सदस्य:Mohita0295/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B8%E0%A4%A6%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF:Ishita.john/%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A4%AA%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A0 बुलिमिआ नर्वोसा

बुलिमिआ नर्वोसा एक प्रकार का आहार सम्बन्धि विकार है। इस मर्ज़ से ग्रसित व्यक्ति एक साथ काफी मात्रा में भोजन लेते हैं, किन्तु स्वयम के शरिरिक वजन के प्रति चेतना के रहते उस ग्रहण किये भोजन से छुटकारा पाने हेतु जबरदस्ती वमन (उल्टी) करने कि कोशिश करते हैं अथवा पेट साफ करने की दवा आदि लेकर उस अपाच्य भोजन से छुटकारा पाने कि कोशिश करते हैं।

बुलिमिआ नर्वोसा नामक मर्ज़ का शोध ब्रिटिश मनोचिकित्सक 'गेरल्ङ रासल' ने सन १९७९ मे किय था।

बुलिमिअ नर्वोसा एवं एनोरेक्सिआ नर्वोसा मे समान्ता होते हुए बी काफि भिन्नता है एवं दोनों को समझने में अस्मंजस की स्तिथि रहती है। बुलिमिआ में अध्कितर भोजन के पहले व्यक्ति लम्बे अन्तराल तक कुछ नहीं खाता है। बुलिमिआ नर्वोसा एनोरेक्सिआ नर्वोसा से कम घातक है किन्तु बुलिमिआ नर्वोसा मर्ज़ ज़्यदा घातक है। यह मर्ज़ महिलाओं में पुरुषों की अपेक्शा नौ गुना होता है एवं लगभग एक प्रतिशित महिलाओं में यह मर्ज़ पाया जाता है।

बुलिमिआ नर्वोसा मर्ज़ के व्यक्ति अधिकतर सामान्य वजन वाले होते हैं। इस्कि शुरुआत किशोरावस्था (१३ वर्श से २० वर्श तक कि आयु वर्ग) में होति है। अधिकतर मरीज़ पहले मोतापे से ग्रसित होते हैं एवं कुछ मरीज़ व्यस्क अवस्था में पूर्व में सफल इलाज के बावजूद फिर से अत्यधिक खाने एवं फिर वमन (उल्टी) कर उससे छुटकारा पाने के दौरों से ग्रसित होते हैं।

बुलिमिआ नर्वोसा से ग्रसित अप्ने आसपास एवं प्रेरणादायी मित्रोंं से अधिक आकर्षक दिखने कि होड में स्वयं आंतरिक प्रेरणा से प्रभावित होते हैं एवं शरिरिक सौंदर्य के दिवाने होते हैं। मिडिया द्वारा प्रदर्षित शरिरिक चेतना के समाचार, विग्यापन आदि भी इन मरीज़ों को प्रभावित करते हैं।

बुलिमिआ नर्वोसा के दो सम्विभाग हैं:

  • - जबरदस्ती वमन (उल्टी) करना एवं पाचन प्रक्रिया पूर्ण हि भोजन को बाहर निकालना।
  • - अत्यधिक आधार ग्रहण करने के पश्चात् लम्बे समय तक उपवास करना अथवा व्यायाम आदि करके शरिरिक वजन को सन्तुलित करना।

बुलिमिआ नर्वोसा के लक्शण:

  • - भोजन में कैलोरी का मापदण्ड निर्धारित करना
  • - शरीर के वजन के प्रति चैतन्य होन
  • - स्वाभिमान क स्तर नीचा होना
  • - रक्तचाप गिरना
  • - माह्वारी में अनियमितता होन
  • -बार बार शौच के लिये जाना
  • - अत्यधिक भोजन एक साथ करना
  • - अवसाद कि स्तिथि होना।

बुलिमिआ नर्वोसा से ग्रसित व्यक्ति अन्य मान्सिक बिमारियों से भी ग्रसित होत है।