े उसका अभ्यास किया जा सकता है।मानवविज्ञानी बकले और गोटलिब के मुताबिक पार सांस्कृतिक अध्ययन से पता चलता है कि मासिक धर्म के बारे में वर्ज्य लगभग सार्वभौमिक हैं।[3]

धार्मिक दृष्टि कोण[संपादित करें]

बहाई धर्म[संपादित करें]

बहाउल्लाह, बहाई धर्म के संस्थापक ने किताब-ए-अकदस में लोगों और चीजों के अनुष्ठान अशुद्धता के सभी रूपों को समाप्त कर दिया और साफ-सफाई और आध्यात्मिक शुद्धता के महत्व पर बल दिया। मासिक धर्म महिलाओं को प्रार्थना करने के लिए और रोज़े न रखने के लिय प्रोत्साहित किया जाता है। इसके बजाय वे अपने इच्छानुसार एक कविता या पद्य पढ़ सकती है।[4]

ईसाई धर्म[संपादित करें]

ईसाई धर्म के कुछ चर्च पिता अशुद्धता की एक धारणा के आधार पर मंत्रालय की ओर से महिलाओं के बहिष्कार का बचाव किया करते थे। दूसरों का मानना था कि पवित्रता कानूनों को पुराने नियम के हिस्से के रूप में खारिज किया जाना चाहिए।[5]छिछोरापन में प्रतिबंध के बावजूद, यीशु ने खुद को एक खून से लतपत महिला से छुये जाने की अनुमति दी थी और उसका इलाज़ भी किया था (मरकुस ५: २५-२४)।

हिन्दू धर्म[संपादित करें]

हिंदू धर्म में, मासिक धर्म से पिड़ित महिलाओं को पारंपरिक रूप से अशुद्ध माना जाता है और नियमों का पालन करने के लिए दिया जाता है। [6]मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को अन्य पुरुषों या महिलाओं को छूने, जोर से बात करने, रसोई घर और मंदिरों मे प्रवेश करने, दिन के समय सोने, स्नान करने, फूल पहनने या यौन संबंध बनाने की अनुमति नही दी जाती है।[7] महिला खुद को अपवित्र, प्रदूषित, असमर्थ और अक्सर अछूत के रूप में देखती है। वह अपने परिवार के सामने अपमानित की जाती है।[8]

इसलाम[संपादित करें]

इस्लाम में, एक औरत को प्रार्थना और उपवास या काबा की परिक्रमा और अन्य धार्मिक गतिविधियों के प्रदर्शन से छूट दी गई है, लेकिन उसक हज फिर भी मान्य होता है। यह किसी भी खून की गंदगी के कानून के अनुसार है। अपने पति के साथ संभोग सख्ती से मासिक धर्म के दौरान निषिद्ध है। हालांकि, वह सामान्य रूप में सामाजिक जीवन के अन्य सभी कृत्यों प्रदर्शन कर सकती हैं। प्रामाणिक परंपराओं के अनुसार, मुहम्मद मासिक धर्म से पिड़ित महिलाओं को दो ईद की छुट्टियों के धार्मिक सेवाओं में उपस्थित होने के लिए प्रोत्साहित करते थे, हालांकि वे प्रार्थना करने से मुक्त थी।

यहूदी धर्म[संपादित करें]

यहूदी धर्म के टोरा (छिछोरापन १५: १९-३०) में, एक महिला के मासिक धर्म अशुद्ध माना जाता है - "जो ऐसी स्त्री को छूता है वह शाम तक अशुद्ध हो जाएगा" (नई अंतर्राष्ट्रीय संस्करण)। उस स्त्री से बात करने से या उसके साथ बैठने से या किसी भी प्रकार का शारीरिक सम्बंध बनाने से वह व्यक्ति अशुद्ध माना जाता है। किस हद तक इन नियमों को आधुनिक यहूदी धर्म में माना जाए यह रूढ़िवाद एवं कट्टरपंथियों की डिग्री पर निर्भर करता है।

सिख धर्म[संपादित करें]

सिख धर्म में, औरत को आदमी के बराबर का दर्जा दिया जाता है और एक आदमी के समान शुद्ध माना जाता है। गुरु सिखाते हैं कि शरीर की पवित्रता धोने से शुद्ध नहीं होती बल्कि मन के वास्तविक शुद्धता से होती है। उन्हें शुद्ध नहीं कहा जाता है जो केवल अपने शरीर को धोने के बाद बैठे हो। गुरु नानक, सिख धर्म के संस्थापक, महिलाओं की मासिक धर्म को अशुद्ध मानने के अभ्यास की निंदा करते थे।[9]

सिख धर्म में, मासिक धर्म चक्र एक प्रदूषक नहीं माना जाता है। निश्चित रूप से, यह औरत पर एक भौतिक और मनोवैज्ञानिक प्रभाव हो सकता है। बहरहाल, यह उसकी प्रार्थना या उसकी धार्मिक कर्तव्यों को पूरी तरह से पूरा करने के लिए एक बाधा नहीं माना जाता है। गुरू ने यह बहुत स्पष्ट रुप से बताया है कि मासिक धर्म चक्र एक ईश्वर प्रदत्त प्रक्रिया है।[10] एक औरत का रक्त किसी भी इंसान के निर्माण के लिए आवश्यक है। माँ के खून की आवश्यकता जीवन के लिए मौलिक है। इस प्रकार, मासिक धर्म चक्र निश्चित रूप से एक आवश्यक और ईश्वर प्रदत्त जैविक प्रक्रिया है। अन्य धर्मों में रक्त एक प्रदूषक माना जाता है। हालांकि, गुरु ने इस तरह के विचारों को खारिज कर दिया है। जो लोग मन के भीतर से अशुद्ध हैं वे वास्तव में अशुद्ध होते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. en.wikipedia.org/wiki/Menstrual_taboo
  2. Laws, S. (1990). Issues of Blood: The Politics of Menstruation. London: Macmillan.
  3. Buckley, T., and Gottlieb, A., eds. (1988). Blood Magic: The Anthropology of Menstruation. Berkeley: University of California Press. (p. 7)
  4. Smith, Peter। (2000)। “purity”। A concise encyclopedia of the Bahá'í Faith: 281–282। Oxford: Oneworld Publications।
  5. R. Hugh Connolly, [http://www.bombaxo.com/didascalia.html ''Didascalia Apostolorum'']. Oxford: Clarendon Press, 1929. Retrieved on 18 July 2013.
  6. Bhartiya, Aru (November 2013). "Menstruation, Religion and Society". International Journal of Social Science and Humanity.
  7. Guterman, M (2007). "Menstrual Taboos Among Major Religions". The Internet Journal of World Health and Societal Politics.
  8. Dunnavant, Nicki (2012). "Restriction and Renewal, Pollution and Power, Constraint and Community: The Paradoxes of Religious Women's Experiences of Menstruation". Sex Roles: A Journal of Research.
  9. Only they are pure, O Nanak, within whose minds the Lord abides. ||2|| (Siri Guru Granth Sahib Ji, Ang 472)
  10. "By coming together of mother and father are we created, By union of the mother's blood and the father's semen is the body made. To the Lord is the creature devoted, when hanging head downwards in the womb; He whom he contemplates, for him provides." (Guru Granth Sahib Ji, p.1013).