सदस्य:Manjunatha Pinnepalli/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मंजुनाथ पिन्नेपल्ली
225px
जन्म १८ जुलै १९९७
रयपुर्, बेल्लारी, कर्नाटका, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा क्रैस्ट युनिवर्सिटी कॉलिज, बेंगलूरु
धार्मिक मान्यता हिन्दू

मेरे बारे में

  नान मन्जुनाथ है ।मैं कर्नाटक का रहने वाला हुं। मेरे माता पिता अन्द्र प्रदेश से विस्थापित हुये और कर्नाटक मैं आकर बस गये जिस कारण् मुझे कन्नड़ के सात-सात तेलुगु भी आता हैं। मुझे इतिहास और राजनीति विज्ञान के विषय पसन्द है इस्लिये अभी मैं अभी क्राइस्ट विश्वविध्यालय में बि ए कि शिक्षा प्राप्त कर रहा हुं। मुझे इतिहास के अलग अलग कहानी के किताबे पड्ना पसन्द हैं।

मेरा सपना

   मैं आगे बड्कर राजनीतिज्ञ बन्ना चहता हु ताकि मैं देश की सेवा कर सकू या भार्तिय सेना मैं सैनिक बन्कर मेरा जीवन इस देश के अर्पण करना चहता हु। इस विश्वविध्यालय मेरे सपने को साकर कर्ने मेरि मदद कर रहा है। यहा के अध्यापको ने मुझे प्रोत्साहित कर रहे हैं। मैं कर्नाटक के छोटा सा गाँव मैं रहता था और मैं मेरा शिक्षा पूरा किया हु। मेरा छोटा सा गाँव के जीवन को देखने के बाद मैं इन लोगो के जीने का विदान को बद्लन चहता था । इस्लिये मैं राजनीतिज्ञ बन्कर इस कार्य को कतम करना का मन हैं। और मैं भारत के हर गाँव को बदलन चहत हु और इस को सफल करने के लिये मै प्रधान मन्त्री बन कर कतम करना चहता हु। प्रधान मन्त्री बनना मेरा जीवन का सपना हैं। कड़ी मेहनत और अच्छे दिल इंसान बनकर उस मन्त्री के पद का योग्य बनना की कोशीश कर रहा हू। भारत के आन शान पुनर जीवित करूंगा। मैं धार्मिक हौ और उस्से से ज्यदा आध्यात्मिक और दार्शनिक आद्मि बनना चहता हु। इनसे हमारि अच्छि व्यक्तित्व बडेगा और मानव के विकासित के लिये अवश्यक गुण हैं।
     

प्रेरणास्रोत

    मैं भगवान क्रिश्ण का भक्त हुं। वाह् मेरे गुरु और संरक्षक हैं। उस्कि कहानिय और लीलओने मुझे मोहित करते हैं। मैं सभी धर्मों की आदर करता हू और सब्का भगवन एक ही हैं। मुझे किसी धर्म और इनसान से भाव बेद नहीं हैं। हम सभी एक ही भगवान के बच्छे हैं। इस सोच से हर एक् मानव मे शान्ति और प्रगति होति और इस प्रुथिवि को स्वर्ग बना सक्ते हैं। इन सोचो ने मुझे विकासित होने मे मदद कर रहे हैं। सभी अच्छे चीज सीक्ने के लिये विध्यालय सही जगह हैं और हर छात्रा को यही पर सीकन हैं क्योंकि आजकल के छात्रा आगे के भारत के भविश्य हैं।