सदस्य:Arushi0880/लेटिसिया एलिजाबेथ लैंडन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

लेटिसिया एलिजाबेथ लैंडन का जन्म १४ अगस्त १८०२ को चेल्सी, लंदन में हुआ था।[1] एक प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यासकार और कवयित्री थी।

लेटिसिया एलिजाबेथ लैंडन

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

पांच साल की उम्र में उसे उस स्कूल में भर्ती कराया गया था जिसकि छात्रा मैरी रसेल मिटफ़ोर्ड और लेडी कैरोलीन लेम्ब थी। अपने बचपन में लेटिसिया अपने छोटे भाई से बहुत जुड़ी हुई थी। उसका भाई उससे दो साल छोटा था। उसका नाम था व्हिटिंगटन हेनरी। हेनरी का कॉलेज फीस अदा करने के लिये लेटिसिया ने लिखना शुरू किया। उसके पिता का नाम था जॉन लैंडन और माता का नाम था कैथरीन जेन।

कविता में प्रवेश[संपादित करें]

१८१५ मे जॉन लैंडन का परिचय विलियम जेरदन से हुआ। जेरदन साहित्यिक राजपत्र के संपादक थे।[2] लेटिसिया की लिखि हुई कुछ कविताए पढ़कर उन्होंने महसूस किया कि उसकी कविताए बहुत असाधारण तथा वास्तविक थी। उन्होंने लेटिसिया को उसे और भी कविताएं लिखने के लिए प्रोत्साहित किया। उनकी पहली कविता प्रकाशित हुई थी गुमनाम रूप से जिसमें कविता के अंत में "एल" लिखा गया था। उस समय के दौरान लेटिसिया १८ साल की थी। इसके एक साल बाद अपनी दादी मा के आर्थिक मदद से उन्होंने अपनी पहली कविता की किताब प्रकाशित की। इस किताब का नाम था द फेट आफ एडिलेड। इस बार उसने पुस्तक के लिए श्रेय लिया। यह किताब अच्छी तरह से बेची गई। इस किताब के प्रकाशित होने के महीने मे उन्होंने दो कविताएं प्रकाशित की जिसमें कवि का नाम लिखा गया था "एल ई एल"।[3] इन कविताओं ने बहुत अधिक विचार और चर्चा की शुरुआत की। लेटिसिया साहित्यिक राजपत्र की मुख्य संपादक बन गई।

करियर में समस्याएं[संपादित करें]

१८२४ मे उनके पिता की मृत्यु हो गई। उनके पिता की मृत्यु के बाद उनहे परिवार के लिए पैसे कमाने की जिम्मेदारी निभाना पडा। इससे उनके कविता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ गया था। इसके बाद उनके काम पर मुनाफ़े का छाप पडने लगा।

अफवाहएँ[संपादित करें]

१८३६ मे उनके प्रतिष्ठा और चरित्र पर अफवाह फैमने लगी। लोग कहने लगे कि उनके कई नाजायज बच्चे थे। लेटिसिया तब भी अपना काम करती राही। १८३१ मे उन्होंने अपनी पहली उपन्यास प्रकाशित कि। उस उपन्यास का नाम था रोमान्स एण रिएलिटि। उनकि कविताएँ कृत्रिम कथाअो के बारे मे होती है।

विरासत[संपादित करें]

उनकी कविनाएँ अनुभवों और भावनाअो के बारे मे नही होती है। उनकी कविताए भावनाओं के व्यक्तित्व के बारे में हैं। जब वह जीवित थी, उनकी कविताएं विवाद का कारण बन जाती थीं। उनकी मौत के बाद, सब उनके कविताओं की आलोचना करते थे। लेकिन हाल ही में उनके कविता की चर्चा फिर से शुरु हुई है। लोग अब उनकी भावनाओं की गहराई की प्रशंसा करते है। पुराने युग मे महिलाओं में व्यावसायिकता को बुरि नज़र से देखा जाता था। क्योंकि इस प्रवृत्ति को हटाया जा रहा है, आज महिलाओं का काम पुरुषों की तुलना में समान रूप से सराहना कीया जा रहा है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. https://www.poetryfoundation.org/poets/letitia-elizabeth-landon
  2. https://www.rc.umd.edu/editions/lel/lelbio.htm
  3. https://www.britannica.com/biography/Letitia-Elizabeth-Landon