सदस्य:Ashwin8558/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मेरा नाम अश्विन शर्मा है। मैं पंजाब, भारत का रहने वाला हूँ। मैं क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु में बीकॉम ऑनर्स का छात्र हूँ। मैं अपने पहले साल के पहले सेमेस्टर में हूँ। मैं अपनी पृष्ठभूमि, परिवार, रुचियों, और अपने लक्ष्य से अपका परिचय कराना चहता हूँ। आशा करता हूँ कि आपको यह परिचय पसंद आए।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

मैं पठानकोट जिला नामक एक छोटे से जिले में पैदा हुआ था। यह जिला उत्तरी भारत में पंजाब राज्य की राजधानी चण्डीगढ़ से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर है। मैंने अपने जीवन के १८ वर्ष पठानकोट में बिताए हैं। यह शहर इसके मस्त अंदाज में रहने वाले लोगों की वजह से जाना जाता है। इस शहर की एक खास बात यह है कि यहाँ लोग छोटी-छोटी बातों में खुशियाँ ढूंढते हैं, जो आपको कहीं ओर देखने को नहीं मिलता।

परिवार[संपादित करें]

मेरे पिता जी का नाम जोगिंदर पाल शर्मा है। वह पेशे से व्यापारी हैं। मेरी माता जी का नाम साधना शर्मा है तथा वह एक सुखी गृहिणी हैं। मेरे दो अन्य भाई-बहन भी हैं। मेरी बहन का नाम याशिका शर्मा है तथा वह मुझसे दो साल बड़ी हैं। मेरे भाई का नाम तुषार शर्मा है तथा वह मुझसे दो साल छोटा है। मेरे परिवार में और भी अन्य सदस्य हैं क्योंकि मैं एक संयुक्त परिवार में रहता हूँ। मेरे घरवालों ने हमेशा मुझे हर मुसीबत का सामना करना सिखाया है तथा मुझे अपने घर के प्रत्येक सदस्य से बहुत प्रेम है।

शिक्षा[संपादित करें]

मैंने अपने जीवन की प्रारम्भिक शिक्षा पठानकोट के सारा टैंडर पब्लिक स्कूल से प्राप्त की तथा इसके बाद बारहवीं तक का सफर, श्री गुरु हरक्रिषन पब्लिक स्कूल पठानकोट में ही पूरा करा। और अब तो मैं क्राइस्ट यूनिवर्सिटी में बीकॉम ऑनर्स डिग्री की प्राप्ति के लिए बेंगलुरु में स्थानांतरित हो गया हूँ। यह विश्वविद्यालय भारत में अग्रणी संस्थानों में से एक है और आमतौर पर सबसे शैक्षिक सर्वेक्षण में सर्वश्रेष्ठ में से एक के रुप में सूचीबध्द किया गया है। यहाँ का माहौल तथा वातावरण अन्य विश्वविद्यालयों से बिल्कुल अलग है जो कि इसकी एक खास बात है।

रुचियाँ[संपादित करें]

मैं अपने जीवन की हर कठिनाई का सामना करने में रुचि रखता हूँ। मुझे पढ़ना, लिखना तथा क्रिकेट खेलना अत्यधिक पसंद है। इसके अलावा मैं और भी अन्य खेलों में रुचि रखता हूँ। मैं अपने जीवन के हर पहलू में सकारात्मक रहने की कोशिश करता हूँ क्योंकि ऐसा करने से मुझे कठिनाईयों का सामना करने में अत्यधिक आनंद मिलता है।

लक्ष्य[संपादित करें]

मेरे जीवन का लक्ष्य है कि एक दिन मैं सफल और साकार आदमी बनकर अपने माता-पिता का नाम रोशन कर सकूं। मैं अपने जीवन में कुछ ऐसा करना चाहता हूं कि जिससे मैं दूसरों के लिए उदाहरण बन सकूं। मैं एक साकार आदमी बनकर अपने देश की सेवा करना चाहता हूँ। मैं अपने माता-पिता की नजरों में खुद के लिए इज्जत देखना चाहता हूँ, यह ही मेरे जीवन का एकमात्र लक्ष्य है।