सदस्य:Maaz 1510132/भारतीय बैंकिंग क्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारतीय बैंकिंग क्षेत्र[संपादित करें]

भारतीय बैंकिंग प्रणाली का इतिहास[संपादित करें]

भारत में पहला भारतीय बैंक, जनरल बैंक ऑफ इंडिया था. इसे वर्ष 1786 में स्थापित किया गया था. ईस्ट इंडिया कंपनी नें (1840ईस्वी में) बैंक आफ मुंबई, (1843ईस्वी में) बैंक आफ  मद्रास और (1809 ईस्वी में) बैंक आफ बंगाल/कोलकाता की स्थापना की थी. ये तीनो बैंक संयुक्त रूप से प्रेसीडेंसी बैंक के नाम से जाने जाते थे. इसी तरह बैंक आफ हिंदुस्तान की स्थापना वर्ष 1870 में की गयी थी. इलाहाबाद बैंक की स्थापना  वर्ष 1865 में की गयी थी. साथ ही पंजाब नेशनल बैंक लिमिटेड को 1894 ईस्वी में स्थापित किया गया था. इस बैंक का मुख्यालय लाहौर में था. 1906 और 1913 के मध्य सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन बैंक, मैसूर बैंक और केनरा बैंक स्थापित किए गए थे. वर्ष 1921 में, सभी प्रेसीडेंसी बैंकोण को विलय करके इम्पीरियल बैंक बना दिया गया जोकि यूरोपीय शेयर धारकों के द्वारा संचालित किया जाता था. इन सभी बैंको के भारतीय रिजर्व बैंक वर्ष 1935 में स्थापित किया गया था.

भारतीय बैंकों का वर्गीकरण [संपादित करें]

भारतीय बैंकों निम्नलिखित भागों में वर्गीकृत किये गए हैं:

• वाणिज्यिक बैंक

• सहकारी बैंक

वाणिज्यिक बैंको के अंतर्गत शामिल हैं:

1) अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक

अनुसूची वाणिज्यिक बैंकों में निम्नलिखित बैंक सम्मिलित हैं:

• निजी बैंक

• सार्वजनिक बैंक

• विदेशी बैंक

• क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

2) गैर-अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के अंतर्गत सम्मिलित हैं:

सहकारी बैंक

सहकारी बैंकों में शामिल हैं:

• शहरी सहकारी बैंक

• ग्रामीण सहकारी बैंक

अनुसूचित बैंक: अनुसूचित बैंक उन बैंकों को कहते हैं जो भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम 1934 की दूसरी अनुसूची में शामिल हों. ध्यान रहे कि भारतीय रिजर्व बैंक सिर्फ उन्हीं बैंकों को इस सूची में शामिल करता हैं जो बैंक की धारा 42(6ए) में अधिनियमित मानदंडो को पूरा करते हैं.

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक: भारत सरकार ने 2 अक्टूबर, 1975 को क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की स्थापना की थी. ये बैंक ग्रामीण क्षेत्रों में मुख्य रूप से छोटे और सीमांत किसानों और  छोटे उद्यमियों एवं खेतिहर किसानों और मजदूरों के लिए ऋण अनुदान की व्यवस्था करते हैं।

भारतीय बैंकिंग के बाजार का आकार[संपादित करें]

बाजार भारतीय बैंकिंग प्रणाली का आकार 26 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, 25 निजी क्षेत्र के बैंकों, 43 विदेशी बैंकों, 56 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, 1,589 शहरी सहकारी बैंकों और 93,550 ग्रामीण सहकारी बैंकों, सहकारी ऋण संस्थानों के अतिरिक्त होते हैं। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का लगभग 80 प्रतिशत नियंत्रण , जिससे अपेक्षाकृत बहुत छोटे शेयरों के लिए अपनी निजी साथियों छोड़ने। बैंक भी अपने ग्राहकों के मोबाइल फोन का उपयोग कर अपने वित्त का प्रबंधन करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। चार बार वर्ष-दर-वर्ष और कूद द्वारा 46 फीसदी रु 49,029 करोड़ के लिए पिछले महीने से अधिक (अमेरिका 7.34 अरब डॉलर), भारतीय रिजर्व बैंक से डेटा के अनुसार दिसम्बर 2015 में मोबाइल बैंकिंग लेनदेन के मूल्य वृद्धि हुई है।

सरकार की पहल सरकार और नियामक भारतीय बैंकिंग क्षेत्र को मजबूत करने के लिए कई उपाय किए हैं।[संपादित करें]

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) प्रमाण पत्र , जिसके अनुसार बैंकों PSLCs के चार अलग प्रकार जारी कर सकते हैं ऋण प्राथमिकता क्षेत्र के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं-उन लोगों के लिए कृषि ऋण देने, छोटे और सीमांत किसानों, सूक्ष्म उद्यमों को ऋण देने के लिए उधार में कमी और समग्र ऋण लक्ष्य उनकी प्राथमिकता को पूरा करने के लिए-के लिए उधार लक्ष्य क्षेत्र।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अतिरिक्त सुरक्षित रखता है जो क्रमश: तट (अमेरिका 734 करोड़ डॉलर) करने के लिए सरकारी बैंकों और निजी स्वामित्व वाली बैंकों द्वारा रु 35,000 करोड़ तक की राजधानी (अमेरिका 5.14 अरब डॉलर) और 5,000 करोड़ रुपये तक की उम्मीद है टियर-1 या कोर पूंजी पुनर्मूल्यांकन भंडार संपत्ति जोत, विदेशी मुद्रा अनुवाद भंडार और आस्थगित कर आस्तियाँ, करने के लिए लिंक किए गए रूप में, बैंकों के का हिस्सा बनने के लिए अनुमति दी गई है।

भारत सरकार जो प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) के तहत इन लाभों से बाहर रखा करने के लिए बीमा, पेंशन और ऋण सुविधाओं का विस्तार करना है। सूक्ष्म और लघु उद्यमों (सम्भवन) द्वारा वित्त करने के लिए एक आसान उपयोग की सुविधा के लिए, सरकार/आरबीआई क्रेडिट गारंटी निधि सम्भवन 1 करोड़ रुपए (अमेरिका $ 0.15 करोड़) तक बढ़ा संपार्श्विक मुक्त ऋण सुविधाओं के लिए गारंटी कवर प्रदान करने के लिए योजना शुरू की है। इसके अलावा, सूक्ष्म इकाई विकास पुनर्वित्त एजेंसी (मुद्रा) लिमिटेड भी स्थापित किया गया था सभी सूक्ष्म वित्त संस्थानों, जो करने के लिए सूक्ष्म ऋण के व्यवसाय में हैं पुनर्वित्त / विनिर्माण, व्यापार और सेवा गतिविधियाँ रु में लघु व्यवसाय एंटिटी रु १० लाख (मिलियन अमेरिकी डॉलर 0.015) लगे हुए।

सन्दर्भ[संपादित करें]

[1]

[2]

  1. http://www.ibef.org/industry/banking-india.aspx
  2. https://en.wikipedia.org/wiki/Banking_in_India