सदस्य:KRISHNA IYER S/प्रयोगपृष्ठ/nematode destroying fungi

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
                                                      निमेटोड- नाशक कवक


हार्पोस्पोरियम एनगिलुला के साथ एक मृत निमेटोड जो इससे बाहर निकल रहा है। क्रमांकित टिक 122 edm अलग हैं।
पिछली छवि से एच। एनगिलुला कवक पर एक करीब से नज़र डालें। क्रमांकित टिक 20 20m अलग हैं।
जीनस आर्थ्रोबोट्रोज़ का एक कवक, चिपकने वाला जाल दिखा रहा है जो इसे नेमाटोड को फंसाने के लिए उपयोग करता है।; क्रमांकित टिक 122 edm अलग हैं।

जैविक खेती अथ्वा कृषि जैविक नियंत्रण[संपादित करें]

जीवों का जैविक नियंत्रण, आज जैविक खेती का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। कृषि मैदान की स्थिति में आज, कई नई प्रौद्योगिकियों एवं योजनाओं की स्थाप्ना की जा रही है जो पर्यावरण के अनुकूल एवं पर्यावरण की ओर संवेदनशीलता का ध्यान रखते हुए फसल उगाने में मददगार हो सके। सालों से खेती-बाड़ी में उपयोग किये जा रहे कीटनाशकों और रसायनों नें मानव- जाति की लालसा एवं अभिलाषाओं को जवाब देते हुए उलटे असर दिखाए है। और इसलिए, आज विज्ञान और जैव प्रौद्योगिकी की मदद से मानव ने ऐसे कुछ प्रावधान किए हैं जिनसे हमने खेती करने की कुछ ऐसी नई योजनाओं को असरदार बनाया है जिनसे हम अच्छी उपज के साथ- साथ पर्यावरण- हितैषी खेती का अभ्यास करने में सफल हो सकें। फसल की वृद्धि को प्रभावित करने वाली कई कीट खेतों में पाये जा सकते है। कृषि क्षेत्र की स्थितियों में, फसलों के पोषण और रखरखाव के अलावा, कीटों के भारी भार को रोकना महत्वपूर्ण है जो फसल के विकास को प्रभावित करते हैं।

कृषि एवं निमाटोड[संपादित करें]

निमाटोड ऐसे एक जीव हैं जो विशिष्ट बीमारियों के माध्यम से कई फसलों के विकास पर भारी प्रभाव डालते हैं। काफी अरसे से इन जीवों का नियंत्रण "निमाटोसाइड्स" और रसायनों की अन्य श्रृंखलाओं के उपयोग से किया जाता गया है परंतु समय के साथ रसायनों के बुरे प्रभावों का नतीजा हमारे सामने आता गया है। रसायनों की भारी मात्राओं के उपयोग के कारण होने वाली विविध समस्याएं- जैसे पर्यावरण प्रदूषण एवं "पारिस्थितिक तंत्र" पर इसके दुष्प्रभावों ने कई सवाल उथाए हैं। और इसलिए, "एकीकृत कीट प्रबंधन प्रणाली" के ज्ञान को शामिल करते हुए, विशेष रूप से नेमाटोड को मारने वाली कुछ फंगल प्रजातियों को तैनात करके फसलों पर इन निमाटोड के प्रभाव को रोकने के लिए नई तकनीकों का विकास किया गया है।

निमाटोड का जैविक नियंत्रण[संपादित करें]

निमाटोड- मारने वाले फंगी या "नेमाटोफेजस कवक", पूर्ववर्ती- हिंसक कवक हैं जिन्होंने ऐसी विधियों और संरचनाओं का विकास किया है जो उन्हें सफलतापूर्वक जाल फैलाकर निमेटोड का उपभोग करने में सक्षम बनाते है। नेमाटोड- मारने वाले कवक नेमाटोड जनसंख्या को जांच में रखने के लिए जिम्मेदार हैं। ये कवक नेमाटोड का शिकार करते हैं और बदले में अगले ट्रॉफिक स्तर पर जीवों द्वारा खाये जाते है।

निमाटोड जैविक नियंत्रण के तरीके[संपादित करें]

नेमाटोफेजस कवक अपने शिकार का शिकार करने के लिए कई तरीकों का उपयोग करते हैं। इन विधियों में निमाटोड के भीतर रहने और धीरे-धीरे उन्का उपभोग करने के साथ-साथ निमाटोड आबादी के माध्यम से बीमारियों को फैलाना शामिल है।[1] कवक भी मिट्टी में रहते हैं और निमाटोड के लिए जाल फैलाने का काम करते हैं। निमाटोफेगस कवक और निमाटोड, मिट्टी में रहते हुए एक विशेष शिकारी-शिकार संबंध साझा करते हैं। कई अन्य मिट्टी के निवासियों की तरह निमाटोड, मिट्टी के माध्यम से यात्रा करते समय, अपने भीतर से रसायनों को अपने आस- पडोस की मिट्टी में अलग करते हैं। इन निमेटोडों पर शिकार करने वाले फंगी को इन रसायनों के अस्तित्व का पता लगाने और उनका जवाब देने का एक तरीका मिला है जिससे वे उनको पकडने में कामयाब होते हैं। कवक ने नेमाटोड को बाहर एवं अंदर से हमला करके फंसाने के कई परिष्कृत तरीकों का विकास किया है। अपने शिकार का प्रभावी ढंग से शिकार करने के लिए, कवक की कई प्रजातियों ने नेमाटोड द्वारा छोडे जाने वाले कुछ जैव-रसायनों का पता लगाने की क्षमता विकसित की है। ये जैव- रसायन नेमाटोड अपने संचार और भ्रमण के लिए उपयोग करते हैं। निमाटोड के, कवक के बहुत करीब घूमने के समय, कवक इन जैव-रसायनों का पता लगाने में सफल होते हैं।[2] जब- कभी कवक को एसे पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जो वे अपने आहार में उपलब्ध नहीं करावा पाते है, वे उस क्षेत्र में जाल पैदा करते हैं जिसमें उसने रसायनों का पता लगाया होता है अथ्वा नीमाटोड के होने के आसार होते है। इस प्रकार प्रभावी रूप से शिकार का शिकार किया जाता है। नेमाटोड की विभिन्न प्रजातियां बायो-रसायनों की विभिन्न किस्मों का उत्पादन करती हैं। कवक फिर उस क्षेत्र में जाल का निर्माण करते हैं जिसमें कवक निमाटोड द्वारा स्रावित रसायनों का पता लगाने में सफल हो पाते हैं। यह रासायनिक- छिद्रण घटना कथित कुछ प्रजातियों जैसे "आर्थोबोट्रीज ओलिगोस्पोरा" द्वारा की जाती है।[3]

निमाटोड को जाल में फसाने के यंत्र[संपादित करें]

फंगी अपने शिकार को नीमटोड के अंगो पर फंसाने के लिए भी कई तरीकों का उपयोग करते हैं। ये कवक बाहर से और अंदर से भी हमले कर सकते हैं। निमेटोड्स को जाल में फसाने के लिए कवक द्वारा उपयोग की जाने वाली एक विधि फंगल की अंगूठी है। कवक "हाइफा" उत्पन्न करते हैं जो एक खुले बांधने वाले लूप में समाप्त होते है।[4] जब एक निमाटोड इस लूप के माध्यम से तैरता है जिसके बाद लूप अचानक पानी से भर जाता है। लूप के शरीर विज्ञान में यह अचानक परिवर्तन लूप के अंदर के व्यास को संकीर्ण करने का कारण बनता है और बदले में निमाटोड के आसपास घिर जाता है। चौबीस घंटों के अंदर, लूप के भीतर से हाइफ़ा पैदा होकर निमाटोड में प्रवेश करता है तथा उन्हें पचाने लगता है।[5] आमतौर पर "नेमाटोफैगस कवक" द्वारा उपयोग की जाने वाली एक अन्य विधि चिपकने वाला हाइफ़ा का उपयोग है। कवक संरचना के भीतर नेमाटोड को फंसाने के लिए ऐसी संरचनाएं बनाती है और चिपकने वाले हाइफ़ा का उपयोग करके नेमाटोड को आसानी से फंसा जाते है। इससे नाइट्रोजन समृद्ध भोजन कवक को प्रदान किया जाता है।

अत: निमाटोड फंसाने के लिये कवक ऊपर सूचीबद्ध दोनों विधियों का उपयोग कर सकते हैं। कवक के कुछ परिवार नेमाटोड को पकड़ने के लिए चिपकने वाले "क्नोब्स" का उपयोग भी करते हैं। निमाटोड के पकडे जाने के बाद, कवक एक "निमाटोसाइड" को युक्त करते हैं जो निमाटोड को मारते हैं।[6] हालाकि यह अतिरिक्त कदम सभी कवक द्वारा उपयोग नहीं किया जाता है। यह एक अतिरिक्त कदम हैं जो पक्की तौर पर पकड़े गए उन निमाटोड का बचना असमर्थ कर देता है। जबकि कई तरह के कवक ने नेमाटोड को पकड़ने के लिए जाल का उपयोग किया है, वहां भी ऐसे कवक हैं जो निमाटोड के भीतर रहते हैं और वहां से नुकसान का कारण बनते हैं। निमेटोड के भीतर रहने वाली फंगी- कवक की प्रजातियों के आधार पर किसी भी स्तर पर नेमाटोड को संक्रमित किया जा सकता हैं। कवक अपने संक्रमण मुंह के माध्यम से या कर्कश रूप से नीमाटोड पर आक्रमण करता है।[7] नेमाटोड के भीतर से, कवक नेमाटोड के विकास के लिए पोषक तत्वों का उपभोग कर सकते हैं और सक्षम होने पर अन्य नेमाटोड में फैल सकते हैं। ये "एंडोपेरासिटिक" कवक एक समुदाय में कम समय में फैल सकते हैं और पूरी प्रक्रिया में निमाटोड की पूरी आबादी को कमजोर कर सकता है।

संदर्भ[संपादित करें]

[8] [9] [10] [11] [12] [13]

[14]

  1. https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2452316X17302223
  2. www.researchgate.net/publication/228207543</
  3. https://en.wikipedia.org/wiki/Nematophagous_fungus
  4. https://books.google.co.in/books?hl=en&lr=&id=uWGlO2oJP_AC&oi=fnd&pg=PA419&dq=INTERACTIONS+BETWEEN+NEMATOPHAGOUS+FUNGI+AND+PLANT-PARASITIC+NEMATODES:+ATTRACTION,+INDUCTION+OF+TRAP+FORMATION+AND+CAPTURE++BY++HANS-BORJE+JANSSON+and+BIRGIT+NORDBRING-HERTZ+University+of+Lund,+Department+of+Microbial+Ecology,+Ecology+Building,+Lund,+Swed&ots=DsUispMXiB&sig=uSrMpAeUaLjq84NafkV9eqRCBTg#v=onepage&q&f=false
  5. http://www.els.net/WileyCDA/ElsArticle/refId-a0000374.html
  6. www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2618028/
  7. https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2452316X17302223
  8. https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2452316X17302223
  9. https://en.wikipedia.org/wiki/Nematophagous_fungus
  10. http://www.els.net/WileyCDA/ElsArticle/refId-a0000374.html
  11. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2618028/
  12. https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2452316X17302223
  13. https://www.researchgate.net/publication/228207543
  14. https://books.google.co.in/books?hl=en&lr=&id=uWGlO2oJP_AC&oi=fnd&pg=PA419&dq=INTERACTIONS+BETWEEN+NEMATOPHAGOUS+FUNGI+AND+PLANT-PARASITIC+NEMATODES:+ATTRACTION,+INDUCTION+OF+TRAP+FORMATION+AND+CAPTURE++BY++HANS-BORJE+JANSSON+and+BIRGIT+NORDBRING-HERTZ+University+of+Lund,+Department+of+Microbial+Ecology,+Ecology+Building,+Lund,+Swed&ots=DsUispMXiB&sig=uSrMpAeUaLjq84NafkV9eqRCBTg#v=onepage&q&f=false