सदस्य:Beulah80/WEP 2018-19/1

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कानून और अर्थशास्त्र
[[Image:
कानून का आर्थिक विश्लेषण
जीवन का दो रस्ता(पैसा और न्याय)
|225px]]

कानून और अर्थशास्त्र या कानून का आर्थिक विश्लेषण वे व्यष्टि अर्थशास्त्र सिद्धांत के बारे मे है। हम अर्थशास्त्र का अवधारणाओं इस तरह इस्तमाल करेंगे जैसे समाज मे किस कानून अर्थशास्त्र के बारे मे सही है और किस अर्थशास्त्र कानून को हम अनुमोदन करेंगे। आर्थिक अवधारणाओं का उपयोग कानूनों के प्रभावों की व्याख्या करने के लिए किया जाता है, यह आकलन करने के लिए कि कौन से कानूनी नियम आर्थिक रूप से कुशल हैं, और यह भविष्यवाणी करने के लिए कि कौन से कानूनी नियमों को रद्द किया जाएगा।

परिचय[संपादित करें]

वकीलों और कानूनी विद्वानों द्वारा उपयोग किए जाने पर, "कानून और अर्थशास्त्र" वाक्यांश कानूनी समस्याओं के लिए सूक्ष्म आर्थिक विश्लेषण के अनुप्रयोग को संदर्भित करता है। कानूनी प्रणालियों और राजनीतिक प्रणालियों के बीच ओवरलैप के कारण, कानून और अर्थशास्त्र में कुछ मुद्दों को राजनीतिक अर्थव्यवस्था, संवैधानिक अर्थशास्त्र और राजनीतिक विज्ञान में भी उठ जाता है।एक पंख जो "कानून और अर्थशास्त्र" के लिए एक गैर-नवशास्त्रीय दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करता है, कॉन्टिनेंटल (मुख्य रूप से जर्मन) परंपरा है जो शासन और सार्वजनिक नीति (स्टैट्सविसेनशाफ्टेन) दृष्टिकोण और जर्मन ऐतिहासिक स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से शुरू होने वाली अवधारणा को देखता है; यह दृश्य एल्गर कम्पैनियन टू लॉ एंड इकोनॉमिक्स (द्वितीय संस्करण 2005) में दर्शाया गया है और - विशेष रूप से यूरोपीय जर्नल ऑफ़ लॉ एंड इकोनॉमिक्स में नहीं। यहां, कानूनी तौर पर (और प्रशासनिक / शासन) समस्याओं के विश्लेषण के लिए अर्थशास्त्र के लिए जानबूझकर गैर-नियोक्लासिकल दृष्टिकोण का उपयोग किया जाता है।

एतिहासिक[संपादित करें]

१८ सदी मे एडम स्मिथ ने व्यापारिक कानून को स्थापित किया पर वे प्रसिद्ध नही हुआ। इसलिए १९६१ मे रोनाल्ड कोज़ और गिडो कैलाब्रेसी ने स्वतंत्र रूप से एक-दूसरे से दो लेख प्रकाशित किए: "सामाजिक लागत की समस्या" और "जोखिम वितरण और कानूनों के कानून पर कुछ विचार" ए दोनो लेख प्रकाशित कानुन और अर्थशास्त्र को आरंभ होने के लिए कारण हुआ। १९७२ मे रिर्चड पोसनर ने "कानून के आर्थिक विश्लेषण" के पहले संस्करण को प्रकाशित किया और "कानूनी अध्ययन पत्रिका" को स्थापित किया । १९७० के दशक में कानून और अर्थशास्त्र के प्रसार के लिए अग्रणी एक महत्वपूर्ण कारक हेनरी मैन द्वारा आयोजित वकीलों के लिए अर्थशास्त्री और अर्थशास्त्र पाठ्यक्रमों के लिए संगोष्ठियों और कानून पाठ्यक्रमों की एक श्रृंखला थी और कुछ हद तक स्वतन्त्र निधि द्वारा वित्त पोषित किया गया था।[1]

कानून और अर्थशास्त्र

सकारात्मक और प्रामाणिक अर्थशास्त्र[संपादित करें]

कानून और अर्थशास्त्र का सैद्धांतिक विश्लेषण ज़्यादा दक्षता के बारे मे ध्यान देता है। कानूनी की आधारित मे दक्षता का मतलब "लोगो को अधिकार दिया जाता है जो इसके लिए सबसे अधिक भुगतान करने को तैयार होगा" और इस दक्षता को दों सिद्धांत है : १)साकारात्मक सिध्दांत का कानूनी दक्षता और ए कहता है कि सामान्य कानून दक्ष है २)मानक का सिध्दांत का कानूनी दक्षता कहता है की सामान्य कानून दक्ष होना चाहीए। पढने मे ए दोनो वही अर्थ देखती है पर दोनो अलग है; जैसे साकारात्मक सिध्दांत केवल अर्थशास्त्र कानूनी नियम का सख्त देयता, विकास और लापरवाही के बारे मे ध्यान देता है पर मानक का सिध्दांत विभिन्न नीतियों के आर्थिक परिणामों के आधार पर नीति सिफारिशें करता है। कानून अर्थशास्त्र दक्षता के बिना लोगों का प्रोत्साहन राशि को भी ध्यान देता है। इस रूप का अर्थशास्त्र को अनेक प्रभाव है और ए ज़्यादा प्रसिध्द हूआ।[2]

आलोचनाओं[संपादित करें]

प्रसिध्द होने के बाद अनेक दिशाओ से आलोचनाओं किया विशेषत:मानक का सिध्दांत के बारे मे आलोचनाओ किया क्योकि अधिकांश कानून और अर्थशास्त्र छात्रवृत्ति एक नियोक्लासिकल ढांचे के भीतर संचालित होती है, नियोक्लासिकल अर्थशास्त्र की मौलिक आलोचनाओं को अन्य प्रतिस्पर्धी ढांचे से खींचा गया है, हालांकि कई आंतरिक आलोचनाएं भी हैं। इस मानक का सिध्दांत मानावाधिकार और वितरतात्मक न्याय के बारे मे कोइ बात नही है और "शास्त्रीय" कानून और अर्थशास्त्र की सबसे भारी आलोचना महत्वपूर्ण कानूनी अध्ययन आंदोलन से आती है।कानून और अर्थशास्त्र आंदोलनों के आलोचकों ने तर्क दिया है कि न्यायिक आर्थिक विश्लेषण मानवाधिकारों के महत्व और वितरण न्याय के लिए चिंताओं पर कब्जा नहीं करता है

समकालिन विकास[संपादित करें]

अनेक आलोचनाओ के बिना भी कानून और अर्थशास्त्र हर दिशाओ से विकास देखा। एक मुख्य होनेवाली विषय कानूनी परेशानियों के लिए बना "खेल सिद्धांत"[3] और "व्यवहारिक अर्थशास्त्र" ने इस रूप का अर्थशास्त्र को किया और ए दोनों अभी तक अनेक कानूनी परेशानियों को समाधान कर रहा है। कानून और अर्थशास्त्र सांख्यिकीय और अर्थशास्त्र तकनीकें ज़्यादा उपयोग करने के लिए ध्यान दिया । कानूनी अकादमी के भीतर, सामाजिक-अर्थशास्त्र शब्द को आर्थिक द्रिष्टिकोणों पर लागू किया गया है जो नव-नैतिक परंपरा से आत्म-जागरूक रूप से व्यापक हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. https://www.coll.mpg.de/pdf_dat/2014_05online.pdf
  2. https://en.wikipedia.org/wiki/Law_and_economics
  3. https://www.econlib.org/library/Enc/LawandEconomics.html