सदस्य:Farheen shaybah

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Farheen shaybah
[[File:
Shaybah
|250px|]]
नाम Shaybah Farheen Darshanal
जन्मनाम SHAYBAH FARHEEN DARSHANAL
लिंग Female
जन्म तिथि 26/08/2000
जन्म स्थान BANGALORE
देश साँचा:देश आँकड़े INDIA
नागरिकता Indian
शिक्षा तथा पेशा
पेशा Student
शिक्षा 2 BCOM-B
महाविद्यालय CHRIST UNIVERSITY
उच्च माध्यामिक विद्यालय Infants Indian high school
शौक, पसंद, और आस्था
शौक dancing
धर्म Islam
सम्पर्क विवरण
ईमेल shaybah786@gmail.com

अनुक्रम

बचपन: मेरा नाम शायबह फनहीं हैं। में मिन्हाज नगर मैं रहती हूँ। मैं कक्षा १ बेकम में पढ़रही हूँ। मैं क्रिस यूनिवर्सिटी में पड़ रही हूँ। मैं बहुत समयनिष्ठ हूँ और सही समय पर पूरे दिन के सभी कार्य को करना पसंद करता हूँ। मैं अच्छा और स्वस्थ भोजन खाना पसंद करता हूँ। मुझे नृत्य करना, किताबें पढ़ना, बैडमिंटन खेलना और अपने खाली समय में खाना बनाना पसंद है। मैं कभी अपनी कक्षा से गायब नहीं होता और सभी कक्षाओं में शामिल होता हूँ![संपादित करें]

शिक्षक पृष्टभूम:मैंने अपनी स्कूल की शिक्षा पहले वियाजपुर नाम गाँव मे किया, वहाँ माने पांचवि कक्षा तक पढ़ा! उसके बाद मे मैंने बैंगलोर मे अपनी शिक्षा प्राप्त की। मैंने इनफैंट्स इंडिया स्कूल मे अपना शिक्षा पुरति का। और पी. यू. सी बल्डविंस मे पढ़ा। अभी क्रिस्ट कॉलेज मे बी काम पढ़ रही हूँ।[संपादित करें]

मैं रोज पूरे यूनिफार्म मे जाथी हूँ। मैं परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करता हूँ फिर चाहे वो मुख्य परीक्षा हो या क्लास टेस्ट। मेरे बहुत सारे दोस्त हैं जबकि फरिं मेरी सबसे अच्छीइस दुनिया में बहुत सारे लोग रहते हैं जिनका अलग-अलग व्यक्तित्व है। ये वो व्यक्तित्व है जो हरेक को दूसरों से अनोखा और अलग बनाता है। हम कभी-भी एक तरह के दो लोगों नहीं देख सकते। ये कभी नहीं बदलता और एक इंसान के गुण का फैसला करता है। मैं खुद का उदाहरण लेथी हूँ। मैं इस दुनिया में बहुत खास हूँ और मेरा व्यक्तित्व दूसरों से अलग है। मैं बहुत जिम्मेदार और सहानुभूति रखने वाला इंसान हूँ। मैं हमेशा दूसरों की मदद करथी हूँ और उनकी समस्याओं को सुलझाने में अपना सबसे बेहतर प्रयास करथी हूँ। मैं स्व-केन्द्रित लड़की हूँ और इस धरती पर मेरा कोई दुश्मन नहीं है।मैं हमेशा दूसरे लोगों से खुशी और हँसते हुए चेहरे के साथ बात करती हूँ। मैं अपने कॉलेज की एक साधारण विद्यार्थी हूँ और हर कक्षा में शामिल होती हूँ। मैं नियमित तौर पर अपना गृहकार्य करती हूँ और भोर के 4 बजे से लेकर रात के 10 बजे तक अच्छे से पढ़ाई करती हूँ। मैं हमेशा अपने पढ़ाई पर ध्यान देती हूँ और अपने दोस्तों को भी पढ़ाई अच्छे से करने के लिये प्रोत्साहित करती हूँ।मैं अपने माता-पिता का एक प्यारी लड़खी हूँ। मैं 1८ वर्ष की हूँ । मेरे दादा-दादी मुझे गुढिया बुलाना पसंद करते हैं। वो हमेशा मुझे सुबह और शाम को बाहर ठहलानेके लिये ले जाते हैं। मैं गाज़ियाबाद के राजनगर कालोनी में रहता हूँ। मैं रोज जब मैं कॉलेज मैं जाती हूँ तो अपने क्लास टीचर को गुड मार्निंग बोलथी हूँ । मैं रोज अपने दोस्तों के साथ बस में और लंच के समय मस्ती करता हूँ। मैं हमेशा खेल क्रियाओं और दूसरे कॉलेज के क्रियाकलापों में भाग लेथी हूँ।[संपादित करें]

मै हमेशा सभी प्रतियोंगिताओं में प्रथम स्थान पलाती ा हूँ। हमारे जागरुकता और ज्ञान को बढ़ाने के लिये मेरकॉलेज्ष के सभी महत्वपूर्ण उत्सवों को मथीता है जैसे स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस, क्रिसमस, गांधी जयंती, मातृ दिवस आदि। हमें हमारकॉलेजूल शिक्षकों के द्वारा सभी सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने की सलाह दी जाती है। मैं आमतौर पर भाषण या कविता पाठ में भाग थीता हूँ। मुझे नृत्य भी बहुत पसंद है लेकिन किसी कार्यक्रम मे नृत्य करने में मैं आरामदायक महसूस नहीं करता। हालांकि, मैं अपने वार्षिक उत्सव कार्यक्रम के नृत्य में भाग थी ा हूहैा।[संपादित करें]

शौक: मुझे नृत्य करने मे बहुत आनंद मिलता है! मै अपने खाली समय मे चित्रकला भी करती हूँ। मुझे किताबें पढ़ना भी अच लगता है![संपादित करें]

मेरे हर सर्दी और गर्मी की छुट्टियों में मेरे माता-पिता मुझे पिकनिक या लंबी यात्रा के लिये बाहर ले जाते हैं। मैं बहुत अच्छे समाज में रहता हूँ जहाँ सामाजिक मुद्दों के बारे में आम लोगों के बीच जागरुकता बढ़ाने के लिये समय दर समय कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। ऐसे कार्यक्रमों में भाग लेने के लिये मेरे पिता हमेशा मुझे अपने साथ ले जाते हैं। भारत का एक अच्छा नागरिक बनने के लिये मेरी माँ हमेशा मुझे नैतिकता और सदाचार के बारे में सिखाती हैं। मैं हमेशा अपने साफ-सफाई का ध्यान रखथी हूँ। मेरे माता-पिता मुझे बहुत प्यार करते हैं और मेरी हर पसंद और नापसंद का ध्यान देते हैं। जब भी मेरे माता-पिता खाली होते हैं मैं उनके साथ कैरम और लूडो खेलना पसंद करता हूँ।[संपादित करें]

भविष्य उदेश्य: मुझे आगे जाकर समआझ सेवा करना है! और सी. ये बनना है।[संपादित करें]