सदस्य:Deeps aggarwal/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

गामा रेट्रोवायरस पर अवलोकन[संपादित करें]

गामा रेट्रोवायरस पर परिचय[संपादित करें]

'गामा रेट्रोवायरस रेट्रोविरिदै परिवार की जाति है। उदाहरण मयुरिन लियूकिमया वाइरस और फैलाइन लियूकिमया वाइरस जाति है। बहुत प्रकार के बहिर्जात गामा रेट्रोवायरस स्तनधारियों के दी एन ए में मौजूद है। गामा रेट्रोवायरस मानव,पक्षियों,सरीसृप और उभयचर के दीएनए में मौजूद है। बहुत सारे गामा रेट्रोवायरस संरक्षित आरएनए संरचनात्मक तत्त्व कोर ईनकेपसिदैशन शेयर करते है। गामा रेट्रोवायरस द्वारा कई गेर्स्तनधारियों की कोशिकाओं पोस्टेनत्रि ब्लॉकों को पारगमन में एक्ज़िबिट करते है। गामा रेट्रोवायरस कि सतह में ग्लाइकोप्रोटीन शामिल है। गामा रेट्रोवायरस को प्रतिरोध जाँच के लिए चुना गया क्योंकि आर दी आर का प्रयोग करता है कोशिका में प्रवेश करने के लिए । परिणाम बताते है कि गामा रेट्रोवायरस छद्मटाइप स्टार कोशिका ३७ डिग्री सी में स्थिर रहते है। गामा रेट्रोवायरस फ्रीज निष्क्रियता के कारण अवरोध रहता है।


गामा रेट्रोवायरस की विशेषताएँ[संपादित करें]

एम८१३ मयुरिन लियूकिमया वाइरस निहायत फूसोजेनिक गामा रेट्रोवायरस है जिसकी मेजबान श्रेणी माउस कोशिकाओं तक सीमित है। गामा रेट्रोवायरस का संरक्षित हिस्टिडीन शामिल है उसके अमीनो टर्मिनस में। गामा रेट्रोवायरस को मानव रोगियों में खोजा गया है। ट्रांस प्रजातियों का हस्तांतरण गामा रेट्रोवायरस के लिए प्रतिवेदित किया गया है। अभी तक गामा रेट्रोवायरस को अत्यंत थकावट का कारण मानते है। एक्स एम आर वी मानवी गामा रेट्रोवायरस है जो एक आदमी से दुस्ररे आदमी में फैल सकती है। गामा रेट्रोवायरस लेनतीवाईरस क्लेड की बहन जीनस है। गामा रेट्रोवायरस के दोनो तरफ लंबे टर्मिनल से घिरे हुए है। बहुत सारे गामा रेट्रोवायरल वैक्टर मोलोनी मयूरीन लोकिमिया वाईरस के आधार पर विकसित होते है। स्तनधारी सी रेट्रोवायरस ,रेट्रोवायरस परिवार के ऑर्थोरेट्रवीरीने उपपरिवार का अंग है। गामा रेट्रोवायरस और गामा रेट्रोवायरल वैक्टर में योग्यता नहीं है विकास-अवरुद्ध कोशिका को संक्रमित करने का । गामा रेट्रोवायरस चूहे के मस्तिष्कप्रान्तस्था संबंधी न्यूरॉन्स को संक्रमित करता है । कोशिकाओं को सक्रिय होना परेगा ताकि गामा रेट्रोवायरस का संक्रमण सक्षम हो सके जैसे एम एल वीस । गामा रेट्रोवायरस और उसके वैक्टर गैर विभाजन कोशिकाओं को संक्रमित नही करते । गामा रेट्रोवायरल वेक्टर जीन वितरण को मध्यस्थता करते है विकास-अवरुद्ध कोशिका में । गामा रेट्रोवायरस बहुत प्रकार के मानवीय कोशिकाओं को संक्रमित करते है । गामा रेट्रोवायरस जीन उक्ति के सभी क्षेत्रों को संघटित करते है । बहुत सारे गैर स्तनधारी कोशिका पश्च प्रविष्टि ब्लॉकों को पारगमन में प्रदर्श करते है गामा रेट्रोवायरस के द्वारा । गामा रेट्रोवायरस के सतह ग्लाइकोप्रोटीन में संरक्षित हिस्टिडीन है उसके अमीनो टर्मिनस में । एक्स एम आर वी एक गामा रेट्रोवायरस है और उसके जीनोम में गेग , पोल और ईएनवी क्षेत्र निहित है । गामा रेट्रोवायरस जैसे एक्स एम आर वी और एम एल वी मानवीय एपीओबीईसी३जी को प्रतिबंधित करते है ।

गामा रेट्रोवायरस के प्रभाव[संपादित करें]

क्लास १ के एचईआरवीस , गामा रेट्रोवायरस से बारीकी से संबंधित है और वह सबसे पुराने एचईआरवीस में से एक माना जाता है । कोअला रेट्रोवायरस एक अंतर्जात गामा रेट्रोवायरस है जो कोअलास में पाया जाता है । बहुत सारे गामा रेट्रोवायरस संरक्षित आर एन ए संरचनात्मक अंग शेयर करते है जिसे कोर एनकेपसीदेशन सिगनल कहते है । गामा रेट्रोवायरल वेक्टर कणों के उत्पादन के लिए गाग , ईएनवी प्रोटीन और रेट्रोवायरल वेक्टर क्षणिक या फिर स्थिरतापूर्वक कोअभिव्यक्त पैकेजिग कोशिका की परत को तामीर करते है । जाँच से पता चलता है की गामा रेट्रोवायरस के एकीकरण मानवीय कोशिकाओ मे विषम है कैंसर जीन की तरफ और गामा रेट्रोवायरस को कैंसर जीन खोज उपकरण की तरह इस्तमाल किया जाता है । मानवीय कोशिकाओ का संक्रमण गामा रेट्रोवायरस के साथ आवश्यक है एफोतरोफिक संस्करण की रिसेप्टर सामान्य उपभेदों के अभाव को अभिभूत करने के लिए । देखे गए एकीकरण साइट वरीयता है गामा रेट्रोवायरस के लिए जो ज्यादा चयनात्मक है एक साइट वरीयता खुले क्रोमेटिन के लिए । गामा रेट्रोवायरस को लगातार एनहैनसर में तैनात किया गया है ।

गामा रेट्रोवायरस पर निष्कर्ष[संपादित करें]

अंत में हम कह सकते है की गामा रेट्रोवायरस अधीन है सकारात्मक चयन के लिए जो जरुरी है दूरमार पुष्टि जीन सक्रियण के लिए अंतिम चरण सौमी में ।


संदर्भ[संपादित करें]

<[1] [2] [3] [4]

  1. https://en.wikipedia.org/wiki/Gammaretrovirus
  2. http://articles.mercola.com/sites/articles/archive/2009/11/12/gammaretrovirus-thought-to-be-important-cause-of-chronic-fatigue.aspx
  3. http://theses.gla.ac.uk/6279
  4. https://www.wikigenes.org/e/mesh/e/21056.html