सदस्य:Kanchan.m97/तेजी ग्रोवर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तेजी ग्रोवर

परिचय[संपादित करें]

तेजी ग्रोवर एक हिन्दी कवि, कथा लेखक अनुवादक और चित्रकार है। वह कवि और आलोचक अशोक वाजपेयी के अनुसार सन् १९५० के बाद पैदा हुए पीढ़ियो में हिन्दी कविता में एक महात्वपूर्ण आवाज के रूप में माना जाता है। "तेजी ग्रोवर हिन्दी कवीता की प्रचलित मुहावरे से दूर उसकी भाषा आकार में उसकी कविता की भाषा एक रूप है जो अद्वितीय है। प्राप्त कर लेते है।" उनकी कविताओं में कई भारतीय और विदेशी भाषाओं मे अनुवाद किया गया है। ग्रोवर की कल्पना अपने बुनाई और हकीकत है,समय के अतीत, वर्तमान और भविष्य और पौराणिक और हर रोज इस तरह से की निर्बाध सम्मिश्रण लेखन और हर बात प्रबल करने के लिये आता है। पॉलिश हिन्दी विद्वान के रूप में कमिला जूनिक, उसके उपन्यास नीला (ब्लू) के बारे में लिखा गया है,सभी पात्रों के बारे में। सभी घटनाओं लिखा जा रहा है। अस्तित्व के रूप में अच्छी तरह से लिखा जा रहा है। वहाँ लिखने से परे कोई अन्य दुनिया है।उसे कई अनुवाद के माध्यम से, तेजी ग्रोवर ऐसे जॉन नहर,गुन्नार,हंस,लार्स,एडिथ के रूप में सबसे महत्वपूर्ण आधुनिक स्कैंडिनेवियाई लेखकों और, हिन्दी पाठक के कवियों में से कुछ को पेश किया है हैरी मार्टिनसन, टॉमस,लार्स और आन येदरलुण्ड के रूप में भी विवादास्पद फ्रांसीसी लेखक गुलबहार। एक सार चित्रकार, ग्रोवर जैविक और प्राकृतिक रंगों का उपयोग करता है; उत्तरार्द्ध में वह खुद बनाता है।

जीवन[संपादित करें]

तेजी ग्रोवर पठानकोट, भारत में पंजाब राज्य में एक छोटे से शहर में ७ मार्च १९५५ को पैदा हुए थे। वह अंग्रेजी साहित्य एमसीएम डीएवी कॉलेज में महिलाओं के लिए चंडीगढ़ में दो दशक से अधिक के लिए एक पूर्णकालिक लेखक और चित्रकार तो वह किया गया है क्योंकि २००३ में जल्दी सेवानिवृत्ति लेने से पहले पढ़ाया जाता है। वह वर्तमान में भोपाल,मध्य प्रदेश में आधारित है।

पुरस्कार[संपादित करें]

वह निम्नलिखित पुरस्कार और फेलोशिप प्राप्त हुआ है कविता के लिए भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार १९८९ राइटर में निवास निदेशक, प्रेमचंद सृजनपिथ, उज्जैन (१९९५-१९९७)। वरिष्ठ फेलो (साहित्य), संस्कृति विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत, नई दिल्ली की सरकार और सैयद हैदर रजा (एस.एच. रज़ा) कविता (२००३) के लिए पुरस्कार।

कार्य[संपादित करें]

यहाँ कुछ अंधेरी और तीखी नादी (भारती भाषा प्रकाशन, दिल्ली, १९८३); लो कहा समबारी (नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली, १९९४); चींटी की कुछ और कविताए (वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली, २०००); तथा मैत्री (सूर्य प्रकाशन मंदिर, बीकानेर, २००८,एक्स)। संग्रह लो कहा संभारी के दूसरे संस्करण में वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली द्वारा २०१६ मे प्रकाशित किया गया था ।


उसकी कविताएं भी निम्नलिखित पुस्तकों में लगा:

जैसे परम्परा सजाते ह्यू (पराग प्रकाशन, दिल्ली, १९८२), तीन साथी कवियों ने कविताओं का एक संकलन; तथा तेजी और रुस्तम की कविताए, एक दो-एक, कविताओं की किताब दो तरफा २००९ में हार्पर भारत ने प्रकाशित किया। ग्रोवर कथा के दो पुस्तकें प्रकाशित किया है। एक उपन्यास नीला (वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली तथा लघु कथाएँ सपने में प्रेम की सात कहानिया का एक संग्रह (वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली)उसके उपन्यास के दूसरे संस्करण २०१६ में बाहर आया था (वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली)।

ग्रोवर भी निबंध, संस्मरण और यात्रा वृत्तांत का एक संग्रह प्रकाशित किया है:

नीला घर और दूसरी यात्राये (वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली, 2016, ISBN 978-93-5229-365-0)

तेजी ग्रोवर द्वारा अनुवाद[संपादित करें]

तेजी ग्रोवर हिंदी में निम्नलिखित कार्यों अनुवाद किया गया है:

फ्रांसीसी से

  • ला डे ला रंडी, गुलबहार दुरस द्वारा एक उपन्यास मलदिए, शीर्षक के तहत म्रित्युरोग।

लातवियाई से

  • जीवन-कहानियां, नोरा इक्तेसना द्वारा छोटी कहानियों का एक संग्रह, शीर्षक जीवन-गथयेन के तहत।

सन्दर्भ[संपादित करें]