सदस्य:Neelima vinodkumar

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ग्रेस हांपर
ग्रेस हाँपर

१९०६ में न्यूयॉर्क शहर में जन्मे, ग्रेस हूपर द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान यू.एस. नौसेना में शामिल हुए और उन्हें मार्क I कंप्यूटर के कार्यक्रम में शामिल किया गया। उसने युद्ध के बाद कंप्यूटिंग में काम करना जारी रखा, जिसने टीम की अगुआई की जो पहली कंप्यूटर भाषा कंपाइलर बना, जिसके कारण लोकप्रिय कोबोल भाषा हुई। उन्होंने 60 साल की उम्र में सक्रिय नौसेना सेवा शुरू की, 1986 में रिटायर होने से पहले रियर एडमिरल बन गए। हॉपर 1992 में वर्जीनिया में निधन हो गया।

ग्रेस हाँपर[संपादित करें]

ग्रेस ब्रुस्टर मुरे हाँपर एक अमेरिकन कंप्युटर वैज्यानिक और युनैटड स्टेटस रैर नौसेना थे। ग्रेस ब्रुस्टर हार्वाड मार्क १ कंप्युटर का पहले प्रोग्रामर थे और वे कंप्युटर प्रोग्रामिं के प्रथम अन्वेषक थे जो कंपैलर सम्बंधित उपकरणों का आविष्कार किया था। उन्होने मशीन-स्वतंत्र प्रोग्रामिंग भाषाओं का विचार को लोक प्रिय बनाया था जिसके वजह से COBOL का वीकास हुआ था। COBOL एक है लेवल प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग अभी भी किया गया है। हाँपर ने द्वितीय विश्व युद्द के दौरान नौसेना मे शामिल होने का प्रयास किया था लेकिन उसे सेना ने खारिज कर दिया क्योंकि वह ३४ साल की थी। वह बजाय नौसेना रिर्जव में शामिल हुए। अपने जीवनकाल के दोरान,हाँपर को दुनिया भर के विश्वविद्यालयों से ४० मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

ग्रेस हाँपर का जन्म न्युयार्क शहर मे हुआ था। वह तीन बच्चों में सबसे बडा था। उनका पिता का नाम वाल्टर फ्लेचर मुरै और माता का नाम मेरी कैंपबल वान हाँर्ण है। वह प्लेनफील्ड, न्यु जेर्सि हार्ट्रिज स्कुल मे भाग लिया था। उन्होंने गणित और भौतिक विज्ञात में स्नातक कि डिग्री के साथ १९२८ मे वस्सर से फि बीटा कपा स्नातक की उपाधि प्राप्त किया था और १९३० मे येल विश्वविध्यालय से मास्टेर डिग्री भी किया था। १९३४ मे वह येल विश्वविध्यालय से गणित मे पि एच डी पास किया था।

द्वितीय विश्व युद्ध[संपादित करें]

हॉपर, जो वासर में एक सहयोगी प्रोफेसर बने, पढ़ाते रहे, जब तक द्वितीय विश्व युद्ध ने उन्हें दिसंबर १९४३ में यू.एस. नेवल रिजर्व में शामिल होने के लिए मजबूर किया। जून १९४४ में उन्हें लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया गया था। उनके गणितीय पृष्ठभूमि को देखते हुए, हॉपर को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में ऑर्डनेंस कंप्यूटेशन प्रोजेक्ट के ब्यूरो को सौंपा गया था, जहां उन्होंने मार्क I कंप्यूटर प्रोग्राम सीखना शुरू किया था।

मौत[संपादित करें]

जनवरी १ १९९२ विर्जीनिया मे हँपर उसके घर में प्राक्रुतिक कारणों से अपनी नींन्द मे उनकी मौत हुआ था। वह ८५ वर्ष की उम्र थी।


[1]

[2]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Grace_Hopper
  2. https://www.biography.com/people/grace-hopper-21406809