सदस्य:Greeta 99/WEP 2018-19

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्रदीप कुमार बैनरजी
व्यक्तिगत विवरण
पुरा नाम प्रदीप कुमार बैनरजी
जन्म मिति | date of birth =1914/28/02
जन्म स्थान जलपाईगुड़ी, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
खेल्ने स्थान स्ट्राइकर
युवा क्लब
१९५१ बिहार
सिनियर क्लब*
बर्ष क्लबहरू खेल (गोल)
१९५४ आर्यन एफ.सी.
१९५५–१९६७ पूर्वी रेलवे एफ.सी.
  • बरिष्ठ फुटबल क्लबमा उपस्थिति तथा खेल्दा गरेको गोल (गोललाई घरेलु लिगमा गरेको गनिनेछ) .


प्रदीप कुमार बैनरजी भूतपूर्व भारतीय फुटबॉलर और फुटबॉल कोच थे। उस्का जन्म २३ जून १९६३, जलपाईगुड़ी मे हुआ था। पी के बैनरजी के पढ़ाइ जलपाईगुड़ी जिला स्कूल और के एम पी एम जमशेदपुर में स्कूल मे हुए थे।

Jalpaiguri

व्यवसाय[संपादित करें]

पंद्रह की उम्र मै हि उनहोने संतोष ट्रॉफी में बिहार का प्रतिनिधित्व किया। बैनरजी ने १९५५ मे, जब वह १९ वर्ष का था, उनहोने पूर्वी पाकिस्तान के क्वाड्रैंगुलर टूर्नामेंट में डैका में भारतीय राष्ट्रीय टीम के हिस्सा था।[1]

उनहोने ८४ मैचों मे भरत के प्रतिनिधन्व किया, और इस्के दौरन, उनहोने ६० गोल किए।उन्होने तीन एशियन खेल के लिए भि भरत के प्रतिनिधन्व किया, उन खेलो थे, एशियन खेल १९५८ टोक्यो मे, १९६२ एशियन खेल जकार्ता मे, १९६६ एशियन खेल बैंकाक मे। इस्के अलावा, बैनरजी ने मेरदेका कप के लिये भि भरत के लिये खेला,जिस्के लिए, पहले दो प्रयास के लिये उन्हें रजत पदक से सम्मानित किया गया था, परंतु तीसरी प्रयास के लिए उन्हें कांस्य पदक से सम्मानित किया गया था। चोटों के वजह से बेनरजी को राष्ट्रीय फुटबॉल टीम छोड़ना पडा, और उन्होने १९६७ मे रिटायर करना पडा।

प्रबंधकीय व्यवसाय[संपादित करें]

कोचिंग में पी के बैनरजी का पहला कार्यकाल ईस्त बंगाल फुटबॉल क्लब के साथ आया था। इनके मार्गदर्शन मे, भारत के टीम को १९७० बेंगकोक अशियन खेल मे कांस्य पदक मिला। पी के बैनरजी एक महान प्रेरक था, उस्को अपने खिलाड़ियों से सबसे अच्छा प्राप्त करने के लिए लाखों चालें पता था।बनर्जी ने लगभग सभी आयु वर्ग के पक्षियों को कोच किया हैं, यहां तक ​​कि एक तकनीकी निदेशक की क्षमता में टीम के साथ यात्रा की है। उन्होंने २००० में इंग्लैंड का दौरा करते हुए सीनियर टीम के साथ यात्रा की और वेस्ट ब्रॉमविच एल्बियन के खिलाफ ड्रा खेला। २००४ में अंडर -१६ ने लीसेस्टर का दौरा किया जब वह आकस्मिक दल का भी हिस्सा थे। "जहां भी पीके जाता है, ट्रॉफी अपने आप चले आते है" १९७० के दशक के कहावत था। उन्होंने कोलकाता जाइन्ट्स ईस्ट बंगाल और मोहन बागान, दोनों को प्रशिक्षित किया, और दोनों क्लबो को अपने-अपने शासनकाल में सफलता के साथ उलझ गए। कलकत्ता फुटबॉल लीग (सी एफ एल) लगातार पांच बार (पूर्वी बंगाल के लिए १९७२-७५ और मोहन बागान के लिए १९७६) जीतने वाला वह एकमात्र कोच है।

पुरस्कार[संपादित करें]

बैनरजी के नीचे, पूर्वी बंगाल ने १९७२ में ईस्ट बैंगाल वो पेहला क्लब था जिनहोने स्वतंत्रता युग के बाद,एक लक्ष्य को स्वीकार किए बिना सी एफ एल जीताया। मोहन बागान को बैनरजी ने अपने सबसे सफल वर्षों में से एक का नेतृत्व करके, उनको १९७७ में "ट्रिपल क्राउन" (आई एफ ए शील्ड, रोवर्स कप और डूरंड कप) जिताया जब उन्होंने अपने शानदार इतिहास में । कोच के रूप में उनका सबसे खास बात यह था कि वह हमेशा खेल में भीड़ को शामिल करते थे। अगर उसे आधुनिक खेल के साथ तुलना करे तो वह मौरिन्हो चेल्सी के समान था। बैनरजी वह पहला फुटबॉलर हैं जिनहोने १९६१ मे अर्जुन पुरस्कार सम्मानित किया, जिसे भारत में खेलों में महान प्राप्तकर्ताओं को दिया जाता है। उन्को १९९० मे पद्मश्री पुरस्कार को प्राप्त किय,जो भारत में सर्वोच्च नागरिक पदकों में से एक हैं। बैनरजी को २००४ में फीफा शताब्दी आदेश मेरिट को सम्मानित किया गया था, जिस्से वह भारत के लिए, २० वीं शताब्दी का सबसे बड़ा फुटबॉलर माना गया था। उन्हें २००५ मे फीफा द्वारा, मिलेनियम के खिलाड़ी से सम्मानित किया गया था। बैनर्जी एशिया के एकमात्र फुटबॉल खिलाड़ी हैं जिन्हें ओलंपिक समिति के फैर प्ले पुरस्कार से सम्मानित किया


[2]

  1. Rahim, Amal Dutta, P.K. and Nayeem: The Coaches Who Shaped Indian Football. Retrieved 12 November 2006.
  2. http://www.goal.com/en-india/news/136/india/2016/06/23/24888512/celebrating-pkbanerjees-birthday-15-facts-you-must-know