सदस्य:Namansodhani99/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मेरा नाम नमन सोढ़ानी है और मेरा जन्म ५ अप्रैल १९९९ को भोपाल , मध्य प्रदेश में हुआ था। मैं पिछले १५ सालों से बेंगलूर में रह रहा हूं। मैं क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु मे बीकाम में पहले साल के अपने पहले सेमेस्टर में हूँ। मैं अपनी परिवार,शिक्षा,लक्ष्य,दुर्बलता और विशेषताऍ से अपका परिचय कराना चहाता हूँ।

परिवार[संपादित करें]

शिक्षा[संपादित करें]

लक्ष्य[संपादित करें]

दुर्बलता[संपादित करें]

विशेषताऍ[संपादित करें]

परिवार


मेरा वंश वृक्ष बहुत अनोखा है क्योंकि मेरे पिता राजस्थान से है और मेरी माँ पंजाब से हैं। मेरे पिता जी का नाम राजेश सोधनी है और माता जी का नाम रजनी सोढ़ानी है। मैं बहुत भाग्यशाली महसूस करता हूं कि मैं दोनों संस्कृतियों का अनुभव करता हूं और जश्न भी मनाता हूं । मेरा परिवार पार सांस्कृतिक विस्तृत परिवार है जहां मेरे चाचा-चाची, दादा-दादी, आदि एक साथ रहते हैं। मेरा अपने परिवार के साथ अच्छा समय बितता है क्योंकि हम सभी उत्सवों को एक साथ मनाते हैं। मेरा परिवार और मैं विभिन्न त्यौहारों को बडी उत्साह के साथ मनाते है। हम कही त्यौहार मनाते हैं जैसे गणगौर, तीज,लोहड़ी और बैसाखी

शिक्षा

मैंने विद्यानिकेतन् पब्लिक स्कूल, बेंगलूर से अपना १२ अध्ययन पूरा किया है। मैं बहुत ही आभारी हूं कि मैं इस स्कूल में पडा हूं क्योंकि मुझे इस स्कूल में सबसे अच्छे शिक्षक और दोस्त मिले हैं । इस विद्यालय ने मुझे अनुशासन और आत्मविश्वास जेसे गुण सिखाऍ हैं। यह गुण आने वाले वर्षों में मेरी खुभ मदद करेंगे।

लक्ष्य

मेरा जुनून हमेशा एक रचनात्मक लेखक बनने का रहा है। मुझे लगता है कि मैं बहुत रचनात्मक हूं और मैं एक सफल रचनात्मक लेखक बनने के लिए इस कौशल का पोषण करुंगा। मैं एक स्क्रिप्ट लेखक भी बनना चाहता हूं।

दुर्बलता

मेरी सबसे बड़ी कमजोरी यह है कि मैं कभी भी चीजों को पूरा नहीं करता जो मैंने शुरू कीया था। जैसे मैं एक कहानी लिखना शुरू कर देता हूं, लेकिन मैं इसे खत्म नहीं करता हूं। मेरा आलस मेरा सबसे बड़ा दुश्मन है।

विशेषताऍ

मुझे सही समय पर और सही जगह पर काम करने में विश्वास है|मैंने अपने विचारों को केवल तब ही प्रकट करता हूं जब मुझे उसकी आवश्यकता महसूस होती है। मैं आमतौर पर उन लोगों के आसपास बहुत ही मजेदार रहता हूं, जिनको में अच्छे से जानता हूं। मैं लोगों को हँसाता हूं क्योंकि मुझे लगता है कि मेरा बहुत ही अजीब व्यक्तित्व है|