सदस्य:Meghajoshymathew1830938

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Megha Joshy Mathew


Meghajoshymathew1830938
नाम मेघा जोशी मैथ्यू
जन्मनाम मेघा
लिंग महिला
देश Flag of India.svg भारत
नागरिकता भारतीय
शिक्षा तथा पेशा
पेशा छात्र
महाविद्यालय क्राइस्ट यूनिवर्सिटी
अनुक्र्म्ननिका
  • बचपन
  • परिवार
  • शिक्षा
  • शौक


बचपन
       
      मैं मेघा जोशी मैथ्यू हूं। वर्तमान में मैं क्रैस्ट विश्वविद्यालय बैंगलोर में अपनी डिग्री कोर्स कर रही हूं। मैं इतिहास अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में बीए की छात्रा हूं। मैंने केन्द्रीय विद्यालय पट्टम तिरुवनंतपुरम, देश के सबसे प्रसिद्ध स्कूलों में से एक में से अपना 12 वां मानक किया था। मेरा गृहनगर भगवान के अपने देश केरल की राजधानी है। मेरे पिता जोशी मैथ्यू हैं जो सरकारी कर्मचारी हैं और माता सिंधु जोशी  है जो एक गृहणी हैं। मेरी एक छोटी बहन है जिसका नाम नेघा है और वह कक्षा 5 वीं मे है। 
      जब मैं 5 वी कक्षा में थी, तब मैं प्राथमिक अनुभाग का स्कूल कप्तान चुनी गई और जब मैं 12 वी कक्षा में आई तब मुझे पूरे स्कूल की प्रमुख कप्तान के रूप में चुना गया। मेरे स्कूल ने आज यहां तक पहुंचने में मेरी बहुत मदद की। मेरे शिक्षकों ने मुझ पर इतना विश्वास किया जो मैं आज तक अपने ऊपर नही कर पाई। उन्होंने ही मुझे जीवन में संभाला और जब मैं गिरी तब मेरा हाथ थामा। यह मेरे शिक्षकों और मेरे परिवार की वजह से था कि मैं राष्ट्रीय स्तर पर बहस प्रतियोगिता में जा सकी जो दिल्ली में आयोजित हुआ था और तीसरा स्थान जीत पाई।


परिवार        

       मेरे पिता केरल राज्य सरकार की सेवा में आने से पहले भारतीय वायु सेना में थे। और एक सैनिक की बेटी होने के कारणा मुझे काफी फायदा हुई। मुझे देश के कई स्थानों पर जाने का मौका मिला। और मेरे  बारे में एक दिलचस्प बात है। मुझे मेघा नाम दिया गया क्योंकि मेरा जन्म मेघालय में हुआ था। जब मेरे पिता वायुसेना में थे तो मेरी मां विदेश में काम करती थीं। जब मेरे पिता वायु सेना से सेवानिवृत्त हुए तब हम त्रिवेंद्र आए गए और वहां बस गए। तब मेरी मां ने भी इस्तीफा दे दिया। मैं अपने शुरुआती समय में एक बहुत शर्मीला लडकी थी। लेकिन वह मेरी मां थी जिसने मुझे धैर्य दिया और मुसीबतों क सामना करना सिखाया। और मेरे पिता के समर्थन और मार्गदर्शन की कोई सीमा नहीं थी।

     

शिक्षा

         

        मैं स्कूल में मानविकी की छात्रा थी इसलिए सामाजिक विज्ञान हमेशा मुझे मोहित करता था। इसी वजह से मैंने क्रैस्ट में बीए एच.ई.पी चुना। इस कोर्स को चुनने के पीछे एक और कारण है। मैं एक महत्वाकांक्षी नागरिक नौकर हूं और मेरा मानना ​​है कि ये विषय निश्चित रूप से मेरी तैयारी में मेरी मदद करेंगी। जीवन ने मुझे बहुत कुछ सिखाया। उसने मुझे सही और गलत के बीच क फर्क सिखाया। मैं अब 17 वर्ष की हूं और मेरे सामने जाने के लिए एक लंबा रास्ता है और बहुत कुछ हासिल करने को भी बचा है। मेरा मानना ​​है कि भगवान की कृपा के साथ मैं अपनी चुनौतियों को जीत पाऊंगी। मुझे गिरने से डर नहीं है क्योंकि गिरना दौड़ का हिस्सा है, लेकिन मैं दौड़ को छोड़ने में विश्वास नहीं रखती। मै दौडना चाहती हूं, उडना चाहती हूं ,गिरना भी चाहती हूं, लेकिन कभी रुकना नही चाहती।

शौक

        मैं वह व्यक्ति हूं जो विभिन्न चीजों को आजमाने की कोशिश करती हु। और मेरा मानना ​​है कि मेरे पास अच्छे संचार कौशल हैं जो मुझे आसानी से दोस्तों को बनाने में मदद करती है। मुझे बहस और सार्वजनिक बोलने के लगभग सभी रूपों से प्यार है। और मुझे विशेष रूप से हिंदी कविताओं को पढ़ना अच्छा लगता है। मैं राष्ट्रीय स्तर पर बहस प्रतियोगिता में जा चुकी हूं जो दिल्ली में आयोजित हुआ था और तीसरा स्थान जीत चुकी हूं।