सदस्य:Nithinreddy1234/कर्नाटक राज्योत्सव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कर्नाटका

कर्नाटक राज्योत्सव[संपादित करें]

के बारे मै[संपादित करें]

कर्नाटक राज्योत्सव मतलब "एक राज्य के जन्म" सो कर्नटका राज्योत्सव को कर्नाटक के जन्म के रूप मै मनाया जाता है।। कर्नाटक राज्योत्सव हर साल के १ नवंबर को मनाया जाता है। यह 1956 में वह दिन की बात हैं जब दक्षिण भारत के सभी कन्नड़ भाषा-भाषी क्षेत्रों कर्नाटक राज्य के लिए फार्म का विलय कर दिया गया था। राज्योत्सव के दिन को कर्नाटक मै सरकारी छुट्टी के दौर मै मनाया जाता है। दुनिया भर मै रहने वाले सबी कन्नडिगा रज्योन्सवा को त्योहार के रूप मै मनाया जाता है।

ईतीहास[संपादित करें]

अलूरु वेंकट राव पहले व्यक्ति जो राज्य को एकीकृत रूप में जल्दी कर्नाटक ईकाकरना आंदोलन के साथ 1905 के रूप में करने का सपना देखा था। 1950 में, भारत गणराज्य बन गया है और विभिन्न प्रांतों विशेष क्षेत्र में बोली जाने वाली भाषा के आधार पर देश में गठन किया गया है और इस जो पहले राजाओं का शासन था दक्षिण भारत में विभिन्न स्थानों, सहित मैसूर राज्य को जन्म दिया गया कन्नड़ ध्वज, कन्नड़ संस्कृति का एक प्रतीक के रूप में प्रयोग किया जाता है। पर १ नवंबर १९५६ को मैसूर राज्य मैसूर के कई पर्व रियासत को हैदराबाद की रियासत के रूप में बंबई और मद्रास प्रेसीडेंसी के कन्नड़ भाषी क्षेत्रों के साथ विलय किया गया था एक एकीकृत कन्नाडा बनाने के लिए उप राष्ट्रीय इकाई की कोशिश किया गया था। उत्तरी कर्नाटक, मलनाड (केनरा) और पुराने मैसूर इस प्रकार नवगठित मैसूर राज्य के तीन क्षेत्रों थे। नव एकीकृत राज्य का शुरू मै मैसुर के नाम से जाना जाता था लेकिन उत्तरी कर्नाटक के लोगों को मैसूर के नाम से खुशी नहीं थी इसलिए १ नवंबर १९७३ को मैसूर से नाम कर्नटका मै बदल गय था और कर्नटका मै रज्योत्सवा बनाया जाने लग ।

राज्योत्सव[संपादित करें]

२०१६ मै ६०th त्योहार मानाया गया था। यह त्योहार सिर्फ कर्नटका मै मनाया जाता है। कर्नटका का द्वजा दो रंग का है। राज्योत्सव के दिन कर्नाटका के सरकार एक जुलुस निकलती है। ऑटो रिक्शा और अन्य वाहनों कन्नड़ ध्वज वाचक लाल और पीले रंग विषयों के साथ सजाया जाता है। इस दिन कर्नाटक के सरकर कर्नाटक के विकास में महान योगदान के लिए जिम्मेदार लोगों को सम्मानित किया जाता है। राज्य के मुख्यमंत्री सांस्कृतिक शो है जो सामान्य रूप से क्नटिरवा स्टेडियम, बंगलौर में आयोजित किया जाता है का उद्घाटन किया।जो छात्रों को विभिन्न राष्ट्रीय खेलों में पदक जीत लिया है उन्हें भी सरकार द्वारा पुरस्कार दिया जाता है। समारोह देवी भुवनेश्वरी की तस्वीर एक सजाया वाहन पर घुड़सवार ले जाने बहुरंगी झांकी द्वारा चिह्नित कर जाता हैं। रंगीन जुलूस भी नाटक के क्षेत्र, पारंपरिक नृत्य कुनिथा,और शास्त्रीय कर्नाटक संगीत में लोक कलाकारों के प्रदर्शन के साथ होता है।

निजी प्रतिष्ठानों[संपादित करें]

१ नवंबर को रज्य मै मनाने के बाद यह सप्ताह के बाद के दिनों में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर मनाया जाता है। कन्नड़ झंडे प्रमुखता से फहराया और बेंगलुरू के शहर भर में लगभग सभी कार्यालय और व्यापारिक प्रतिष्ठान पर प्रदर्शित कर रहे हैं। कई आईटी कंपनियों में से एक केंद्र होने के नाते, टीसीएस, थॉमसन रायटर, विप्रो, एसएपी लैब्स, एक्सेंचर, अल्काटेल-ल्यूसेंट और इन्फोसिस जैसी बेंगलुरू की प्रमुख कंपनियों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करके स्थानीय पक्ष को दिखाने के लिए कर्मचारियों को प्रोत्साहित करते हैं।यह भीड़ कार्यस्थलों को कन्नड़-थीम टी-शर्ट पहन कर अपने समर्थन दिखा। शैक्षिक संस्थाओं को भी झंडा फहराने और नाडागिता का प्रतिपादन के साथ-साथ स्कूलों में इस तरह की घटनाओं का आयोजन करेगा।

अनिवासी कन्नड़[संपादित करें]

इसके अलावा कर्नाटक में समारोह के अलावा, यह भी मुंबई, नई दिल्ली, गुड़गांव और चेन्नाई कन्नड़ जैसे महत्वपूर्ण कन्नड़ आबादी के साथ भारत के अन्य क्षेत्रों में मनाया जाता है संगठनों को भी संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की व्यवस्था मै मनाया है।

अन्त[संपादित करें]

त्योहार को बडे धुम दाम से हार साल मनाया जाता है। सिर्फ कर्नाटका मै ही नहीं आदि कई अन्य जगाहो मै बडे हि उलास्स से मनाया जाता है। इस साल यह त्योहार मगलंवार को मनाया गया थ ऐर २०१७ मै यह त्योहार बुदवार को मानाया जयेगा।

संदर्भ[संपादित करें]

http://timesofindia.indiatimes.com/entertainment/kannada/movies/news/60-facts-for-60th-Karnataka-Rajyotsava/articleshow/55152974.cms

https://www.karnataka.com/profile/rajyotsava/

http://www.festivalsofindia.in/rajyotsava_day/

http://www.festivalsofindia.in/rajyotsava_day/

https://blog.akshayapatra.org/what-and-why-of-kannada-rajyotsava/

http://www.ibtimes.co.in/kannada-rajyotsava-2015-karnataka-celebrates-its-59th-formation-day-652724