सदस्य:Pratyusha-DV/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

[1][2][3]

हॉवर्ड गार्डनर[संपादित करें]

डॉ हॉवर्ड गार्डनर ११, १९४३ को स्क्रैंटन, पेनसिलवेनिया में जुलाई में पैदा हुए थे। उनके माता-पिता नाज़ी जर्मनी के शरणार्थी थे। बचपन में उन्हें पढ़ने में एवंम संगीत में अधिक रुचि थी । बाद में वे एक पियानोवादक बने। और उन्होने १९५८ से १९६९ तक पियानो पढ़ाया भी था। वे हार्वर्ड विश्वविद्यालय में भर्ती हुए और इतिहास पढ़ने लगे पर बाद में संज्ञानात्मक विकासात्मक मनोविज्ञान पढ़ने लगे। उन्होंने जाने मनोविज्ञान एरिक एरिक्सन के साथ भी पढाई की थी और नॉर्मन ब्राउन और नेलसन गुडमैन के साथ काम किया था।

उनकी शादी एलेन विन्नर से हुई थी। उनके इकलौते पुत्र, बेंजामिन, का जन्म १९८५ में हुआ था। उनकी पहली शादी से उनके तीन बच्चें हैं - केरिथ (१९६९), जए (१९७१), ऐन्ड्रू (१९७६)। उनके पोते का नाम ऑस्कर है जो २००५ में पैदा हुआ था और उनके पोती, एग्नेस, का जन्म २०११ में हुआ था।

Howard Gardner

शिक्षा[संपादित करें]

उन्होंने हार्वर्ड कॉलेज से १९६१-१९६५ में सामाजिक संबंध में बी. ए. प्राप्त किया। फिर लंडन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से १९६५ - १९६६ के बीच दर्शनशास्र और समाजशास्‍त्र में डिग्री प्राप्त की। उसके बाद उन्होंने हार्वर्ड में सामाजिक मनोविज्ञान की पढ़ाई की। उसके पश्चात् उन्होंने हार्वर्ड मेडिकल स्कूल और बॉस्टन यूनिवर्सिटी अफेसिI रिसर्च सेंटर में १९७१-७२ में पॉस्ट डॉक्टोरल फेलो प्राप्त की।

Goodworkteam.jpg

पुस्तकें[संपादित करें]

ये गार्डनर के द्वारा लिखी गई कुछ पुस्तकों के नाम हैं -

1. १९७३ में द क्वेस्ट फॉर माइंड: जीन पियाजे, क्लॉड लेवी - स्ट्रॉस, एंड द स्ट्रक्चरलिस्ट मूवमेंट 2. १९७३ में द आर्टस एंड द ह्यूमन डिवेलपमेंट 3. १९७९ में डिवेलपमेंटल सयकोलोजी: एन इंट्रोडक्शन 4. १९८३ में फ्रेम्स ऑफ़ माइंड: द थीयरी ऑफ़ मल्टीपल इंटेलिजेंसस 5. १९९० में आर्ट एजुकेशन एंड ह्यूमन डिवेलपमेंट 6. १९९३ में मल्टीप्ल इंटेलिजेंसस: थीयरी इन प्रैक्टिस 7. १९९५ में लीडिंग माइंडस: एन एनाटोमी ऑफ़ लीडरशिप 8. १९९९ में इंटेलिजेंस रीफ़्रेम्ड: मल्टीपल इंटेलिजेंसस फॉर द २१स्ट सेंचुरी 9. २००२ में हॉवर्ड गार्डनर इन होंग कोंग 10. २००४ में चेंजिंग माइंडस: द आर्ट एंड साइंस ऑफ़ चेंजिंग आवर ओन एंड अदर पीपलस माइंडस 11. २००६ में होवार्ड गार्डनर अंडर फायर 12. २००७ में फाइव माइंडस फॉर द फ्यूचर

परिचय: बहु-प्रतिभा सिद्धांत[संपादित करें]

बहु-प्रतिभा मन के बारे में एक मनोवैज्ञानिक सिद्धांत है। "यह वह धारणा की आलोचना है, कि हम एकल खुफिया के साथ पैदा हुए हैं जो बदला नहीं जा सकता और जिसका नाप मनोवैज्ञानिक ले सकते हैं।"

गार्डनर के बहु-प्रतिभा सिद्धांत शिक्षा और संज्ञानात्मक विज्ञान के क्षेत्र में पारंपरिक मान्यताओं को चुनौती दी हैंI

परंपरागत सिद्धांतों के प्रकार प्रतिभा की परिभाषा है: "लोगों में जन्मजात एक समान संज्ञानात्मक क्षमता जो एक जीवनकाल में कभी बदलता नहीं, और आसानी से संक्षिप्त जवाब परीक्षण से मापा जा सकता हैI” इन परीक्षणों के अधिकांश तर्क और भाषा की क्षमताओं कि माप लेती हैं। उदाहरण: स्टैनफोर्ड-बिनेट खुफिया गुणक, शैक्षिक योग्यता परीक्षन

इसे चुनौती देकर हॉवर्ड गार्डनर केहते हैं कि संक्षिप्त जवाब परीक्षन सिर्फ रटन स्मृति कि माप लेती हैं और गहरी समझ कि नहीं I

गर्डनर के लिये, 'प्रतिभा' के परिभाषा इस प्रकार हैं: " प्रक्रिया सूचना के लिये एक मनोवैज्ञानिक-जैव शक्यता हैं जो एक सांस्कृतिक व्यवस्था के द्वारा सक्रिय किया जा सकता हैं I’ “युक्तियो के समूह जिसे व्यक्ती नये ज्ञान प्राप्त कर सकता हैंI”

इसे पारिभाषित करने के प्रयोजन के लिए, गर्डनर ने विभिन्न विषयों से, अनुभवजन्य स्रोतों की एक विस्तृत विविधता की जांच की; जैसे नृविज्ञान, जीव विज्ञान, विकासात्मक मनोविज्ञान , तार्किक विश्लेषण आदी| परिक्षण के परिणाम आठ मापदंड हैंI किसी क्षमता को प्रतिभा कहलाने के लिए, पूरे आठ मापदंड नहीं तो अधिकांश से मिलना चाहिए ।

इस प्रकार, संभावित रूप में खुफिया पर विचार करके; गार्डनर इसके आकस्मिक और संवेदनशील प्रकृति का दावा करते हैं I परंपरागत सिद्धांतों से भिन्न, मानव बुद्धि को निश्चित और पैत्रिक नहीं मांतेI

सभी मनुष्यों में अलग मात्राओ कि खुफिया क्षमता हैं, किन्तु हर एक व्यक्ति कि अपनी अद्वितीय मानसिक संरचना होती हैं। हमारे पर्यावरण और अनुवंशिकी के कारण, दो लोगों में एक ही खुफिया क्षमता नहीं हैं, क्यूंकि हमारे अनुभव अलग हैं।


बहु-प्रतिभा सिद्धांत[संपादित करें]

प्रत्येक व्यक्ति के मस्तिष्क के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित आठ प्रकार के प्रतिभाएं हैं जो स्वतंत्र रूप से या तो साथ में काम करते हैंI सभी प्रतिभाओ को पालकर मजबूत बनाया जा सकता है , या नजरअंदाज करके कमजोर किया जा सकता हैI

आठ प्रकार के प्रतिभायें: • भाषाई प्रतिभा: जिन लोगो में निश्चित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए, भाषा का उपयोग करने की क्षमता हैI जानकारी का विश्लेषण करके भाषाओं को सीखते हैं; भाषणों, किताबें, और ज्ञापन के रूप में मौखिक और लिखित भाषा से जुड़े उत्पादों को बनाते हैं, आलंकारितापूर्वक या काव्यात्मक रचनाओ द्वारा अपने आप को व्यक्त करते हैं। खुफिया के इस प्रकार वैस- III में मौखिक बुद्धि के साथ मापा जाता है। उदाहरण: लेखकों, कवियों, वकीलों और वक्ताओं।

तार्किक-गणितीय प्रतिभा: गुण-दोष की दृष्टि से सोच सकते हैं और कारण प्रणालियों के सिद्धांतों को समझकर; गणितीय गणना प्रदर्शन कर सकते है, वैज्ञानिक रूप से मुद्दों की जांच और सार समस्याओं का समाधान दूंढ़ निकालते हैं। उदाहरण: वैज्ञानिकों, कंप्यूटर प्रोग्रामर।

स्थान-विषयक प्रतिभा: समस्याओं को हल करने के क्रम में बड़े पैमाने और सुक्ष्म स्थानिक मानसिक छवियों का अनुभव करने की क्षमता होना | प्रोत्साहन के अभाव में उसके रूप बदलना| स्थानिक खुफिया अंधे बच्चों में भी मौजूद है। उदाहरण: आर्किटेक्ट्स, नाविकों।

संगीतिक प्रतिभा: ध्वनियो की विभिन्न प्रकार की पहचान करने के लिए, संवेदनशीलता शामिल हैं; ध्वनि अंतराल, लय, स्वर, राग के विभिन्न साँचा बनासकते हैंI श्रवण कार्य इस बुद्धि के विकास के लिए आवश्यक हैंI उदाहरण: वादक और संगीतकारों।

क्रियात्मक प्रतिभा: अपने शरीर गति को नियंत्रित करके, शरीर के सारे या विभिन्न भागों का उपयोग करते हैं, जिसे वे वस्तुओं को खूबी से संभालते हैंI प्रतिक्रियाओं को प्रशिक्षित करने की क्षमता के साथ-साथ समय की भावना, एक शारीरिक क्रिया के लक्ष्य का स्पष्ट अर्थ, भी शामिल है। उदाहरण: खिलाड़ियों , अभिनेता, नर्तक।

अंतरतम खुफिया: एक के अपने मूड के आत्मविश्लेषी क्षमता - गहरी समझ, मंशा, ताकत, इच्छाओं और अपने जीवन को विनियमित करने में प्रभावी ढंग से इस तरह की जानकारी का उपयोग करना । महान आध्यात्मिक नेताओं द्वारा उदाहरण।

पारस्परिक प्रतिभा: एक समूह में काम करने के क्रम में सहयोग करने की क्षमता, अन्य लोगों की भावनाओं, विश्वासों, और इरादों के साथ संघर्ष करने के लिए संवेदनशीलता का वर्णन। प्रभावी ढंग से संवाद करते हैं और अक्सर चर्चा, बहस से आनंद लेंते हैं। आसानी से दूसरों के प्रति सहानुभूति दिखाते हैं। उदाहरण: बिक्री व्यक्तियों, सलाहकार।

प्राकृतिक प्रतिभा: 1999 में जोड़ा गया है,प्राकृतिक दुनिया में पाए गये वनस्पति, जीव, और मौसम की संरचनाओं के विभिन्न प्रकारों के वर्गीकरण से संबंधित इस क्षेत्र। पारिस्थितिक ग्रहणशीलता गहरा एक "संवेदनशील, नैतिक, और समग्र समझ" में निहित हैI उदाहरण: वनस्पतिशास्त्री, बावर्ची, पुरातत्वविदों, किसान।

Multiple Intelligences


अतिरिक्त प्रतिभाएं[संपादित करें]

अस्तित्व सम्बंधी प्रतिभा: जो व्यक्ति सोच और पूछताछ में आनंद लेता हैं; जीवन, मृत्यु, परम वास्तविकताओं और जीवन की समस्याओं के बारे में उत्सुक हैंI (गार्डनर, 1999, पृष्ठ 64)

नैतिक प्रतिभा: उन नियमों, व्यवहार और दृष्टिकोण के साथ जुड़ी हुई हैं जो सभी के जीवन पवित्रता को नियंत्रित करती हैं I(गार्डनर, 1999, पृष्ठ 70) पिछले दो ज्ञान आगे मूल्यांकन और अनुभवजन्य अनुसंधान के दौर से गुजर रहे हैं।


प्रयोग[संपादित करें]

ब्रांटन शीयरर के कई प्रतिभाएं विकासात्मक आकलन पैमाने (मिडास) (1999), जैसे कई अनुसंधान परियोजनाओं में एक खुफिया मापने के उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया गया हैI

छात्रों की जरूरत , हितों और प्रतिभा के आधार पर पढ़ाया जा सकता है। "वास्तविक" दुनिया की तरह कई खुफिया कक्षा में कार्य करता है: लेखक और एक किताब के चित्रकार समान रूप से महत्वपूर्ण सर्जक हैं। छात्रों को और अधिक सक्रिय रूप से शामिल शिक्षार्थियों बनाया जा सकता हैं।विभिन्न कोणों से छात्रों पाठ समझने की कोशिश कर सकते हैं।

  1. केटी डेविस, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी; जोवना च्रिस्टोडौलौ, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी; स्कॉट सेइदेर, बोसटन यूनिवर्सिटी; हवर्ड गार्डनर, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी; रिसर्च आर्टिकल-थे थियरी ऑफ मल्टिपल इंटेलिजेन्सस
  2. रिचर्ड.जे.गेर्रिग और फिलिप.जी.ज़िंबर्दो, साइकॉलजी आंड लाइफ (2009), पेज नो. 285-286, डिसकवरिंग साइकॉलजी एडिशन, पिरसन एजुकेशन- अल्लयन् आंड बेकन, युनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका.
  3. · रॉबर्ट फेल्ड्मन, "अंडरस्टॅंडिंग साइकॉलजी" (2011), पेज नो. 81, १० एडिशन, टाटा मग्रॉ हिल एजुकेशन प्राइवेट लिमिटेड, न्यू डेल्ही.