सदस्य:Kundu.priti.pr/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एनी॰ज एक्स्ले
NASA Science and Engineering Newsletter Annie Easley.jpg
जन्म २३ अप्रेल १९३३
बर्मिंघम, अलबामा
मृत्यु मृत्यु का दिनांक और उम्र
क्लेवलेंड, ओहियो
राष्ट्रीयता अमेरिकन
शिक्षा गणित से स्नातक, १९७७
व्यवसाय कंप्यूटर इंजीनियरिंग
नियोक्ता लुईस रिसर्च सेंटर राष्ट्रीय वैमानिकी और अन्तरिक्ष प्रबंधन (नासा)
प्रसिद्धि कारण नाका का कार्य

विज्ञान एक ऐसा क्षेत्र है जिसका बिना मानव का जीवन अधूरा है। विज्ञान तर्रकी के साथ बदलाव भी लाता है।विज्ञान कि सहायता से हम शिक्षा ,ऐ.टी सनाथा ,चिकत्सालय ,रोजगार ,कृषि ,खेल,समाचार ,कला एवं तकनीकीकरण आदि क्षेत्रो में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।विज्ञान की सहायता साईं हर एक का रोजनाजीवन सरल सोगया है।विज्ञानं हमारे जिंदगी एक महत्व हिस्सा बनचूका है। वह हमारी रोज मरहा की जिंदगी में कदम - से -कदम मिलाकर साथ चलता है। विज्ञानं हमारेजीवन की पहलुओ में इस प्रकार जुड़ गया है कि जिसके बिना एक पल बिताना भी स्वपन के सामान हो गया है। आधुनिक तकनीकीकरण में ,इस क्षेत्र का योगदान बहुमूल्य है। विज्ञानं समाज के लिए हे नहीं ,बल्की प्रति एक मानव के जीवन में एक वरदान है। इस क्षेत्र में प्रगति की ही नही बल्की नए खोज की भी अपेक्षा कर सकते है। विज्ञानं लाभदायक भी है,लकिन उसका दुरुपयोग भी कई लोग करते है।इस क्षेत्र में पुरुष एवं महिला इन दोना का योगदान बहमूल्य है। कंप्यूटर विज्ञान की दुनिय मे छोटे से लेकर बड़े ,दोनों इससे जुड़चुके हे।कंप्यूटर विज्ञान की दुनिया में महिलाओ की भी योगदान हे। कइ महिला वैज्ञानिक कंप्यूटर विज्ञान की तर्रकी के लिया अप्पन जीवन एवं समय को उसकी ओर समर्पित्त किया। ऐसी हे एक महिला एनी॰ज एक्स्ले हे,जो सामाजिक बढ़ाओ को पर कर ,अपनी आत्त्मसम्मान से आगे बढ़ा।

एनी जे एक्स्लेय (२३ अप्रैल १९३३ - २५ जून २०११ ) एक अफ्रीकी- अमेरिकी कंप्यूटर वैज्ञानिक, गणितज्ञ और रॉकेट वैज्ञानिक थी। वह नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के लुईस अनुसंधान केंद्र (नासा) के लिए काम किया है।वह नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के लुईस अनुसंधान केंद्र (नासा) के लिए काम किया है और। अपने पूर्ववर्ती, वैमानिकी के लिए राष्ट्रीय सलाहकार समिति (नासा)। वह सेंटूर रॉकेट मंच और उसके क्षेत्र में पहले अफ्रीकी-अमेरिकियों में से एक के लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया है, जो टीम के एक प्रमुख सदस्य थे।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

एनी जे. एक्स्लेय बर्मिंघम के अलबामा में पैदा हुई थी। इनके माता का नाम बड म्क्क्रोर्य और पिता का नाम विली सिम्स था। नागरिक अधिकार आंदोलन से पहले के दिनों में, अफ्रीकी- अमेरिकी बच्चों के लिए शैक्षिक और कैरियर के अवसर बहुत सीमित थे।अफ्रीकी अमेरिकी बच्चों में गोरे बच्चों अधिक शिक्षित थे और उनके स्कूलों में गोरे बच्चो को स्कूलों में अव्वल में रखा जाता था । उसकी माँ चाहती थी कि वह कुछ भी बन सकती है, लेकिन वह इस पर परिश्रम करना होगा और उन्होने बताया कि एनी भाग्यशाली है । वह एक अच्छी शिक्षा पाने के लिए उसे प्रोत्साहित किया और उच्च विद्यालय में मध्यम से पांचवीं कक्षा तक शिक्षा ग्राह्यण किया ,उसने एक संकीर्ण स्कूल में भाग लिया और उसे स्नातक वर्ग के प्रथम पुरुस्कार मिला था।


हाई स्कूल के बाद उसने कहा कि वह लगभग दो साल के लिए जेवियर विश्वविद्यालय में फार्मेसी का कार्य करेगी, तो एक अफ्रीकी अमेरिकी रोमन कैथोलिक विश्वविद्यालय के लिए, न्यू ऑरलियन्स, लुइसियाना के लिए चली गयी । १९५४ में वह बर्मिंघम में वापस लौट आयी।उसने जातीय असमानता की स्थापना की और जिम को कानूनों के हिस्से के रूप में बनाए रखा था, अफ्रीकी अमेरिकियों एक महती साक्षरता परीक्षापास कि और मतदान करने के क्रम में एक जनमत सर्वेक्षण कर का भुगतान किये थे। वह परीक्षण दाता उसके आवेदन पर विचार कर कि और केवल यह कह याद रखना होता था, आप जेवियर विश्वविद्यालय के लिए है। इसके बाद दो डॉलर मे, वह अन्य अफ्रीकी अमेरिकियों की परीक्षा के लिए तैयार करने में मदद की। १९६३ में, बर्मिंघम शहर के व्यापारियों की नस्लीय अलगाव बर्मिंघम अभियान का एक परिणाम के रूप में समाप्त हो गया और १९६४ में चौबीसवें संशोधन संघीय चुनाव में सर्वेक्षण कर गैरकानूनी घोषित किया। लेकिन यह वोटिंग अधिकार अधिनियम साक्षरता परीक्षा का सफाया कर दिया है था। शीघ्र ही, वह शादी की और अपनी पढ़ाई जारी रखने के इरादे से क्लीवलैंड के लिए ले चली गयी। दुर्भाग्य से, स्थानीय विश्वविद्यालय के एक छोटे से समय से पहले अपनी फार्मेसी कार्यक्रम समाप्त हो गया था और उनके पास विकल्प मौजूद था।

नाका() और नासा मे कैरियर[संपादित करें]

1955 में वह कंप्यूटर नौकरी के लिए आवेदन देने के लिए में वैमानिकी के लिए राष्ट्रीय सलाहकार समिति (NACA) के लिए काम करने लगी उसने जुड़वां बहनों पर एक कहानी के बारे में एक स्थानीय अखबार के लेख पढ़ा। दो सप्ताह के भीतर वह बारे में २५०० कर्मचारियों की चार अफ्रीकी अमेरिकियों में से एक, काम पर रखा था। वह NACA लुईस उड़ान प्रोपल्सन लेबोरेटरी में एक गणितज्ञ और कंप्यूटर इंजीनियर के रूप में अपने कैरियर शुरू किया (नासा लुईस रिसर्च सेंटर, 1958-1999 बन गया है जो, और बाद में जॉन एच ग्लेन रिसर्च सेंटर) क्लीवलैंड, ओहियो में बन गया। उसने एजेंसी के लिए काम करना शुरू कर दिया, जबकि वह अपनी शिक्षा जारी राखी और १९७७ में, वह क्लीवलैंड राज्य विश्वविद्यालय से गणित में विज्ञान की स्नातक उपाधि प्राप्त की। एक सतत शिक्षा के हिस्से के रूप में एक्स्ले नासा द्वारा की पेशकश की विशेषज्ञता पाठ्यक्रम के माध्यम से काम किया।

उसके ३४ साल के कैरियर मे सेंटूर उच्च ऊर्जा ऊपरी रॉकेट चरण समर्थित ऊर्जा की समस्याओं को हल करने के लिए सौर और पवन ऊर्जा परियोजनाओं पर कार्य किया। ऊर्जा रूपांतरण सिस्टम और वैकल्पिक सिस्टम चुना गया है, विकासशील और वैकल्पिक ऊर्जा प्रौद्योगिकियों का विश्लेषण किया जो की कंप्यूटर कोड को लागू करने में शामिल थे। उसकी ऊर्जा कार्य जैसे बिजली उपयोगिता वाहनों में इस्तेमाल उन लोगों के रूप में भंडारण बैटरी के जीवन का उपयोग निर्धारित करने के लिए अध्ययन शामिल थे। उसे कंप्यूटर अनुप्रयोगों के व्यावसायिक रूप से उपलब्ध प्रौद्योगिकियों पर सुधार का प्रस्ताव किया था जो कि ऊर्जा रूपांतरण प्रणालियों की पहचान करने के लिए इस्तेमाल किया गया है। वह १९८९ में सेवानिवृत्त हो गयी।

सेंटूर परियोजना के साथ एक्स्ले के काम अंतरिक्ष शटल प्रक्षेपण और संचार, सैन्य और मौसम उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए तकनीकी नींव के रूप में मदद की। उसका काम अपने ऊपरी चरण के रूप में सेंटूर था लांचर, जिनमें से कैसिनी जांच का शनि, १९९७ उड़ान के लिए योगदान दिया।

एनी एक्स्ले सैंड्रा जॉनसन द्वारा २१ अगस्त २००१ पर, क्लीवलैंड में साक्षात्कार कि गयी थी। साक्षात्कार नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन जॉनसन स्पेस सेंटर मौखिक इतिहास कार्यक्रम में संग्रहित है। ५५ पन्ने साक्षात्कार प्रतिलिपि नागरिक अधिकार आंदोलन, ग्लेन रिसर्च सेंटर, जॉनसन स्पेस सेंटर के इतिहास, अंतरिक्ष उड़ान, और अंतरिक्ष उड़ान के लिए महिलाओं के योगदान पर सामग्री भी शामिल है।

निष्कर्ष[संपादित करें]

शायद इसलिए कहते है,'बाटी पढ़ाओ , देश को आगे बढ़ाओ'।एनी॰ज एक्स्ले ज़ी का योगदान अपने लिए ही नहीं, बल्की पुरे संसार के लिए लाभदायक हुआ। उस ज़माने मे विज्ञानं को समझना और उसको प्रयोग में लाना एक कठिन कार्य था। लेकिन एनी॰ज एक्स्ले जीने उन कठिन परिस्थति का सामना कर कंप्यूटर जगत को एक अमूल्य योगदान प्रधान किया है। वे महिला होकर भी, उस ज़माने में अपनी पढ़ाई पूरी की और उस क्षेत्र में अपना रूचि दिखाया। यह उनके मेहनत के कारण संभव होसका। वे कठिन-से-कठिन परिस्थितियो का सामना किया और ज़िन्दगी के इस मुकाम पर पहुंचे। इसलिए एक बेटी को शिक्षित करना मतलब, एक पूरी परिवार को शिक्षित करना।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Wikisource
विकिसोर्स में Kundu.priti.pr/प्रयोगपृष्ठ लेख से संबंधित मूल साहित्य है।