सदस्य:Pooja2345/प्रयोगपृष्ठ/3

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विलियम डालेरीम्पल[संपादित करें]

William Dalrymple 2014.jpg

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

विलियम डालेरीम्पल का जन्म २० मार्च १९६५ में हुआ।यह एक स्कॉटिश इतिहासकार और लेखक, कला इतिहासकार और क्यूरेटर के साथ-साथ एक प्रमुख प्रसारक और आलोचक भी है।उनकी किताबों ने कई पुरस्कार जीते हैं, जिनमें डफ कूपर मेमोरियल पुरस्कार, थॉमस कुक ट्रैवल बुक अवॉर्ड, द संडे टाइम्स यंग ब्रिटिश राइटर ऑफ द ईयर अवॉर्ड, हेमिंगवे, कपुस्चिन्स्की और वोल्फसन पुरस्कार शामिल हैं। उन्हें चार बार लंबी सूची में रखा गया है और एक बार गैर-कथा के लिए सैमुअल जॉनसन पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। वह वार्षिक जयपुर साहित्य समारोह के सह-संस्थापक और सह-निदेशकों में से एक हैं।[1] इन्का नाम बडे-बडे इतिहासकारों के बीच मे आता है।२०१२ में उन्हें प्रिंसटन विश्वविद्यालय द्वारा मानविकी में व्हिटनी जे ओट्स विज़िटिंग फेलो के प्रकार में नियुक्त किया गया था। २०१५ के वसंत में उन्हें ब्राउन विश्वविद्यालय में ओपी जिंदल प्रतिष्ठित व्याख्याता नियुक्त किया गया था।२०१८ में उन्हें ब्रिटिश अकादमी के राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया था। डालेरीम्पल सर हे हैमिल्टन-डेल्रीम्पल, १० वें बैरोनेट और ऐनी-लुईस केपल के बेटे हैं। वह वर्जीनिया वूल्फ का चचेरा भाई है। वह एम्प्लफोर्थ कॉलेज और कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज में शिक्षित थे, जहां वह पहले इतिहास प्रदर्शनीकर्ता थे और फिर एक वरिष्ठ इतिहास विद्वान बनें।२६ जनवरी १९८४ को डेल्रीम्पल पहली बार दिल्ली गये थे।डालेरीम्पल १९८९ से भारत में दिल्ली के बाहरी इलाके में अपने मेहरौली फार्महाउस में अधिकांश वर्ष बिताते थे। उनकी पत्नी ओलिविया एक कलाकार है और भारत से लंबे समय से जुड़े परिवार से आती है। उनके तीन बच्चे हैं, इब्बी, सैम और एडम।वह एक रोमन कैथोलिक है।[2]

रुचियां और प्रभाव[संपादित करें]

डालेरीम्पल के हितों में भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, मध्य पूर्व, मुस्लिम दुनिया, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन और प्रारंभिक पूर्वी ईसाई धर्म का इतिहास और कला शामिल है। उनकी सभी आठ पुस्तकों ने साहित्यिक पुरस्कार जीते हैं। उनके पहले तीन मध्य पूर्व, भारत और मध्य एशिया में अपनी यात्रा के आधार पर यात्रा पुस्तकें थीं। उनके शुरुआती प्रभावों में रॉबर्ट बायरन, एरिक न्यूबी और ब्रूस चटविन जैसे यात्रा लेखकों शामिल थे। हाल ही में, डेलरीम्पल ने भारतीय उपमहाद्वीप में वर्तमान मामलों के बारे में निबंधों की पुस्तक और अठारहवीं और मध्य उन्नीसवीं शताब्दी के बीच ब्रिटिश और मुगलों के बीच बातचीत के दो पुरस्कार विजेता इतिहास प्रकाशित किए। उनकी किताबों का अनुवाद ४० से अधिक भाषाओं में किया गया है।वह न्यू यॉर्क रिव्यू ऑफ बुक्स, द गार्जियन, द न्यू स्टेट्समैन और द न्यू यॉर्कर में नियमित योगदानकर्ता हैं। उन्होंने टाइम पत्रिका के लिए कई लेख भी लिखे हैं। वह २००४ से न्यू स्टेट्समैन के भारतीय उपमहाद्वीप संवाददाता रहे हैं।[3]

योगदान[संपादित करें]

उन्होंने २००८ में साहित्य के उद्घाटन फिलिस्तीन समारोह में भाग लिया - रीडिंग और यरूशलेम, रामाल्लाह और बेथलहम में कार्यशालाएं लिये।उनकी २००९ की पुस्तक, नौ लाइव्स: इन सर्च ऑफ़ द सेक्रेड इन मॉडर्न इंडिया, ब्लूमसबरी द्वारा प्रकाशित की गई थी, और भारतीय गैर-कथा अनुभाग सर्वश्रेष्ठ विक्रेता सूची में नंबर एक स्लोट में गई थी।अपने प्रकाशन के बाद से वह यूके, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया, हॉलैंड और अमेरिका का दौरा कर रहे हैं जिसमें एक पुस्तक है जिसमें सूफिस, फकीर, बाउल्स, थेवरम भजन गायकों को वार्डर और अंशकालिक थेयम नर्तक व्यापक रूप से भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है।डलरीम्पल मुगल दिल्ली १७०७-१८५७ में प्रिंस और पेंटर्स का क्यूरेटर भी था, जो देर से मुगल और न्यू यॉर्क समाज के लिए कंपनी स्कूल पेंटिंग का एक प्रमुख कार्यक्रम था, जो फरवरी से मई २०१२ तक चला।इन्होने अलग-अलग स्क्त्रों मे अपना योगदान दिया जैसे की:ज़ानाडु में (१९८९),जिन्स का शहर: दिल्ली में एक वर्ष (१९९४),होली माउंटेन से: ए जर्नी इन द छाया ऑफ़ बायज़ेंटियम (१९९७),काली का युग (१९९८),व्हाइट मुगल्स (२००२), आदि है।[4]

पुरस्कार और सम्मान[संपादित करें]

डालेरीम्पल ने छः भाग वाली टेलीविजन श्रृंखला स्टोन ऑफ द राज (चैनल ४, अगस्त १९९७), तीन भाग वाली भारतीय यात्राएं (बीबीसी, अगस्त २००२) और सूफी आत्मा (चैनल ४, नवंबर २००५)आदि मे अपना योगदान दिखाया है।इन्होने बहुत पुरस्कार जीते है जैसे की, ज़ानाडु में १९९० यॉर्कशायर पोस्ट बेस्ट वर्क अवॉर्ड और स्कॉटिश आर्ट काउंसिल स्प्रिंग बुक अवॉर्ड प्राप्त हुआ।डीजिन शहर ने (१९९४) थॉमस कुक ट्रैवल बुक अवॉर्ड और द संडे टाइम्स यंग ब्रिटिश राइटर ऑफ द इयर अवॉर्ड प्राप्त किया।पवित्र पर्वत से(१९९७) स्कॉटिश कला परिषद शरद ऋतु पुस्तक पुरस्कार प्राप्त हुआ।द एज ऑफ़ काली (१९९८) ने २००५ फ्रेंच प्रिक्स डी एस्ट्रोलाबे जीते आदि।

संदर्भ[संपादित करें]

साँचा:टिप्णीसूची

  1. "The Greatest Literary Show on Earth". The Daily Beast. Retrieved 3 February 2009.
  2. "Biography – William Dalrymple"
  3. "Articles by William Dalrymple". London: GuardianUnlimited. Retrieved 30 June 2007.
  4. https://www.theguardian.com/world/2015/mar/04/east-india-company-original-corporate-raiders.