सदस्य:Ramkumar kumhar

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Name - Ramkumar Kumhar

He has achieved success in his life very quickly. The company has honored them for the Survey Shorthund trainer it's a matter of pride for us.

Birth place - Chandipara,Apharid, janjgir-champa, (C.G) PIN - 495660

Father name - Mr. Hetram Kumhar

Mother name - Leela bai Kumhar

3 brothers

1- Mr Radheshyam kumhar

2- Mr Ramnarayan Kumhar

3 - Mr Ramkumar Kumhar

1 sister

Radhika Devi kumhar

Address - Chandi Para, apharid, champa(c.g.) India.

District - janjgir-champa (C.G.)

State - Chhattisgarh

Country - india

Date of birth - 15-08-1995

Work - Nipane industry privet limited Branch manager n area manager champa (C.G.)

POSTING :-

(1) :- 15-06-2015 SURAJPUR ( DIST. MANAGER)

(2) :- 04-10-2015 DHAMTARI ( DIST. MANAGER)

(3) :- 17-12-2015 KAWARDHA (DIST. MANAGER)

(4) :- 04-03-2016 BEMETARA (DIST. MANAGER )

(5) :- 12-06-2016 RAIGARH (DIST. MANAGER )

((6) :- 18-08-2016 BILASPUR (DIST. MANAGER)

(7) :- 03-01-2017 JANJGIR-CHAMPA ( DIST. MANAGER and C.G. STATE MANAGEMENT DIRECTOR )

05-05-2017 IDEA DISTRIBUTOR F.O.S. 1 YEAR (JANJGIR-CHAMPA) C.G.

CURRENT WORK IS :- Radha madhav corporation limited DISTRIBUTOR AT:- JANJGIR-CHAMPA Join :- 16-10-2018

REJOINING 02/05/2019 NIPANE INDUSTRY PRIVATE LIMITED. BILASPUR

Aducation

School - 1st KG to 8th class

Gyanoday shishu mandir Apharid

School - 9th to 12th class

Amar deep Higher secondary public School champa(C.G.)

COLLEGE:- C.V. Raman University Champa. B.sc. math's.


Contect number :- 7770938073

 *New story* 

समय और समझ 
              यह कहानी है अभिलाषाओं की, समय और समझ की, और इन सब से निकलने वाली एक आंसू के बूंद की है | हाँ अभी मेरी आँखों में आँसु है और मन में एक हल्की सी मुस्कान भी है | लेकिन ये आंसू ख़ुशी के नहीं है पर ये मुस्कान इस आंसू की देन  है | इस जीवन में समय  और समझ का खेल चलते रहता है | जब समय होता है तब समझ नहीं होती और समझ के आ जाने पर समय नहीं बचता है | हम तो बस अपनी आवश्यक्ताओ एवं प्रलोभनों में उलझे हुए रहते है | इन सबसे ही एक कहानी निकलकर आती है और जब इस कहानी में एक समझ निहित होती है तो वह स्वयं एक ग्रन्थ बन जाती है | लेकिन अगर किसी पुराण या ग्रंथ से उस समझ को अलग कर दे तो वह बस एक कहानी बनकर रह जाती है | 
              अब बात करते है मेरी कहानी की ....... 

हम शुरुआत हमेसा एक रोमांच के साथ करते है जिसमे उत्साह और उमंग होता है | फिर हमसे कुछ गलतियाँ होती है और इन गलतियों से जन्म लेती है आंसू और वेदना से भरी कई राते जिनमे अपनी ही स्मृतियों से लड़ती अनंत सिसकियां एक असहनीय व्यथा का सामना करती है | दुःख इतना जो सागर से बड़ा और राते सदियों सी लम्बी लगने लगती है | फिर इन सिसकियों के बीच से दिमाग में घंटी मन के द्वारे एक रसबूंद छलकती है और इन सबके बीच जन्म होता है एक समझ का | समझ वह जो पूरी कहानी का सार बनकर सामने आता है | और कहानी का अंत होता है ,हल्की मुस्कान भरी आंसू की एक बूंद से जो कहती है की तुम्हारे क्षमताए और नयी उमंग है | बस जरूरत है तो एक नयी उम्मीद जगाने की |

              पूरी बात को अगर आसान शब्दो में बताना हो तो "समय और समझ भले ही एक साथ ना मिले मगर जीवन तो बस समझ जगाने का ही खेल है जिसके बिना समय बस एक मृत कहानी बनकर रह जाती है |  "
Ramkumar kumhar prajapati