सदस्य:Anushashetty0288/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

सामाजिक पहचान सिद्धांत [संपादित करें]

सामाजिक पहचान एक व्यक्ति के स्वयं अवधरण का हिस्सा है। यह प्रासंगिक सामाजिक समूह के कथित सदस्यता से प्राप्त होता है। यह मूल रूप से १९७० और १९८० के दशक मे हेनरी ताजफेल और जॉन टर्नर द्वारा सूत्रबद्ध किया गया था। सामाजिक पहचान सिद्धांत ने सामाजिक पहचान की अवधारणा को एक माध्यम के रूप में पेश किया जिसमें इंटरगुप व्यवहार को समझा जा सकता है। सामाजिक पहचान सिद्धांत एक ऐसा सिद्धांत है जो कुछ अंतर-समूह व्यवहार की पूर्व-सूचना दे सकता है। यह पूर्व-सूचना कथित समूह स्थिति मतभेद, उन स्थितियों के मतभेदों की कथित वैधता और स्थिरता, और एक समूह से दूसरे तक जाने की क्षमता पर आधारित है। कभी-कभी 'सामाजिक पहचान सिद्धांत' को मानव के सामाजिक स्वार्थों के बारे में सामान्यकरण करने के लिये प्रयोग किया जाता है। हालांकि कुछ शोधकर्ताओं ने इसे इस तरह से इस्तेमाल किया है, सामाजिक पहचान सिद्धांत का उद्देश कभी भी सामाजिक वर्गीकरण का एक सामान्य सिद्धांत बनना नही था। मनोविज्ञान में हेनरी ताजफेल का सबसे बड़ा योगदान सामाजिक पहचान सिद्धांत था।

Henri Tajfel

सामाजिक पहचान एक आदमि के स्वयं की भावना है जिसे वे अपने समूह सदस्यता पर आधारित करते है। ताजफेल ने १९७९ में प्रस्तावित किया कि समूह (जैसे सामाजिक वर्ग, परिवार, फुटबॉल टीम इत्यादि), गर्व और आत्मसम्मान का एक महत्वपूर्ण स्रोत थे। समूह हमें सामाजिक पहचान की भावना प्रदान करते हैं, सामाजिक दुनिया से संबंधित होने की भावना। हमारी स्वयं की छवि को बढ़ाने के लिए हम उस समूह की स्थिति को बढ़ाते हैं जिसके हम सदस्य हैं। हम अपने स्वयं-छवि को बढ़ाने के लिये बाहर समूह(जिसके हम सदस्य नही है ) के खिलाफ भेदभाव भी कर सकते है। इसलिए, हमने सामाजिक वर्गीकरण की प्रक्रिया के आधार पर "वे" और "हम" में दुनिया को विभाजित किया है। इसे इन-ग्रुप (हमें) और आउट-ग्रुप ( बाहर समूह / इन्हें) के रूप में जाना जाता है। सामाजिक पहचान सिद्धांत में कहा गया है कि समूह अपने स्वयं-छवि को बढ़ाने के लिए आउट-ग्रुप के खिलाफ भेदभाव करेंगे। सामाजिक पहचान सिद्धांत की केंद्रीय अवधारणा यह है कि इन-ग्रुप के समूह के सदस्य आउट-ग्रुप के बुरे पहलुओं को ढूंढने की कोशिश करेंगे, जिससे उनकी स्वयं की छवि बढ़ जाएगी। संस्कृतियों के बीच रहे पूर्वाग्रहित विचारों का परिणाम नस्लवाद हो सकता है; अपने चरम रूपों में, नस्लवाद के परिणामस्वरूप नरसंहार होता है, जैसे कि जर्मनी में यहूदियों के साथ हुआ, रवांडा में हतुस और तुट्सिस के बीच ,और हाल ही में, यूगोस्लाविया में बोस्नियाई और सर्ब के बीच। हेनरी ताजफेल ने प्रस्तावित किया था कि रूढ़िबद्ध (यानी कि लोगों को समूहों और श्रेणियों में डालना) एक सामान्य संज्ञानात्मक प्रक्रिया पर आधारित है: चीजों को एकसाथ समूह करने कि प्रवृत्ति। ऐसा करने में हम कभी-कभी अतिरंजित कर लेते हैं: समूहों के बीच के मतभेद, और एक ही समूह में चीजों की समानताएं। हम सभी लोगों को एक ही तरह से वर्गीकृत करते हैं। हम जिस समूह के सदस्य है, हम उसे दूसरे समूहों से अलग होने की दृष्टि मे देखते है; और हमारे अपने समूह के सदस्यों के बीच के समानता को। सामाजिक वर्गीकरण, पूर्वाग्रह व्यवहार का एक स्पष्टीकरण है जो इन-ग्रुप और आउट-ग्रुप मे फलस्वरूप होता है। ताजफेल और टर्नर ने १९७९ मे प्रस्तावित किया कि दूसरों को "हमें" या "उन्हे" (यानी "इन-ग्रुप" और "आउट-ग्रुप") के रूप में मूल्यांकन करने में तीन मानसिक प्रक्रियाएं शामिल हैं । ये किसी विशेष क्रम में होती हैं। इसमे पहला कदम , वर्गीकरण है। हम वस्तुओं का वर्गीकरण उन्हें समझने और पहचानने के लिए करते हैं। इसी तरह हम सामाजिक वातावरण को समझने के लिए लोगों (स्वयं सहित) को वर्गीकृत करते हैं। हम सामाजिक वर्ग जैसे काले, सफेद, ऑस्ट्रेलियाई, ईसाई, मुस्लिम, छात्र, और बस चालक का उपयोग करते हैं क्योंकि वे सहायक होते हैं। अगर हम लोगों को एक श्रेणी में आवंटित कर सकते हैं तो वह हमें उन लोगों के बारे में कुछ बताता है। इसी तरह, हम जानते हैं कि हम किन श्रेणियों के हैं, यह जानने के द्वारा हम अपने बारे में चीजे पता करते हैं। हम उन समूहों के मानदंडों के संदर्भ के अनुसार उचित व्यवहार को परिभाषित करते हैं, लेकिन आप यह केवल तभी कर सकते हैं जब आप जानते है कि आपके समूह का कौन है। एक व्यक्ति कई अलग-अलग समूहों से संबंधित हो सकता है।दूसरे चरण में जो है सामाजिक पहचान, हम उस समूह की पहचान को अपनाते है जिन्हें हमने खुद को वर्गीकृत किया था। उदाहरण के लिए यदि आपने खुद को एक छात्र के रूप में वर्गीकृत किया है, तो संभावना है कि आप एक छात्र की पहचान को अपनाओगे और आप उस तरीके का व्यवहार करोगे जो आप मानते हैं कि एक छात्र करता हैं (और समूह के मानदंडों के अनुरूप) ।में कार्य करना शुरू करते हैं एक समूह के साथ आपकी पहचान के लिए एक भावनात्मक महत्व होगा, और आपकी आत्मसम्मान समूह सदस्यता के साथ बनी रहेगी। एक समूह के साथ आपकी पहचान जुडाने का कार्य आपके लिए एक भावनात्मक महत्व होगा, और आपका आत्मसम्मान समूह सदस्यता के साथ बाध्य हो जाएगा। अंतिम चरण सामाजिक तुलना है।

एक बार हम खुद को एक समूह का हिस्सा मान लेते है, अपने आप को वर्गीकृत कर चुके हैं , तो हम उस समूह की तुलना अन्य समूहों के साथ करना शुरु कर लेते हैं। सामाजिक पहचान सिद्धांत में ,समूह सदस्यता कोई विदेशी या कृत्रिम नहीं है जो व्यक्ति पर जुड़ी हुई है , वह व्यक्ति का एक वास्तविक, सच्चा और महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि इन ग्रूप वे समूह हैं जिनके साथ आप पहचाने जाते हैं, और आउट-ग्रूप वे हैं जिनके साथ हम पहचान नहीं करते हैं, और इसके विरुद्ध कभी भेदभाव कर सकते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

- https://www.simplypsychology.org/social-identity-theory.html

-https://en.wikipedia.org/wiki/Social_identity_theory

-https://www.utwente.nl/en/bms/communication-theories/sorted-by-cluster/Interpersonal%20Communication%20and%20Relations/Social_Identity_Theory/