सदस्य:Ekshu98/प्रयोगपृष्ठ/लागत प्रणाली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

लागत प्रणाली[संपादित करें]

लागत प्रणाली

लागत प्रणाली को लागत में जमा करने और उत्पाद या सेवा जैसे किसी विशेष लागत वस्तु को आवंटित करने के लिए प्रयोग किया जाता हैं। लागत प्रणाली और लागत डेटा व्यापार के लागत और उत्पाद कि कीमत को उचित रूप से प्रबंधित करने में मदद करके सामरिक मूल्य प्रदान करता हैं। छह प्रकार की लागत प्रणाली होती है-

१- नौकरी आदेश लागत -[संपादित करें]

नौकरी आदेश लागत वो प्रणाली है जो अद्वितीय उत्पादों के समूह के लिए लागत आवंटन करती हैं। यह ग्राहक निर्दिष्ट उत्पादों के उत्पादन के लिए उचित हैं। प्रत्येक नौकरी के लिए एक लागत कैंद्र बनाया जाता है, जिसके लिए लागत संचित कि जाती हैं। लागत नौकरियों के अनुसार आधारित होती हैं। आम तौर पर जब इकाइयों अपेक्षाकृत महंगे होते है और जब लागत विशिष्ट इकाइयों या इकाइयों के बैचों से पहचानी जाती है तब इस लागत प्रणाली का प्रयोग किया जाता है। यह अनुकूलित उत्पादों के लिए सर्वोत्तम माना जाता हैं। यह प्रणाली सभी विभिन्न प्रकार की लागतों का टूटना देती हैं। उदाहरण- विमान या लिप्यंतरणइमारत निर्माण, परामर्श परियोजनाएँ आदि।

२- प्रक्रिया लागत-[संपादित करें]

नौकरी की लागत के विपरीत यह एक ही या समान उत्पाद के निरंतर प्रक्रिया के उत्पादन पर लागू होता है, क्योंकि उत्पाद एकसमान है तो उत्पादों के विभिन्न समूहों की लागत निर्धारित करने की कोइ आवश्कता नहीं हैं। प्रत्येक प्रसंस्कारण विभाग एक लागत केंद्र होता हैं। इसका आम तौर पर तब उपयोग किया जाता है, जब इकाइयाँ सस्ती होती है और लागत का पता लगाने में मुश्किल होती हैं। यह दो तरीके से होते है- भारित औसत विधि और फीफो। उदाहरण- इसका ज्यादार चीनी के कारखनों में उपयोग किया जाता हैं।

३-गतिविधि आधारित लागत-[संपादित करें]

विभिन्न संसाधनों में से प्रत्येक के उत्पादों की खपत के आधार पर लागत को बाटा जाता हैं। गतिविधि के स्तर के आधार पर निर्भर होते है, प्रत्येक उत्पादों के लागत। इसको 'आधिनियम के आधार पर लेनदेन' आधारित लागत भी कहा जाता है, क्योंकि लागत चालक विशेष गतिविधि में शामिल लेनदेन की संख्या होती हैं। यह विश्लेषण करने में मदद करता है कि क्या गतिविधियों को संगठनात्मक गतिविधियों को पूरा करने के लिए किया जाता हैं। जैसे- सामग्री की खरीदारी, सामग्री की मरम्मत लागत आदि।

४- जीवन चक्र की लागत-[संपादित करें]

इसका प्रयोग तब होता है जब दीर्घ अवधि के परिप्रेक्ष्य की आवश्कता होती है। यह विधि एक उत्पाद या सेवा के पूरे जीवन चक्र को अवधारण से बिक्री और वारंटी सेवा के माध्यम से समझता हैं। लागत नियोजन और उत्पाद मूल्य निर्धारण के लिए रणनीतिक आधार पर उपयोग किया जाता हैं। यह फर्म को उत्पाद या सेवा के समग्र लागतों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्ष्म करता हैं। लागत तीन चरणों में विभाजित है-

१- अपस्टीम लागत- विनिर्माण से पहले के लागत, जैसे प्रोटोटाइप और परीक्षण के लागत।

२- विनिर्माण उत्पाद या सेवा के उत्पाद में शामिल लागत।

३- डाउनस्टीम लागत- विनिर्माण लागत के बाद के लागत, जैसे विप्णन और वितरण।

५- ऑपरेशन लागत-[संपादित करें]

प्रक्रिया की लागत को नौकरी की लागत के साथ जोड़ता है, प्रत्क्षय सामग्री को निर्दिष्ट करते हर नौकरी या बैच को और प्रत्यक्ष उपरि और श्रम को निर्दिष्ट करते हुए उसी प्रकार जैसे प्रक्रिय लागत में होता हैं। यह हाइब्रिड सिस्टम विनिर्माण के लिए सबसे अयुक्त है, जिनकी उच्च मात्रा की गतिविधियों के लिए समान प्रक्रियाएँ होती है लेकिन विभिन्न नौकरियों के लिए विभिन्न सामग्रियों का इस्तेमाल करने कि आवश्यकता होती हैं।

६- बैकफ्लुश लागत-[संपादित करें]

इसमें नौकरियों को आंवटित लागत को अन्य लागत वाली प्रणाली के विवरण के रूप में ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता। सभी विनिर्माण लागत सीधे माल की लागत बेचे जाने के बाद पर लगाए जाते है, क्योंकि बहुत कम या कोई सुची नहीं रहती किसी भी समय।

यह छह लागत प्रणाली है, जिनका लागत नियंत्रण के लिए उपयोग किया जाता हैं।

उल्लेख[संपादित करें]

१- https://accountingexplained.com/managerial/cost-systems/

२- https://www.accountingtools.com/articles/what-is-a-costing-system.html

३- https://toughnickel.com/business/Methods-of-Costing