सदस्य:Greeta 99/प्रयोगपृष्ठ/8

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पुली कली[संपादित करें]

पुली कली केरल का एक मनोरंजक लोक कला हैं।

परिचय[संपादित करें]

ओनम के अवसर पर ये कला प्रशिक्षित कलाकार प्रदर्शन करते हैं।ओनम केरल का एक किसानी त्यौहार माना जाता हैं।ओनम के चौदह दिन पर कलाकारों को शेर और शिकारी के चित्रित शरीर पर पीले, लाल और काला रंग मैं बनाते हैं।यह कलाकारो उडुकू और ठाकिल जैसे उपकरणों पर नाचते हैं।पुली कली का असली मतलब "शेर क खेल" हैं और इस प्रदरशन शेर के शिकार के बारे मे हैं।इस लोक कला मुख्यतः केरल के थ्रिसूर जिले में प्रदर्शन हैं।

Puli Kali Ayyanthol Desom Preperation DSC 0117.JPG

प्रतिभागियों और वेशभूषा[संपादित करें]

इस समूह में मुख्य रूप से पुरुष शेर होते हैं जिनमें कुछ महिलाएं और बच्चे शेर होते हैं। मुखौटे पहनने के बाद से चेहरे के भावों के लिए कोई महत्व नहीं है। पेट को हिलने से पुरुष नृत्य करते हैं।वर्षों से, पुलि कली नर्तकियों के सजावट में बदलाव हुए हैं। पहले, मुखौटे का इस्तेमाल नहीं किया गया था और प्रतिभागियों ने खुद अपने अपने चेहरे पर चित्रित करते थे, पर अब वह तैयार किए गए मास्क, कॉस्मेटिक दांत, जीभ, दाढ़ी और मूंछें को अपने शरीर पर पेंट के साथ उपयोग करते हैं।इस लोक कला की एक सबसे प्रमुख विशेषता कलाकारों की रंगीन उपस्थिति है,यह रंग प्रमेय पाउडर और वार्निश या तामचीनी का एक विशेष संयोजन से बनाया जाता हैं।सबसे पहले, नर्तक के शरीर से बाल निकालते हैं, और फिर, उन पर रंग लगाते है। इस र्ंग को सूखने मे लगभग दो या तीन घंटे लगते हैं, उसके बाद, रंग का दूसरा कोट बढ़ाया डिजाइन के साथ लागाया जाता है।यह पूरी प्रक्रिया कम से कम पांच से सात घंटे लगती है।

आधुनिक[संपादित करें]

आजकल सिंथेटिक पेंट का इस्तमाल करते हैं क्योंकि वे चमकदार होते हैं और आसान से सूख भी जाता हैं। हर्बल रंजक के विपरीत, इन सिंथेटिक रंग के कारण उनके चेहरे की त्वचा पर जलन होती है।वह कॉस्मेटिक दांत, रेडीमेड मास्क, कृत्रिम जीभ, दाढ़ी और मूंछें प्रतिभागियों द्वारा पहने जाते हैं।नृतक अपनी कमर के चारों ओर जिंगल के साथ एक बेल्ट पहनते हैं, जब वे नृत्य करते हैं तो लय को जोड़ते हैं।उनके चरणों के माध्यम से, शरीर चित्रकला और शरीर की भाषा में वे एक शिकारी शेर के शिकार करने का अधिनियमित करते हैं। वे ड्रम की लयबद्ध हरा के बाघ के समान कदम दिखाते हैं। मूड ऐसा है, दर्शकों को जानबूझकर या अनजाने में अपने शरीर को बाघों द्वारा प्रदर्शित लय में शामिल होने के लिए प्रेरित किया जाता है।

Pulikkali 2010-2.jpg

प्रदर्शन[संपादित करें]

दोपहर को पुलि कली समूह या 'संगम', थ्रिसुर के चारों कोनों से, जुलूस में चलते हैं, नाचते हैं, घूमते हुए ड्रमों की धड़कन में स्वराज दौर में, थ्रिसुर जो शहर के दिल में स्थित हैं पैलेस रोड, करुणाकरन नंबीर रोड, शर्नुर रोड, एआर मेनन रोड और एमजी रोड के माध्यम सेहोते पैलेस रोड, करुणाकरन नंबियार रोड, शर्नुर रोड, एआर मेनन रोड और एमजी रोड के माध्यम से जाते हैं।दृश्य जैसे कि किसी जानवर पर शेर के शिकार, और एक शिकारी जिसे शिकारी एक शेर से शिकार करना, इन दोनों के बीच में सुंदर रूप से अधिनियमित किया जाता है।ऐसा माना जाता है कि पुली कली 200 साल पहले, राजा शक्ति थमपुर के समय में शुरू किया था। पुलिकिकली समन्वय समिति, 2004 में गठित कडुवाक्कली समूहों की एक एकीकृत परिषद आजकल इस नाट्य् का आयोजन करती है।संयुक्त परिवार के दिनों मे, लोग इस मनोरंजन के लिये इन "शेरो" को पैसे देते थे, नट्य त्ब शुरु हो जाता था जब परिवार के सभी सदस्य घर के समने आते हैं।प्रक्रिया उन लोगों को एक रुपया नोट देकर शुरू होती है,समूह का एक सदस्य जमीन पर मेटकर, मुंह का उपयोग कर के वह एक रुपया नोट लेते थे।एक विशेषज्ञ अपनी पलकें का उपयोग करके नोट भी उठा सकता है!आम तौर पर 7 शेर एक समूह बनाते हैं।त्योहार का मौसम को और रंगीन बनाने के लिये वह एक पूकुदा बनाते हैं।पूकुदा फूलों का छोटा एक छोटा बैग हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

१)[1]

२)[2]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Puli_Kali
  2. http://keralaculture.org/pulikali/391